फ़ेसबुक चैट पर मिली भाभी को उनके घर में चोदा

इसके बाद मैंने उसका पेटीकोट खोल दिया और फिर अपनी टीशर्ट और लोअर को भी उतार दिया. अब वो और मैं लगभग नंगे ही थे. वो बस ब्रा और पेंटी में थी. फिर मैंने उसकी पेंटी में हाथ डाला और उसकी चूत के साथ खेलने लगा…

अन्तर्वासना के नियमित पाठकों और चूत वाली चुदासी भाभियों को मेरा चुदाई भरा नमस्कार! साथियों, मैं अन्तर्वासना साईट का नियमित पाठक हूँ और लगभग इसकी हर एक कहानी को मस्त होकर पढ़ता हूँ.

आज, जो कहानी या कहें कि सच्ची घटना मेरे साथ घटी है, मैं उसे आप सब के साथ शेयर कर रहा हूँ. उम्मीद है आप सबको जरूर पसंद आएगी.

दोस्तों, मेरा नाम मोहित है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. दोस्तों, मैं एक शादीशुदा युवक हूँ. ये घटना मेरे साथ लगभग दो साल पहले घटी है. उस समय मैं शादी शुदा नहीं था. तब मैं रोज की तरह फेसबुक पर अपने दोस्तों के साथ चैट कर रहा था.

तभी मुझे अपनी फ्रेंड लिस्ट में एक लड़की की प्रोफ़ाइल दिखाई दी. जिसका नाम स्नेहा ( बदला हुआ नाम) था और वह लगभग एक साल पहले मेरी फ्रेंड बनी थी. मैं किसी कारण से उस दौरान उससे बात नहीं कर पाया था. उस दिन अचानक मन में आया तो मैंने उसको हाय भेजा, लेकिन उसका रिप्लाई नहीं आया.

अगले दिन उसका रिप्लाई आया तो मैंने बदले में उसे हाय कहा, और बात करने लगा. बात करते – करते पता चला कि वो एक शादी शुदा औरत है और उसे एक बच्चा भी है.

फिर मैंने उससे बात आगे बढ़ाई. इस दौरान हमारे बीच पढ़ाई और उसके पति के बिज़नेस के बारे में बात हुई. वो मेरे ही शहर की थी. दोस्तों, मुझे शादी शुदा औरतों की चूत मारना ज्यादा पसंद है तो मैं धीरे – धीरे उसकी तरफ आकर्षित होने लगा, और मैंने बातों ही बातों में ये जानने की कोशिश की कि क्या वो अपने पति से संतुष्ट है या नहीं?

मुझे पता चला कि वो अपने पति से बहुत ज्यादा परेशान है. उसके पति का किसी और लड़की के साथ अफेयर चल रहा था. इसके बाद हम अक्सर रात – रात भर फेसबुक पर ही बातें करते थे और धीरे – धीरे हमारी बातें सेक्सी होती चली गयी और हम फ़ोन पर खुल कर और खूब मस्ती में सेक्स चैट करने लगे. मैंने उसको पूरी तरह खोल दिया था. अब वो डर्टी वर्ड्स बोलले लगी थी. चूत और लंड जैसे शब्द भी हम दोनों अपने सेक्स चैट में इस्तेमाल करते थे.

उसके बाद हम एक – दूसरे से मिलने के लिए तड़पते रहते थे. एक दिन वो वक़्त भी आया और हम पहले से निश्चित एक जगह पर मिले. दोस्तों, उसे देख के तो मैं पागल सा हो गया और उसके हुस्न का दीवाना हो गया था.

उसके बाद हम कहीं प्राइवेट में मिलने का सोचने लगे. क्योंकि अब न तो मैं चुदाई के बिना रह सकता था और न ही. अब तो आग दोनों तरफ बराबर थी और दोनों ही चुदाई के लिए तड़प रहे थे.

फिर एक दिन हमें मौका मिल ही गया. जब उसका पति किसी काम से दो दिन के लिए बाहर गया था, तो उसने मुझे अपने घर बुला लिया. जब मैं उसके घर के पास पहुंचा तो उसने मुझे पीछे के रास्ते से अपने घर में घुसाया.

उस समय उसने पीली साड़ी पहन रखी थी. जिसमें वो एक दम मस्त माल लग रही थी. इसके बाद फिर हम दोनों उसके बेड रूम में दाखिल हुए तो मैंने पहले उसको पीछे से पकड़ा और उसकी गर्दन पर हल्का सा स्मूच किया. जिससे उसके बदन में सरसराहट सी महसूस हुई.

फिर मैंने उसे अपनी तरफ करके उसके होंठों पर किस किया और हम दोनों लगभग 10 मिनट तक एक – दूसरे को किस करते रहे. इसके बाद मैंने उसके बूब्स से खेलना शुरू किया और अब स्नेहा इन सब में मेरा पूरा साथ दे रही थी. मेरी भी यही कोशिश थी कि इस सब में उसे भी पूरा मजा आये.

फिर मैंने उसका ब्लाउज खोला और उसकी नरम – नरम चूचियों को दबाते हुए उसके निप्पल को मुंह में ले लिया और चूसने लगा. वह ‘आह्ह्ह आह्ह्ह’ की आवाज कर रही थी. इसके साथ ही उसने कहा कि खेलो मस्त होकर इनसे, मैं बहुत समय से चुदासी हूँ, अहहाह हाहाह ईईइ..”

इसके बाद मैंने उसका पेटीकोट खोल दिया और फिर अपनी टीशर्ट और लोअर को भी उतार दिया. अब वो और मैं लगभग नंगे ही थे. वो बस ब्रा और पेंटी में थी. फिर मैंने उसकी पेंटी में हाथ डाला और उसकी चूत के साथ खेलने लगा.

पहले उसकी चूत के दाने को अपनी उंगलियों से रगड़ा और फिर ऊँगली को चूत में घुसा के अन्दर – बाहर करने लगा. अब वो ‘अहहहह्हहाह ईई’ की मस्त मादक आवाज निकाल रही थी. कुछ देर बाद उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया और फिर वो कहने लगी कि मेरे राजा, मैं काफी टाइम से चुदी नहीं हूँ तो प्लीज मेरी प्यास जल्दी से बुझा दो.”

इस पर मैंने कहा, “अभी नहीं मेरी रानी, पहले तड़प को और बढ़ने दो.” इतना कह कर मैंने उसकी पेंटी उतार दी और फिर उसकी चूत को अपनी जीभ से चूसने लगा. अब उसकी तड़प बढ़ती जा रही थी और वो ‘आहहहह’ की मधुर आवाज निकलने लगी थी.

थोड़ी देर तक ऐसा करने के बाद मैंने उससे कहा कि मेरे लंड को आजाद करके उसे अपने मुंह में लेकर चूसो. इस पर पहले तो वो मना करने लगी पर बाद में उसने उसे लन्ड को अपने मुंह में लिया और मस्त होकर चूसने लगी.

इस दौरान उसने कहा कि आज तक कभी मेरे पति ने भी ऐसा नहीं किया और अब मुझे लन्ड चूसने में मस्त मजा आ रहा है, बस अब देर न करो और जल्दी से अपना लंड मेरी चूत में डाल के मुझे मस्त ख़ुशी दे दो और मेरी प्यास बुझा दो.

उसके बाद मैंने बिना देरी किए अपना लंड उसकी चूत पर सेट किया और पहले धीरे से और फिर एक झटके से अपना लन्ड अन्दर घुसा दिया. जिससे वो तेज़ आवाज में चिल्लाई और दर्द के मारे छटपटाने लगी. इधर मैं उसकी चूत में धक्के पर धक्के मारने लगा.

थोड़ी देर में उसे इन धक्कों में मजा आने लगा और फिर मैंने धक्कों की रफ़्तार को और तेज़ किया. अब वो मेरा पूरा साथ दे रही थी. करीब 15 मिनट के बाद मैंने कहा कि मैं झड़ने वाला हूँ तो उसने कहा कि मेरे ऊपर निकाल दो और फिर मैं तेज़ फुहार के साथ उसके बूब्स के ऊपर झड़ गया.

उसके बाद हमने 3 बार और चुदाई की और आगे भी ये सिलसिला जारी रहा. दोस्तों, अगर आपको ये सच्ची घटना अच्छी लगी हो तो मुझे ईमेल जरुर करें. मेरी मेल आईडी – Thisizmohit49[email protected]