चुद गयी चाचा की पड़ोसन

एक बार मकर संक्रांति पर मैं अपने चाचा के यहां गया था. मकर संक्रांति पर हमारे यहां पतंग उड़ाने का प्रचलन है. मैं भी उड़ा रहा था. मैंने कई पतंगें काट दी. यह देख चाचा की पड़ोसन मुझ पर मर मिटी. फिर किस तरह हमने चुदाई की, यह इस कहानी में जानने को मिलेगा…

हेलो दोस्तों, मेरा नाम सैम है और मैं गुजरात के अहमदाबाद का रहने वाला हूं. मैं दिखने में ठीक-ठाक हूं. मेरी बॉडी भी काफी आकर्षक है और मेरे लण्ड का साइज 7 इंच है.

मेरी ये कहानी एक साल पहले की है. तब मैं मकर संक्रांति के दिन मेरे चाचू के यहां उनके घर मणिनगर गया था. दोस्तों, आप लोगों को तो पता ही होगा कि हमारे यहां गुजरात में लोग बहुत पतंग उड़ाते हैं. मैं भी उड़ाता था और मैं इसमें काफी माहिर हूं.

चाचा के यहां पहुंचने के बाद मैं पतंग उड़ाने लगा. थोड़ी ही देर में मैं अच्छी – अच्छी पतंगों को काटने लगा. दोस्तों, उस समय मैंने ड्रिंक भी कर रखी थी. मुझे इतने अच्छे से पतंग उड़ाते देख बगल वाली एक लड़की ने मुझसे कहा कि मैं एक पतंग उड़ा कर उसे उड़ाने के लिए दे दूं.

कहानी में आगे बढ़ने से पहले मैं आप सब को उसके बारे में बता देना चाहता हूं. उसका नाम डिम्पल है और वो मेरे चाचा के बाजू में रहती है. वो एक स्कूल में टीचर है और दिखने में ज़रीन खान जैसी लगती है. उसकी उम्र 24 साल के आसपास रही होगी. और फिगर इतना मस्त कि कोई भी देख ले तो पागल ही हो जाए.

जब उसने कहा कि सैम मुझे भी उड़ा कर पतंग दो. तब मेरी नजर उस पर पड़ी. वो मुझे जानती थी. खैर फिर मैंने पतंग उड़ा कर उसे दे दी. इसके बाद फिर पूरा दिन उसने मेरे साथ पतंग उड़ाया. मुझे खूबसूरती से पतंग उड़ाता देख वो मेरी फैन हो गयी. पतंग उड़ाते समय वह लगातार मेरी तारीफ किये जा रही थी. फिर शाम को जब हमने पतंग उड़ाना बंद किया तो उसने मुझे अपना नंबर दिया और मेरा लेकर चली गई.

इसके बाद मैं नीचे आ गया. रात को मेरे पास उसका मैसेज आया. उसने हाय लिख रखा था. मैंने भी हाय लिख कर रिप्लाई दिया. तब उसने मुझसे कहा कि मैं अभी तुमसे मिलना चाहती हूं, ऊपर आ जाओ कोई नहीं है छत पर.

मैं तुरन्त ही छत पर पहुंच गया. वहां पर उसके अलावा और कोई नहीं था. उस टाइम वो नाईट ड्रेस में थी और जुल्म ढा रही थी. वह बहुत ही सेक्सी लग रही थी. खैर, फिर मैंने उससे मुझे ऊपर बुलाने की वजह पूछी तो उसने मेरा हाथ अपने हाथ में लेकर मुझे ‘आई लव यू’ बोल दिया. दोस्तों, वो भी मुझे काफी पसंद थी. मैं उस पल को जाने नहीं देना चाहता था तो मैंने भी उसे ‘आई लव यू’ बोल दिया.

फिर हमने खूब बातें की और किस भी किया. फिर कुछ देर बाद हम नीचे चले आये और अगले दिन मैं अपने घर वापस आ गया. अब रोज फ़ोन पर हमारी बातें होने लगीं. धीरे – धीरे हमारी बातें सेक्स चैट में बदल गयीं.

एक दिन हम बात ही कर रहे थे कि तभी उसने मुझसे कहा, “सैम, मैं तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहती हूं”. यह सुन कर मैं खुश हो गया. होऊं भी क्यों न लड़की खुद ही आगे से मुझे सेक्स के लिए बोल रही थी. फिर मैंने प्लान बनाया और अगले रविवार को मिलने के लिए एक अच्छे से होटल में रूम बुक किया.

तय समय पर हम वहां पहुंच गए. अंदर जाते ही मैंने उसे किस करना चालू कर दिया. धीरे – धीरे वो भी गरम होने लगी और मेरा साथ देने लगी. इसके बाद सबसे पहले मैंने उसकी कमीज निकली और फिर ब्रा को खींच कर उसके बूब्स को आजाद कर दिया. वाह क्या मस्त बूब्स थे उसके!

उन्हें देखते ही मैं उन पर टूट पड़ा और चूसने लगा. चूसने पर उसके बूब्स बिलकुल पके हुए आम लग रहे थे. बहुत मज़ा आ रहा था. फिर धीरे से मैं नीचे आया और उसकी जीन्स खोल दी. अंदर उसने पिंक फ्लोरल पैंटी पहन रखी थी. मैंने एक ही झटके में उसे भी उतार दिया.

अब मेरी नजर उसकी बुर पर पड़ी. उसकी बुर एक दम सील पैक थी. मैंने देखा कि उत्तेजनावश उसमें से चिकना पानी (काम रस) निकल रहा था. यह देख कर मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ. मैं उस पर टूट पड़ा और चूसना चालू किया.

थोड़ी देर बाद मैं 69 की पोजीशन में आ गया और मैंने उसे अपना लिंग चूसने के लिए कहा. मेरे कहने पर उसने मेरा लिंग मुंह में ले लिया लेकिन थोड़ी देर तक चूसने के बाद मना कर दिया.

अब मैंने भी उसकी बुर चूसना बंद कर दिया और सीधा होकर बुर के ऊपर अपना लिंग रगड़ने लगा. यह उसके लिए बिलकुल नया अनुभव था तो मेरे ऐसा करने पर वो तेजी से सिसकियां लेने लगी. इसके बाद मैंने धीरे से एक हाथ से उसकी कमर पकड़ी और किस करने लगा. वो एक दम मस्त हो गयी थी.

तभी मैंने जोर से एक धक्का दिया और अपना लिंग 3 इंच तक उसकी बुर में अंदर घुसा दिया. उसे बहुत दर्द हुआ और वो छटपटाते हुए अपने बड़े – बड़े नाख़ूनों से मुझे नोचने लगी. लेकिन मैंने उसके दर्द की कोई परवाह नहीं की और एक दूसरे धक्के में अपना पूरा लिंग उसकी बुर के अंदर कर दिया.

लिंग पूरा अंदर जाने पर उसके बुर की सील टूट गयी और उसे बहुत तेज दर्द हुआ. दर्द के मारे वो रोने लगी. यह देख मैंने उसे किस करना स्टार्ट कर दिया. फिर थोड़ी देर बाद जब उसका दर्द कुछ कम हुआ तो मैंने झटके लगाना स्टार्ट कर दिया.

मैं झटके पर झटके मार रहा था. इस तरह करीब 20 मिनट की जोरदार चुदाई के बाद मैं उसकी बुर में ही झड़ गया. फिर मैंने देखा कि उसकी चूत से खून निकल रहा है और उसके खून से बेडशीट थोड़ा लाल हो गयी थी. फिर मैंने उसके चेहरे की तरफ देखा तो वह काफी खुश नजर आ रही थी.

उस दिन हमने कुल 3 बार सेक्स किया. फिर मैंने उसे उसके घर तक छोड़ दिया और अपने घर आ गया. उस दिन के बाद 1 साल तक हमारा रिश्ता कायम रहा. इस दौरान हमने न जाने कितनी बार सेक्स किया. अब उसकी शादी हो गयी है और मैं उसकी लाइफ डिस्टर्ब नहीं करना चाहता था तो मैंने उससे छोड़ दिया.

आप सब को मेरी यह कहानी कैसी लगी? मुझे ईमेल करके जरूर बताएं. मेरी मेल आईडी –  
[email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *