गर्लफ्रेंड के साथ होटल में वो सब किया

ये देख कर मेरी हिम्मत बढ़ गयी और मैंने उसके बालों में अपना हाथ डाल दिया और उसके बालों को सहलाने लगा. मेरी इस हरकत पर उसने कुछ नहीं कहा. जब उसने कुछ नहीं बोला तब मैं समझ गया कि रास्ता साफ है. फिर मैंने उसके सीने पर अपना हाथ रख दिया और धीरे – धीरे उसके बोबे दबाने लगा. उसने कुछ नहीं कहा और फिर उसने अपनी आँखे बंद कर ली…

नमस्कार दोस्तों! मेरा नाम रूपम है और ये मेरी पहली कहानी है जो पूरी तरह सच्ची है. सबसे पहले मैं आपको अपने बारे में बता दूं. मैं 26 साल का एक मस्त लड़का हूँ. अभी तक मेरी शादी नहीं हुई है. मैं चौड़ी छाती और एक मस्त लंड का मलिक हूँ और मैं चूत के लिए हमेशा तैयार रहता हूँ.

अब कहानी पर आते हैं. ये कहानी मेरी और मेरी गर्लफ्रेंड की है. उसकी उम्र 25 साल है और उसके बोबो का साइज़ 34 बी है. वह एक दम मस्त माल है. बात उस दिन की है जब वो एक बार एग्जाम देने मेरे सिटी में आई थी तो मैंने उसे मुझसे मिलने के लिए फोर्स किया पहले तो वह नहीं मान रही थी लेकिन फिर बाद में वो वो मान गयी.

जब वह आई तो हमने एग्जाम के बाद साथ में लंच करने का प्रोगाम बनाया. और जब उसका एग्जाम हो गया तो हमने साथ में लंच किया और फिर उसे मेरे साथ घूमने के लिए बोला. लेकिन उसने कहा कि वो बहुत थकी हुई है और अब आराम करना चाहती है.

इसलिए मैंने उसे एक होटल के रूम में चल कर आराम करने को बोला और इस पर वो मान गयी. फिर हमने एक रूम बुक किया और मैं उसे लेकर रूम पहुंचा. रूम में जाते ही वो बिना देर किए बेड पर लेट गयी.

मैंने जल्दी से दरवाजा अंदर से लॉक कर दिया और आकर उसके ही बगल में लेट गया. उसने अपना मुंह दूसरी तरफ कर रखा था. मेरे लेटते ही वो मेरी तरफ मुंह करके लेट गयी और स्माइल करने लगी.

ये देख कर मेरी हिम्मत बढ़ गयी और मैंने उसके बालो में अपना हाथ डाल दिया और सहलाने लगा. मेरी इस हरकत पर उसने कुछ नहीं कहा. जब उसने कुछ नहीं बोला तब मैं समझ गया कि रास्ता साफ है. फिर मैंने उसके सीने पर अपना हाथ रख दिया और धीरे – धीरे उसके बोबे दबाने लगा. उसने कुछ नहीं कहा और फिर उसने अपनी आँखे बंद कर ली.

तभी मैं उसके ऊपर आकर लेट गया और अपने होंठ को उसके होंठों पर रख दिया. वो पागलों की तरह मेरे होंठों को चूसने लगी. मैं अपने दोनों हाथ से कपड़ों के ऊपर से ही उसके बोबे दबा रहा था. यह करने में मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

फिर मैंने अपना हाथ उसके टॉप में डाल दिया और उसकी ब्रा के अंदर हाथ डाल कर उसके मुलायम बोबे दबाने लगा. अब उससे रहा नहीं गया और वह सिसकारियां लेने लगी. अब मैंने उसका टॉप उतार दिया. अंदर उसने लाल रंग की ब्रा पहनी हुई थी जो उस पर बहुत ही सेक्सी लग रही थी.

मैंने पहले उसके बोबे को ब्रा के ऊपर से ही दबाया और फिर उन्हें ब्रा के ऊपर से ही चूसने लगा. वो एक दम मदहोश सी हो रही थी. तभी मैंने उसकी ब्रा को ख़ोल कर उसके मोटे – मोटे गोल मटोल एक दम मुलायम बोबे को आज़ाद कर दिया.

अब उसकी नंगी चुचियों को मैं पागलों की तरह ज़ोर – ज़ोर से चूसने लगा. फिर मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए और उसके होंठों से होते हुए, सीने को किस करते हुए और बोबे चूसते हुए उसके पेट पर किस करने लगा. अब वह बहुत ही उत्तेजित हो रही थी.

फिर मैंने उसकी जीन्स के ऊपर से ही उसकी चूत पर हाथ फेरने लगा. जिससे उसकी सिसकी और तेज होने लगी थी. फिर मैंने उसकी पैंट को उतार दिया. अब उसकी पैंटी को देखते ही मैं पागल सा हो गया था. उसने सेक्सी ब्लू और वाइट रंग की पैंटी पहन रखी थी. जिससे कि सिर्फ और सिर्फ उसकी चूत ही ढकी हुई थी.

अब मैंने उसकी चूत को पैंटी के ऊपर से ही सहलाना शुरू किया और फिर ऊपर से ही उसे चाटने लगा. उसकी पैंटी पूरी तरह गीली हो चुकी थी और बहुत ही सेक्सी खुशबू दे रही थी.

मेरे इस तरह करने से वो जल बिन मछली की तरह तड़पने लगी. फिर मैंने उसकी पैंटी भी उतार दी. उसकी चूत एक दम साफ थी और चूत को देख कर मैंने अंदाज लगा लिया कि यह अभी वर्जिन ही है. फिर मैं उसकी चूत का पानी पीने लगा और उसे अपनी जीभ से चोदने लगा.

अब उसने अपने पैर फैला दिए और मेरा सिर को हाथ से पकड़ कर चूत की तरफ दबाने लगी. सेक्स में वो पूरी तरह पागल हो चुकी थी. अब मैंने उसे अपने ऊपर ले लिया. वो मेरे सीने को किस करने लगी. फिर नीचे की तरफ जाकर वो मेरे लन्ड को किस करने लगी और किस करते – करते चूसने लगी.

उसने पूरा लन्ड अपने मुंह में ले लिया था और उसे ज़ोर – ज़ोर से चूस रही थी. मैं पूरी तरह पागल हो चुका था. उसकी मस्त चुसाई से मेरा पानी निकलने ही वाला था इसलिए मैंने अपना लन्ड उसके मुंह से बाहर निकाल लिया लेकिन वो पूरे जोश में थी और फिर उसने मेरा लन्ड अपने बोबो के बीच में लेकर हिलाने लगी.

दोस्तों, इतना मज़ा आज तक मुझे कभी नहीं आया था. फिर मैंने उसे अपने नीचे लिया और उसके बोबो के बीच में अपना लन्ड ड़ाल कर उसे चोदने लगा. अब वो भी पागलों की तरह आवाजें निकाल रही थी. थोड़ी देर बाद मेरे लन्ड ने पिचकारी छोड़ दी जिससे उसके चेहरे ओर बोबो पर मेरा वीर्य लग गया और वो उसे उंगलियों के सहारे चाट गई.

फिर मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत में घुसेड़ दी और उस उंगली से उसकी चूत को हिलाने लगा. करीब 3 मिनट में ही उसका भी पानी निकल गया. इस तरह हम दोनों एक – दूसरे से पूरी तरह संतुष्ट हो गए और हम फारिग होकर बहुत खुश थे. अब वो नंगी ही मेरे ऊपर आकर लेट गयी.

दोस्तों, फिर थोड़ी देर बाद हमने जबरदस्त चुदाई भी की. लेकिन उसकी कहानी फिर कभी. आपको मेरी यह पहली कहानी जोकि पूरी तरह सच है कैसी लगी? प्लीज़, मुझे मेल करके ज़रूर बताएं. मेरा ईमेल आईडी – [email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *