गर्लफ़्रेंड को पहली बार शिमला में चोदा

कंप्यूटर सेंटर से हमारी बात शुरू हुई और जल्दी ही किस तक पहुंच गई. हमारी तड़प हमें शिमला तक ले गई लेकिन वहां वह चुदाई के लिए तैयार नहीं थी. फिर कैसे मैंने उसे चुदाई के लिए तैयार किया पढें मेरी इस कहानी में…

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम रॉकी है और मैं पटियाला का रहने वाला हूँ. अन्तर्वासना पर मैंने बहुत सी कहानियां पढ़ी हैं. काफी कहानियां पढ़ने के बाद मुझे मेरे पहले प्यार की याद सताने लगती है. दोस्तों, पहला प्यार कोई भी इंसान कभी भी नहीं भूल पाता. वैसे ही मैं भी नहीं भूल पाया.

दोस्तों, अब मैं अपनी कहानी पर आता हूँ. मेरी उम्र 28 साल है. बात आज से करीब 4 साल पहले की है. उस समय एक कंप्यूटर सेंटर पर मेरी मुलाकात एक एक लड़की से हुई. पहली बार में ही मैं उसे दिल दे बैठा. हम धीरे – धीरे बात करने लगे.

कई बार वो मेरे साथ आकर बैठ जाती थी. उसके साथ बैठने भर से मेरा हाल इतना बुरा हो जाता था कि रात भर उसकी ही याद सताती थी.

एक दिन मैंने उसे मूवी देखने के लिए कहा और वो मान गई. हम मूवी देखने के लिए एक माल में गए. पहली बार मैंने उसे वहीं किस किया. इस तरह हमारी नज़दीकियां बढ़ती गईं.

फिर हम कई बार मिले. हम कभी कार में, कभी माल में तो कभी रेस्टोरेंट में मिलते बात करते और मौका मिलने पर किस भी करते थे. लेकिन हमारी बात किस से आगे बढ़ ही नहीं पाती.

एक दिन मैं उससे मज़ाक में शिमला चलने को कहा और उसने तुरन्त ही हां कर दिया. हमारा प्लान शनिवार की बनाया. उस दिन हम शिमला के लिए मेरी कार से निकल पड़े. शाम होते – होते हम शिमला पहुंच गए. वहां पहुंच कर हमने एक रूम बुक करवाया और फिर माल रोड घूमने निकल गए.

वहां का मौसम बहुत ठंडा था और हम अपने साथ गर्म कपड़े भी नहीं ले गए थे. फिर मैंने वहां से व्हिस्की की एक बोतल और कुछ खाने का सामान खरीद लिया. इसके बाद थोड़ा साइड होकर मैं एक मेडिकल शॉप पर गया और वहां से कंडोम का एक पैकेट खरीद लिया था. कंडोम खरीदते समय मैंने सोचा कि क्या पता बात आगे बढ़ ही जाए.

दोस्तों, इसके बाद हम वापस होटल के अपने रूम पहुंच गए. रूम पहुंचते ही उसे टाइट हग किया और फिर किसिंग शुरू कर दी. ये सब करीब 15-20 मिनट तक चलता रहा.

फिर मैंने पेग के लिए उससे पूछा तो उसने भी हां कर दिया और व्हिस्की पीने में मेरा साथ दिया. हालांकि, उसने खुद ज्यादा नहीं लिया था. अब तक बोतल आधी हो गई.

फिर हमने डिनर आर्डर किया. इतनी ठंड में भी नशा काफी हो गया था. डिनर करने के बाद लगभग 11 बजे हम सोने की तैयारी करने लगे. लाइट ऑफ करने के बाद मैं उससे चिपक कर लेट गया और एक बार फिर हम एक – दूसरे को किस करने लगे.

किस करते – करते मैं उसके गले को चूमने लगा. अब वो काफी गर्म हो चुकी थी. फिर मैं उसकी टी-शर्ट में हाथ डालने लगा तो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और कहने लगी कि इसके आगे नहीं. मैं ऐसा नहीं कर सकती.

अब मैंने अपना हाथ बाहर खींच लिया. फिर वो मेरे ऊपर आ गई और हमने किस करना चालू रखा. कुछ देर बाद मैंने अपना हाथ फिर से उसकी टी-शर्ट में घुसा दिया, लेकिन इस बार उसने मुझे मना नहीं किया

अब मेरा लन्ड उसकी निकर के ऊपर से ही उसकी फुद्दी पर छू रहा था. उधर वो भी अब अपनी फुद्दी को मेरे लन्ड पर रगड़ने लगी थी. फिर उसने अपने एक हाथ को नीचे करके मेरे लन्ड को पकड़ लिया. अब मैंने उसके कपड़े निकालने शुरू कर दिए.

उसका फिगर पहली बार मेरे सामने था. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. दूर से आती थोड़ी – थोड़ी रोशनी से मैं उसके मस्त बदन को देख पा रहा था. इस मद्धिम रोशनी में वो किसी अप्सरा से कम नहीं लग रही थी.

कुछ ही देर में हम बिल्कुल नंगे हो गए थे. अब मैं उसके निप्पल्स को काट – काट कर लाल कर चुका था. उसकी सिसकारी की आवाज मुझे और पागल कर रही थी. मैं उसके 34 साइज के बूब्स को हांथों में लेकर मसल रहा था. फिर उसने भी मेरे लन्ड को पकड़ के हिलाना शुरू कर दिया. साथ ही वह मेरे लन्ड को अपनी फुद्दी पर भी रगड़ने लगी थी.

वो इतनी गर्म हो चुकी थी कि उसके मुंह से सिर्फ ‘मैं अब तुम्हारी ही हूँ और तुम कुछ भी कर सकते हो’ निकल रहा था. फिर मैंने उससे अपना लन्ड सक करने को कहा तो उसने मना कर दिया. लेकिन फिर मेरे बार – बार कहने पर लन्ड को मुंह में डाल दिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

अब मैं तो एक दम जैसे जन्नत में था. फिर मैंने उसे 69 की पोजिशन में किया और उसकी फुद्दी को चूसने लगा. कुछ देर बाद उसने पानी छोड़ दिवा.

अब मैंने अपने लन्ड पर कंडोम चढ़ाया. उसे देख कर वो स्माइल करने लगी. मुस्कुरा कर जैसे पूछ रही हो कि मैं कंडोम लेकर कब आया. फिर मैं उसके ऊपर आ गया और उसकी टांगों को चौड़ी करके लन्ड उसकी फुद्दी पर टिका दिया और जोर लगाया.

उसे दर्द होने लगा और उसने मुझे धक्का दे दिया और बोली कि मुझे ये सब नहीं करना. उसकी चीख सुन कर एक बार तो मैं भी डर गया. लेकिन दूसरे ही पल मैंने सोचा कि अगर अभी चूक गया तो फिर यह आगे कभी नहीं करने देगी. अब मैंने उसे किस करना फिर से स्टार्ट कर दिया. जिससे वो फिर से गर्म होने लगी.

तभी मैंने अचानक एक ज़ोर का धक्का लगया और मेरा आधा लन्ड उसकी चूत में चला गया. दर्द की वजह से वो चिल्ला रही थी. फिर मैंने उसके होंठों को अपने होंठों से जकड़ लिया और आगे – पीछे होने लगा.

थोड़ी देर बाद उसे भी मज़ा आने लगा. अब वो भी मेरा साथ देने लगी. चुदाई की फच्च- फच्च की आवाज से पूरा कमरा गूंजने लगा था. अब तक वो तीन बार झड़ चुकी थी. अब मैं तेजी से चुदाई करने लगा और कुछ ही देर में मैं भी ढेर हो कर उसके ऊपर ही लेट गया.

थकावट के कारण हम दोनों को कम नींद आ गई पता ही नहीं चला. जब सुबह आंख खुली तो देखा कि पूरा बेड खून से लाल था. इसके बाद हमने सुबह एक शिफ्ट और लगाई. फिर हम नहाने चले गए. उस दिन हमने 4 बार चुदाई की और घर वापस आ गए. अब उसकी शादी हो चुकी है. लेकिन मुझे उसकी बहुत याद आती है.

आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी? मुझे मेल करके जरूर बताएं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *