शादी के बाद भी न भूल पाई उस धोखेबाज के साथ हुई चुदाई

यह कहानी उन दिनों की है जब मैंने शुरू – शुरू जवानी की दहलीज पर कदम रखा था. अपनी फ्रेंड्स की देखा – देखी मैं भी बॉयफ्रेंड बनाना और उससे प्यार करना चाहती थी. बनाया भी लेकिन उसे तो सिर्फ मेरे बदन से प्रेम था. यह जानते हुए भी मैं उससे तब तक अलग नहीं हो पाई जब तक उसने मुझे मक्की की तरह निकाल नहीं फेंका. इतना सब होने के बावजूद आज भी मुझे उसके साथ बिताए हुए हर लम्हे याद हैं… पढ़ना जारी रखें “शादी के बाद भी न भूल पाई उस धोखेबाज के साथ हुई चुदाई”