घर आकर दोस्त की बहन खुद चुदी

अब उसकी सिसकियां और तेज हो गयी थीं. वो पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी. अब मैंने उसे लेटा दिया और उसके टांगों के बीच में आ गया और उसकी चूट को चाटने लगा. अब वो तड़पने लगी और मेरा सर अपनी चूत में दबाने लगी. फिर कुछ देर बाद वो झड़ गयी…

अन्तर्वासना के सभी प्यारे दोस्तों को मेरा नमस्कार! दोस्तों, मेरा नाम बादशाह है और अन्तर्वासना पर यह यह मेरी पहली कहानी है. कहानी शुरू करने से पहले मैं आप सब को अपने बारे में थोड़ा बता देना चाहता हूँ. मेरी लम्बाई 6 फिट और 2 इंच है और मैं दिखने में भी हट्टा – कट्टा हूँ. कुल मिलाकर मैं बहुत स्मार्ट हूँ और लड़कियां तो मुझसे दोस्ती करने के लिए मरती हैं.

अब मैं अपनी कहानी पर आता हूँ. बात आज से करीब एक साल पहले की है. मेरे पड़ोस में एक पंजाबी लड़की रहती थी. उसका नाम पूजा है और वो मेरे दोस्त की बहन है. चूंकि उसका भाई मेरा दोस्त है तो हमारा एक – दूसरे के घर आना – जाना लगा रहता है.

उसकी लंबाई करीब 5 फिट और 8 इंच की है और दिखने में बहुत खूबसूरत है. एक दम जबरदस्त माल! मेरी यह कहानी तब शुरू हुई, जब मेरे दोस्त ने मुझे अपने घर बुलाया.

जब मैं उसके घर गया तो उसने कहा कि उसका कम्प्यूटर कुछ गड़बड़ कर रहा है तो फिर मैंने उसका कम्प्यूटर ठीक कर दिया. अगले दिन मैं अपने कमरे में बैठ कर अपने लैपटॉप पर ब्लू फिल्म देख रहा था कि तभी पूजा घर आई और सीधे मेरे कमरे में आ गई और आकर एक दम से मेरे पास बैठ गई.

फिर जब उसने लैपटॉप की तरफ़ देखा तो शरमा कर के जाने लगी और जाते – जाते बोली कि मम्मी ने खीर भेजा है. उसको देख कर मैं भी घबरा गया था. मुझे लगा कि कहीं यह किसी को बता न दे, लेकिन फिर मैंने उससे कोई बात नहीं की. फिर 2 – 3 दिन बाद वो मेरे घर कुछ काम से आयी. उस दिन मैं घर पर बैठा टीवी देख रहा था. वो फिर आकर मेरे पास बैठ गई और सॉरी कहने लगी.

अब मैंने पूछा, “ये सॉरी किस लिए?”

तो वो बोली, “उस दिन तुम्हारे कमरे में बिना दरवाजा नॉक किए अंदर घुस गई थी इसलिए.” फिर थोड़ा रुक कर वो बोली, “अच्छा, एक बात पूंछू?”

अब मुझे कुछ राहत सी मिली तो मैंने कहा, “हां, हां, पूछो.”

तो वो बोली, “उस वीडियो वाली लड़की के बूब्स इतने बड़े कैसे हुए? और वो उस लड़के का भी काफ़ी बड़ा था. कैसे?”

अब तो मैं एक दम खुश सा हो गया. मुझे लगा कि ये तो जाल में फंस सकती है तो मैंने अपना तीर चला दिया. मैं बोला, “अपने बूब्स किसी लड़के से दबवाओ तो बड़ा हो जाएगा और लड़के जब अपना लंड लड़कियों से चुसवाते हैं तो उनका लंड बड़ा हो जाता है.

यह सुन कर वो उठ कर चली गयी. अगले दिन सुबह मेरे घर वालों को किसी रिश्तेदार के यहां किसी फंक्शन में जाना था. वे सब एक हफ़्ते बाद लौटने वाले था. तो मेरी मम्मी ने पूजा की मम्मी को बोल रखा था. अब तो मेरा खाना उनके घर होना था.

सबके जाने के बाद मैं टीवी देखने लगा. इतने में पुजा आई और कहने लगी कि क्या तुम मेरी हेल्प करोगे? तो मैंने पूछा क्या हुआ? क्या हेल्प करनी है? तो वो बोली कि मेरे बूब्स दबाओ. यह सुन कर मैं मन ही मन बहुत खुश हुआ. मैंने कहा, ‘कोई आ जयेगा तो?”

इस पर वो कहने लगी कि उसके घर वाले गुरुद्वारा गये हैं और अब शाम को ही लौटेंगे. इतना कहते हुए उसने मेरा हाथ अपने बूब्स पर रख दिया. फिर मैंने धीरे – धीरे उसके बूब्स को मसलना शुरू किया. अब वो गर्म होने लगी और सिसकियां लेने लगी.

फिर मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दिया और धीरे से उसकी ब्रा भी खोल दी. अब मैं उसके होंठों को चूमने लगा और उसके बूब्स दबाने लगा. तभी मैंने अपना एक हाथ ले जाकर उसकी चूत पर रख दिया और धीरे – धीरे उसकी चूत को सहलाने लगा.

अब उसकी सिसकियां और तेज हो गयी थीं. वो पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी. अब मैंने उसे लेटा दिया और उसके टांगों के बीच में आ गया और उसकी चूट को चाटने लगा. अब वो तड़पने लगी और मेरा सर अपनी चूत में दबाने लगी. फिर कुछ देर बाद वो झड़ गयी.

फिर मैंने उससे कहा कि अब मेरा लंड चूसो. यह सुनते ही उसने जैसे ही मेरा पैंट खोला तो मेरा 8 इंच लंबा और तीन इंच मोटा लंड उछल कर उसके सामने आ गया. फिर उसने मेरे लंड को चूसना शुरू कर दिया.

कुछ देर तक लन्ड चुसवाने के बाद मैंने उसे लेटा दिया और उसके ऊपर आ गया और उसे किस करने लगा. फिर मैंने अपने लंड को उसके चूत पर टिकाया और जोर का एक झटका मारा. इस झटके के साथ मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया. उसे बहुत दर्द हुआ और उसकी चीख निकल गई.

लेकिन मैंने उसके मुंह पर अपना मुंह रखा हुआ था, इसलिए ज्यादा तेज आवाज़ बाहर नहींआयी. फिर जब वो थोड़ी शान्त हुई, तो मैंने फिर से एक झटका मारा और मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में समा गया. एक बार फिर से उसकी चीख निकल गई.

अब मेरी नज़र उसकी चूत की तरफ गई. मैंने देखा कि उसकी चूत से खून आ रह था. यह उसकी पहली चुदाई थी और मेरे धक्कों से उसकी सील टूट चुकी थी. अब मैं करीब 5 मिनट तक वैसे ही रुका रहा. फिर जब उसका कुछ दर्द कम हुआ तो मैंने धक्के मारना शुरू किया.

अब वो भी मज़ा लेने लगी और खूब सेक्सी आवाजें निकालने लगी. करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद जब मैं झड़ने वाला था तो मैंने अपना लंड बाहर निकाला और लन्ड उसके मुंह में डाल कर अपना सारा माल उसके मुंह में गिरा दिया और उसने मेरा सारा का सारा माल पी लिया.

उस दिन हमने एक बाए फिर से सेक्स किया. अब तो हमें जब मौका मिलता है, हम सेक्स कर लेते हैं. दोस्तों, आपको मेरी यह पहली कहानी कैसी लगी? मुझे मेल करके जरूर बताना. मेरी मेल आईडी – [email protected]

“घर आकर दोस्त की बहन खुद चुदी” पर एक उत्तर

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *