घर का राजा भाग – 3

यह देख मैं उन्हें ढूंढने लग गया. ढूंढते – ढूंढते मैं स्पोर्ट रूम के पास पहुंच गया और वहां देखा मोना का भाई बाहर खड़ा है और स्पोर्ट रूम का दरवाजा अंदर से बंद है. यह देख कर मुझे लगा कि मोना और उसका बॉयफ्रेंड अंदर चुदाई कर रहे होंगे. अब मैं स्पोर्ट रूम के पीछे वाली खिड़की से अंदर देखने लगा पर अंदर तो मोना और उसका बॉयफ्रेंड ही नहीं हमारे प्रिंसिपल सर भी थे और वो भी नग्न अवस्था में…

इस कहानी का पिछला भाग – घर का राजा भाग – 1

इस कहानी में अभी तक अपने पढ़ा कि खाली पड़े एक स्टोर हाउस में जब मैं अपनी गेंद लेने गया तो वहां पर अपने स्कूल की उसके भाई और बॉयफ्रेंड द्वारा हो रही जबरदस्त चुदाई देखी. उसके बाद मैं घर आ गया और चुदाई के सपने देखने लगा. अब आगे…

दूसरे दिन सबेरे – सबेरे ही मैं स्कूल चला गया. मेरा स्कूल सुबह 7 से 11:30 तक होता है. आज हमें हमारी क्लास टेस्ट के रिजल्ट मिले थे. गणित में मुझे सब से ज्यादा मार्क्स मिले थे. थोड़ी देर बाद लंच ब्रेक हुआ तो मैं बाहर ग्राउंड में खेलने लगा तभी हमारे गणित विषय की शिक्षिका ने मुझे बुलाया.

जब मैं उनके पास गया तो वो बोलीं – अवि बेटा, तुम्हारे मार्क तो अच्छे हैं.

मैं बोला – हां मैम, अच्छे हैं. सब आप की वजह से ही हुआ है.

तो मैडम बोली – इस में मेंने क्या किया? ये तो तुम्हारी मेहनत का फल है.

मैं बोला – मैम, जब पुराने सर थे तो मुझे गणित से डर लगता था पर आप जितना अच्छे और सिंपल तरीके से पढ़ाती हो, उससे मुझे सब समझ में आ जाता है.

मैडम – ऐसा कुछ नहीं है, हर टीचर के पढ़ाने का तरीका अलग होता है. किसी को मेरा पढ़ाना अच्छा लगता है और किसी को पुराने सर का.

मैं – फिर भी आप के वजह से मुझे मार्क्स मिले हैं.

मैडम – मेरी ज्यादा तारीफ़ मत करो. मैं तो सिर्फ 6 महीनों के लिए ही तुम्हारे स्कूल में पढ़ाने आई हूँ और अब तो सिर्फ 1 महीना ही बाकी है. फिर मैं चली जाउंगी और तुम्हें फिर से पुराने सर ही पढ़ायेंगे.

मैं – लेकिन मैम आप हमेशा के लिए हमारे स्कूल में क्यों नहीं पढ़ाती हो?

मैडम – नहीं अवि, मुझे वापस अपने स्कूल जाना होगा. ये तो कुछ एक्सपेरिमेंट करने के वजह से मैं इस स्कूल में और तुम्हारे सर मेरे स्कूल में पढ़ा रहे हैं. हम ये चेक कर रहे हैं कि शहर और गांव में पढ़ाने के तरीके में और हमारी कैपेसिटी में कुछ बदलाव आता है या नहीं या फिर हम जिस तरीके से पढ़ा रहे हैं वही तरीका ठीक है. हमारे इस ट्रांसफर एक्सपेरिमेंट से दोनों का ही फायदा है. जहां स्टूडेंट को नया टीचर मिल रहा है वहीं हमें नए परिवेश के स्टूडेंट को पढ़ाने का अनुभव होगा.

मैं – तो फिर आप चली जाएंगी?

मैडम – हां, जाना तो पड़ेगा ही. वैसे भी मैं यहां पर अकेली हूँ, मेरे पति और बच्चे तो शहर में हैं ऐसे में मुझे तो जाना ही पड़ेगा.

मैं – मैम, आप हमेशा मेरी बेस्ट टीचर रहेंगी.

मैडम – अच्छा अब ये सब छोड़ो, मुझे प्रिंसीपल ने कहा है कि अगर तुम अच्छे से मेहनत करोगे तो तुम गणित में टॉप कर सकते हो.

मैं – मैम, मैं तो पूरी मेहनत कर रहा हूँ.

मैडम – अरे ऐसा नहीं है. तुम्हें और ज्यादा पढ़ना पडेगा और ज्यादा प्रैक्टिस करनी पड़ेगी.

मैं – ठीक है मैम, मैं पूरी मेहनत करूँगा.

मैडम – प्रिंसीपल सर ने मुझसे कहा है कि मैं तुम्हें स्कूल के बाद भी पढ़ाया करूं. क्या तुम पढ़ने को तैयार हो?

मैं – हां क्यों नहीं मैम. अब से मैं दोपहर में आपके घर आ जाऊंगा.

मैडम – हां ये ठीक है, तुम मेरे घर ही आ जाया करो. वैसे प्रिंसिपल सर तो कह रहे थे कि स्कूल में ही पढ़ाना पड़ेगा पर में सर को समझा दूंगी. आज 3 बजे आ जाना और हां साथ में बाकी विषय की भी तैयारी ठीक से करना.

मैं – ठीक है मैम, मैं आ जाऊंगा.

मैडम – चलो लंच ब्रेक अब खत्म हो गया है, चलो जाओ अब अपनी क्लास में.

मैं – ठीक है मैम.

अंदर क्लास में आते ही मैं मोना के बारे में सोचने लगा. कितने गोरे दूध थे मोना के, बिना कपड़ों के वह कितनी अच्छी दिख रही थी! मैं इसी सपने में खोया था कि तभी पता चला आज हिस्ट्री के टीचर नहीं आये हैं. इसलिए हमें बाहर ग्राउंड पर खेलने भेज दिया गया. ग्राउंड पर 12वीं क्लास के भी स्टूडेंट खेल रहे थे. अब हम भी खेलने लगे. वहां पर 12वीं की पूरी क्लास थी लेकिन मुझे मोना और उसका बॉयफ्रेंड कहीं भी नहीं दिख रहे थे.

यह देख मैं उन्हें ढूंढने लग गया. ढूंढते – ढूंढते मैं स्पोर्ट रूम के पास पहुंच गया और वहां देखा मोना का भाई बाहर खड़ा है और स्पोर्ट रूम का दरवाजा अंदर से बंद है. यह देख कर मुझे लगा कि मोना और उसका बॉयफ्रेंड अंदर चुदाई कर रहे होंगे. अब मैं स्पोर्ट रूम के पीछे वाली खिड़की से अंदर देखने लगा पर अंदर तो मोना और उसका बॉयफ्रेंड ही नहीं हमारे प्रिंसिपल सर भी थे और वो भी नग्न अवस्था में.

मोना बोल रही थी – सर, जल्दी से मेरी चुदाई करो ज्यादा टाइम नहीं है.

सर – चुप कर साली कुत्ती, पहले चुपचाप मेरा लंड चूस.

बॉयफ्रेंड – मोना चूस न जल्दी, क्यों नाटक कर रही हो?

मोना – हां, कर तो रही हूँ.

सर – चल छोड़ वो सब. चल अब जल्दी से कुत्ती की तरह बैठ जा.

यह सुनते ही मोना झट से कुतिया की तरह बैठ गई और फिर बोली – ये लो सर, बन गई मैं आप की कुतिया.

सर – हां, अब ठीक है. अब देख तेरा कुता कैसे तुझे ठोकता है और फिर इसी के साथ सर ने अपना लंड मोना की चूत में डाल दिया और धक्के लगाने लगे.

करीब 10 मिनट के बाद उनकी चुदाई खत्म हो गई. तो मोना के बॉयफ्रेंड ने कहा – सर, अब तो हम पास हो जाएंगे न?

मोना भी उसकी तरफदारी करते हुए बोली – हां, सर अब तो इन्हें पास कर दो.

सर – ठीक है, तेरी चुदाई का फल तो तुझे मिलेगा ही. जा तेरे भाई और तेरे बॉयफ्रेंड को पास कर दूंगा.

बॉयफ्रेंड – थैंक्स सर.

मोना – चलो अब कपड़े पहनने दो.

सर – हां चलो बहुत देर हो गई है. अब मैं चलता हूँ नहीं तो लोगों को शक हो जाएगा.,

सर के रूम से बाहर जाने के बाद मोना का भाई अंदर आ गया. उसके आते ही मोना ने कहा, ‘चलो अब तुम्हारा काम हो गया’. यह सुन कर मोना का भाई बोला – अभी कहां हुआ हमारा काम? अभी तो हमें भी तेरी चुदाई करनी है.

बॉयफ्रेंड – हां यार, सर की चुदाई देख कर मैं भी गर्म हो गया हूँ.

उनकी बात सुन कर मोना बोली – नहीं अभी नहीं, शाम को स्टोर हॉउस में करना.

बॉयफ्रेंड – पर यहां क्यों नहीं?

मोना – यहां पर रिस्क है, समझा करो मेरे साजन.

बॉयफ्रेंड – चलो अच्छा ठीक है.

मोना का भाई – हां चलो अभी.

फिर तीनों स्पोर्ट रूम से चले गए. मैं भी मोना और सर की चुदाई देख कर खुश हो गया और अपना बैग उठाकर अपने घर चला गया.

इस कहानी का अगला भाग – घर का राजा भाग – 4

तो दोस्तों मेरी इस कहानी को पढ़कर कैसा लगा. आप आप मुझे जरूर मेल करें. मुझे पता है कि आप सब गर्म हो गये हो और अपने लंड को हिलाकर शांत कर रहे हो और मेरी गर्म प्यासी आंटियां, भाभियां और लड़कियां तो मस्त हो रही हैं और अपने चूत में उंगली डाल कर जल्दी – जल्दी चला रही हैं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *