छोटी सी मदद के बदले मिली चूत

एक बार मैं अपने ऑफिस के काम से बाहर जा रहा था. इसी दौरान बस में मुझे एक लड़की मिली, जिसकी मैंने थोड़ी सी हेल्प कर दी. बाद में उस लड़की ने मुझे घर बुलाकर अपनी चूत चुदवाई. लेकिन कैसे… ये कहानी में पढ़ें…

अन्तर्वासना के सभी पाठकों और पाठिकाओं को दीपक का प्यार भरा नमस्कार. दोस्तों, मैं लगभग 4 सालों से अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूं. यहां प्रकाशित होने वाली कहानियों को पढ़ कर मुझे भी लगा कि मैं भी अपनी आप बीती लोगों को बताऊं. इसलिए मैंने भी इसे एक कहानी के रूप में लिख दिया है. दोस्तों, यह मेरी पहली कहानी है, उम्मीद करता हूं कि आप लोगों को पसंद आएगी. कहानी लिखने में भी मैं पूरा प्रयास करूंगा कि इसे रोचक बनाये रखूं.

अब सीधा अपनी कहानी पर आता हूं. मेरा नाम दीपक है और मैं उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूं. मेरी उम्र 26 साल है और ये घटना आज से करीब 6 महीने पहले की है. तब मैं जॉब करने के लिए पहली बार गुजरात के बड़ोदरा आया था.

कहानी में आगे बढ़ने से पहले मैं आप लोगों अपने बारे में भी थोड़ी जानकारी दे देता हूं. दोस्तों, मैं एक मध्यम वर्गीय परिवार से सम्बंध रखता हूं. मैंने एम एस सी तक की पढ़ाई की है और मेरा कद 5 फुट 10 इंच है. मैं दिखने में भी अच्छा हूं. मेरे लंड की लम्बाई 6 इंच है और गोलाई मैंने कभी नापी नहीं लेकिन लगभग 2 से 2.5 इंच के लगभग होगी.

ये कहानी मुझे बस में मिली एक लड़की की है. एक दिन मैं अपने ऑफिस के काम से बाहर जा रहा था. मुझे बस से जाना था तो मैं अपने समय से जाकर बस में बैठ गया. तभी एक लड़की आकर मेरे बगल वाली सीट पर बैठ गई. उसका नाम सीमा (ये उसने मुझे बाद में बताया) था.

सीमा भी वहीं जा रही थी, जहां मैं जा रहा था. इतना ही नहीं उसका भी उसी ऑफिस में कुछ काम था, जहां मुझे जाना था. खैर, वो मेरे बगल में आकर बैठ तो गई लेकिन कुछ परेशान सी लग रही थी. बस चल पड़ी थी. पहले तो मैंने इग्नोर किया लेकिन फिर थोड़ी देर बाद जब मुझसे रहा न गया तो मैंने पूछ ही लिया कि क्या हुआ परेशान क्यों हो?

मेरे पूछने पर उसने बताया कि वो घर से पैसे लाना भूल गयी है और उसके पास किराया देने के लिए भी पैसे नहीं नहीं हैं. तब मैंने कहा कि कोई बात नहीं पैसे मैं दे देता हूं. फिर मैंने बस कंडक्टर को पैसे देकर उसका टिकट बनवा दिया. रास्ते भर हम दोनों बात करते जा रहे थे लेकिन इस दौरान हमारे बीच सिर्फ नॉर्मल बातें ही हो रही थीं.

फिर किसी तरह हम दोनों वहां पहुंचे. अपना काम करके मैं वापस जाने लगा तो वह मेरे पास आई और उसने मुझसे मेरा नंबर मांगा. मैंने अपने नंबर दे दिया और कहा कि कोई प्रॉब्लम हो तो मुझे कॉल कर सकती हैं, उसने भी मुस्कुरा के अपनी सहमति व्यक्त कर दी. फिर मैं वापस आ गया.

माफ करना दोस्तों, मैं उसके बारे में बताना ही भूल गया. उसकी उम्र 20 साल के आसपास थी और वह एक गोर खूबसूरत बदन की मलिका थी. उसका फिगर 34 30 36 का था.

फिर वो बात आई – गई हो गई. मैं अपने काम में व्यस्त हो गया था और उसे लगभग भूल ही गया था. तीन दिन बाद मुझे एक अनजान नंबर से कॉल आया. मैंने कॉल रिसीव की. सामने से वही बोल रही थी. थोड़ी बात करने के बाद उसने कहा कि वो मुझसे मिलना चाहती है. मुझे भला क्या ऐतराज होता, मैंने भी हां कर दिया.

ऑफिस से आने के बाद फिर मैं तैयार होकर उससे मिलने चला गया. उसने मुझे अपने घर पर बुलाया था. जब मैं उसके घर गया तो वो घर में अकेली थी. यह देख मैंने पूछा कि घर के बाकी सब लोग कहां गए हैं? उसने कहा कि घर के सभी लोग एक शादी में गए हुए हैं. यह देख मैंने सोचा कि मेरी तो लाटरी लग गई. अब मुझे ये पक्का विश्वास हो गया कि वो मुझसे चुदने के लिए पहले से तैयार है, तभी तो अकेले होने पर मुझे बुलाया है.

वो उस समय एक ब्लैक कलर की टी शर्ट और जीन्स पहने हुए थी, जिसमें वो बहुत कमाल की लग रही थी. फिर उसने मुझे चाय के लिए पूछा तो मैंने हां कह दिया. फिर वो चाय लेने चली गयी. थोड़ी देर में वह दो कप में चाय और कुछ नमकीन लेकर आई.

एक कप मुझे दिया और दूसरा खुद लेकर मेरे पास आकर बैठ गई और इधर – उधर की बातें करने लगी. दोस्तों, मैं तो उसको देख कर बहुत ही गर्म हो गया था और अब तक मेरा लंड खड़ा हो गया था. तभी मेरो नज़र उसके ऊपर पड़ी, मैंने पाया कि वो मेरे पैंट के ऊपर उभरे हुए मेरे लंड को चुपके से देख रही थी.

यह देख मैंने अपना एक हाथ उसके हाथ के ऊपर रख दिया और धीरे – धीरे सहलाने लगा. थोड़ी देर तक ऐसा करने के बाद जब उसने कुछ नहीं कहा तो मैंने उसके होंठों पर एक किस कर किया. उसने भी मेरा साथ दिया.

दोस्तों, उस दिन पहली बार मैंने किसी लड़की को किस किया था. फिर करीब 10 मिनट तक किस करने बाद मैं धीरे – धीरे अपना हाथ उसके बूब्स तक ले गया और उसके बूब्स को दबाना शुरू कर दिया. इस पर उसने कहा कि चलो बेड रूम में चलते हैं.

फिर मैंने उसे गोद उठाया और बेड रूम में ले जाकर बेड पर पटक दिया. इसके बाद मैंने उसकी टी-शर्ट और जीन्स उतार दी. अब वो मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी. उसने लाल रंग की ब्रा और पैंटी पहन रखी थी और इन कपड़ों में वह बहुत ही हॉट लग रही थी.

इसके बाद फिर उसने मुझे अपनी ओर खींचा और एक – एक करके मेरे सारे कपड़े उतार दिए. अब अगले ही पल हम दोनों एक – दूसरे के सामने बिना कपड़ों के होने वाले थे. फिर मैंने खींच कर एक ही झटके में उसकी पैंटी निकल दी. दोस्तों, उसकी चूत एक दम चिकनी थी. यह देख मैंने उससे पूछा कि कब साफ किया तो बोली कि मेरे आने से कुछ देर पहले ही साफ़ किया.

यह सुन कर मेरा लंड और भी टाइट हो गया. फिर मैंने उसे अपना लंड चूसने के लिए कहा तो वो मान गयी और झट से मेरा लंड अपने मुंह में लेकर चूसने लगी. फिर मैं 69 की पोजिशन में आ गया और उसकी चूत चाटने लगा. जैसे ही मेरे लब उसकी चूत के होंठों से लगे वो कसमसाने लगी. उसके मुंह से अजीब – अजीब आवाजें भी निकल रही थीं. लेकिन उसके मुंह में लंड जाने से मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

फिर कुछ देर बाद मैंने उसके मुंह से अपना लंड निकाल लिया और उसकी चूत पर रख कर एक झटका लगाया तो मेरा पूरा लंड एक ही बार में उसकी चूत में घुस गया. वो थोड़ा सा चिल्लाई लेकिन थोड़ी देर बाद फिर उसको भी मज़ा आने लगा और वो जोर – जोर से झटके लगाने को कहने लगी.

मैं भी पूरा मज़े लेकर उसे चोद रहा था. थोड़ी देर बाद फिर वो झड़ गयी पर मेरा अभी नहीं हुआ था तो मैं उसको चोदता रहा. करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद मैं भी झड़ने को हुआ तो उसने कहा कि मैं उसकी चूत में ही झड़ जाऊं. फिर मैंने 4-5 धक्के लगा कर उसकी चूत में ही फुहार मार दी. दोस्तों, इसके बाद फिर उस दिन मैंने उसको 6 बार चोदा. बहुत मज़ा आया.

ये थी मेरी पहली कहानी. अगर कोई गलती हुई हो तो हमें माफ़ करना. आशा करता हूं कि आपको मेरी ये कहानी पसंद आयी होगी. आप लोग मेरी मेल आईडी पर अपनी राय दे सकते हैं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *