दोस्त की ट्यूशन टीचर को पटाकर उसके घर पर चोदा

एक दिन उन्होंने मुझे बताया कि उनका पति बहुत ज्यादा पीता है. इस कारण उनकी लाइफ में अब सेक्स नहीं बचा है. फिर हमारी बात और बढ़ती गयी और मैंने काफी कोशिश के बाद उन्हें अपने साथ सेक्स करने के लिए तैयार कर लिया. फिर हमने तय किया कि मैं जब भी गांव आऊंगा तब हम सेक्स करेंगे…

सभी अन्तर्वासना पाठकों को मेरा नमस्कार. अन्तर्वासना पर ये मेरी पहली कहानी है आशा करता हूँ आप लोगों को पसंद आएगी. कहानी शुरू करने से पहले मैं अपने बारे में बता दूँ. दोस्तों, मैं 19 साल का एक नौजवान लड़का हूँ और बीएससी कर रहा हूँ और मैं मध्यप्रदेश के इंदौर का रहने वाला हूँ. दोस्तों, मुझे भाभियां और आंटियां सबसे ज्यादा पसन्द हैं. मैं उन्हें देख कर पागल हो जाता हूँ.

अब मैं सीधे अपनी कहानी पर आता हूँ. मेरी यह कहानी पूरी तरह से वास्तविक है और इस कहानी में कोई भी झूठ नहीं है. बात तब की है जब मैं छुट्टियों में अपने गांव गया हुआ था. मेरे गांव वाले दोस्तों को एक औरत हिंदी पढ़ाती थी. मेरे दोस्तों ने उनसे मेरी मुलाकात करवाई और उसे देख कर पहली मुलाकात में ही मैं पागल हो गया.

उन्होंने कमर के नीचे जो साड़ी बांध रखी थी और चलते समय उनकी गांड बहुत मस्ती में हिल रही थी. जिसे देख कर मैं पागल हो गया. उनसे मेरी ज्यादा बात नहीं हो पायी थी. फिर घर आ कर मैंने उनके नाम की दो बार मुठ मारी.

फिर कुछ दिन गांव में ही रहने के बाद मैं वापस इंदौर आ गया. फिर एक दिन मैं फेसबुक चला रहा था तो मुझे फेसबुक पर वो मैडम दिखी. मैंने तुरंत ही उन्हें फ्रेंड रिक्वेस्ट सेंड कर दी और उन्होंने भी मेरी रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली.

फिर फेसबुक पर चैटिंग के द्वारा हमारी बात चालू हुई. उन्होंने मुझे पहचाना नहीं था. फिर धीरे – धीरे हमारी अच्छी दोस्ती हो गयी. अब हमारी दोस्ती इतनी गहरी हो गई कि वो मुझसे अपनी सब बातें शेयर करने लगी. फिर मैंने उन्हें अपने बारे में भी बता दिया था. मैं उनसे सेक्स की बात भी क़र लेता था लेकिन वो कुछ नहीं बोलती थी. फिर हमारी फ़ोन पर भी बात होने लगी.

एक दिन उन्होंने मुझे बताया कि उनका पति बहुत ज्यादा पीता है. इस कारण उनकी लाइफ में अब सेक्स नहीं बचा है. फिर हमारी बात और बढ़ती गयी और मैंने काफी कोशिश के बाद उन्हें अपने साथ सेक्स करने के लिए तैयार कर लिया. फिर हमने तय किया कि मैं जब भी गांव आऊंगा तब हम सेक्स करेंगे.

जब मेरा एग्जाम खत्म ही गया तो उसके बाद जल्दी से गांव पहुंच गया. फिर उनका कॉल आया कि आज दोपहर में घर पर कोई नहीं है तुम मेरे घर पर ही आ जाना. यह सुन कर तो मेरी ख़ुशी का कोई ठिकाना ही नहीं रहा. फिर दोपहर में उनका कॉल आया और उन्होंने कहा कि जल्दी आ जाओ.

मैं जल्दी से पीछे के दरवाजे से उनके घर पहुंच गया. वहां पहुंचते ही मैंने उन्हें अपनी बाहों में भर लिया और उनके होंठ चूसने लगा और साथ में उनके बोबे दबाने लगा. मुझे तो बहुत ही ज्यादा मज़ा आ रहा था और वो सी ई ई सी सी करने लगी थी.

फिर मैं उन्हें उठा कर पलंग पर ले गया और उनका ब्लाउज निकाला और फिर उनके बोबे दबाने लगा. उनके मुंह से लगातार सिसकी भारी आवाज निकलती जा रही रही थी. फिर मैंने उनकी ब्रा उतार दी और उनके नंगे बूब्स चूसने लगा. क्या मज़ा आ रहा था दोस्तों मैं बता नहीं सकता.

उसके बोबे को मैंने इतना चूसा कि वो पूरे लाल हो गए और मेरे ऐसा करने से वो मस्ती में पागल हो गयी थी और लगातार बोले जा रही थी – जान मेरी प्यास बुझा दो बहुत दिनों से प्यासी हूं. आह जल्दी से कुछ करो.

उसकी मादक आवाजों की वजह से मुझे और जोश आता जा रहा था. फिर मैंने धीरे – धीरे उनके सारे कपड़े उतार दिए. अब उनकी नंगी और चिकनी चूत देख कर तो मैं एक दम पागल हो गया. फिर उन्होंने मेरे भी सारे कपड़े उतार दिए. मेरा लम्बा लंड देख कर वो डर गयी और बोली – इतना बड़ा कैसे मेरे अंदर जायेगा?

मैंने उन्हें बोला – डरती क्यों हो, पहले इसे चूसो तो सही.

वो बड़े प्यार से मेरे लंड को सहलाने लगी और फिर डरते – डरते उसे मुंह में ले लिया और चूसने लगी. मैं तो जन्नत की सैर कर रहा था. करीब 15 मिनट चुसवाने के बाद मैं झड़ गया. मैं फिर से उनके बूब्स चूसने लगा. इससे उन्हें बहुत मज़ा आ रहा था. फिर मैं धीरे – धीरे नीचे आता गया और उनकी चूत पर आ गया. उनकी चूत से जो खुशबू आ रही थी वो मुझे पागल कर रही थी.

अब मैंने उसे चाटना शुरू किया. वो एक दम मदमस्त हुए जा रही थी और मेरा सर अपनी चूत में घुसाये जा रही थी. वो बिना रुके लगातार कह रही थी – चूसो मेरे राजा और चूसो, आज इसकी सारी खुजली मिटा दो.

फिर मैं चूत के अंदर अपनी जुबान डाल दी और जीभ से चोदने लगा. जिसे वो और पागल हो गयी और मेरा लंड फ़नफना गया. अब उन्होंने मुझसे कहा – अब बर्दास्त नहीं होता है बस अब अंदर डाल दो नहीं तो मैं मर जाऊंगी.

मैं अंदर डालने लगा पर लन्ड अंदर जा ही नहीं रहा था. उनकी चूत बहुत टाइट थी. अब मैंने थोड़ा सा तेल लगाया और धीरे – धीरे अपना लन्ड अंदर सरकाने लगा. अभी आधा भी लन्ड अंदर नहीं गया था तभी वो बोलने लगी – बाहर निकाल लो इसे नहीं तो मैं मर जाऊंगी.

पर मुझे मज़ा आ रहा था इसलिए मैंने उनकी एक ना सुनी और धीरे अन्दर डालना जारी रखा और वो लगातार बोलती रही – श श आह मर गयी, मार दिया तूने, आज तो मेरी चूत फट गयी. कितना बड़ा है तेरा.

फिर मैंने एक झटका मारा और पूरा लन्ड अंदर डाल दिया. वो इतनी जोर के चिल्लाई कि मैं भी डर गया. फिर मैं थोड़ा सा रुका और उन्हें किस करने लगा. थोड़ी देर बाद वो अपनी गांड उठाने लगी और मैं धीरे – धीरे धक्के लगाने लगा.

मैं तो जैसे जन्नत में था. मैं लगातार धक्के लगा रहा था और वो बोल रही थी – आह आह ऊँह ऊँह आह मेरे राजा, आज तक ऐसा सुख कभी नहीं मिला मुझे. चोद, आज से मैं तेरी रखेल हूँ, जब तेरा मन हो चोदने का आ जाना और फाड़ देना मेरी चूत को.

अब मैं और ज्यादा जोश में आ गया और फिर मैंने अपनी स्पीड बड़ा दी. करीब 25 मिनट के बाद मैं झड़ने वाला था तो उन्होंने कहा – अंदर ही निकलना.

अब मैंने उनकी पूरी चूत को अपने वीर्य की एक – एक बूंद से भर दिया था और फिर मैं साइड में लेट गया. इस बीच वो 3 बार झड़ चुकी थी. उनकी चूत से खून भी निकल आया था, जिसे देख कर मैं घबरा गया तो उन्होंने कहा – घबरा मत, तेरा ज्यादा बड़ा है इसलिए ऐसा हुआ है.

अब उनसे चलते नहीं बन रहा था तो मैं उन्हें गोद में उठा कर बाथरूम ले गया और उन्हें अच्छे से साफ किया. उसके बाद तो मैं जितने दिन गांव में रुका हमने रोज चुदाई की और आज तक करता हूँ.

उसके बाद मैंने कई अंटियों को चोदा लेकिन वो सारी कहानियां फिर कभी. मेरी कहानी आप सबको कैसी लगी? मुझे मेल जरूर करें. मेरी ईमेल आईडी – [email protected]

“दोस्त की ट्यूशन टीचर को पटाकर उसके घर पर चोदा” पर एक उत्तर

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *