इश्क में धोखा भाग – 2

यह सुन कर हेमांगी एक दम शॉक्ड रह गयी. वो कुछ नहीं बोली. तभी मैंने फिर से बोलना शुरू किया. एक काम करो अब तुम उस लड़के से आखरी बार मिलो और एक दम नार्मल जैसे कि तुम्हें कुछ पता ही न हो और फिर उससे बोल दो कि मेरी शादी मेरे घरवालो ने तय कर दी है. इसलिए अब तुम मुझे भूल जाओ…

इस कहानी का पिछला भाग – इश्क में धोखा भाग – 1

अभी मैं कुछ और पूछने वाला था लेकिन उससे पहले ही हेमांगी उसकी तारीफ करने लगी और बोली, “जब आपने हमें देख ही लिया है तो यह भी देखा होगा कि वह कितने पैसे वाला है! उसके पास कितनी महंगी बाइक और कार है. यह सब आपने देखा ही होगा न? या यह सब आप देख ही नहीं पा रहे.

तब जाकर मैंने उससे कहा, “हेमांगी, जो मैंने देखा वह तुमने नहीं देखा है”. इस पर हेमांगी थोड़ा चौंकते हुए बोली, “मतलब?” मैंने कहा मैं तुम्हें समझाता हूँ. अब मैंने बोलना शुरू किया. देखो, उसने तुमसे एक बात भी सही नहीं कही है. उसकी जाति तो छोड़ो, वह ऐसे एरिया में रहता है जहां के अधिकतर लोग गंदे और मारधाड़ करने वाले हैं.

उसने तुमसे बोला है कि उसके पापा का लोखंड का बिजनेस है. यहाँ भी उसने झूठ ही बोला है, उसका लोखंड का नहीं भंगार का काम है. उसने तुमसे बोला है कि उसके पास महँगी बाइक है लेकिन सच यह है कि वह बाइक उसकी नहीं है. वह किसी गेरेज में काम करता है और वह बाइक उसके मालिक की है.

अच्छा, बाकी की और बातें छोड़ो सबसे महत्वपूर्ण बात यह कि वह शादीशुदा है. यह सुन कर हेमांगी की आँखें फटी की फटी रह गईं. अब मैंने आगे बोलना शुरू किया. मैंने कहा और उसकी एक बेटी भी है. चूंकि अब उसकी बीवी बच्चा नहीं दे सकती इसलिए वह दूसरी शादी करने चला है और इसके लिए उसने तुम्हें फंसाया है. अब बताओ किसने क्या देखा?

यह सुन कर हेमांगी एक दम शॉक्ड रह गयी. वो कुछ नहीं बोली. तभी मैंने फिर से बोलना शुरू किया. एक काम करो अब तुम उस लड़के से आखरी बार मिलो और एक दम नार्मल जैसे कि तुम्हें कुछ पता ही न हो और फिर उससे बोल दो कि मेरी शादी मेरे घरवालो ने तय कर दी है. इसलिए अब तुम मुझे भूल जाओ.

अब हेमांगी बोली – नहीं, अब मैं कभी उसके सामने भी नहीं जाऊंगी.

मैं बोला – डरो मत, मैं उस समय तुम्हारे पीछे ही रहूंगा.

फिर तय के मुताबिक वह उस लड़के से मिली और फिर हेमांगी ने उससे सब बता दिया. यह सुन प्रिंस (उसे लड़के का नाम) बोला, “न न, ऐसा नहीं हो सकता, अगर तुमने कहीं और शादी की तो मैं तुम्हारी ज़िन्दगी बर्बाद कर दूंगा.
मैं तेरे चेहरे पर एसिड फेक दूंगा, जिससे कोई तुझे अपनाएगा ही नहीं. या फिर मैं तेरी वीडियो क्लिप इन्टरनेट पर डाल दूंगा ऐसे में तू किसी को मुंह दिखने लायक ही नहीं रहेगी.

यह सुन कर हेमांगी डर गयी और उसे समझाने की कोशिश करने लगी. तब प्रिंस बोला, “पहले तुम सोच लो फिर आराम से बताना.” इसके बाद हम घर आ गये और इस मामले के बारे में सोचने लगे.

आंटी बोली, “तुम लोग कुछ भी करो पर मेरी बेटी को कुछ नहीं होना चाहिए.” हेमांगी भी उसकी बात से डरी हुई थी. तभी अंकल बोले कि पुलिस कम्प्लेन करते हैं. उनकी बात सुन कर बोला ऐसा करने पर हेमांगी और आप का नाम बदनाम होगा, उसके बारे में अपने कुछ सोचा है! अंकल कुछ नहीं बोले तो फिर मैंने कहा, “मेरे पास एक तरीका है, अगर वह काम कर गया तो ठीक वरना हम पुलिस में शिकायत कर देंगे.”

फिर मैंने हेमांगी को बुलाया और अकेले में उससे पूछा, “हेमांगी, क्या सच में उसके पास तुम्हारी चुदाई की क्लिप है?” तो हेमांगी बोली, “हां, हमने कई बार सेक्स किया है और कुछ पूरी की पूरी वीडियो उसके मोबाइल में है.” तब मैंने कहा, “ठीक है, यह प्लान थोड़ा लम्बा लेकिन काम कर सकता है. एक बार फिर तुम उससे वैसे ही मिलो जैसे तुम मिलती थी और उसे अपना फैसला बताओ कि तुम उससे ही शादी करना चाहती हो.”

फिर जब मैं बताऊंगा तब प्लान को अंजाम देंगे. हेमांगी अब फिर से उससे वैसे ही मिलने जाने लगी. कई दिनों तक यह सिलसिला चालू रहा, काफी दिनों बाद मैंने हैमांगी को बताया कि अब तुम उसे बताओ की तुम उसी से शादी करना चाहती हो लेकिन एक बाबा हैं जो हमारे पूजनीय हैं, शादी से पहले हम उन्हीं साधू के पास जायेंगे और उससे अपने भविष्य के बारे में पूछेंगे और शादी का सारा काम उनके मुताबिक़ ही होगा.

उस दिन हेमांगी ने सब प्लान के मुताबिक ही किया. मेरा एक दोस्त है उसकी पहचान का एक बन्दा मैजिशियन है. जब मैंने उसको अपना प्लान बताया तो वह तैयार हो गया. वह बाबा बन गया और मैं अपने दोस्त के साथ उसका चेला बना.

हेमांगी तय समय पर प्लान के मुताबिक प्रिंस को लेकर बाबा के पास आई और उन्होंने बाबा के पैर पकड़ लिए. अब प्लान के मुताबिक ही बाबा बने ज्योर्ज ने बोलना चालू किया, “बेटी, तुम्हारी शादी के बाद तेरे पति की मौत हो जाएगी. अगर तुम ऐसा नहीं चाहती हो तो अगली पूर्णिमा के दिन तुम दोनों आना हम यहां पर विधि पूर्वक पूजा करवाएंगे. ध्यान रहे पूजा विधि पूरी तरह संपन्न होनी चाहिए. उसके बाद तुम दोनों सुरक्षित हो जाओगे.”

यह सब बताते हुए ज्योर्ज ने 2-3 जादुई करामत भी दिखाई जिससे वह लड़का मान बैठा कि बाबा सच्चे हैं. फिर बाबा बने ज्योर्ज ने बोला, “अच्छा, ठीक है अब तुम दोनों जाओ.” जब वह चलने लगे तब ज्योर्ज ने प्रिंस को बुलाते हुए कहा, “ऐ लड़के, जरा इधर तो आ.”

वह आया और बोला, “जी बाबाजी.” ज्योर्ज ने कहा, “दो – दो शादी रचाएगा, अच्छा ठीक है जाओ, मुझे क्या लेना – देना जो मर्जी करो.” प्रिंस को अब पूरी तरह यकीन हो गया कि बाबा चमत्कारी है.

पूर्णिमा के दिन शाम को वह लोग आये और पूजा चालू हुई. अग्नि में आहुति दी जाने लगी. ज्योर्ज कुछ उल्टे – सुलटे मंत्र भी बोलने लगा. हम पूरी तरह केरेक्टर में घुसे हुए थे. कुल मिलाकर वहां का सब माहौल बड़ा चमत्कारी नज़र आ रहा था. अब ज्योर्ज बोला, “ऐ लड़के, अब पहली आहुति दी जाएगी. तुम्हारे पास सुख सुविधा की कोई भी चीज़ हो तो पहले उसकी आहुति दो.”

यह सुन प्रिंस बोला – मेरे पास तो अभी कुछ भी नहीं है.

ज्योर्ज – मूर्ख, तुम्हारे पास मोबाइल है, बाइक है, उसमें से कोई भी चीज की इस अग्नि में आहुति दे दो.

अब प्रिंस ने 1 मिनट सोचा कि वह बाइक तो मांगी हुई थी और महंगी भी. ऐसे में वह तो नहीं दे सकता था तो उसने अटकते – अटकते मोबाइल निकाला. उसे अटकते देख हेमांगी बोली, “डाल दो जान जल्दी से, तुम तो पैसे वाले हो ऐसे मोबाइल तो तुम फिर ले सकते हो.”

तभी ज्योर्ज चिल्ला कर बोला – सोच क्या रहा है मूर्ख, जो भी डालना है जल्दी डाल.

अब उसने अपना वह मोबाइल अग्नि में डाल दिया उसी मोबाइल में हेमांगी की वह क्लिप थी. वह भी जल गई. आगे काफी विधि के बाद ज्योर्ज ने बोला कि अब अंतिम आहुति दी जाएगी.

प्रिंस – अब क्या आहुति देनी होगी?

ज्योर्ज – तुम्हारा हाथ.

प्रिंस – क्या!

ज्योर्ज – हां, तुम्हारे दोनों हाथ में से कोई एक हाथ की आहुति देनी होगी. तुम सोच लो कि कौन सा हाथ ज्यादा उपयोगी है. वह रहने दो और दूसरा आहुति में डाल दो.

प्रिंस बोला – नहीं, मैं यह नहीं कर सकता.

हैमांगी(बनावटी आश्चर्य करते हुए)- क्या!

प्रिंस – जी, मैं नहीं कर सकता.

ज्योर्ज – मैंने पहले ही बताया था कि विधि संपन्न होनी चाहिए.

प्रिंस – मैं अपना हाथ नहीं दे सकता.

अब ज्योर्ज बोला – तुम इस लड़की से शादी करना चाहते हो ना?

प्रिंस – हां

तो ज्योर्ज बोला – शादी के बाद तुम्हारी मौत हो उससे तो अच्छा है कि तुम अपना एक हाथ दे दो.

अब घबराया प्रिंस एक दम से बोल पड़ा – मुझे नहीं करनी है ये विधि और ना ही तुमसे शादी करनी है.

अब हेमांगी (रोनी जैसी शक्ल बना कर) बोली – तुम मुझसे प्यार करते हो न?

प्रिंस बोला – हट कुत्ती, मैं तुमसे शादी करूंगा तब मरूँगा ना मुझे मरना थोड़े है.

हेमांगी बोली – तो जो तुमने बोला था कि तुम मुझसे बहुत प्यार करते हो और मेरे लिए जान भी दे सकते हो वो?

प्रिंस बोला – तू भूल जा कि मैं तुझसे प्यार करता हूँ और फिर इतना बोल कर वह चलता बना.

हेमांगी भी पीछे कुछ दूर तक ड्रामा करती रही कि तुम ऐसा नहीं कर सकते. तुम ऐसा बिल्कुल नहीं कर सकते. तुम मुझे धोखा दे रहे हो. लेकिन उसने पलट कर उसे नहीं देखा और चलता बना.

फिर हम सबने अपना गेटअप उतरा और खूब हंसे. इसके बाद फिर मैंने उसके गैरेज के मालिक से संपर्क किया और उसे सब बताया. तब उसने उसे नौकरी से निकल दिया. फिर हमने हेमांगी की शादी कर दी और सब ठीक हो गया.

आज मैंने उसे फिर से देखा. वह भंगार का धंधा कर रहा है और उसकी बेटी बड़ी ही प्यारी है और अब कुछ आब्दी भी हो गई है.

इस कहानी से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है. ये झूठ और फरेब की दुनिया है. यहां कब, कौन आपको उल्लू बना कर अपके साथ सम्बन्ध स्थापित कर ले. यह ध्यान देना बहुत जरूरी है.

दोस्तों, मैं अपनी कहानी आप लोगों के द्वारा भेजे गए सुझाव पर लिखता हूँ. जैसा सुझाव आप लोग मेल करके मुझे देते हैं. उन्हीं सुझावों के आधार पर मैं अपनी कहानी तैयार करता हूँ ताकि कहानी आप लोगों को ज्यादा से ज्यादा पसंद आये. इसलिए मैं आप सब से आग्रह करता हूं कि इस कहानी पढ़ने के बाद अपने सुझाव मुझे मेल जरूर करें. आपके उन सुझावों पर भी मैं जल्दी से कहानी तैयार करूँगा और वो आपके सामने होगी. मेरी मेल आईडी –
[email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *