बीवी को दोस्त से चुदवाया और उसके बच्चे की मां बनी

हमने लव मैरिज की थी लेकिन शादी के बाद मुझे लगा कि मेरी बीवी मुझसे संतुष्ट नहीं है तो मैंने अपने एक दोस्त से कहा कर उसे चुदवाया. उसकी चुदाई उसे इतनी पसन्द आई कि वह उसके बच्चे की मां बन गई…

हेलो दोस्तों, मेरा नाम राकेश है. मैं आप लोगों का ज्यादा टाइम न लेते हुए सीधा मेन बात पर आता हूँ.

मेरी उम्र 35 साल है और मेरी पत्नी की 29 साल. मेरी पत्नी का नाम नयना है. हमने लव मैरिज की है. हम दोनों रोज़ सेक्स करते हैं. मेरी वाइफ का फिगर 36-34-38 का है और वो बहुत ही खूबसूरत है. वह सेक्स की बहुत शौकीन है. मगर 1 महीने में उसको लगने लगा कि मैं उसको सेक्स का पूरा मज़ा नहीं दे पा रहा हूँ.

उसने कभी भी मुझसे ये बात बोली नहीं लेकिन मुझे पता चल गया था. एक दिन मैंने ये बात अपने खास दोस्त को बताई तो उसने कहा तू परेशान क्यों है, मैं हूँ न! आखिर दोस्त कब काम आएंगे? उसकी यह बात सुन कर पहले तो मुझे बहुत गुस्सा आया लेकिन फिर मैंने सोचा कि उसने थी ही तो बोला है. दोस्तों, मेरे उस फ्रेंड का नाम भरत था.

फिर ये बात मैंने नयना को बताई तो पहले वो मना करने लगी लेकिन फिर मेरे समझाने पर मां गई और कहने लगी कि आपकी मर्जी है इसलिए सिर्फ एक बार ही करूंगी. मैं बोला कि ठीक है मेरी जान, 1 बार ही सही बस आप शुरुआत तो करो.

फिर एक शनिवार को मैंने भरत को घर बुलाया और वो जल्दी ही आ गया. फिर नयना को बोला कि आज भरत यहीं हमारे साथ ही सोएगा. नयना मेरी बात समझ गयी और वो बेडरूम में जाकर ट्रांसपैरेंट नाइटी पहन कर आई.

फिर हम लोगों ने थोड़ी मस्ती की और फिर मैं बोला कि भरत मेरा काम कर दो यार. इस पर भरत बोला कि ऐसे थोड़ी होता है यार, ये मेरी भाभी है और उसके साथ ऐसे नहीं हो सकता. तब मैंने कहा कि फिर कैसे हो सकता है? इस पर उसने कहा कि यार हम कहीं घूमने जाते हैं और वहां मैं भाभी को चोदूँगा. उसकी यह बात सुन कर नयना बोली – हां राकेश, यही ठीक रहेगा.

फिर हमने सापुतारा जाने का प्लान किया. इसके बाद मैंने वहां एक होटल में 3 रूम बुक करा दिया और फिर हम तीनों निकल पड़े. रास्ते में मैंने मेरे दोस्त से बोला कि दो दिन के लिए नयना तेरी वाइफ है, जो मन में आये वो कर. फिर थोड़ी देर बाद हम होटल पहुंच गए.

हम लोग करीब 11 बजे होटल पहुंचे और फिर खाना खाया. इसके बाद हम रूम में चले गए. रूम में जाकर मैं उसने बोला कि तुम लोग अब अपना प्रोग्राम स्टार्ट करो मैं घूमने जा रहा हूँ. इस पर नयना बोली कि मुझे ऐसे अकेले छोड़ कर मत जाओ, आप भी साथ में रहो. तब मैं बोला कि फिर तुम अच्छे से नहीं चुदोगी और मेरे दोस्त को भी अच्छा नहीं लगेगा. तब वो दोनों एक साथ बोले कि आप साथ रहोगे तो ही हम सेक्स करेंगे. उनकी यह बात सुन कर मुझे मजबूरन वहां रुकना पड़ा.

अब भरत ने नयना को अपने पास बुला लिया और उसे चूमने लगा. लेकिन नयना मुझे ही देख रही थी. तब मैं बोला – डार्लिंग, अभी भरत ही तेरा पति है जैसे मेरा साथ देती हो वैसे ही उसका भी साथ दो. तब उसने हां में सिर हिलाया. तब तक भरत ने उसको बहुत ही गर्म कर दिया था.

फिर भरत ने एक – एक करके उसके कपड़े निकाल दिए. अब वो सिर्फ ब्रा और पैंटी में रह गई थी. फिर भरत ने मुझे पास बुलाया और बोला कि यार मेरे कपड़े तो निकाल. फिर मैंने उसके ऊपर के सारे कपड़े निकाल दिए. अब भरत भी केवल चड्ढी में था और उसका लन्ड बाहर आने के लिए तड़प रहा था.

तभी नयना बोली कि अब कुछ करो, मुझसे रहा नहीं जा जाता है. तब भरत मुझसे बोला – यार, भाभी के कपड़े तो निकालो, और फिर नयना को नंगा कर दिया. उधर नयना ने भी भरत की निकर खींच कर उसे नंगा कर दिया. उसका लण्ड देख कर वह चौंक गई और बोली, बाप रे इतना बड़ा लन्ड!

दोस्तों, भरत का लन्ड मेरे लन्ड से करीब दोगुना लम्बा और मोटा था. उसे देख नयना पागल सी हो गई और भरत का लण्ड मुंह में लेकर चूसने लगी. तब भरत ने मुझसे नयना की चूत चाटने को कहा. फिर मैंने भी एक दोस्त की बात मानते हुए नयना की चूत चाटने लगा.

तब नयना मेरा बाल पकड़ कर बोली, अब नहीं रहा जाता भरत का लेने दो. उसके इतना कहने पर मैं हट गया और भरत उसकी चूत पर लन्ड रख के आहिस्ता – आहिस्ता अंदर डालने लगा. तब नयना बोली, और अंदर डालो, और अंदर. फिर भरत ने अपना पूरा लन्ड उसकी चूत में पेल दिया और चुदाई करने लगा.

ये चुदाई करीब 20 मिनट तक चलती रही. इस दौरान भरत ने नयना को अलग – अलग तरीके से चोदा. इस बीच नयना का 3 बारस्खलन हो चुका था. अब भरत का भी निकलने वाला था तो भरत बोला कि कहाँ डालूं बाहर या मुंह में तो मैंने कहा कि अब अपनी बीवी से ही पूछ. तब नयना ने मेरी तरफ देखा और कहा कि अंदर ही ले लेती हूँ. फिर भरत ने अपना पूरा वीर्य नयना की चूत में भर दिया.

इसके बाद जब मैंने नयना को देखा तो वो काफी खुशी थी. ऐसे खुशी आज तक मैंने उसके चेहरे पर नहीं देखी थी. वो बहुत ही संतुष्ट नज़र आ रही थी. फिर वह मुझसे चिपक कर बोली – थैंक यू मेरे राजा, आप ही मुझे समझ सकते हो.

जब हम चिपके थे तब भारत आया और बोला – ये क्या भाभी, मेहनत मैंने की और प्यार उसको. तब नयना बोली कि आपने मेहनत की तो उसका फल भी तो आपको मिला. फिर उसने कहा कि आप दोनों को एक प्रॉमिस करना होगा कि भरत मुझसे सेक्स करके मुझे प्रेग्नेंट बनाएगा.

इस पर मैं मुस्कुरा दिया. तब भरत बोला कि वो तो ठीक है भाभी लेकिन जब मेरी इच्छा होगी तब आपको मुझसे चुदवाना होगा. तब नयना बोली कि वो प्रॉमिस आप अपने दोस्त से लेना मैं तैयार हूँ.

तो दोस्तों, ये थी मेरी सच्ची कहानी. प्राइवेसी के चलते इसमें सिर्फ नाम भर बदल दिए गए हैं. 1 साल बाद नयना प्रेग्नेंट हो गयी और आज हमारे 8 साल का लड़का है. अब भरत की भी शादी हो गई है और उसने जॉब की वजह से उस शहर को छोड़ दिया.

नयना उसको बहुत मिस करती है और कभी – कभी उसे फोन करके बुलाती है और उसके आने पर मेरे सामने ही चुदवाती भी है. दोस्तों, जब भरत उसको चोद जाता है तब वह ज्यादा ही खिल जाती है.

आप लोगों को मेरी यह कहानी कैसी लगी. मुझे मेल करके जरूर बताना. आगे की कहानी फिर कभी लिखूंगा. मेरी मेल आईडी – [email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *