गर्लफ्रेंड के सहेलियों की प्यास बुझाई- भाग१

अपनी गर्लफ्रेंड की चूत चोद कर तो मै वैसे ही काफी संतुष्ट था. लेकिन जब मटन चिकन के साथ बिरियानी फ्री हो तो कौन मना करता है. पायल भी एक जाएकेदार बिरियानी ही थी. लेकिन ये तो सिर्फ शुरुवात थी एक हसीं सफर की…….

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा प्रणाम। सबसे पहले में अपना परिचय दे दूँ। दोस्तों! मेरा नाम अमन है और में बिहार के खगरिया में रहता हूँ। मै अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ। यह मेरी पहली कहानी है। मेरी हाइट 6 फ़ीट है। दिखने में एकदम गोरा, भरा- पूरा बदन, किसी भी लड़की या आंटी को इम्प्रेस करने के लिए चेहरे पर मेरी मुस्कान ही काफी है।

मेरे लौड़ा का साइज़ करीब 8″ लंबा और 2.5″ मोटा है। मेरी एक गर्लफ्रेंड है जिसका नाम अंजली (बदला हुआ नाम)है। वो मेरे घर के पास की ही है। वो भी दिखने में काफी सुंदर है और उसका फिगर 32-28-33 का होगा। हम लोग जब भी मौका मिलता तो चुदाई करते। हम लोग अक्सर उसके घर पर या सागरमल चौक के पास होटल जीवन श्री में ही सेक्स करते थे।

एक दिन की बात है, अंजली का फ़ोन आया कि परिवार के सभी लोग शादी में बाहर जा रहे हैं। इसलिए दोपहर में उसके घर आ जाऊं। दोपहर में जब ये पूछने के लिए उसका फ़ोन आया कि “मैं कहा हूँ?” तो मैंने बोला की “मै उसके घर के बाहर ही हूँ।”

अंजली झट से आई और दरवाजा खोलकर मुझे सीधा अपने बेडरूम में ले गई। घर पर कोई न था। सभी जा चुके थे। बेडरूम में पहुँचते ही हम एक दूसरे को चूमने लगे और धीरे धीरे हम लोग निर्बस्त्र होने लगे। मै कभी उसको चूमता तो कभी उसके स्तन को पीने लगता। धीरे- धीरे मै उसकी चूत पर पंहुचा। ऊपर से मैंने महसूस किया कि उसकी पैंटी गीली हो गई है और शायद आज ही अपने बालो को साफ़ किया हो।

मैंने उसकी पैंटी उतारी और उसने भी मुझे पूरा नंगा कर दिया। मैं अब उसकी चूत को चाट रहा था और वो आहें भर रही थी। उसके मुँह से तरह- तरह की आवाज़ निकल रही थी। कुछ समय बाद उसका बदन अकड़ने लगा। लेकिन इसी बीच मुझे महसूस हुआ कि कोई हमे देख रहा है। जैसे ही मैने पीछे मुड़कर देखा, मेरे होश ही उड़ गए।

वहाँ पर हमलोगो के अलावा हमारे घर के पास की ही एक लड़की जिसका नाम पायल था, वो खड़ी होकर हमें देख रही थी। वो अपनी चूत को सहला रही थी। यूँ अचानक उसे देखकर मेरा लौड़ा जो अपने पुरे आवेश पर था वो अब सिकुड़ने लगा था। इस बात को देखकर, मैंने अपनी गर्लफ्रेंड से पूछा तो उसने मुझे बताया की उसका कोई बॉयफ्रेंड नहीं है और वह मुझसे चुदना चाहती है।

दोस्तों दिखने में तो वो भी एकदम पटाखा लग रही थी। मै बता नहीं सकता उसका फिगर करीब 34-32-36 होगा। पर दोस्तों मुझे जरा भी उसको चोदने का मन नहीं था। मै उठकर अपने कपड़े पहनने लगा था। जब मै जाने को हुआ, तब अंजली ने मुझे रोकते हुऐ कहा की मै पायल के साथ एक बार सैक्स करूँ। मुझे ये समझ नहीं आ रहा था कि अंजली कैसे इन सब के लिए तैयार ही गई। ख़ैर उनके बहुत मनाने के बाद मै मान गया पर पायल से वायदा लिया की बस एक बार! उसके बाद वो कभी भी मुझे सैक्स के लिए नहीं बोलेगी।

मेरे हाँ कहने के बाद, सबसे पहले अंजली जो पहले से ही नंगी थी और अपने चरम पर मैंने उसको छोड़ दिया था, अब वो मुझे नंगी करने लगी। फिर मेरे लण्ड को मुँह में लेकर चूसने लगी। इसी बीच मे पायल भी हमारे साथ आ गई। अंजली ने उसे मेरा लंड चूसने को कहा। अब पायल मेरे लण्ड को गपागप चूसने लगी। मै नया अनुभव महसूस कर रहा था।

अब मै अंजली को लिटाकर, पहले उसके मम्मे को पिया फिर उसकी चूत को रगड़ने लगा। अब वो मेरा लण्ड मांगने लगी। मैने पायल को हटाया और अपना लण्ड अंजली की चूत में डाल दिया। पायल के वहाँ होने के कारण मेरी उत्तेजना और बढ़ गयी थी और अंजली ने भी अपनी कमर उठाकर मेरे हर शॉट का जबाब देना शुरू कर दिया। इधर मै पायल को अपनी बाँहो में लेकर उसके टॉप के ऊपर से ही उसके मम्मे को सहलाने लगा।

तब तक अंजली भी अकड़ कर पानी छोड़ दी। मुझे लगा की आज उसने कुछ ज्यादा ही पानी छोड़ा था। अब वो बगल होकर लेट गई और मुझे और पायल को एन्जॉय करने के लिए बोला। अब मैंने पायल के टॉप को उतार दिया। क्या बताऊं दोस्तों! उसने काले कलर की ब्रा पहनी थी। उसमे उसके एकदम उजले मम्मे मै बता नहीं सकता। फिर मैंने उसकी ब्रा को भी उतार दिया और उसके स्तन को पीने लगा।

जैसे ही मैंने उसके स्तन को दबाया, वो पागल सी होने लगी और जोर- जोर से मादक आवाजें निकालने लगी। फिर धीरे से मैंने उसकी जीन्स को उतार दिया। जैसे ही मेरी नज़र मेरी उसकी पैन्टी पर पड़ी तो देखा कि वो भींगी हुई थी। मै पैन्टी के ऊपर से ही उसके चूत को सहलाने लगा। अब मैंने उसकी पैंटी को उतार दिया।

अब जो मैंने देखा उसे देखकर मेरे होश ही उड़ गए। उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं थे। शायद उसने आज ही शेव किया था। आज शायद पहली बार मै अपनी अंजली के अलावे और किसी लड़की को नंगी देख रहा था। लेकिन पायल की चूत अंजली से छोटी थी और प्यारी भी। जैसे ही मैंने अपना मुँह पायल की चूत पर लगाया।

उसने अपने पैर से मुझे क़ैद कर लिया और अपने मुह से तरह- तरह की आवाजें निकालने लगी। उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया। फिर हम 69 की पोजीशन में आ गए। अब उसकी चूत फिर से गीली हो गई। तब मैंने पायल को सीधा लिटाकर उसकी कमर के नीचे तकिया लगाया और जैसे ही मै क्रीम खोजता उतने में ही अंजली जो इतनी देरी से हमें देख रही थी उसने क्रीम बढ़ा दिया और खुद पायल के स्तन को पिने लगी।

अब मैंने पायल की चूत पे बहुत सारा क्रीम लगाया और अंजली को इशारा किया की मै तैयार हूँ, तो उसने मुझे बोला की मै डाल दूँ। अब मैंने अपने लण्ड को सेट किया और अंजली को हटाकर पायल पे चढ़ गया और धीरे- धीरे लंड ठेलने लगा। मुझे महसूस हुआ की लंड उसकी चूत के मुह के अंदर फंस चूका है और पायल कसमसाने लगी। पर इतने में मैंने एक तेज़ शॉट मारा पर पायल बर्दाश्त न कर सकी और वो मुझे आपने ऊपर से हटाने लगी और रोने लगी।

पर उसने मुझे हटने के लिए नहीं बोला। मेरा आधा से अधिक लण्ड अन्दर जा चुका था। मै कुछ देर यूँ ही लेटा रहा। जब पायल का दर्द कम हुआ तो वो हिलने लगी। मैंने भी धीरे- धीरे हिलना शुरू कर दिया और जब वो सेट हो गई तब मैंने एक जोर का शॉट मारा और मेरा लण्ड उसकी चूत मैं समा गया। जब मुझे लंड पर चिकना सा महसूस हुआ तब मैंने नीचे देखा तो बेड पर खून लगा था।

अब पायल ने हिलना शुरू कर दिया था। उसकी चूत में कसाव बहुत था शायद नई होने के कारण ऐसा था। अब चुदाई अपने चरम पर थी। मैंने भी तेज़ झटके मारना शुरू कर दिया। अब तक वो 3 बार झड़ चुकी थी। जब मेरा होने को हुआ तो मै और पायल साथ में झड़े। वो हांफने लगी और थक भी गई थी। मैं भी थक गया था।

जब मैंने और अंजली ने पायल की चूत को देखा तो उसकी चूत सूज कर फूल गयी थी, जिसमें से मेरा रस रह-रह कर रिस रहा था। थकावट की वजह से में और पायल बाँहों में बाहें डाले सो गये।

तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी। और आगे क्या हुआ ये फिर कभी लिखूंगा।

[email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *