फेसबुक पर मिली भाभी को उसके ससुराल जाकर चोदा

एक बार फेसबुक पर मुझे एक शादीशुदा महिला मिली. उससे बात हुई. उसने बताया कि वो अपने पति से दुखी है. मैंने सहानुभूति दिखाकर उसका नम्बर ले लिया इसके बाद फिर मैं उसके ससुराल पहुंच गया और जमकर उसकी चूत बजाई…

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम सूर्या है और मैं जालंधर का रहने वाला हूँ. मेरी यह कहानी तब की है जब मैं कॉल बॉय बनने की कोशिश कर रहा था. लेकिन मुझे कोई प्लेटफॉर्म नहीं मिल रहा था.

एक दिन मैं फेसबुक पर रैंडमली शादीशुदा महिलाओं को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज रहा था. तभी मुझे 25-26 साल की शादीशुदा एक महिला की प्रोफाइल दिखी. उनका नाम नीलम (बदला हुआ) था. उसकी प्रोफाइल पर लगी फ़ोटो का बैक ग्राउंड मुझे जालंधर के जैसा लगा. फिर मैंने उसे भी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज दी. उन्होंने तुरंत ही मेरी फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली.

इसके बाद मैसेंजर पर मैंने हेलो का मैसेज भेज दिया. उन्होंने भी जवाब दिया. फिर हमारे बीच बातचीत शुरू हो गई. बातों ही बातों में पता चला कि वो गुजरात के गांधी नगर की रहने वाली हैं और कभी – कभी जालंधर भी आती हैं.

अब हमारे बीच गहरी दोस्ती सी हो गई और हम एक – दूसरे से हर तरह की बात शेयर करने लगे. हालांकि, हमारी बात अभी भी मैसेंजर पर ही होती थी. एक दिन उन्होंने बताया कि वो अपनी शादीशुदा लाइफ से खुश नहीं हैं. नीलम ने बताया कि उनका पति उनसे बहुत लड़ाई करता है.

नीलम की यह बात सुन कर मैंने बहुत अफ़सोस जताया और उनके प्रति संवेदना प्रकट की. इससे उन्हें लगा कि मैं उनके साथ सहानुभूति रखता हूँ. फिर मैंने मौके का फायदा उठाया और उनसे उनका नम्बर मांग लिया. उन्होंने मुझे अपना नम्बर दे दिया.

नम्बर मिलते ही मैंने उन्हें फोन लगा दिया. अब हमारे बीच बातें होने लगीं. जैसे – जैसे हमारे बीच फ़ोन पर बातों का सिलसिला बढ़ता गया वैसे – वैसे हमारी बातों में भी गर्मी आती गई.

बातों ही बातों में मैं उनसे उनके बूब्स का साइज और उनका पसंदीदा सेक्स पोजीशन वगैरह के बारे में भी पूछ लेता. वो भी बिना संकोच के बता देतीं कि उनके बूब्स का साइज 36 है.

एक बार उन्होंने मुझे बताया कि वो किसी काम से जालंधर आ रही हैं. यह सुन कर मैंने उनसे मिलने का प्लान बनाया. दोस्तों, जालंधर में उनकी ससुराल थी और उनके पति गांधी नगर में काम करते हैं इसलिए वो वहां रहती हैं. उनके ससुराल में केवल उनकी सास और ससुर ही हैं.

फिर वो जालंधर आ गईं. एक दिन उनकी सासू मां अपने पति के साथ मंदिर गई थीं तो उन्होंने मुझे कॉल किया और अपने घर बुलाया. मैं उनका इरादा समझ गया. मुझे ये एहसास हो गया कि आज मेरा कॉल बॉय बनने का सपना फाइनली पूरा होने वाला है. दोस्तों, मुझे सेक्स करके औरतों को खुश करना बहुत पसंद है.

फिर मैं उनके बताये पते पर पहुंच गया. मैंने देखा कि बालकनी में एक खूबसूरत और लंबी महिला खड़ी है. चूंकि मैंने फेसबुक पर नीलम की प्रोफाइल पिक्चर देख रखी थी इसलिए पहचानने में दिक्कत नहीं हुई कि बालकनी में खड़ी महिला कोई और नहीं नीलम ही थीं. नीलम ने भी मुझे पहचान लिया था.

जब मैं उनके दरवाजे पर पहुंचा तो उन्होंने इशारा किया कि गेट खुला है अंदर आ जाओ. फिर मैं सीधा अंदर घुस गया. अंदर जाने के बाद वो पहली बार मेरे सामने आईं. मैं तो उन्हें देखता ही रह गया. थोड़ी देर बाद जब उन्होंने मुझे बैठने को कहा तो मुझे होश आया.

फिर नीलम गईं और मेरे लिए पानी लेकर आईं. पानी देने के बाद वो फिर अंदर चली गईं. थोड़ी देर बाद उन्होंने मुझे अंदर बुलाया. मैं अंदर गया तो एक बार फिर मेरी नज़र उन पर ही ठहर गई. उन्होंने अपने कपड़े चेंज कर लिया था. अब उन्होंने रेड कलर की ट्रांसपैरेंट नाइटी पहन ली थी, जिसमें से अंदर का सब कुछ दिख रहा था.

दोस्तों, नीलम का रंग थोड़ा सांवला जरूर है लेकिन वो सेक्सी बहुत हैं और उनका फिगर भी एक दम मस्त है. उस पारदर्शी नाइटी के अंदर घुसते हुए सबसे पहले मेरी नज़र उनके बड़े – बड़े मम्मों पर पड़ी. उनके मम्मों के ऊपर सिक्के जैसे काले आकार के निपल्स दिख रहे थे. यह देख मैं उनकी तरफ खींचता चला गया.

फिर मैं उनके साथ ही बेड पर बैठ गया. इसके बाद उन्होंने अपना पैर मेरी जांघ पर रखा दिया. फिर मैंने उनकी जांघ पर अपनी उंगली रख दी और उसको रब करने लगा. जिसने आग में घी सा काम किया और वो एक दम उत्तेजित हो गईं.

फिर उन्होंने मेरी कॉलर पकड़ी और अपने नाज़ुक होंठों को मेरे होंठों से चिपका दिया. इधर मैंने भी उनकी कमर पर अपना हाथ रख दिया और उन्हें अपनी ओर खींच कर उनका साथ देने लगा.

वो लगातार मुझे किस किये जा रही थीं. इसके बाद मैं जोरों से स्मूच करने लगा. इसके लिए मैंने अपनी जीभ का बखूबी इस्तेमाल किया. यह सब करीब 15-20 मिनट तक चलता रहा. इसी बीच मेरा हाथ उनके बूब्स पर चला गया. जिन्हें पकड़ कर मैं मसलने लगा.

इसी बीच उन्होंने मेरा लन्ड पकड़ लिया. मेरा लन्ड पूरा अपने फॉर्म में था, जिसे वो सहलाने लगीं. मैं भी एक हाथ से उनके मम्मे को मसल रहा था और दूसरे से उनकी ब्रा को हटा रहा था. ब्रा को उतारने के बाद मैं उनके बूब्स पर टूट पड़ा और उन्हें मुंह में लेकर चूसने लगा.

मैं उनके निप्पल्स पर लगातार जीभ भी चला रहा था. जिससे उनके निप्पल एक दम गीले हो गए थे. बूब्स चूसते – चूसते मैंने अपना एक हाथ उनकी पैंटी के ऊपर रख दिया. फिर मैं पैंटी के ऊपर से ही उनकी चूत को मसलने लगा.

मेरे ऐसा करने से वो बहुत उत्तेजित हो गईं. फिर उन्होंने मुझे धक्का दे दिया और मेरे लन्ड को पैंट से बाहर निकाल कर उसे चूसने लगीं. मेरे लन्ड पर उन्होंने इतनी जीभ चलाई कि मैं उनके मुंह में ही झड़ गया. मेरे झड़ने के बाद वो मेरा माल चाट गईं और जोरों से मेरा लन्ड चूसने लगीं. इससे मेरा लन्ड फिर से खड़ा हो गया.

अब मेरी बारी थी. मैंने उन्हें धक्का दिया और उनकी पैंटी उतार दी. फिर मैं उनकी चूत को अपनी उंगली से सहलाने लगा. थोड़ी देर बाद मैंने उनकी चूत पर अपनी जीभ रख दी. मेरे ऐसा करने से उनके मुंह से सिसकारी निकलने लगी. फिर उन्होंने कहा कि अब मत तड़पा रे, जल्दी से चोद दे मुझे.

लेकिन मैं इतना जल्दी कहां मानने वाला था. मैं उनकी चूत चाटता रहा. थोड़ी देर बाद उन्होंने मेरे मुंह में ही अपना पानी छोड़ दिया. मैं उनका सारा पानी पी गया. उनका पानी हल्का खारा सा था.

अब बारी थी सबसे मेन काम करने की. मैंने उनकी चूत पर से अपना मुंह उठाया तो उन्होंने अपनी टांगें खोल दी. फिर मैं खड़ा हो गया. फिर मैंने उनकी चूत पर लन्ड रख कर एक धक्का दिया तो मेरा आधा लन्ड उनकी चूत में चला गया. चूंकि वो काफी दिनों बाद चुद एहि थीं इसलिए उन्हें दर्द हुआ और उनके मुंह से चीख निकल गई.

इसके बाद मैंने अपना होंठ उनके होंठों पर रख दिया और दूसरे झटके के साथ अपना पूरा लन्ड उनकी चूत में उतार दिया. मुंह बन्द होने के कारण इस बार वो आवाज नहीं कर पाईं. फिर मैं धीरे – धीरे झटके देने लगा. इस दौरान मैं उनके मम्मों को भी चूस रहा था.

जब उन्हें भी मज़ा आने लगा ओट फिर मैंने अपने धक्के तेज कर दिए. करीब 15 की ज़ोरदार चुदाई के बाद मैं उनकी चूत में ही झड़ गया. इसके बाद हमने खूब चूमा – चाटी की. उस दिन हमने 3 बार और चुदाई की. फिर उन्होंने मुझे पैसे दिए और मैं वापस चला आया.

ऐसी थी मेरे कॉल बॉय बनने की कहानी. आपको कैसी लगी मुझे मेल करके जरूर बताएं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *