घर में गर्लफ्रेंड की सील तोड़ चुदाई

मेरे घर के बगल में ही मेरी कॉलेज फ्रेंड का घर था. फ्रेंड क्या वो मेरी गर्लफ्रेंड थी. एक दिन मौका पाकर मैंने उसे पकड़ लिया और घर ले जाकर जम के उसकी चुदाई की…

हेलो दोस्तों, मेरा नाम गोविंद सैनी है और मैं मेरठ का रहने वाला हूँ. ये मेरी पहली कहानी है. आशा करता हूँ कि आप सब को जरूर पसंद आएगी. मेरी उम्र 20 साल है और मैं एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता हूँ.

अब आप लोगों को ज्यादा बोर न करते हुए मैं सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ. मेरे घर के पास ही मेरी एक दोस्त रहती है. बाद में वह मेरी गर्लफ्रेंड बनी. दोस्तों, उसका नाम तसलीम है.

तसलीम अक्सर हमारे घर पर आती थी. चूंकि हम एक ही कॉलेज में पढ़ते थे इसलिए कभी – कभी कॉलेज के काम के चलते वो मेरे पास भी आती थी. तसलीम एक बहुत ही खूबसूरत लड़की है. उसके बूब्स का साइज 32 इंच है. उसके बूब्स को देख कर हर लड़के का लन्ड खड़ा हो जाता और वह उसे चोदने के लिए तड़प उठता.

दोस्तों, उसकी कमर बिलकुल सनी लियोनी के जैसी है. चूंकि हम साथ में पढ़ते हैं इसलिए कॉलेज में जब भी वह मुझे देखती हंसने लगती. इस पर मैं भी मुस्कुरा देता. कुछ दिन ऐसे ही चलता रहा.

एक दिन उसने मुझसे अपने मन की बात बोल दी. उसकी बात सुन कर मेरी तो खुशी का ठिकाना ही नहीं रहा. मैं खुशी से उछलने लगा. धीरे – धीरे तसलीम मुझसे पूरी तरह घुल – मिल गई. अब हम आपस में हर तरह की बात कर लेते थे.

एक बार मेरे मामा के यहां किसी की शादी थी. इस वजह से मेरे मम्मी – पापा वहां चले गये. यह मेरे लिए मौका था. मैं इस मौके को भुनाना चाहता था इसलिए मैंने उसे अपने घर पर बुलाया. पहले तो वह आने से मना करने लगी. हालांकि, मेरे ज्यादा जोर देने पर वह मान गई.

फिर क्या था. अब मैं पूरी तरह खुद का समय रंगीन करने के लिए तैयार था. दोपहर के करीब 2 बजे चुके थे लेकिन वह नहीं आई. कुछ देर बाद मेरे घर की घंटी बजी, इस पर मैं समझ गया कि तसलीम आ गई है. फिर मैंने दरवाजा खोला. जैसे ही दरवाजा खुला तो मेरी आंखें फटी की फटी रह गईं और मेरा लन्ड टाइट हो गया.

दोस्तों, तसलीम ने उस दिन भी रोज ही तरह टी-शर्ट औए जीन्स पहन रखा था. हालांकि, उस दिन उसके बूब्स कुछ अलग ही दिखाई दे रहे थे. मैं कुछ देर तक उसे देखता ही रह गया. फिर जब उसने मुझे झझकोरा तो मैं जगा और फिर मैंने बड़े ही प्यार से उसे अंदर बुलाया. इसके बाद फिर मैं उसे बेडरूम में ले गया और बेड पर बैठने को कहा.

फिर वो बेड पर बैठ गई. तब मैंने उससे कहा कि जान, आज तो तुम बहुत सेक्सी लग रही हो. इस पर वो मुस्कराने लगी. तब मैंने कहा कि तुम बैठो मैं तुम्हारे लिए कुछ लाता हूँ. इस पर वो मना करने लगी और बोली कि रहने दो उसकी कोई जरूरत नहीं है. लेकिन बाद में मेरे कहने पर मान गई.

फिर मैं गया और उसके लिए मैंगो जूस लेकर आया. जिसे देख कर वो हंसने लगी. तब मैंने कहा कि क्या हुआ तो वो बोली कि कुछ नहीं. दोस्तों, मेरे बेड रूम में सेक्स स्टोरीज की कुछ किताबें रखी हुईं थीं, जिन्हें शायद तसलीम ने देख लिया था.

खैर, फिर हम दोनों जूस पीने और बातें करने लगे. इसी बीच मैंने धीरे से उसकी जांघ पर हाथ फेरा तो सिहर गई और बोली – ये क्या कर रहे हो? इस पर मैंने कहा कि मज़े ले रहा हूँ. तब उसने कहा – क्या मतलब? इस पर मैंने कहा कि अभी सब बताता हूँ. इतना कह कर मैं उसके बूब्स दबाने लगा और उसके गुलाबी होंठों को अपने होंठों में जकड़ कर उनका रस पान करने लगा.

उसके बदन से बड़ी ही जबरदस्त खुशबू आ रही थी. मेरे द्वारा उसका रसास्वादन करने से वो छटपटाने लगी. फिर मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दी. उसके मस्त मम्मों को देख कर मैं अपने आप को रोक न पाया और झट से उसकी चूचियों को मुंह में लेकर चूसने लगा.

अब वो घी गर्म हो चुकी थी और मेरा साथ देने लगी थी. फिर मैंने धीरे से उसकी जीन्स का बटन खोल दिया और अपनी एक उंगली को उसकी चूत के ऊपर फेरने लगा. इससे उसके मुंह से सिसकारी निकल गई.

फिर मैंने उसकी चूचियों मो और जोर से पीना शुरू कर दिया. अब वह पूरी तरह गर्म हो चुकी थी. फिर मैंने उसकी जीन्स को उसके बदन से अलग कर दिया. अब वो मेरे सामने पूरी तरह नंगी थी.

फिर मैंने उसकी चूत को देखा तो पाया कि वो चुदने के लिए पूरी तरह तैयार होकर ही आई थी. उसकी चूत क्लीन सेव थी. यह देख कर मैं उसकी चूत पर अपनी जीभ फेरने लगा. इस पर उसने अपनी टांगें चौड़ी की और बेड पर ही लेट गई. अब मैं उसकी चूत का रस पीने लगा था.

इस वजह से उसकी चूत रसगुल्ले की तरह लाल हो गई थी और चुदने के लिए तैयार हो गई थी. अब मैंने अपना 8 इंच का लम्बा लन्ड बाहर निकाला. जिसे देख कर वह डर गई.

फिर मैंने बिना तेल के ही उसकी चूत पर अपना लन्ड सटा दिया और रगड़ने लगा. इससे उसके मुंह से सिसकी निकल रही थी. वह लगातार ‘ऊह ऊह आह आह’ की आवाज कर रही थी.

थोड़ी देर बाद वह बोली कि कितना तड़पाओगे गोविंद, बस करो. अब जल्दी से मुझे कली से फूल बना दो. यह सुनते ही मैंने अपने लन्ड पर दबाव बनाया और उसकी चूत में घुसा दिया. उसे बहुत तेज दर्द हुआ और उसके मुंह से चीख निकल गई. वह बोली – ऊई मम्मी! मर गई! हालांकि, फिर मैंने तुरंत ही उसके होंठों पर अपना होंठ रखा और चूसना चालू कर दिया. इससे उसकी आवाज दब गई.

फिर मैंने एक और धक्का दिया. इस धक्के के साथ मेरा पूरा लन्ड उसकी चूत में घुस गया. उसकी सील टूट चुकी थी. उसके होंठ मेरे होंठों की कैद में होने के कारण उसकी चीख नहीं निकल पाई. लेकिन, उसकी आंखों से आंसू निकलने लगे थे.

यह देख मैं रुक गया और उसके बूब्स दबाने लगा. साथ में धीरे – धीरे लन्ड अंदर – बाहर भी कर रहा था. कुछ देर में तसलीम नॉर्मल हुई और फिर मेरा साथ देने लगी. इस दौरान वो सीत्कारें ले रही थी और कह रही थी- और तेज़ और तेज़, फाड़ दो मेरी इस चूत को गोविंद.

मैं भी अब पूरे जोश में था और जबरदस्त तरीके से उसे चोद रहा था. थोड़ी देर बाद उसकी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया. उसके पानी के संपर्क में आने से मेरे लन्ड ने भी अपना पानी छोड़ दिया. मेरे वीर्य से उसकी चूत भर गई थी. फिर मैं उसके ऊपर ही लेट गया.

लेटने के बाद कब हमारी आंख लग गई हमें पता ही नहीं चला. शाम को 6 बजे मेरी आंख खुली तो मैंने देखा की तसलीम मेरे लन्ड को पकड़े हुए सो रही है. फिर मैंने उसे उठाया. इसके बाद हम दोनों बाथरूम गए और साथ में नहाया.

नहाने के बाद जब हम बाहर आये तो देखा कि तसलीम के मोबाइल पर उसके घर से आई मिस कॉल पड़ी थी. उसे देख कर वह अपने घर चली गई. अब हमें जब भी मौका मिलता है, हम चुदाई का खेल जरूर खेलते हैं.

आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी मुझे मेल करके जरूर बताएं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

“घर में गर्लफ्रेंड की सील तोड़ चुदाई” पर एक उत्तर

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *