घर में परी की धमाकेदार चुदाई

मैं उसके सारे बदन को चूमता – चाटता रहा और फिर जब मैं उसकी चूत की तरफ बढ़ा तो उसे देख कर लगा जैसे कि कोई सफेद गुलाब के बीच में लाल दाना रखा हो. मैं उस पर टूट पड़ा और अपनी पूरी जीभ को उसकी चूत के अंदर – बाहर करने लगा था…

हैल्लो फ्रेंड्स, मैं अमन आज फिर आप सभी के सामने अपनी एक खास स्टोरी रख कर रहा हूँ. लेकिन कहानी शुरू करने से पहले मैं बता दूँ कि मेरी उम्र 22 साल है और मैं गुजरात के जूनागढ़ का रहने वाला हूँ. मैं दिखने में एक दम हैंडसम लड़का हूँ.

अब मैं आप लोगों को ज़्यादा बोर ना करते हुए सीधा अपनी आज की स्टोरी पर आ जाता हूँ. दोस्तों यह बात दो महीने पहले की है. एक दिन मैन देखा तो मुझे एक लड़की मेल आया था.

उसने मुझे अपना नाम परी बताया. उसने बताया कि उसकी उम्र 32 साल है. इसके आगे उसने अपनी पूरी स्टोरी विस्तार से बताई. उसने लिखा था कि कैसे उसका पति उसकी इच्छा को पूरा नहीं करता है. मेल के साथ में ही उसने मुझे अपनी एक फोटो भी भेजी थी.

फोटो में वो बहुत ही सेक्सी लग रही थी! फिर मैंने उसको थोड़ा मोरली सपोर्ट किया और मेल पर ही थोड़ी चैटिंग भी की. एक वीक बाद उसने मुझे अपने घर पर बुलाया क्योंकि उसका पति दो दिन के लिए बिजनस ट्रिप पर शहर से बाहर जा रहे थे.

फिर मैंने रविवार रात की टिकट बुक करवाई और निकल पड़ा. सोमवार सुबह जब मैं उतरा तो मैंने देखा कि परी वहाँ पर अपनी कार लेकर खड़ी मेरा इंतज़ार कर रही थी. फिर हम उसके घर के लिए निकल गये. उसके घर पहुंच कर मैंने देखा कि उसका घर बहुत बड़ा था.

फिर उसने मुझसे बोला कि आप फ्रेश हो जाओ तब तक मैं आपके लिए चाय – नाश्ता का इंतजाम करती हूँ। यह सुनकर मैं पास वाले बाथरूम में चला गया और जल्दी से फ्रेश होकर बाहर आ गया. इसके बाद हमने साथ में बैठकर नाश्ता किया और फिर हम इधर – उधर की बातें करने लगे.

बातों के दौरान जैसे ही उसके पति का नाम आया वैसे ही वो एक दम से उदास सी हो गयी. जिसे मैंने महसूस किया और फिर मैं उसके करीब जाकर बैठ गया और उसके कंधों को पकड़ कर उसे समझाया कि तेरा पति तेरी कदर नहीं करता तो क्यों उसके बारे में इतना सोचती है? छोड़ दे उसे उसके हाल पर.

फिर मैं उसे हंसाने की कोशिश करने लगा. कुछ देर बाद वो हंस पड़ी और कहने लगी कि अगर आप मेरे पति होते तो आप मेरी कितनी परवाह करते और मुझे प्यार करते. यह सुन कर मैंने कहा कि अच्छा जी! वैसे तो मैं आप से बहुत छोटा हूँ, लेकिन मैं आपसे पक्का वादा करता हूँ कि मैं आपको पूरी तरह संतुष्ट करूँगा.

फिर हम उसके बेडरूम में पहुंच गये. मैंने देखा कि उसका बड़ा ही मस्त बेडरूम था. फिर उसने एसी स्टार्ट किया और बोली कि तुम यहां बैठो मैं अभी आती हूँ. इतना बोल कर वो बाथरूम में चली गई. थोड़ी देर बाद जब वह बाहर निकली तो मैं उसे देखता ही रह गया.

वो बहुत ही मस्त ड्रेस पहने हुए थी और उसके बाल खुले हुए थे. इस रूम में वो मुझे एक दम एक पारी के जैसे लग रही थी. फिर वो मेरे ऊपर कूद पड़ी और भूखी शेरनी की तरह मुझे नोचने लगी. अब मैं कहाँ पीछे रखने वाला था. मैं भी उसका साथ देते हुए उसके होंठों को चाटने और उसके बूब्स को दबाने लगा था.

उसका फिगर 36-28-38 का था. फिर उसने मेरे पूरे कपड़े उतार दिए और जैसे ही उसने मेरा 7.5 लंबा और 3 इंच मोटा गोरा लंड देखा तो वो उस पर टूट पड़ी. ऐसा लग रहा था जैसे किसी भूखे को कई महीनों के बाद खाना मिल रहा हो. वो मेरा पूरा लंड को मुंह में लेकर चूस रही थी.

उसने करीब 20 मिनट तक लगातार लंड चूसा और चूस – चूसकर उसे पूरा लाल कर दिया. फिर कुछ देर बाद मेरा वीर्य उसके मुंह में ही निकल गया. जिसे वो पूरा निगल गई. वो अब भी मेरे लन्ड को चूमती रही.

फिर मैंने उसे बेड पर धक्का दे दिया और उसे चूमने – चाटने लगा. उसके बूब्स तो तरबूज जैसे लग रहे थे. करीब 15 मिनट तक मैंने उसे चूसा. इस दौरान वो मौन थी और ‘ओह अह्ह्ह, मेरी जान मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ. अह्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह तुम बहुत अच्छे चूसते हो, हाँ और ज़ोर से दबाओ, हाँ और चूसो’ करती जा रही थी.

मैं उसके सारे बदन को चूमता – चाटता रहा और फिर जब मैं उसकी चूत की तरफ बढ़ा तो उसे देख कर लगा जैसे कि कोई सफेद गुलाब के बीच में लाल दाना रखा हो. मैं उस पर टूट पड़ा और अपनी पूरी जीभ को उसकी चूत के अंदर – बाहर करने लगा था.

करीब 5 मिनट में ही वो झड़ गई और मैं उसकी चूत से निकला पूरा नमकीन पानी गटक गया. अब वो मेरे सर पर अपना हाथ घुमा रही थी और मुझे अपनी चूत पर दबाए जा रही थी. मैंने 10 मिनट तक उसकी चूत चाटी. फिर उसने मुझे धक्का दिया और मेरे लंड को मुंह में लेकर 5 मिनट तक चूसने लगी.

फिर उसने मुंह से लंड निकाला और उस पर कंडोम लगाया. इसके बाद वह मेरे लंड पर अपनी चूत सेट करके बैठ गयी और ऊपर – नीचे होने लगी. वो मेरे लंड पर ज़ोर – ज़ोर से उछल रही थी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. फिर थोड़ी देर के बाद मैंने उसे बेड पर लेटाया और उसके ऊपर आ गया और उसके दोनों पैरों को अपने कंधे पर रखकर लंड को चूत में डाल दिया और झटके मारने लगा.

अब वो मेरी पीठ को नोच रही थी और चिल्ला रही थी, “आअहह आह, प्लीज चोदो मुझे. ज़ोर से और ज़ोर से धक्के दो, आज मेरी चूत की खुजली मिटा दो आआहह, तुम बहुत अच्छे हो मेरी जान.” फिर मैंने अपनी पोज़िशन चेंज की और साईड से एक पैर को उठाकर उसको चोदने लगा.

फिर कई जोरदार झटके मारने के बाद मैंने उसको डोगी स्टाइल में किया और पीछे से उसकी चूत में लंड डाल दिया और चोदने लगा. वो बहुत ज़ोर से चिल्ला रही थी और सिसकियाँ ले रही थी. फिर कुछ देर के बाद वो झड़ गई. अब मैंने भी अपने झटकों की स्पीड बड़ा दी और दो मिनट के बाद मैं भी झड़ गया.

फिर हम एक घंटे तक ऐसे ही एक – दूसरे की बाहों में पूरे नंगे पड़े रहे. इसके बाद हम दोनों साथ में बाथरुम गये और एक – दूसरे को गले लगाकर शॉवर के नीचे खड़े रहे. इसी दौरान मेरा लंड फिर से तन गया और फिर वो नीचे बैठकर मेरा लंड चूसने लगी.

अब मैंने उसे बाथटब में लेटा दिया और चोदने लगा. फिर चुदाई के बाद हम बेडरूम में आ गए. हम कुछ देर वहां रुके और फिर हम लंच के लिए बाहर चले गये. करीब तीन बजे हम वापस आए और फिर मैं टीवी देखने लगा.

थोड़ी देर बाद वो एक सेक्सी बेबी डॉल वाली नाईट ड्रेस पहनकर आई तो मेरे मुंह से वाह निकल गया. वो हंस पड़ी और आकर मेरी जांघ पर बैठ गयी. फिर मैंने वहीं सोफे पर उसे 20 मिनट तक चोदा.

मेरी चुदाई से बहुत खुश थी और बोल रही थी ‘आज सही मायनों में मुझे चुदाई का पूरा मज़ा मिला है, आज मैं पूरी तरह से संतुष्ट हुई हूँ. मेरा पति का लंड तो 5 इंच का है और वो दो मिनट में ही झड़ जाते हैं, तूने आज मुझे पूरा संतुष्ट किया है.” इतना बोलकर वो फिर से मेरे लंड को चूसने लगी. करीब 25 मिनट बाद मैं उसके मुंह में ही झड़ गया.

फिर वो फ्रेश होकर आई और मेरी गोद में सो गई. रात के करीब 8 बजे जब मैंने उसे उठाया तो वो बहुत देर में उठी. वो बहुत थकी हुई सी दिख रही थी. उसने कहा कि मुझे तुम्हारे लंड से चुदने के बाद थकान के साथ गहरी नींद आ गई थी, लेकिन तुम्हारे लंड में जोश बहुत है मुझे चुदाई में बहुत मज़ा आया.

फिर उसने हमारे लिए खाने का इंतजाम किया और हमने खाना खाया. इसके बाद मैंने फिर से उसे चोदा, लेकिन इस बार मैंने उसे उल्टा लेटाया और थोड़ी क्रीम उसकी गांड पर और थोड़ी मेरे लंड पर लगाई और फिर धीरे – धीरे लंड को धक्का देकर अंदर डालने लगा. उसे काफी दर्द हुआ और वो चिल्ला उठी.

काफी कोशिश करने के बाद लंड अंदर गया, लेकिन उसकी आँख से आँसू बाहर निकल पड़े थे और फिर जब मैंने एक धक्का मारा तो पूरा लंड अंदर चला गया. अब मैंने दो मिनट इंतजार किया और फिर झटके मारने लगा. अब वो भी मेरा पूरा – पूरा साथ देने लगी थी और अपनी गांड को उछाल – उछालकर चुदवाने लगी थी.

फिर करीब 10 मिनट के बाद मैंने अपना वीर्य उसकी गांड में डाल दिया और हम एक घंटे तक सोते रहे. हमें कब नींद आ गयी पता ही नहीं चला. फिर जब सुबह 7 बजे मेरी आँख खुली तो मैंने देखा कि परी मेरे लंड से खेल रही थी.

फिर उस दिन हमने तीन बार और सेक्स किया. रात को मेरी टिकट बुक थी तो हम 9 बजे घर से निकल गये और खाना खाने के बाद टिकट कन्फर्म किया और कार में बैठ गए.

रास्ते में परी ने मेरा लंड मुंह में ले लिया. चूंकि बाहर अंधेरा था, इसलिए बाहर से अंदर कुछ नहीं दिखाई दे रहा था. मेरा लंड फिर पूरा तन गया और फिर मैंने गाड़ी साइड लगाई और पीछे की सीट पर पारी को लेटाकर 10 मिनट तक चोदा. वो ज़ोर – ज़ोर से चिल्ला रही थी. इसलिए मैंने म्यूज़िक की आवाज बढ़ा दी और धक्के देकर चोदने लगा.

फिर जैसे ही मेरा वीर्य निकलने लगा मैंने लंड को जल्दी से चूत से बाहर निकाल कर उसके मुंह में डाल दिया और पूरा वीर्य उसके मुंह में निकाल दिया. फिर हम चुदाई से थककर ऐसे ही एक दूसरे से चिपककर बैठे रहे. इसके बाद जैसे ही बस आई मैंने उसे किस किया और मैं वहाँ से निकल गया.

मेरी यह कहानी आप लोगों को कैसी लगी, मुझे मेल करके जरूर बताएं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *