सलीम की शराफत और शबनम की शरारत – 2

अभी तक आप लोगों ने पढ़ा कि आग दोनों तरफ लग चुकी थी, दोनों के बदन इस आग में झुलस रहे थे, दोनों एक दूसरे की बांह में समा जाने चाहते थे. अपना – अपना पानी निकाल कर दोनों ने कुछ वक्त के लिये अपनी इस आग को बुझा तो दिया था पर अंदर दबी हुई चिंगारी किसी भी वक्त उसे फिर से भड़का सकती थी…

इस कहानी का पिछला भाग – सलीम की शराफत शबनम की शरारत – भाग 1
अब आगे …

Read more

सलीम की शराफत और शबनम की शरारत – 1

ऐसी बातें करके शबनम उसे ओपन करने की कोशिश कर रही थी. वो चाहती थी कि सलीम आए उसे दबोचे, चूमे-चाटे और उसे पूरी तरह निचोड दे…

Read more