खुल कर प्यार करने वाला सेक्स पार्टनर चाहिए

मेरी पिछली कहानी को पढ़ कर एक लड़की बे मुझे मेल किया. उसने मुझसे कहा कि उसे भी खुल कर प्यार करने वाला साथी चाहिए. फिर किस तरह हमारे बीच नजदीकियां बढ़ती हुई सेक्स तक पहुंचीं, ये इस कहानी में आपको जानने को मिलेगा.

दोस्ती में रेलम पेल भाग – 4

रवि को भी हिना के मम्मे देखने का मन हुआ तो वो भी टॉवल लपेट कर चल दिया. प्रवीण के कमरे के बाहर पहुंचते ही दोनों ठिठक गए. कमरे का किवाड़ भिड़ा हुआ था पर कमरा लॉक नहीं था और अंदर चुदाई जोरों पर थी. प्रवीण हिना को चोदते समय कह रहा था – आज तो रीमा के मम्मे दबा कर मजा आ गया और उसने भी मेरा लंड ऐसे सहलाया कि मन किया अंदर घुसा ही दूं…

Read more

दोस्ती में रेलम पेल भाग – 3

उधर होटल में प्रवीण ने भी हिना की चुदाई करते हुए बार – बार रीमा का नाम लिया. उसे रीमा के मम्मे बहुत ही अच्छे लगे थे. आज उसने हिना की चूत और गांड दोनों मारीं. हिना ने भी प्रवीण से कह दिया कि तुम मेरी तो गांड रोज ही मारते हो और एक रवि है उसने रीमा की गांड एक बार भी नहीं मारी…

Read more

दोस्ती में रेलम पेल भाग – 2

रीमा ने इतनी सी देर में ही प्रवीण और हिना की अन्तरंग बातें जान लीं और अपनी बातें हिना को बता दीं. रवि की तरह प्रवीण को भी चुदाई का पूरा शौक था. हिना बोली – मेरी चूत तो प्रवीण ने इतनी चौड़ी कर दी है कि अब मैं अपना मोबाइल उसमें बड़े आराम से रख सकती हूँ…

Read more

दोस्ती में रेलम पेल भाग – 1

रवि को सिर्फ मस्ती सूझती थी पर प्रवीण अपने कैरियर को लेकर बहुत ज्यादा सवेदनशील था. दोनों की जोड़ी ऐसी बनी कि रवि के साथ प्रवीण भी पक्का लैंडियाबाज बन गया और प्रवीण की वजह से रवि पढ़ाई ठीक हो गई. अब रात को दोनों जम कर पढ़ते थे और फिर नंगे होकर चिपट कर सो जाते…

Read more