साहब का मनचला प्यार

फिर साहब धीरे – धीरे मजे लेकर मेरे मम्मों को दबाने लगे और मम्मे दबावा कर मैं मजे लेने लगी. फिर मैंने साहब का लंड अपने हाथों में ले लिया और उसे सहलाने लगी. वाकई, साहब का लन्ड मेरे पति के लन्ड से कहीं ज्यादा लंबा और तगड़ा था… पढ़ना जारी रखें “साहब का मनचला प्यार”