चुदाई के लिए बोल आंटी हुई फ़ुर्र

मैं आप सब को अपने साथ घटी एक सच्ची घटना के बारे में बताने जा रहा हूं. इस कहानी में मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने एक अमीर आंटी की चुदाई उनके ही घर पर जाकर की. उसने मुझसे बाद में भी चुदाई की बात कही लेकिन दोबारा कभी न मिली…

कहानी में आगे बढ़ने से पहले मैं आप सब को अपना परिचय करवा दूं. मेरा नाम दीप है और मेरी उम्र 23 साल है. मैं पंजाब का रहने वाला हूं. दोस्तों, मेरे मामा एक एसी मैकेनिक हैं और उन्होंने एक शो रूम खोल रखा है. जहां पर कई सारे मैकेनिक काम करते हैं.

एक बार छुट्टियों में मैं अपने मामा के यहां गया था. एक दिन मैं शो रूम में बैठा था और बैठे – बैठे ऊब रहा था. तभी एक मैकेनिक एक एसी ठीक करने जा रहा था तो मैं भी उसके साथ चल दिया.

पते पर पहुंच कर जब हमने बेल बजाई तो एक बहुत ही खूबसूरत आंटी ने दरवाजा खोला. उसकी उम्र 30-32 साल थी. मैं उसे देखता ही रह गया. थोड़ी देर बाद मैंने बताया कि हम एसी ठीक करने आये हैं.

इस पर वो हमें अंदर ले गईं और एसी दिखा कर बोलीं कि ये पिछले 15 दिनों से कूलिंग नहीं कर रहा है. इस पर मैकेनिक ने एसी चेक किया. उसमें का कोई सामान खराब था. फिर वो उस सामान को लेने शो रूम वापस जाना था. दोस्तों, मुझे भी थोड़ा – बहुत काम आता था, इसलिए उसने मुझे एसी नीचे उतारने को कहा और चला गया.

अब घर में सिर्फ मैं और आंटी भर थे. आंटी ने नाइटी पहन रखी थी, जिसमें वो बहुत मस्त लग रही थीं. मैक्सी के ऊपर से उनके अंडर गारमेंट्स भी हल्के – हल्के झलक रहे थे.

मुझे एसी नीचे उतारना था तो मैंने आंटी से कहा कि मैं अकेले इसे नहीं उतार पाऊंगा. इस पर आंटी ने कहा कि मैं मदद कर देती हूं. फिर हम दोनों मिल कर एसी उतारने लगे. एसी उतारते समय मेरी नज़र उनकी चूची पर पड़ी. मैक्सी ढीली होने की वजह से वो बाहर होने को थीं और मुझे एक दम साफ दिख रही थीं.

यह देख मेरा लन्ड खड़ा हो चुका था. अब मैं जान बूझकर उनको कुछ न कुछ पकड़ा रहा था ताकि इसी बहाने मैं उनको छूता रहूं. दोस्तों, मैंने जीन्स और टी-शर्ट पहन रखा था. अब मेरा लन्ड बिल्कुल टाइट हो चुका था और जीन्स में उभर आया था, जिसे आंटी ने भी महसूस किया.

फिर आंटी मुझसे मेरे बारे में पूछने लगीं. मैंने बता दिया कि यहां मैं अपने मामा के घर पर रहता हूं. उन्होंने मुझसे मेरी शादी को लेकर सवाल किया तो मैंने कहा कि अभी मेरी शादी भी नहीं हुई है.

मेरा यह जवाब सुन कर आंटी ने बिना किसी संकोच के कहा कि तभी तुम बार – बार मेरी चूचियों को देख रहे हो. उनकी बात सुन कर मैं थोड़ा घबरा गया. तभी आंटी ने फिर कहा कि और मुझे देख – देख के तुम्हारा लन्ड भी खड़ा हो रहा है. फिर थोड़ा रुक कर उन्होंने कहा कि मुझे सब पता है, अब तुम मुझे चोदना चाहते हो.

उनकी ये बात सुन कर मेरा डर खत्म हो गया. फिर मैंने हिम्मत की और कहा कि क्या करूं आप इतनी खूबसूरत और सेक्सी हो कंट्रोल ही नहीं हुआ. इस पर उन्होंने कहा कि मेरी इस खूबसूरती का क्या फायदा! मेरा हसबैंड कुछ करता ही नहीं. आता है और शराब पीकर सो जाता है.

इतना कहते हुए उसकी आंखों में आंसू आ गए. उन्हें देख कर मैंने कहा कि तो आप तलाक़ क्यों नहीं ले लेती? तो उन्होंने कहा कि 5 साल से साथ हूं, अब क्या करूं. इसके बाद आंटी ने मुझसे कहा कि एक काम करो तुम मुझे प्यार करो. तुम्हारी भी जरूरत पूरी होगी और मैं तुम्हें हमेशा खुश रखूंगी. यही नहीं इसके बदले पैसे भी दूंगी लेकिन किसी को पता नहीं चलना चाहिए.

यह सुनते ही मैंने उन्हें कस के पकड़ लिया और किस करने लगा. किस करने के साथ – साथ मैं उनके मम्मों को भी दबा रहा था. ऐसा करने में मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

इसी बीच आंटी ने मेरे लन्ड को अपने हाथ में ले लिया और उसे जीन्स के ऊपर से ही मसलने लगीं. मेरा लन्ड तो वैसे ही खड़ा था, आंटी के हाथों का स्पर्श पाकर वह और तन्ना गया. फिर उन्होंने उसे पैंट से बाहर निकाल लिया. उसे देखते ही वो बोलीं – तुम्हारा लन्ड तो मेरे हसबैंड के लन्ड से दोगुना बड़ा है.

इतना कहने के बाद वो लन्ड को किस करने लगीं. उनके ऐसा करने से मैं सातवें आसमान में पहुंच गया. फिर मैंने आंटी की गांड को अपने हाथों में कैद किया और मसलने लगा.

अब आंटी एक दम गर्म हो चुकी थीं और उनकी चूत भी गीली हो गई थी. फिर मैंने उनके कपड़ों के अंदर हाथ डाल कर उनकी चूत में अंगुली घुसेड़ दी. जिससे वो तड़प उठीं. अब वो बस अपनी आंख बन्द करके सिसकियां ले रही थीं.

फिर मैंने अपना लन्ड उनकी चूत पर रखा और रगड़ने लगा. इससे आंटी की उत्तेजना और बढ़ गई थी और वो अंदर डालने के लिए बोलने लगीं. फिर मैं धीरे – धीरे लन्ड अंदर करने की कोशिश करने लगा लेकिन उनकी चूत टाइट होने के चलते वो अंदर जा ही नहीं रहा था.

यह देख आंटी ने एक ओर इशारा करते हुए कहा कि वहां क्रीम रखी है, लन्ड पर लगाकर ट्राई करो. फिर मैं क्रीम ले आया और लन्ड पर लगाकर चूत में पेलने लगा. क्रीम की चिकनाई की वजह से एक ही झटके में मेरा आधा लन्ड उनकी चूत में घुस गया.

इससे आंटी को दर्द तो हुआ लेकिन चुदाई के लिए उन्होंने उसे बर्दाश्त कर लिया. फिर मैं धीरे – धीरे चुदाई करने लगा. कुछ देर बाद दर्द कम हुआ और उन्हें भी मज़ा आने लगा.

इसके बाद मैंने अपना पूरा लन्ड अंदर कर दिया. इसके बाद मैं मज़े से चुदाई करने लगा और वो जोर और जोर से चोदने के लिए कहने लगीं. अब मैं पूरी स्पीड से चुदाई करने लगा. करीब 20 मिनट की मस्त चुदाई के बाद मैं उनकी चूत में झड़ गया और उनके बगल में लेट गया.

फिर कुछ देर तक हम ऐसे ही लेटे रहे. आंटी मेरे लन्ड से खेल रही थीं. इस कारण मेरा लन्ड दोबारा खड़ा हो गया. उसे खड़ा देख आंटी खुद मेरे ऊपर आ गईं और लन्ड पर बैठ के उछलने लगीं.

मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. मुझे ऐसा महसूस हो रहा था जैसे आंटी मुझे चोद रही हों और मेरी चूत में अपना पानी निकालने वाली हैं. उनके उछलने की वजह से उनकी चूचियां भी उछल रही थीं. जिन्हें हाथों में लेकर मैं मसलने लगा था.

करीब 10 मिनट बाद वो मेरे ऊपर से हटीं और घोड़ी बन गईं. अब मैं उनके पीछे आ गया और चूत में लन्ड घुसेड़ कर चुदाई करने लगा. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

चुदाई के दौरान उनके नरम चूतड़ों से मेरी जांघ टकराने पर पट्ट – पट्ट की आवाज आ रही थी. कुछ देर बाद वो मुझे रुकने के लिए बोलने लगीं. शायद उनका तब तीसरी बार पानी निकल गया था. लेकिन मैं नहीं रुका बल्कि अपनी स्पीड जरूर बढ़ा दी.

इसके करीब 10 मिनट बाद मेरा माल उनकी चूत में ही निकल गया और फिर मैं उनके ऊपर ही पड़ गया. अब वो काफी खुश थीं. इसके बाद मैं उनके ऊपर से हट गया और अपने कपड़े पहन लिया.

फिर उन्होंने मुझे 5000 रुपये दिया और कहा कि अब जब भी मैं बुलाऊं आ जाना, आज 5 साल बाद मेरी ढंग से चुदाई हुई है. आजएड़ी चूत को कुछ आराम मिला. मैंने पैसे लिए और आने का भी वादा किया.

थोड़ी देर बाद मैकेनिक आ गया. फिर उसने एसी ठीक की और उसे फिट करने के बाद हम चले आये. फिर बाद में मैं उसके फोन का इंतजार करता रहा लेकिन नहीं आया. उसके चक्कर में मैं कई बार उसके घर की तरफ भी गया लेकिन वहां मुझे ताला बन्द मिला.

मेरी ये कहानी कैसी लगी. बताना जरूर. मेरी मेल आईडी – [email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *