गांव वाली कुंवारी लड़की की सील तोड़ी

एक बार मैं अपने एक मरीज का इलाज करने उसके घर गया था. वहां पर उसकी कुंवारी लड़की भी थी, जो मुझे अच्छी लगी. फिर मैंने उसे अपना मोबाइल नम्बर दिया और वापस चला गया. फिर फ़ोन पर बात होने लगी. बात करते – करते हम काफी आगे बढ़ गए और एक दिन मैंने उसे अपने दोस्त के रूम पर ले जाकर उसकी चुदाई कर दी…

हैलो दोस्तों, मेरा नाम देव है मैं छत्तीसगढ़ का रहनेवाला हूं. मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूं और पेशे से एक डॉक्टर हूं. मैं एक छोटे से गांव मे रहता हूं और मरीजों का इलाज करने के लिए कभी – कभी उनके घर भी जाना पड़ता है.

ऐसे ही एक दिन मैं एक मरीज के घर उसका इलाज करने गया था. मरीज की उम्र लगभग चालीस साल थी और वह एक महिला थी. मैंने इलाज शुरू कर दिया. उनके घर में उनकी एक बेटी भी थी. जिसका नाम पूजा था. पूजा 12वीं कक्षा में पढ़ती थी और उसकी उम्र 19 साल थी.

उस महिला का इलाज करने में मुझे तीन घंटे लग गए. उस दौरान मेरी पूजा से बहुत बात हुई. एक बार मैंने उससे पानी के लिए बोला. जब वह पानी लाई तो पानी लेते समय मैंने उसके हाथ को टच कर लिया लेकिन उसने कुछ नहीं कहा.

फिर उसकी मां का इलाज करके जब मैं जाने लगा तो मैंने उसे अपना मोबाइल नंबर दे दिया और कहा कि कोई जरूरत हो तो फ़ोन कर लेना. कुछ दिन बीतने के बाद पूजा ने मुझे फोन किया और कहा कि उसको कुछ दवाई चाहिए.

दोस्तों, उस समय बारिश हो रही थी, इस कारण नेटवर्क वीक था और मुझे उसकी आवाज समझ नहीं आ रही थी तो मैंने कहा कि अभी आवाज नहीं आ रही है, मैं बाद में बात करता हूं. इतना कह कर मैंने फोन काट दिया. फिर शाम के समय मैंने उसको फोन किया और उसे दवा बताया. इस दिन के बाद अब हमारी अक्सर बातें होने लगीं. शायद उसके दिल में भी मेरे लिए कुछ चलने लगा था.

ऐसे ही बात करते समय मैंने उनको एक दिन कहा कि चलो कहीं घूमने चलते हैं. वह तैयार हो गई और वो बोली कि स्कूल टाइम में ही चल सकती हूं. मुझे भला क्या ऐतराज था. मैंने कहा ठीक है. फिर अगले दिन वह स्कूल ड्रेस पहनकर घर से निकली और अपने सहेली के घर जाकर सलवार सूट पहन लिया.

अब मैंने सोचा कि कह तो दिया लेकिन अब उसे लेकर कहां जाऊं? फिर मैंने एक दोस्त को फोन किया. मेरे उस दोस्त का नाम विक्की है, जो गांव से 30 किलोमीटर दूर शहर में रहता है. मैंने विक्की से कहा कि मुझे दो घंटे के लिए तुम्हारा कमरा चाहिए तो उसने हां कर दी. फिर मैं पूजा को लेकर विक्की के शहर वाले घर चला गया.

दोस्तों, वहां एक ही कमरा था. हम लोग अंदर चले गए और हमारे अंदर जाने के बाद विक्की दरवाजा बंद कर बाहर से ताला लगा लिया और मार्केट चला गया. दोस्तों, अब मैं आप लोगों को पूजा के बारे में बता देता हूं. वह एक दम गोरे बदन वाली लड़की है. इतनी कि कहीं हाथ लगाओ तो लाल हो जाए. बॉडी भी काफी स्लिम है और उसकी हाइट पांच फिट 3 इंच है.

विक्की के जाने के बाद हम दोनों उसके बिस्तर पर बैठ कर बात करने लगे. बातों के बीच में मैंने पूजा को किस किया फिर धीरे – धीरे उसके बालों को सहलाने लगा. इससे उसकी आंख बंद होने लगी. फिर मैं अपना हाथ उसके स्तन पर ले गया लेकिन उसने बिना कुछ कहे हाथ हटा दिया.

हालांकि उसके मुंह से लगातार सिसकियां निकल रही थीं. फिर मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके सलवार का नाड़ा खोलने लगा. दोस्तों, वो बहुत ही ज्यादा शरमा रही थी और इसी वजह से अपना हाथ आंख पर रख के दोनों आंखें बंद कर ली.

फिर मैंने उसके सलवार और सूट को खोल दिया. अब वह केवल ब्रा और पैंटी में थी. फिर मैंने उसकी ब्रा के हुक खोल कर उसको भी खींच के उतार दिया. क्या मस्त स्तन थे उसके! हल्के भूरे रंग के और उनका साइज लगभग बत्तीस का रहा होगा.

उसके स्तन नंगे करने के बाद मैंने उन्हें हल्के – हल्के दबाना और सहलाना शुरू कर दिया. उसके स्तन काफी टाइट थे और मेरे सहलाने की वजह से उसके निप्पल भी एक दम टाइट हो गए.

फिर मैं उसके गर्दन के पास किस करने लगा. मेरे ऐसा करने से वह एक दम मस्त हो गई. अभी तक किसी ने भी उसे नहीं छुआ था. फिर मैंने उसकी पैंटी को भी खींच कर उतार दिया. अब वह मेरे सामने पूरी नंगी पड़ी थी. उसकी चूत पर हल्के भूरे रंग के छोटे – छोटे बाल थे. वह इतनी शरमा रही थी कि नंगी होते ही बेड पर पड़ी चादर को अपनी तरफ खींचने लिया और खुद को ढक लिया.

उसको देख के अब तक मेरा भी लंड खड़ा हो गया था. इसी बीच मैंने मोबाइल पर एक ब्लू फिल्म चालू किया और फ़ोन उसे दे दिया. जिसे वह देखने लगी. उधर वह बीएफ देखने में मस्त थी और इधर मैंने एक – एक करके अपने कपड़े उतार दिए. अब मेरे बदन पर बस एक अंडर वियर बचा था. इसके बाद फिर मैं भी उसी चादर के अंदर घुस गया.

तब उसने मुझसे कहा कि पहले लाइट तो बन्द कर दो. दोस्तों, वह सच में बहुत शरमा रही थी. फिर मैंने लाइट बन्द कर दिया. लेकिन अभी भी खिड़की की तरफ से रोशनी आ रही थी.

इसके बाद मैंने चादर हटाया और अपना लंड उसके हाथ में दे दिया. अब उसने मेरे लंड को हाथ से हिलाना शुरू कर दिया. साथ ही मैं उसके निप्पल को चूसने लगा. अब वह बहुत उत्तेजित हो गई थी.

फिर थोड़ी देर बाद मैंने अपना लंड उसके होंठों पर रख दिया. लेकिन उसने उसे अंदर लेने से मना कर दिया. लेकिन फिर जब मैंने कई बार कहा तो वह मान गई. अब वह मेरा लंड चूसने लगी थी. फिर मैं भी 69 की पोजीशन में आ गया और उसकी चूत को जीभ से सहलाने लगा.

जीभ के उसकी चूत में अंदर – बाहर होने की वजह से उत्तेजनावश उसने मेरा लंड छोड़ दिया और अपने कूल्हे को ऊपर उठाने लगी. उसके लंड छोड़ने के बाद भी मैंने अपना काम जारी रखा. थोड़ी देर बाद उसका शरीर अकड़ने लगा और वह मेरा सिर पकड़ कर अपनी चूत में दबाने लगी. और फिर थोड़ी देर बाद झड़ गई. उसके चूत से बहुत सारा पानी निकला, जिसे मैं पी गया.

फिर मैं सीधा हुआ और उसके ऊपर आ गया. इसके बाद मैं उसके स्तनों हाथ में लेकर सहलाने लगा. मेरे ऐसा करने से वह फिर उत्तेजित हो गई और सिसकियां लेने लगी.

तब मैंने उसकी दोनों टांगों को ऊपर उठाया और चूतड़ के नीचे तकिया लगा दिया. इसके बाद उसकी चूत को थोड़ा फैला कर अपना लंड उसकी चूत के ऊपर रख दिया और अगले ही पल एक धक्का लगा दिया. धक्के के साथ ही उसके मुंह से जोर की एक आवाज आई, ‘उई मां, मर गई…’ और इतना बोल कर वह मेरा लंड को हटाने की कोशिश करने लगी साथ ही कहने लगी कि नहीं आज मत करो और कभी कर लेना.

इस पर मैंने कहा कि बस शुरू में थोड़ा सा दर्द होगा लेकिन बाद में मज़ा आएगा. इसके बाद मैं कुछ देर उसे यहां – वहां सहलाता रहा और थोड़ी देर बाद फिर एक और धक्का लगा दिया. इस धक्के की वजह से उसकी आंख से आंसू निकल आए और साथ में चूत से खून भी निकलने लगा. उसकी सील भंग हो चुकी थी.

अब मैं धीरे – धीरे लंड अंदर – बाहर करने लगा. थोड़ी देर बाद अब उसे भी मजा आने लगा और वह मादक आवाजें निकालती हुई चुद रही थी. मैं करीब आधे घंटे तक उसकी चुदाई की और फिर मैंने उसकी चूत में ही अपना माल छोड़ दिया. इस दरमियान वो 3 बार झदा चुकी थी. फिर उस दिन हम लोगों ने दो और बार सेक्स किया. चादर में खून ही खून हो गया था. फिर चुदाई के बाद उसने चादर को धोकर सूखा दिया.

उसको स्कूल की छुट्टी वाले टाइम तक घर भी पहुंचना था. इसलिए मैंने अपने दोस्त को फोन किया तो उसने आकर ताला खोला और हम लोग बाहर आ गए. उसके बाद तो अब जब भी हमें मौका मिलता है, हम चुदाई करते हैं. मौका मिलने पर उसके घर में भी चुदाई कर लेते थे.

अब उसकी शादी हो चुकी है और उसकी शादी वाले दिन भी मैंने जम कर उनकी चुदाई की थी. अब जब कभी भी वह मायके आती है तो हम चुदाई जरूर करते हैं. उसे मुझसे एक बच्चा भी हो गया है.

दोस्तों, उसके बाद मैंने और एक लड़की की सील तोड़ी और साथ में कई भाभियों के साथ भी सेक्स किया लेकिन वो सब कहानियां फिर कभी बताऊंगा. मेरी ज़िंदगी का यह सेक्स आपको कैसा लगा मुझे मेल करके जरूर बताएं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *