कॉल सेंटर की जॉब ने दिलाई चूत

पढ़ाई के साथ – साथ मैं एक कॉल सेंटर में काम भी करता था. एक दिन मैं ड्यूटी पर था तो एक लड़की ने फ़ोन किया और अजीब सी डिमांड रख दी. फिर मैंने कैसे उसे पटाया और उसकी चूत तक पहुंचा पढ़ें मेरी इस कहानी में…

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम रौनक है और मैं गुजरात का रहने वाला हूं. मेरी उम्र 24 साल है और अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूं. यहां पर ये मेरी पहली कहानी है, उम्मीद है आप सब को पसंद आएगी.

बात तब की है जब मैं अहमदाबाद के एक कॉलेज में पढ़ाई कर रहा था. पढ़ाई के साथ – साथ मैं एक मोबाइल कंपनी के कॉल सेंटर पर जॉब भी करता था. दिन में कॉलेज होता था इसलिए काम पर मैं शाम को ही जाता था.

मोबाइल कंपनी का कॉल सेंटर होने के कारण तमाम तरह के लोग फोन करते थे. एक दिन कॉल सेंटर पर एक लड़की का फ़ोन आया. उसने अपना नाम शीतल बताया और कहा कि मुझे अपने बॉयफ्रेंड से बात करनी है, आप उसको फ़ोन करके बोलो कि मुझसे बात करे क्योंकि मेरे मोबाइल में बैलेंस नहीं है.

इस पर मैंने उसे समझाया कि ये काम हम नहीं कर सकते. लेकिन वो मान ही नहीं रही थी. बार – बार बस एक ही ज़िद किए थी कि उसे कहो मुझसे बात करे. आखिरकार अपनी जान छुड़ाने के लिए मैंने उसके बॉयफ्रेंड का नम्बर ले लिया और फिर उसने फ़ोन काट दिया.

अब मेरे दिमाग में वही लड़की ही घूम रही थी. उसकी आवाज बहुत ही प्यारी थी. इसलिए मैंने उसका मोबाइल नम्बर याद कर लिया. ड्यूटी से छूटने के बाद मैंने उस लड़की के नम्बर पर फ़ोन किया और बताया कि कॉल सेंटर पर फ़ोन करके वो जिससे बात कर रही थी मैं वही हूं.

फिर ऐसे ही हमने थोड़ी इधर – उधर की बातें की. फिर मैंने उससे उसके बॉयफ्रेंड के बारे में पूछा तो उसने अपने रिश्ते के बारे में सब कुछ बता दिया. उसने बताया कि उसका बॉयफ्रेंड अक्सर गुस्सा करता है और फिर फ़ोन नहीं करता. उसने बताया कि वो बहुत गंदा है, मुझे हमेशा परेशान करता रहता है. यह सुन कर मैंने उसे प्रपोज कर दिया. उसने मना कर दिया. तब मैंने कहा सोचा लो, मैं परेशान बिल्कुल भी नहीं करूंगा. इस पर उसने मुझसे वादा लिया और मेरा प्रपोजल एक्सेप्ट कर लिया.

अब टाइम मिलने पर हम रोजाना फ़ोन पर बात करने लगे. पहले तो हमारे बीच नॉर्मल बातें होती थीं लेकिन फिर धीरे – धीरे बातों का रुख सेक्स की तरफ मुड़ता गया. अब हम फोन पर ही सेक्स चैट करने लगे. वो मुझसे बहुत खुश थी.

इसी बीच मेरे एग्जाम आ गए. इस वजह से हमारी बातचीत थोड़ी कम हो गई. एग्जाम के बाद छुट्टी हुई और मेरे सारे दोस्त घर चले गए. अब मैं अपने पीजी में अकेला ही रह गया. मैंने इस मौके का फायदा उठाने की सोची और उसे अहमदाबाद आने को कहा.

दोस्तों, मैं आपको बताना भूल गया था कि वो अहमदाबाद से करीब 100 किलोमीटर दूर एक गांव में रहती थी. लेकिन उसकी एक सहेली यहां रहती थी और वह कभी – कभी उससे मिलने आती थी. मेरे कहने पर इस बार भी वह उसी से मिलने का बहाना करके अहमदाबाद आ गई.

अहमदाबाद पहुंच कर उसने मुझे फ़ोन किया तो इसे लेने के लिए मैं बस स्टैंड पहुंच गया. वहां मैंने उसे पहली बार देखा और देखता ही रह गया. क्या माल थी यार! उसको देखते ही मन किया कि पकड़ के चोद दूं.

फिर मैंने उसे बाइक पर बिठाया और रूम की तरफ निकल पड़ा. जब बाइक चलने लगी तो उसके बूब्स मेरी पीठ पर टच होने लगे. अब मैं तो खुशी के मारे जैसे आसमान में पहुंच गया था. किसी लड़की के साथ यह मेरा पहला एहसास था.

थोड़ी देर बाद हम रूम पर पहुंच गए. कमरे के अंदर जाते ही मैंने दरवाजा बन्द किया और वो मुझसे लिपट गई. फिर उसने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए. हम मदमस्त होकर एक – दूसरे को चूमते रहे.

करीब 15 मिनट तक किसिंग चलता रहा. फिर वो बोली कि मुझे थोड़ा फ्रेश होने जाना है, ट्रेवेलिंग की वजह से थक गई हूं. फिर वो बाथरूम में चली गई. बाथरूम से निकलते समय उसने तौलिया लपेट रखा था. उसमें वो बहुत सेक्सी लग रही थी.

फिर जैसे ही वो मेरे पास आई मैंने उसका तौलिया हटा दिया. अब वो मेरे सामने पूरी नंगी हो गई. उसका गोरा बदन मद्धिम रोशनी में दूध सा चमक रहा था. अब मैंने देर न करते हुए एक बार फिर से उसे चूमना शुरू कर दिया. साथ ही साथ मैं उसके गोरे मम्मों को भी सहला रहा था. उसके संतरे जैसे आकार के मम्मों को सहलाने में मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

धीरे – धीरे मेरा मुंह उसके मम्मों तक पहुंच गया और मैं चूसने लगा. अब उसके मुंह से मादक आवाजें निकल रही थीं. मम्मे चूसने के दौरान मैंने अपना एक हाथ नीचे किया और उसकी चूत पर रख दिया. उसकी बिना बालों वाली चूत बहुत ही मुलायम थी. मन कर रहा था कि खा जाऊं. फिर मैं उसी हाथ से उसकी चूत को सहलाने लगा. मेरे ऐसा करने से वो पूरी तरह गर्म हो चुकी थी. अब उसकी चूत से पानी रिस रहा था.

इसके बाद मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और अपना मुंह उसकी चूत पर रख दिया. उसकी चूत एक दम गीली हो गई थी. अब मैं उसकी चूत में जीभ घुसा कर चाट रहा था. थोड़ी देर बाद उसने मेरे मुंह में ही चूत रस छोड़ दिया और मैंने चाट – चाट उसे साफ कर दिया.

इसी दौरान उसने मेरे कपड़े भी उतार दिए. फिर वह भूखी शेरनी की तरह मेरे लन्ड पर टूट पड़ी और उसे मुंह में लेकर चूसने लगी. किसी लड़की के साथ ये मेरा पहला अनुभव था. दोस्तों, मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. मैं जन्नत की सैर कर रहा था. करीब 10 मिनट की चुसाई के बाद मेरा लन्ड पस्त हो गया और अपना पानी उसके मुंह में छोड़ दिया. वो उसे सारा का सारा पी गई.

फिर उसने अपना मुंह उठाया और कहा कि रौनक, अब मुझे और मत तड़पाओ, जल्दी से चोद दो. मैंने भी ज्यादा देर करना उचित न समझा और अपने लन्ड का सुपड़ा शीतल की चूत पर रख के लन्ड से ही सहलाने लगा.

थोड़ी देर ऐसा करने के बाद फिर मैंने एक जोरदार झटका दिया और मेरा आधा लन्ड उसकी चूत में घुस गया. इससे वो थोड़ा सा कसमसाने लगी लेकिन होंठ मेरी कैद में होने के कारण चिल्ला न पाई. अब मैं धीरे – धीरे लन्ड हिलाता रहा. थोड़ी देर बाद उसे भी जोश आ गया और वह अपनी कमर हिलाने लगी.

फिर मैंने एक जोरदार झटका लगाया और मेरा पूरा लन्ड उसकी चूत में चला गया. उसे दर्द हुआ और लेकिन फिर वह कुछ बोल न पाई. अब मैं धीरे – धीरे लन्ड आगे – पीछे करने लगा. उसकी चूत से लगातार पानी निकलने की वजह से एक दम गीली हो गई थी. इस वजह से थोड़ी देर बाद उसे भी मज़ा आने लगा. अब हम मजे से चुदाई का आनंद ले रहे थे.

हमने करीब 16-17 मिनट तक चुदाई की. तब तक वो 2 बार झड़ चुकी थी. मेरा भी अब निकलने वाला था तो मैंने पूछा कि कहां निकलूं? उसने अंदर ही निकालने को कह दिया. मैं खुश हो गया क्योंकि मैं भी तो यही चाहता था. दोस्तों, चूत में जब लन्ड का रस जाता है तो चोदने वाले और चुदवाने वाले दोनों को असीम आनंद आता है.

थोड़ी देर लगातार झटके देने के बाद मैं उसकी चूत में झड़ गया. हम दोनों पूर्ण संतुष्ट थे. इसके बाद हम कुछ देर ऐसे ही पड़े रहे. फिर फ्रेश होने के बाद शीतल ने खाना बनाया और फिर हमने साथ में ही खाया.

उस दिन हमने 4 बार चुदाई की. वो रात भर मेरे साथ रही और हमने मस्ती में पूरी रात जागते हुए गुजार दी. दोस्तों, वो अपने घर पर 4 दिन के लिए बोल के आई थी. जब मुझे ये पता चला तो मेरी तो खुशी का ठिकाना ही न रहा. हमने 4 दिन ऐसे ही चुदाई करते हुए काटे. हम दिन – रात नहीं देखते थे. जब भी हमारा मन होना शुरू हो जाते.

मेरे साथ रिलेशनशिप में आने के बाद वो अपने बॉयफ्रेंड को भूल गई. घर जाने के बाद भी वो जब तब मुझे सेक्स के लिए बोलती रहती थी. बाद में उसकी शादी हो गई लेकिन कभी – कभी वो फ़ोन पर मुझसे बात कर लेती है. मेरी यह कहानी आप लोगों को कैसी लगी, मुझे मेल करके जरूर बताएं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *