फेसबुक पर मिली आंटी की चूत फाड़ी

फिर मैं उसे अपनी बाँहो में लेकर उसके बेडरूम में ले गया और उसे बेड पर लेटा कर उसके ऊपर चढ़ गया और फिर बहुत ज़ोर से किस करना शुरू कर दिया. मैं उसके पूरे चेहरे को लगातार किस कर रहा था और इस दौरान उसके बूब्स को भी दबा रहा था. फिर मैंने उसकी साड़ी उतार दी और उसे नंगा कर दिया. अब वो सिर्फ ब्रा और पैंटी में आ गई थी. इन कपड़ों में वो मस्त रण्डी लग रही थी…

हेल्लो दोस्तों, सबसे पहले अन्तर्वासना के सभी पाठकों कल मेरा नमस्कार. दोस्तों, आज तक मैंने अन्तर्वासना पर बहुत सी कहानियां पढ़ी है. इन मस्त और मादक कहानियों को पढ़ने के बाद फिर मैंने भी सोचा कि मैं भी अपनी लाइफ के वासना भरे कुछ खट्टे और कुछ मीठे अनुभव आपको लोगों के साथ साझा करूं.

दोस्तों, ये मेरी ज़िन्दगी की एक सच्ची कहानी है. मेरा नाम अलफ़ाज़ खान है और मैं राजस्थान के पाली जिले का रहने वाला हूँ. मेरी उम्र 22 साल है और मैं दिखने में काफी हैंडसम और सेक्सी हूँ. मेरी बॉडी भी बहुत ही अच्छी है और मेरे लण्ड का साइज़ करीब 6 इंच है.

दोस्तों मैं काफी खुले दिमाग का लड़का हूँ और चूत चोदने के लिए मैं हर दम तैयार रहता हूँ. मुझे बस चूत चोदने से मतलब होता है चाहे वो किसी भी हो. चाहे वो अठारह साल की कुंवारी लड़की की हो या बीस साल की बॉयफ्रेंड से एक – दो बार चुदी हुई लड़की की या फिर तीस – चालीस साल की शादीशुदा अथवा अपने पति से तलाक ले चुकी औरत की हो या चाहे फिर किसी रंडी की ही क्यों न हो, मुझे इनसे वो सब मिलता है जिसकी मुझे जरूरत होती है.

दोस्तों, अब आपका ज्यादा समय न बरबाद करते हुए मैं अपनी कहानी पर आता हूँ. अन्तर्वासना की काफी कहानियों में मैंने पढ़ रखा है कि फेसबुक के माध्यम से भी कई लोगों को चूत मिली है तो फेसबुक से मुझे भी चूत मिल सकती है यही सोच कर मैंने भी फेसबुक पर एक सेक्सी अकाउंट बनाया और उसमें बहुत सारी लड़कियों, भाभियों और आंटियों को अपने फ्रेंड लिस्ट में जोड़ लिया. ताकि शायद फेसबुक की मदद से मुझे भी कोई चूत मिल जाये.

एक दिन मेरी फेसबुक आईडी पर एक लेडी की फ्रेंड रिक्वेस्ट आई. उस रिक्वेस्ट को मैंने एक्सेप्ट कर लिया. वो लेडी अजमेर की रहने वाली थी और उसका नाम नीतू अरोरा था. उसकी उम्र यही कोई 45 साल थी, लेकिन उसका फिगर बहुत ही जानदार था. उसकी डीपी देख कर कोई भी उसके फिगर का अंदाजा लगा कर ये बता सकता था कि उसका फिगर 36-40-42 का है.

फिर कुछ दिन हमने फेसबुक के मैसेंजर पर ऐसे ही बात की. फिर धीरे – धीरे हम सेक्स की बातों पर आ गए और
धीरे – धीरे हम अच्छे दोस्त बन गए थे. फिर बाद में मैंने उसका मोबाइल नंबर भी ले लिया. अब क्या था, अब तो हम फोन पर बातों के दौरान फ़ोन सेक्स करने लगे. कुछ दिन बाद मैंने उससे उसकी एक साधारण सी फोटो ले ली.

वो दिखने में मस्त थी और उसका बदन एक दम फिट था. फिर उसने मुझे बताया कि वो अकेली है और हमेशा सेक्स की आग में तड़पती रहती है. उससे यह सुनने के बाद अब फिर हमने अपना प्रोग्राम फाइनल किया. मैं उसके दिए पते पर उससे मिलने के लिए अजमेर पहुंच गया.

उसका घर छोटा ही था. उसने मुझे अंदर बैठाया और पानी पिलाया. फिर वो कॉफ़ी बना कर लायी और हम साथ में बैठ कर काफी पीने लगे और काफी की चुस्कियों के साथ – साथ हम सेक्सी बातें भी करने लगे. उसने बताया उसके पति की मौत हो चुकी है और वो बहुत अकेली है. इतना कह कर वो रोने लगी.

फिर मैंने उसे समझाया और उसे चुप कराते हुए उसे उसे अपने सीने से लगा लिया. मेरे ऐसा करने में उसे बहुत अपनापन का एहसास हुआ और फिर मैं उसके होंठों को चूमने लगा. होंठों को चूमते – चूमते मैं उसके कान की लौ को भी चूमने लगा. इससे वो गर्म होने लगी.

फिर मैं उसे अपनी बाँहो में लेकर उसके बेडरूम में ले गया और उसे बेड पर लेटा कर उसके ऊपर चढ़ गया और फिर बहुत ज़ोर से किस करना शुरू कर दिया. मैं उसके पूरे चेहरे को लगातार किस कर रहा था और इस दौरान उसके बूब्स को भी दबा रहा था. फिर मैंने उसकी साड़ी उतार दी और उसे नंगा कर दिया. अब वो सिर्फ ब्रा और पैंटी में आ गई थी. इन कपड़ों में वो मस्त रण्डी लग रही थी.

फिर में उसके बूब्स चूसने लगा और उसके बूब्स पर दांतो से काटने लगा और कभी – कभी उसके निप्पल को पूरा का पूरा मुंह में लेकर ज़ोर से दांतो के बीच दबा दिया करता था. जिससे वो सिसकार उठती और कहती – प्लीज़, थोड़ा धीरे – धीरे आराम से करो न, मैं कहीं चली तो जा नहीं रही हूं.

लेकिन मैं नहीं रुका. मैंने पूरा ज़ोर लगा कर उसे गर्म किया और धीरे से उसकी चूत पर आ गया और उसकी चूत को चाटने लगा. वो पहली बार चूत चटवा रही थी, इसलिए वो बहुत ज़ोर से सिसकारियां लेने लगी और कहने लगी, “आह्ह आह्ह ऊम्म हां हां, ओह जान खा जाओ पूरा, आह बहुत मज़ा आ रहा है.”

करीब 15 मिनट तक मैंने उसकी चूत को चूसा फिर मैं भी एक दम नंगा हो गया और अपना लन्ड निकाल कर उसे लण्ड चूसने को कहा. पर उसने कहा वो मुह में नहीं लेगी. तो मैंने भी ज्यादा ज़ोर नहीं दिया. फिर मैंने अपना लण्ड उसकी चूत पर रख कर एक हल्का सा धक्का दिया लण्ड दो इंच अंदर चला गया और उसके मुंह से एक दर्द भरी आह्ह निकल गई.

फिर मैंने उसके कंधो को पकड़ लिया और अपने होंठों में उसके होंठों को लेकर कस कर एक ज़ोरदार धक्का दिया और पूरा लण्ड चूत में डाल दिया. दर्द की वजह से वो ज़ोर से चिल्लाई, “ओह्ह आम्मम्मा मर गयी, प्लीज़ इतने ज़ालिम न बनो आराम से करो प्लीज.”

लेकिन मैं इसी तरह उसे चोदता रहा. कुछ देर बाद मैंने उसे अपने ऊपर ले लिया और नीचे से झटके मारने लगा और वो ऊपर आकर उछल – उछल कर चुदवाने लगी. इस तरह मैंने उसे लगभग 25 मिनट तक चोदा और उसकी चूत में ही अपना पानी निकाल दिया. अब तक वो भी झड़ चुकी थी. इस जोरदार चुदाई में हम दोनों को बहुत ही ज्यादा मज़ा आया.

फिर हम कुछ देर तक ऐसे ही पड़े रहे और फिर साथ में ही नहाये भी. नहाने के दौरान बाथरूम में भी हमने सेक्स किया. इस तरह मैं 3 दिन तक उसके पास रहा और 16 बार उसकी चुदाई की और साथ ही साथ उसकी गांड भी मारी. जाते समय उसने मुझे 8000 रुपए भी दिए और दोबारा फिर से मिलने का आग्रह भी किया.

दोस्तों वो कहानी अगली बार बताउंगा. मेरी ये कहानी बिलकुल सच है. आप प्लीज़ मुझे मेल करके जरूर बताएं कि आपको मेरी कहानी कैसी लगी. मेरी ईमेल आईडी – [email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *