बाम लगाकर चूत में आग लगाई

मेरे फ्लैट के नीचे एक कपल रहने आया. हसबैंड बैंक में मैनेजर था जबकि पत्नी हाउसवाइफ थी. एक दिन बाम लगाकर मैंने उसकी चूत में आग लगाई और उसे चोद दिया…

मेरा नाम रोहित (बदला हुआ नाम) है. मैं 20 साल का हूं. आज मैं आपको मेरी 1 साल पुरानी कहानी सुनाता हूँ. मैं अपने फ्लैट्स में अपने माता – पिता के साथ रहता था. वहां रहते हुए हमें एक साल हो गया था.

एक बार मैं कहीं बाहर से घर आ रहा था तो मैंने देखा कि हमारे फ्लैट के नीचे एक ट्रक आया हुआ है. मुझे पता चला कि एक मैरिड कपल हमारे नीचे वाले फ्लैट में रहने के लिए आया है.

थोड़े दिनों बाद उनकी पत्नी हमारे यहां दही लेने के लिए आई और मम्मी से लेकर चली गयी. इसी तरह चलता रहा. कुछ दिनों बाद मेरी मम्मी और वो फ्रेंड बन गईं. अब तो वो हमारे घर रोज ही आया करती थीं.

धीरे – धीरे मैं भी उनसे बातें करने लगा. बातों ही बातों में मुझे पता चला कि वो दिल्ली से हैं और यहाँ अपने पति के ट्रांसफर की वजह से आई हैं. उनका पति बैंक में मैनेजर थे और रात में ही घर आते थे.

एक बार की बात है. वो हमारे घर आई. उस समय मैं अपने कमरे में था. दोस्तों, वो बहुत खूबसूरत थीं. जैसे ही वो आईं मैं उन्हें देखने के लिए बाहर चला आया. उन्होंने एक लूज टी-शर्ट और लूज सा पजामा पहना हुआ था. उनके बाल गीले थे. यह देख मुझे पता चल गया कि वो सीधा नहा कर ऊपर आ गयी हैं.

मैं उन्हें देखने लगा. उन्होंने ब्रा नहीं पहनी हुई थी और मैं बड़ी आसानी से उनके निपल्स की उभरती शेप देख सकता था. इस तरह से मैंने उन्हें कभी नहीं देखा था. उनको इस तरह देख कर उसी वक़्त मेरा लंड खड़ा हो गया. फिर रात को मैंने उन्हीं के बारे में सोच कर मुठ मारा और सो गया.

बात उस दिन की है जब मेरी मम्मी कहीं बाहर गयी हुई थी और घर पे कोई नहीं था. उस दिन आंटी मेरे घर पर आईं और बोलीं – अरे तुम्हारे घर पर कोई नहीं है क्या? मैंने कहा कि नहीं तो उन्होंने कहा – बेटा नीचे चल लो, मैंने चावल बनाए हैं चल कर खा लो.

फिर मैं नीचे चला गया. उन्होंने टी शर्ट और पजामा पहना हुआ था. दोस्तों, घर पर वो हमेशा यही पहन कर रहती हैं. इस बार उन्होंने ब्रा भी पहनी हुई थी. फिर जब मेरे लिए चावल परोसने के लिए वो नीचे झुकीं तो मैं उनके बोबे देखने लगा. क्या गोरे बूब्स थे उनके! उनके बूब्स देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया पर मैं कुछ न कर सका. उनके बूब्स का साइज 38D था.

खाना खाने के बाद मैं उनके बाथरूम में हाथ धोने गया तो वहां पर उनकी ब्रा और पैंटी रखी थी. उसे देख कर मेरा लन्ड एक बार फिर से खड़ा हो गया. लेकिन फिर मैं जल्दी से बाहर आ गया.

इसके बाद आंटी और मैं ड्राइंग रूम में जाकर बैठ गये. बात करते – करते आंटी ने मुझसे कहा कि उनकी कमर में बहुत दर्द होने लगा है और वो लेटने जा रही हैं. इतना कह कर वो बैडरूम में चली गईं. अंदर जाकर उन्होंने दरवाजा हल्का सा बंद कर दिया. करीब २ मिनट बाद मैं उनके कमरे के पास गया और दरवाजा खटखटाया तो आंटी ने कहा – अंदर आ जाओ बेटा.

अंदर जाने के बाद मैंने आंटी से पूछा कि आंटी ज्यादा दर्द हो रहा है क्या? वो बोली – हाँ बेटा. इस पर मैंने कहा आंटी कोई बाम लगा लो. तो उन्होंने कहा कि मेरा हाथ वहां तक नहीं पहुंचेगा. यह सुन कर मैंने कहा – आंटी बुरा न मानो तो मैं लगा दूं. आंटी ने हां कर दी.

दोस्तोब, आंटी बिस्तर पर लेटी हुई थी. फिर मैंने उनसे कहा कि आंटी जरा उल्टा हो जाओ. फिर वो उल्टा हो गयी. इसके बाद मैंने उनसे पूछा कि आंटी कहां बाम लगाना है तो आंटी ने कहा – बेटा कमर से थोड़ा ऊपर. मैंने कहा ठीक है.

फिर जैसे ही मैंने उनकी टी शर्ट के अंदर हाथ डाला वैसे ही मेरा लंड एक बार फिर एक दम से खड़ा हो गया. बाम लगाते वक़्त आंटी की ब्रा अटक रही थी तो मैंने आंटी से कहा कि आंटी आपकी ब्रा अटक रही है. इस पर आंटी ने मुझसे कहा कि एक काम करो उसे खोल दो.

यह सुन कर मेरा लन्ड एक दम तन चुका था. फिर मैंने अंदर से ही उनकी ब्रा खोल दी. इसके बाद फिर मैंने उनसे कहा की आंटी आपकी टी-शर्ट की वजह से बाम ढंग से नहीं लग पा रहा है तो आंटी ने कहा कि इसे थोड़ा ऊपर कर दो.

फिर मैंने उनकी टी शर्ट ऊपर कर दी और उनकी पूरी कमर पे मसाज करने लगा. यह देख आंटी बोलीं कि तुम तो बड़ी अच्छी मसाज करते हो. तब मैंने कहा कि आंटी आज पहली बार कर रहा हूं. फिर आंटी ने कहा – अब कर ही रहे हो तो जरा मेरे पैर की भी कर दो.

इस पर मैंने कहा कि आंटी आपने पजामा पहना हुआ है तो आंटी ने कहा इसे उतार दो. फिर मैंने उनका पजामा उतार दिया. अब आंटी नीचे सिर्फ चड्ढी और ऊपर चढ़ी हुई टी शर्ट में थीं.

फिर मैंने उनके गोरे पैर की मसाज की. हालांकि, मेरा ध्यान तो उनकी गांड और चूत पर ही था. अब तो मैं किसी भी तरह उसे पाना चाहता था. फिर मैंने आंटी से कहा कि बोलो तो मैं सामने की भी मसाज कर दूं. इस पर आंटी बोलीं – ठीक है कर दो.

फिर उन्होंने अपनी टी शर्ट और ब्रा भी उतार दी. अब मेरा लन्ड एक दम लोहे की रॉड जैसा हो गया था और मैं बस उनको चोदना चाहता था. फिर मैंने तेल लिया और उनके बूब्स पर डाल कर मसाज शुरू कर दी.

कुछ देर बाद जब मैं उनके बूब्स दबा रहा था तो वो ‘आआह उह्ह्ह ऊह उम्म’ की आवाज़ निकाल रही थीं. यह देख मैंने पूछा कि क्या हुआ आंटी तो उन्होंने कहा कुछ नहीं बेटा तुम बस ऐसे ही करते रहो रुको मत. अब मैं उनके बूब्स की मलिश करता रहा और वो ‘आह आह ऊह उह’ करती रहीं.

कुछ देर बाद उन्होंने अपना हाथ मेरे लन्ड पर रख दिया. यह देख मैं एक दम शॉक रह गया. फिर वो बोलीं कि प्लीज राहुल अब मुझे चोद दो. मैंने कहा – लेकिन आंटी तो उन्होंने कहा – कोई लेकिन – वेकिन नहीं राहुल, प्लीज अब तुम जल्दी से मुझे चोद दो बस.

फिर मैंने एक दम से उनकी चड्ढी उतारी और अपनी सारी उंगलियों को उनकी चूत में ड़ाल दिया और तेजी से फिंगरिंग करने लगा. वो अपने मुंह से लगातार ‘आह आअह ऊह ऊह’ की आवाज करती रहीं.

फिर मैं उनकी गोरी चूत को चूसने लगा. क्या मजेदार चूत थी उनकी! दोस्तों, उनकी चूत का टेस्ट आज तक मुझे याद है. उनकी गोरी चूत के चारों तरफ हल्के – हल्के बाल थे. जो चुसाई के दौरान मेरी जीभ में चुभते थे.

फिर उन्होंने मेरे कपड़े उतार दिए और मेरा लंड चूसने लगीं. वो इतने अच्छे से लंड चूस रही थीं कि लग रहा था बस चूसती ही जाएं. फिर उन्होंने मुझसे कहा – राहुल बस, अब प्लीज यह लंड मेरी प्यासी चूत में डालो न!

यह उनका प्रणय निवेदन था. जिसे मैंने स्वीकार किया और उन्हें लेटा दिया. इसके बाद मैंने झटके से अपना लंड उनकी चूत में डाल दिया. इस झटके के साथ वो एक दम से चिल्ला उठीं. लेकिन मैंने उनकी चीख की परवाह न करते हुए अपनी रेल गाड़ी शुरू कर दी.

थोड़ी देर बाद वो चिल्लाने लगीं और कहने लगीं, ‘और तेज राहुल और तेज चोदो मुझे प्लीज मुझे चोदो आह राहुल आह, हाँ अंदर तक डालो और तेज और तेज, आज मुझे मत छोड़ना. मेरी चूत को चोदो राहुल चोदो. हाँ ऐसे ही और तेज राहुल और तेज. अब मैं तुम्हे रोज मुझे चोदने दूंगी. आह राहुल आह, हां फ़क मी राहुल आह आअह आअह’.

चुदाई के दौरान मैं उसके बूब्स भी चूसता जा रहा था. करीब 10 मिनट बाद मैंने अपना लंड निकला और उनसे पूछा कि कैसा लगा तो उन्होंने कहा – थोड़ा और चोदो. फिर मैंने उनसे पूछा कि मेरा प्रीकम पियोगी? इस पर उन्होंने कहा – हाँ पियूंगी, अब जल्दी से चोदो मुझे और अपना प्रीकम पिलाओ.

फिर मैंने अपना लंड वापस उनकी चूत में घुसाया और बहुत बुरी तरह चोदा. वो लगातार फ़क मी, फ़क मी राहुल करती रही. तभी एक दम से मेरे लंड से प्रीकम आया और मैंने उसे उनके बूब्स पर गिरा दिया. इसके बाद अपना लन्ड उनके मुंह में दे दिया.

वो मेरा लंड बड़े मजे से चूसती रही और उस पर लगा सारा वीर्य चाट गयी. फिर मैं अपने फ्लैट पर वापस आ गया. उस दिन के बाद मैंने बहुत बार उनको चोदा. कुछ दिन बाद उनके पति का ट्रांसफर हो गया और वो चली गईं. मुझडे आज भी उनकी याद आती है.

आपको मेरी कहानी कैसी लगी. मुझे मेल करके जरूर बताएं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *