आंटी ने चूत चटवाई

एक बार मेरे पड़ोस की आंटी ने मुझसे पोर्न दिखाने को कहा. मैंने उन्हें पोर्न दिखाया तो उन्होंने मुझसे अपनी चूत चूसने को कहा. साथ में चुदाई का भी ऑफर दिया. मैं तो इसी मौके की तलाश में ही था. फिर मैंने किस तरह उनकी चूत चाटी और चुदाई की, पढ़ें मेरी इस कहानी में…

हेलो दोस्तों, मैं आप लोगों का समय बर्बाद न करते हुए सीधे अपनी कहानी पर आता हूं. मेरे पड़ोस में एक आंटी रहती थीं. उनकी उम्र 30 साल के करीब थी और उनका नाम रेखा था. उनका फिगर 36 34 36 का है. रेखा आंटी मुझे काफी पहले से ही अच्छी लगती थीं. मैं काफी पहले से ही उनकी चूत का रस पीना चाहता था लेकिन लाख कोशिश के बावजूद कभी मौका ही नहीं मिला.

एक दिन दोपहर में आंटी अपने घर के बाहर बैठी थीं और फ़ोन में कुछ कर रही थीं. तभी मैं वहां से गुजरा. आंटी से मेरी नज़र मिली तो मैंने स्माइल पास किया, जवाब में उन्होंने भी स्माइल किया और मुझसे बोलीं – यहां आओ, मुझे कुछ काम है.

फिर मैं उनके पास गया और बोला – बताइए आंटी क्या काम है?

तब उन्होंने कहा कि तुम्हारे मोबाइल में कोई अच्छी वीडियो हो तो दिखाओ. इस पर मैंने उन्हें हिंदी गाने की कुछ वीडियो दिखाई. तब वह बोलीं – ऐसे वीडियो नहीं देखनी मुझे. मैंने पूछा – तक कैसी वीडियो देखेंगी आप? तो उन्होंने कहा कि पोर्न हो तो वो दिखाओ. यह सुन कर मैं एक दम से चौंक गया और जड़वत होकर वहीं का वहीं खड़ा रह गया.

मुझे ऐसे खड़े देख आंटी बोलीं – अब ऐसे ही खड़े रहोगे या कुछ दिखाओगे भी! फिर मैंने कहा – मेरे पास ऐसी वीडियो नहीं हैं आंटी. तब वो बोलीं – मुझे पता है कि तुम्हारे मोबाइल में पोर्न वीडियो हैं और तुमने उन्हें छुपा कर रखा होगा. लेकिन मेरा फिर भी जवाब वही रहा.

अब आंटी बार – बार कहने लगीं. उनके फोर्स करने पर मैं माना नहीं कर पाया और मोबाइल में रखे पोर्न वीडियो चालू कर दिए. अभी वीडियो चलते 1 मिनट ही हुआ होगा कि आंटी बोलीं – पोर्न बाहर देखना ठीक नहीं है, चलो घर में चलते हैं, मेरे घर में अभी और कोई नहीं है.

उनकी बातें सुन कर मुझे यह एहसास हो गया था कि आज मुझे उनके बदन को भोगने का सुख मिलेगा ही मिलेगा. पहले तो चुदाई होगी और अगर न भी हुई तो कुछ न कुछ तो जरूर होगा. इसके बाद फिर मैं आंटी के साथ उनके घर में चला गया.

उनके घर में जाकर मैंने फिर से पोर्न लगा दिया और वो देखने लगीं. मैं भी उनके बगल में ही बैठा था. तभी चूत चुसाई का सीन आया. जिसे देख कर आंटी बोलीं – देखो कितना मस्ती से ये चूत चाट रहा है. वैसे तो मुझे भी चूत चटवाने का शौक है लेकिन कोई मेरी यह इच्छा पूरी ही नहीं करता.

दोस्तों, मुझसे कुछ बोलते नहीं बन रहा था. मैं बस ऐसे ही बैठा रहा. फिर थोड़ी देर वीडियो देखने के बाद वो बोलीं – क्या तुम मेरी चूत चाटोगे? अगर तुम ऐसा करोगे तो मैं तुम्हें चोदने का मौका भी दूंगी.

यह सुन कर तो मेरे मन में लड्डू फूटने लगे. लेकिन मैं फिर भी कुछ नहीं बोला. तब आंटी मेरे और नजदीक आईं और मुझे किस करके बोलीं – तुम्हें चूत चाटना पसंद नहीं है क्या?

इस पर मैंने कहा – नहीं आंटी ऐसा नहीं है लेकिन पहले मैंने कभी चूत नही चाटी है. तब वो बोलीं – चल झूठे नहीं तो! मैंने कहा – आंटी मैं सच बोल रहा हूं, आज तक मैंने कभी चूत नहीं चाटी. यह सुन कर आंटी बोलीं – ठीक है आज ट्राई कर लो.

इतना कह के वीडियो पॉज करके उन्होंने मेरा फ़ोन एक तरफ रख दिया और पैंट के ऊपर से मेरे लन्ड को सहलाने लगीं. दोस्तों, मेरा लन्ड पहले से ही खड़ा था उनका हाथ लगते ही वह और कड़क हो गया. उसे टच करते ही उन्होंने कहा – वाह! तुम्हारा लन्ड तो पहले से ही तैयार है. चलो अच्छा अब तड़पाओ मत, जल्दी से कपड़े निकाल दो.

फिर मैंने अपने कपड़े निकाल दिए. अब मैं सिर्फ अंडर वियर में था. फिर मैंने आंटी से कहा कि अब तुम भी तो अपने कपड़े निकालो. यह सुमते ही उन्होंने अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिए. पहले उन्होंने सिर्फ अपनी साड़ी उतारी. फिर ब्लाउज निकाला. उन्होंने ब्लैक कलर की ब्रा पहन रखी थी, जिसमें से उनके बड़े – बड़े मम्मे कयामत ढा रहे थे.

फिर मैंने ब्रा के ऊपर से ही उनके मम्मों को चूसना शुरू कर दिया. मेरे ऐसा करने से उनके मुंह से अजीब तह की आवाजें निकलने लगीं. वो सिसकारियां बुर रही थीं और साथ में ‘उफ्फ आह आह ओह्ह ओह्ह’ की आवाजें Bही निकाल रही थीं.

थोड़ी देर बाद मैंने उनकी ब्रा निकाल दी और साथ में पेटिकोट का नाड़ा खींच कर उसे भी उतार दिया. नीचे उन्होंने ब्लैक कलर की ही पैंटी भी पहन रखा था. उनके नंगे मम्मों को देख कर मैं पागल सा हो गया और फिर उन पर टूट पड़ा.

मैं थोड़ी देर तक उनके मम्मों को चूसता रहा. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. फिर उन्होंने मुझे अपने पेट की तरफ इशारा किया. मैं उनका इशारा समझ गया और उनके पेट को चाटने लगा.

फिर धीरे – धीरे चाटते – चाटते मैं उनकी जांघों पर पहुंच गया और उसे चूमने लगा. दोस्तों, अब तक वो अच्छी तरह गर्म हो चुकी थीं. फिर उन्होंने मेरा सिर पकड़ा और उसे अपनी चूत के पास ले गईं.

अब मैं उनकी पैंटी के ऊपर से ही उनकी चूत को चाटने लगा. वो सिसकारियां ले रही थीं. उनके मुंह से ‘ओह्ह आह’ की बड़ी ही मादक आवाज आ रही थी. थोड़ी देर बाद उन्होंने मुझसे कहा कि जल्दी से पैंटी निकाल दो तो मैंने बिना देर किए दांतों से खींच कर उनकी पैंटी निकाल दी.

इसके बाद मैं उनकी टांगों के बीच बैठ गया और उनकी नाज़ुक चूत पर अपने होंठ रख दिए. अब वो मेरा सिर पकड़ के उसे अपनी चूत में दबाने लगीं. दूसरी तरफ मैं लगातार अपनी जीभ को उनकी चूत में अंदर – बाहर कर रहा था. दोस्तों, उनकी चूत से हल्का – हल्का पानी रिस रहा था. जो हल्का खट्टापन लिए कसैले टेस्ट का था. यह टेस्ट मुझे बहुत अच्छा लग रहा था और मैं मज़े से उनकी चूत चाटता जा रहा था.

फिर मैं उनकी चूत को ऊपर से नीचे तक चाटने लगा और साथ में उनके दाने को भी चूसने लगा. थोड़ी देर बाद वो बोलीं – चाट मेरे राजा जल्दी चाट, आज पूरे दिन तुझे मेरी चूत का पानी पीना है!

इतना कहने के थोड़ी देर बाद वह झड़ गई. मैं उसका सारा रस पी गया. फिर वो उठ कर मेरे लन्ड को मुंह में लेकर चूसने लगी. मुझे तो जन्नत सा एहसास हो रहा था. करीब 10 मिनट तक वह मेरा लन्ड चूसती रहीं और तभी मैं उनके मुंह में ही झड़ गया.

फिर उस पूरा दिन मैंने उनकी चूत चाटी. यही नहीं 2 बार मैंने उनकी गांड भी चाटी और जम कर उसकी चुदाई की. वो बोलीं – जिंदगी में आज पहली बार इतना मज़ा आया. पहली बार मैं पूरी तरह संतुष्ट हुई हूं.

उसके बाद से अब जब भी उनके घर पर कोई नहीं होता तो वो मुझे बुला लेतीं और मैं पूरा दिन उनकी चूत चूसता – चाटता रहता हूं. साथ ही मुझे उनकी चुदाई करने का भी मौका मिलता है. मेरी कहानी आप सब को कैसी लगी, मुझे मेल करके जरूर बताएं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *