डरा कर पड़ोस की चालू लड़की को चोदा

मेरे पड़ोस में एक लड़की रहती थी. वह बहुत चालू किस्म की थी. उसके कई लड़कों के सातब सम्बंध थे लेकिन वह मुझे भाव ही नहीं देती थी. एक दिन मैंने उसके मोबाइल में ब्लू फिल्म देख ली. फिर चुदाई करने को कहा. ऐसा न करने पर उसके पापा से बता देने की धमकी दी. इस पर बेचारी कुछ न कर सकी और मेरे नीचे आ गई…

अन्तर्वासना के प्रिय पाठकों को अमन का प्यार भरा नमस्कार. दोस्तों, मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूं और इसकी हर एक कहानी को पढ़ता हूं. मेरी उम्र 32 साल है और मैं हरियाणा का रहने वाला हूं. ये जो कहानी मैं आपको बताने जा रहा हूं, वो 5 साल पहले की है.

मेरे पड़ोस में एक लड़की रहती थी. उसका नाम मोनिका था. वो देखने में ज्यादा सुंदर तो नहीं थी लेकिन उसके चूतड़ इतने बड़े थे कि उसे एक बार देखने के बाद किसी के दिमाग में जो सबसे पहला खयाल आता था वो उसे चोदने का ही था.

मेरा भी यही हाल था. लेकिन वो मौका ही नहीं दे रही थी. मुझे पता था कि उसके कई बॉयफ्रेंड हैं और वह उनसे कई बार चुदवा भी चुकी है. लेकिन पता नहीं वह मुझे क्यों मौका नहीं दे रही थी.

एक बार मैं अपने दोस्तों के साथ पार्टी में गया था. वहां पर मैंने काफी ज्यादा शराब पी ली थी. फिर घर आने के बाद मैंने खाना भी नहीं खाया और अपना बिस्तर उठा कर सोने के लिए छत पर चला गया. मुझे नींद नहीं आ रही थी तो मैंने सोचा कि क्यों न मोनिका की छत पर देखूं कि वह क्या कर रही है?

दोस्तों, उसकी छत मेरी छत से एक दम लगी हुई थी. फिर मैं उठा और उसकी छत पर जाकर नीचे देखने लगा लेकिन जैसा मैं चाह रहा था वैसा मुझे कुछ भी नहीं दिखाई दिया. इस पर मैं मायूस हो गया और फिर मैंने वहीं उसकी छत पर उसके नाम की मुठ मारी और अपनी छत पर आकर सो गया.

अगले दिन सन्डे था तो मैं मोनिका के घर गया और उससे बातें करने लगा. हम बात कर ही रहे थे कि किसी काम से वह उठ कर रसोई चली गई. लेकिन उसका मोबाइल वहीं छूट गया था. फिर मैं उसे उठा कर देखने लगा. मोबाइल देखते ही जैसे मेरे मन की मुराद पूरी हो गई. उसमें बहुत सारी ब्लू फ़िल्म और उसके यारों के सेक्सी मैसेज थे.

फिर जब वो वापस आई तो मैंने उसे वो वीडियो दिखाया तो वह डर गई और विनती करने लगी कि किसी को बताना मत, नहीं तो उसकी बहुत बदनामी होगी और उसके घर वाले उसे मारेंगे भी बहुत. इस पर मैंने कहा ठीक है लेकिन तुम्हें मेरा एक काम करना होगा. उसने काम के बारे में पूछा तो मैंने कहा कि रात में जब तुम्हारे घर वाले सो जाएं तो ऊपर छत पर आना फिर बताऊंगा. इतना कहने के बाद फिर उसका फ़ोन लेकर मैं अपने घर आ गया. डर की वजह से वह कुछ न बोली.

फिर शाम को मैंने अपने दोस्तों के साथ जम कर शराब पी और घर आकर खाना खाने के बाद करीब 10 बजे सोने के लिए छत चला गया. मेरे दिमाग में मोनिका ही मोनिका थी और उसके बारे में सोच कर मेरा लन्ड खड़ा हो गया था.

तभी अचानक मोनिका ने अपनी छत से मुझे आवाज दी. उसकी आवाज सुन कर मैं भी उसी की छत पर पहुंच गया और उसे पकड़ के किस करने लगा. ये सब इतना अचानक हुआ कि वह डर गई और कहने लगी कि क्या कर रहे हो, कोई देख लेगा! और फिर इतना कह के वह नीचे जाने लगी.

यह देख मैंने उसकी कलाई पकड़ ली और कहा – एक बार कर लेने दे, उसके बाद मैं तेरा मोबाइल वापस दे दूंगा और किसी को कुछ बोलूंगा भी नहीं लेकिन अगर नहीं करने दिया तो कल ये मोबाइल तेरे पापा को दे दूंगा.

यह सुन कर वह डर गई और फिर चुपचाप अपनी नज़रें नीचे करके जहां थी वहीं खड़ी हो गई. यह देख मैं समझ गया कि काम हो गया. फिर मैंने उसे किस करना स्टार्ट कर दिया और साथ में कपड़ों के ऊपर से उसके बूब्स भी दबाने लगा.

धीरे – धीरे वो भी गर्म होने लगी और मेरा साथ देने लगी. फिर मैंने अपना एक हाथ उसके टॉप में घुसा दिया और उसके बूब्स को सहलाने लगा. अब तक वो भी मस्त हो चुकी थी और मेरा मेरे लन्ड को लोअर के ऊपर से ही पकड़ के सहलाने लगी.

उसका हाथ लगते ही मैं मचल उठा और सोचा कि अब देर करना ठीक नहीं, कहीं कोई उठ गया तो गड़बड़ हो जाएगी. फिर मैंने एक ही झटके में उसके लोअर और पैंटी को उतार दिया और फिर उसे वहीं छत पर लिटा दिया.

इसके बाद मैंने उसकी टांगें चौड़ी की और जीभ लगा कर उसकी चूत को चाटने लगा. चूत चाटने के बाद फिर मैं सीधा हुआ और उससे लन्ड चूसने को कहा तो वो झट से घुटनों पर बैठ के मेरा लोअर और अंदर6 वियर नीचे कर दिया. इसके बाद मेरे लम्बे लन्ड को मुंह में भर कर चूसने लगी. दोस्तों, वो बिलकुल किसी ट्रेंड रंडी की तरह लन्ड चुसाई कर रही थी.

थोड़ी देर तक लन्ड चुसवाने के बाद मैंने उसे डॉगी स्टाइल में आने को कहा. इस पर वो दीवार पर हाथ रख के झुक कर खड़ी हो गई. फिर मैंने पीछे से अपना लन्ड उसके चूत के होंठों पर लगाया और दबाव बनाया तो मेरा आधा लन्ड बड़ी आसानी से उसकी चूत में घुस गया. मेरा अंदाज़ा सही साबित हुआ कि वो कई बार चुद चुकी है.

फिर मैंने एक धक्का और लगाया. इस धक्के के साथ मेरा पूरा लन्ड उसकी चूत की जड़ तक पहुंच गया. अब मैंने झटके मारने शुरू कर दिए. मेरे हर धकके के जवाब में वो अपने चूतड़ को पीछे की ओर धकेल रही थी. बड़ा मज़ा आ रहा था दोस्तों.

करीब 10 मिनट तक उसकी चूत की चुदाई करने के बाद मैंने अपना लन्ड बाहर निकाल लिया. यह देख उसने पूछा कि क्या हुआ? लेकिन मैंने कहा कुछ नहीं. फिर मैंने उसकी गांड के छेद पर थूक लगाने लगा तो वह मेरे इरादे समझ गई और ऐसा करने से मना करने लगी.

इस पर मैंने उसे फ़ोन का नाम लेकर फिर से डरा दिया. इस पर उसने कुछ नहीं कहा. इसके बाद मैंने लन्ड पर भी थूक लगाया और उसे उसकी गांड के छेद पर सेट करके जोर लगाने लगा. मेरी मेहनत रंग लाई और जल्द ही मेरा सुपाड़ा उसकी गांड में फंस गया.

उसे इतना दर्द हुआ कि वो छटपटाने लगी और कहने लगी कि दर्द हो रहा है. लेकिन मैंने उसकी एक न सुनी और फिर एक हाथ से उसकी कमर को कस के पकड़ लिया और दूसरे हाथ से उसका मुंह बंद कर दिया. ऐसा इसलिए किया ताकि आवाज बाहर न जाने पाए.

इतना करने के बाद मैंने धीरे – धीरे लन्ड पर दबाव बनाना और उसे अंदर सरकाना शुरू कर दिया. चूंकि उसका मुंह तो बंद था इसलिए आवाज नहीं आ रही थी लेकिन आंखों से मोतियों जैसे आंसू जरूर बाहर निकल रहे थे. धीरे – धीरे करके मैंने अपना पूरा लन्ड उसकी गांड में घुसा दिया और झटके मारने लगा.

कुछ देर बाद जब उसे राहत मिली और मज़ा आने लगा तो वह अपने चूतड़ पीछे करके मेरे झटकों का जवाब देने लगी. दोस्तों, उसकी गांड बहुत टाइट थी. इसलिए मैं ज्यादा देर तक खुद को रोक न पाया. मैं जल्दी ही झड़ने वाला था. फिर मैंने उसके दोनों बूब्स पकड़े और उन्हें मसलते हुए अपनी स्पीड बढ़ा दी और फिर कुछ देर बाद उसकी गांड में ही झड़ गया.

इसके बाद हम दोनों वहीं छत पर ही बैठ गई. हम हांफ रहे थे. थोड़ी देर बाद जब हमें आराम हुआटी हमने अपने कपड़े ठीक किए और वह अपना मोबाइल लेकर नीचे चली गई और मैं अपने छत आ गया. आप सबको मेरी यह कहानी कैसी लगी, कमेंट करके जरूर बताएं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *