चूत चोद कर पायल की गांड भी मारी

एक बार मुझे एक महिला का मेल आया. उसने मुझसे चुदने की इच्छा जाहिर की. फिर क्या था मैं पहुंच गया उसके यहां और जम कर उसकी चुदाई हुई. मैंने उसकी गांड भी मारी…

हेलो दोस्तों, मेरा नाम मोनू है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूं. आज मैं आप सब के सामने अपनी एक नई कहानी प्रस्तुत करने जा रहा हूं. उम्मीद है आप लोगों को मेरी यह कहानी बहुत पसंद आएगी.

दोस्तों, मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूं और पिछले 5 सालों से यहां पर प्रकाशित होने वाली हर एक कहानी को पढ़ता हूं. पढ़ने के साथ – साथ मैं नियमित अंतराल पर अपनी आप बीती को कहानी के रूप में अन्तर्वासना पर लिखता भी हूं. मेरी कहानियों पर पाठकों की तरफ से अच्छी प्रतिक्रिया भी आती है और लोग उन्हें पसंद भी करते हैं.

अब ज्यादा टाइम वेस्ट न करते हुए मैं सीधा अपनी कहानी पर आता हूं. अन्तर्वासना पर प्रकाशित मेरी कहानी पढ़ कर मेरी एक लड़की ने मुझे मेल किया. उसका नाम पायल जैन (बदला हुआ) था. वह जोधपुर की रहने वाली थी. वह मुझसे सेक्स और उससे जुड़े विभिन्न तरह के सवाल करती थी. इसी तरह हम दोनों ने लम्बे समय तक बातचीत की. हालांकि, काफी समय हो जाने के बाद भी न तो मैंने उससे उसका मोबाइल नम्बर मांगा और न ही उसने मेरा. हमारे बीच ऐसे ही सेक्स और चुदाई के तरीकों के बारे में बातें होती रहीं.

वह मुझसे बहुत प्रभावित थी. करीब 6 महीने बाद एक दिन उसने मुझे मेल किया और मुझसे कहा कि वह मुझे ट्राई करना चाहती है. हालांकि, मैं समझ तो गया था लेकिन फिर भी अनजान बनते हुए मैंने रिप्लाई दिया कि मैं समझ नहीं पाया तो उसने कहा कि वह मुझसे चुदना चाहती है और इसके लिए वह मुझे पैसे भी देगी.

यह सुन कर मैं खुश हो गया कि चलो कोई तो ग्राहक मिला. फिर एक दिन हम दोनों ने मिलने का प्लान बनाया और प्लान के मुताबिक जोधपुर में मिलना तय हुआ. उस दिन पायल ने मुझे अपना मोबाइल नम्बर दिया और कहा कि जब जोधपुर पहुंचना तो फ़ोन कर देना. हमारा प्लान अगले दिन मिलने का था तो मैं उसी दिन रात में दिल्ली से जोधपुर के लिए रवाना हो गया.

सुबह – सुबह मैं जोधपुर पहुंच गया. वहां पहुंच कर मैंने उसे फ़ोन किया. कुछ देर बाद पायल खुद ही मुझे लेने के लिए स्टेशन आ गई. दोस्तों, हम पहली बार मिल रहे थे. एक – दूसरे को पहचानने में दिक्कत न हो इसलिए मैंने उसे अपनी फ़ोटो भेज दी थी और फोन करके बता दिया था कि कहां पर हूं.

थोड़ी देर में वह मेरे पास आ गई. वह मुझे पहली बार देख रही थी लेकिन फिर भी उसने मुझे पहचान लिया एयर सीधा मेरे पास ही आई. फिर मैंने पायल से हाथ मिलाया और हम उसकी स्कूटी पर सवार होकर उसके घर की तरफ चल दिए. मैं उससे एक दम चिपक के बैठा था. उससे चिपकने के कारण मेरा लन्ड खड़ा हो गया था और उसकी गांड में चुभ रहा था. वह उसका मज़ा ले रही थी.

करीब 30 मिनट में हम उसके घर पहुंच गए. उस टाइम वहां पर कोई नहीं था. उसकी फैमिली के बाकी सदस्य किसी रिश्तेदार की शादी में शामिल होने के लिए जयपुर गए थे और उसका घर शहर से दूर होने के कारण वहां किसी का डर भी नहीं था.

घर पहुंच कर पायल में दरवाजा खोला और हम अंदर चले गए. अन्दर जाते ही मैंने पायल का हाथ पकड़ कर अपने पास खींच लिया और उसे अपनी बाहों में लेकर लिप किस करने लगा. उसने भी मेरा साथ दिया मुझे कस कर पकड़ लिया और किस करने लगी. फिर थोड़ी देर बाद वह मुझसे अलग हुई और बोली कि दरवाजा लॉक करके आती हूं.

वह गई और दरवाजा बंद करके फिर से मेरे पास आ गई. अब मुझसे रहा नहीं जा रहा रहा था तो मैंने उसके मम्मों को अपने हाथों में पकड़ लिया और उसकी चूचियों को मसलने लगा. उसके बड़े – बड़े मम्मे मसलने में बहुत मज़ा आ रहा था दोस्तों.

वो अब बहुत गरम हो गई थी. फिर धीरे से मैंने उसका पैंट खोला और एक – एक करके उसके बाकी के सारे कपड़े उतार कर फेंक दिए. अब वो मेरे सामने बिल्कुल नंगी खड़ी थी. दोस्तों, पायल का रंग काफी गोरा था और उसका फिगर भी एक दम मस्त था.

फिर उसने भी मेरे सारे कपड़े खोल कर मुझे नंगा कर दिया. अब हम दोनों एक – दूसरे को देखने लगे. बहुत मजा आ रहा था दोस्तों. हमें नशा सा हो गया था. काफी देर तक हम दोनों जड़वत एक ही जगह पर खड़े रहे.

फिर जब हमें खयाल आया तो मैं उसे उठा कर बेडरूम में ले गया और बेड पर लिटा कर उसकी गुलाबी चूत चाटने लगा. वो एक दम मस्त हो गई थी मेरा साथ दे रही थी. जब मैं अपनी जीभ उसकी चूत के अंदर करता तो वो सिसकियां लेने लगती और मेरा सर पकड़ के अपनी चूत में दबा रही थी.

थोड़ी देर बाद फिर हम 69 की पोजीशन में आ गए. अब वो मेरे लन्ड को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी थी. दोस्तों, मेरा लन्ड काफी मोटा भी था. उसकी चूत लगातार पानी छोड़ रही थी. जिसका हल्का खारा टेस्ट मुझे काफी अच्छा लग रहा था. थोड़ी देर बाद मेरे लन्ड ने भी पानी छोड़ दिया. जिसे वो पी गई.

झड़ने की वजह मेरा लन्ड ढीला पड़ गया था. लेकिन उसने चूस – चूस कर उसे टाइट कर दिया. फिर मैंने उसे घोड़ी बनाया और पीछे से अपना लन्ड उसकी चूत पर रख कर एक झटका दिया तो मेरा आधा लन्ड उसके अंदर चला गया. दोस्तों, उसकी चूत काफी चिकनी थी और उसने अपनी चूत के सारे बाल साफ किए हुए थे. चूत चिकनी होने की वजह लन्ड आसानी से अंदर सरक रहा था. फिर मैंने एक और झटका लगा कर पूरा लन्ड अंदर कर दिया.

फिर मैंने अपनी स्पीड बढ़ाई. उसे बहुत मज़ा आ रहा था और वो जोर – जोर से सिसकियां भर रही थी. थोड़ी देर बाद फिर हमने पोजीशन चेंज की. अब मैं नीचे लेट गया और वो मेरे लन्ड पर बैठ गई. अब वह मेरे लन्ड घोड़ी जैसे उछल – उछल के चुद रही थी.

इस दौरान उसके दोनों मम्मे मेरे हाथ में थे. जिन्हें मैं मसल रहा था. कुछ देर बाद हमने फिर से अपनी पोजीशन चेंज की और उसे उल्टा लेटा कर पीछे से उसकी गांड में लन्ड पेल दिया. दोस्तों, मुझे यह देख कर आश्चर्य हो रहा था कि वो हर पोजीशन में चुदने के लिए तैयार थी. मैं जिस भी पोजीशन में आने को कहता वो तुरंत ही उसी पोजीशन में आ जाती. बहुत मज़ा आ रहा था.

करीब 15 मिनट तक मैं लगातार उसकी गांड मरता रहा. फिर मैंने उसकी गांड में ही अपना माल छोड़ दिया. फिर मैं उसके ऊपर ही लेट गया. वह भी अब तक 2 बार झड़ चुकी थी. उस दिन हमने 4 बार सेक्स किया और फिर शाम को उसने मुझे 10000 रुपये दिए और मैं वापस दिल्ली आ गया.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *