सिनेमाघर में शादीशुदा लड़की की चूत में वीर्य भर दिया

एक बार एक शादीशुदा महिला ने मुझे अपना कंप्यूटर बनाने के लिए बुलाया. मैंने उसका कंप्यूटर बना दिया. उसने मेरा नम्बर ले लिया था. धीरे – धीरे हमारे बीच बात होने लगी जो सेक्स तक पहुंच गई. एक दिन हम सिनेमा हॉल में मूवी देख रहे थे. इसी दौरान मैंने उसे जम कर चोदा और अपना माल उसकी चूत में भर दिया…

हेलो दोस्तों मेरा नाम राज है और मैं गुजरात का रहने वाला हूँ. मैं कंप्यूटर इंजीनियर हूँ और जॉब करता हूँ. दोस्तों, मेरी उम्र 26 साल है और आज मैं आप सब को बताने जा रहा हूँ कि कैसे मैंने मीना नाम की एक लड़की को पटाया और थियेटर में चोदा.

बात आज से 2 साल पहले की है. मैं एक कंपनी में कंप्यूटर से जुड़ा काम करने के लिए गया था. तभी मेरी मुलाकात वहां एक लड़की से हुई, जो दिखने में एक दम पटाखा थी. उसके बूब्स काफी बड़े और मोटे थे. उसका पिछवाड़ा भी बाहर को निकला हुआ था. कुल मिला कर वो ऐसी थी कि कोई भी देख ले तो देखते ही चोदने का मन करने लगे.

खैर, मैंने वहां पर अपना काम करने लगा. कंप्यूटर बनाते टाइम बीच – बीच में मैं उससे बात भी कर लेता था. बातों ही बातों में उसने बताया कि उसके घर पर भी एक कंप्यूटर है लेकिन वो ठीक से काम नहीं करता. मैंने कहा कि मैं ठीक कर दूंगा.

इसके बाद उसने मुझसे मेरा नम्बर लिया और बोली – घर पर बात करके आपको बताऊंगी. फिर मैं वहां से निकल गया. इसके बाद घर पहुंचा तो मेरी आंखों के सामने बस उसी का चेहरा दिखाई दे रहा था. फिर मैंने उसके नाम की मुठ मारी और सो गया.

एक दिन मेरे मोबाइल की रिंग बजी तो मैंने फ़ोन उठाया और हेलो कहा. सामने से एक बहुत ही प्यारी आवाज आई और उसने कहा- हेलो, मैं मीना बोल रही हूँ. यह सुन कर मेरी खुशी का ठिकाना ही न रहा. फिर उससे बात हुई. उसने कहा कि मैंने घर पर बात कर ली है, मेरा कंप्यूटर ठीक करोगे.

इस पर मैंने कहा – क्यों, नहीं ठीक करूंगा. घर का एड्रेस मुझे मैसेज कर दो, टाइम मिलने पर आकर कर दूंगा. इसके बाद उसने फ़ोन काटा और एड्रेस मुझे मैसेज कर दिया.

इसके बाद एक संडे को मैं उसके घर गया और कंप्यूटर ठीक करने गया. संडे को इसलिए क्योंकि उस दिन मेरी और उसकी दोनों की छुट्टी होती है. जब मैं उसके घर गया तो वहां पर उसके परिजन थे. इस वजह से उससे कुछ खास बात नहीं हुई. फिर मैंने काम पूरा किया और चल दिया.

मुझे जाते देख उसने पूछा कि कितना चार्ज हुआ? इस पर मैंने कहा कि कुछ नहीं. इतना काम था नहीं और कुछ नए पार्ट भी नहीं लगे. ऐसे में क्या चार्ज लूं. चूंकि घर वाले थे इसलिए उसने ज़बरदस्ती मुझे 500 रुपये दे दिया.

इस पर मैंने कहा कि ये तो बहुत ज्यादा है तो उसने कहा कि रख लो. फिर मैंने उसे अपनी जेब में रखा और वहां से चला गया. चूंकि उसने मुझे फ़ोन किया था तो मैंने उसका नम्बर सेव कर लिया था. मैंने चेक किया तो वो व्हाट्सऐप पर थी.

फिर दूसरे दिन मैंने नॉर्मल रूप से उसे गुड मॉर्निंग मैसेज भेजा. मेरे मैसेज भेजते ही उसने भी गुड मॉर्निंग का रिप्लाई दिया. फिर ऐसे ही हमारी नॉर्मल बात होने लगी. एक दिन मैंने मैसेज पर उससे उसकी फैमिली के बारे में पूछा तो उसने बताया कि उसको 5 साल की एक बेटी है और उसके पति ने उसे छोड़ दिया. उसने बताया कि उसका पति अभी इंडिया के बाहर है.

उसकी यह बात सुन कर मैं यकीन ही नहीं कर पा रहा था कि इतनी खूबसूरत लड़की को कोई ऐसे कैसे छोड़ सकता है. दोस्तों, वो देखने में भी नहीं लग रही थी कि 5 साल के एक बच्चे की मां है. वो एक दम कुंवारी लड़की लग रही थी.

फिर हम ऐसे ही बात करते रहे. एक दिन उसने मुझे मेरे बारे में पूछा तो मैंने कहा उसे सब बता दिया. फिर उसने मुझसे मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछा तो मैंने बताया कि अभी तक तो कोई नहीं है.

मेरी इस बात पर वो यकीन ही नहीं कर रही थी. उसने कहा कि इतने अच्छे दिखते हो और कोई गर्लफ्रेंड नहीं है ऐसा कैसे हो सकता है? तब मैंने कहा कि ऐसा इसलिए क्योंकि अभी तक आप के जैसी कोई लड़की मुझे मिली ही नहीं, जिसे मैं अपनी गर्लफ्रेंड बना सकूं. मेरी बात सुन कर वो हंसने लगी.

फिर धीरे – धीरे हमारे बीच गहरी दोस्ती हो गई. इसके बाद हम फ़ोन पर भी बात करने लगे. अब हमारी बातें रात को भी होने लगी. हम घंटों फ़ोन पर बात करते थे. धीरे – धीरे हमारी बातों का रुख सेक्स की तरफ मुड़ता गया.

एक दिन बातों ही बातों में उसने बताया कि वह बहुत दिनों से सेक्स के लिए तड़प रही है. इसके बाद हम मिलने लगे. इस दौरान जब मैं उसे किस करता या उसके बूब्स मसलता तो वो बहुत एक्साइटेड हो जाती. लेकिन हमें चुदाई करने का मौका नहीं मिल पा रहा था.

एक दिन हम दोनों ने हॉफ डे में ऑफिस से निकल गए और मूवी देखने का प्लान बनाया. फिर मैंने पीछे की लाइन में साइड वाली दो सीटें बुक करवा ली. मैं बहुत खुश था.

फिर हम थिएटर में पहुंचे और मूवी देखने लगे. इसी बीच मैंने अपना एक हाथ से उसके कंधे पर रख दिया. बीच – बीच में मैं उसके कंधे को सहला भी रहा था. इसी बीच मूवी में किसिंग स्जीन आया, जिसे वो बहुत ध्यान से देखने लगी.

इसी बीच मैंने अपने हाथ से उसके कंधे को दबाया तो वो ओह्ह करते हुए बोली – ये क्या कर रहे हो? मुझे दर्द हो रहा है. फिर मैंने उसका हाथ पकड़ कर किस कर दिया तो वो हंसने लगी. इस पर मैंने उसके गालों पर किस कर दिया और दूसरे हाथ को उसके शरीर पर फेरने लगा.

मेरे ऐसा करने से वो गर्म होने लगी. फिर मैंने उसके होंठों पर किस किया तो वो और ज्यादा गर्म होने लगी और लंबी – लंबी सांस लेने लगी.

उस दिन उसने टॉप और लेगिंग्स पहन रखा था. फिर मैं कपड़ों के ऊपर से ही उसके बूब्स दबाने लगा. इसके बाद मैंने उसका टॉप ऊपर किया और उसके मम्मों को आज़ाद कर दिया. सिनेमा हॉल में भीड़ नहीं थीं. 4-6 लोग ही थी इसलिए हमें कोई दिक्कत नहीं हुई.

उस दिन मैंने पहली बार उसके मम्मों को देखा. उसके बूब्स एक दम गोरे और मोटे थे. उन्हें देखते ही मैंने अपने मुंह में भर लिया और चूसने लगा. मेरे ऐसा करने से वो पूरी तरह अपने होश खो बैठी.

इसी बीच मैंने अपना एक हाथ उसकी लेगिंग्स में डाल दिया और उसकी चूत को सहलाने लगा. उसकी चूत एक दम गीली हो चुकी थी. थोड़ी देर बाद मैंने पैंटी सहित उसकी लेगिंग्स को आधी दूर तक नीचे उतार दिया.

अब उसकी चूत मेरे सामने थी. उसे देख कर मैं खुद पर कंट्रोल न कर पाया और चाटने लगा. मुझे उसकी चूत का टेस्ट बहुत ही मस्त लग रहा था.

चूत चाटने की वजह से वो और ज्यादा गर्म होने लगी. अब उसके मुंह से धीरे – धीरे ‘ओह्ह माय गॉड, ओह्ह गॉड’ की आवाज निकलने लगी. फिर मैंने उससे कहा कि मेरा लंड मुंह में लो. तो उसने मेरे पैंट की ज़िप खोला और हाथ डाल कर लंड बाहर निकला जो एक दम टाइट था. उसे देख कर वो पागल सी हो गई और बोली – तुम्हारा कितना बड़ा, मोटा और है!

इस पर मैंने कहा – अब जल्दी से इसे शांत भी तो करो. मेरे इतना कहते ही उसने लंड को मुंह में ले लिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. थोड़ी देर बाद मैंने कहा कि अभी इसे तुम्हारी चूत में डालना है. इस पर उसने कहा कि ये तो तुम्हारी ही है जो करना है जैसे करना है करो.

इसके बाद फिर मैंने लंड उसके मुंह से निकाला और अपनी चेयर पर बैठ गया. फिर उसका मुंह मेरी ओर करके गोद में बैठने को कहा. तब उसने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर लगाया और बैठ गई.

मेरा लंड अभी थोड़ा सा ही उसकी चूत में गया था कि उसकी चीख निकल गई. लेकिन उसी समय तेज आवाज का एक डायलॉग चालू हो गया, इस वजह से दूसरों को आवाज नहीं सुनाई दी.

दोस्तों, उसकी चूत काफी टाइट थी और सालों से चुदी नहीं थी इस वजह से उसे दर्द हो रहा था. फिर मैंने उसे शांत रहने को कहा और पकड़ कर नीचे से एक जोरदार धक्का मारा. इससे मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया. उसके मुंह से एक घुटी हुई आवाज निकली.

अब मैं उसे किस करने लगा. जब उसका दर्द कम हुआ तो वो खुद ही ऊपर – नीचे होकर धक्के मारने लगी. ऐसे ही 10 मिनट तक ऊपर – नीचे करने के बाद मेरा माल निकलने वाला था. तब मैंने उससे कहा कि मेरा निकलने वाला है. इस पर उसने कहा कि कोई नहीं अंदर ही निकाल दो, मैं गोली ले लूंगी.

फिर मैं भी नीचे से जोर – जोर धक्के लगाने लगा. थोड़ी देर बाद मेरा सारा माल उसकी चूत में ही निकल गया. फिर हम शांत हो गए. वो उठी और उसने मेरा लंड साफ किया. इसके बाद हमने अपने कपड़े ठीक किए और मूवी देखने लगे. करीब 15 मिनट बाद इंटरवल हुआ तो हम दोनों वहां से निकल लिए.

फिर मैंने उसको दूसरी बार अपने जन्मदिन के मौके पर चोदा. लेकिन वो कहानी मैं आपको फिर कभी बताऊंगा. मेरी ये कहानी कैसी लगी, बताइएगा जरूर. ये मेरी पहली कहानी है इसमें अगर कोई गलती हुई हो तो माफ करना. मेरी मेल आईडी – [email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *