इत्तेफाक से मैं जिगोलो बना

एक बार मैंने मज़ा लेने के लिए फ़ेसबुक के एक पेज पर अपना नम्बर शेयर कर दिया. उसी नम्बर की मदद से मैं जिगोलो बना और मेरा सफर शुरू हुआ…

हाय दोस्तों, मेरा नाम निखिल है. मैं 36 साल का हूँ. मैं अपने लन्ड के साइज के बारे में झूठ नहीं बोलूंगा. मेरा लन्ड 5.5 इंच लम्बा और 2.5 इंच मोटा है. इस लन्ड से मैं किसी भी महिला और लड़की को संतुष्ट कर सकता हूँ.

अब ज्यादा टाइम वेस्ट न करते हुए सीधे अपनी कहानी पर आता हूँ. एक दिन मुझे मेरे एक दोस्त के द्वारा किसी मेल एस्कॉर्ट पेज पर कमेंट करने का नोटिफिकेशन मिला. उत्सुकतावश मैंने उसे ओपन कर लिया.

वहां पर मैंने देखा कि कई लड़के कॉल बॉय बनने के लिए वहां पर अपना मोबाइल नम्बर पोस्ट कर रखे थे. यह देख कर मैंने सोचा शायद तुक्का भिड़ ही जाए और सिर मैंने भी अपना मोबाइल नम्बर शेयर कर दिया.

उस पेज से बाहर निकलने के बाद मैं इस बात को भूल गया. करीब 7-8 दिन बाद मेरे पास एक अंजान नम्बर से कॉल आई. फ़ोन रिसीव करने के बाद उधर से एक महिला की आवाज आई. आवाज थोड़ी भारी थी तो मैंने अंदाज़ लगाया कि उसकी उम्र -40-45 के बीच होगी.

उसने कहा – हेलो निखिल!

मैं बोला – जी निखिल ही बोल रहा हूँ. आप कौन?

उसने कहा – आपने अपना नम्बर फ़ेसबुक पर डाला था कि आप कॉल बॉय बनना चाहते हो.

मैं बोला – जी डाला था मैंने, बताइए मैं आपकी क्या सेवा कर सकता हूँ?

फिर वो महिला सीधे मेन बात पर आई. शायद उसे इस तरह की बातें करने का अच्छा – खासा अनुभव था. उसने मुझसे कहा – तुमने पहले कभी सेक्स किया है?

मैंने कहा – जी हां, अपनी वाइफ के साथ करता हूँ.

वो बोली – ओह्ह, फिर तो तुम्हें अच्छा – खासा अनुभव होगा!

मैंने कहा – हां, बिल्कुल है.

वो बोली – क्या चार्ज लेते हो एक रात का?

मैं बोला – मेरा इस तरह पहली बार है, इसलिए आप ही बता दो.

उसने कहा – दस हजाद रुपये. ठीक है?

मैं बोला – जो आपको ठीक लगे.

इस पर वो बोली – ठीक है, फिर कल मैं तुम्हें होटल का नाम, रूम नम्बर और टाइम सेंड कर दूंगी. टाइम से आ जाना. फिर थोड़ा रुक कर बोली कि झांटें हों तो साफ मत करना, मुझे झांटें पसंद हैं.

फिर मैंने हां कहा और फ़ोन काट दिया. मैंने सोचा कि मेरे साथ कोई मज़ाक कर रहा होगा. इसके बाद फिर मैं अपने काम में बिजी हो गया.

अगले दिन दोपहर को मेरे फ़ोन पर एक मैसेज आया. उसमें होटल का नाम, रूम नम्बर और 8 बजे वहां पहुंचने के लिए लिखा था. यह देख मैंने सोचा ये तो सही में हो रहा है. फिर सोचा कि ट्राय करते हैं. मैंने तय किया की वाइफ से कोई बहाना मारता हूँ. मान गई तो ठीक है नहीं तो फिर फ़ोन ऑफ कर के सो जाऊंगा.

फिर मैंने अपनी पत्नी से कहा कि आज रात मुझे एक दोस्त के साथ उसकी कंस्ट्रक्शन साइट पर रुकना है. मैंने उसे बताया कि आज उसका सुपर वाइजर नहीं है. यह सुन कर मेरी पत्नी बोली कि जब जाना जरूरी है तो चले जाओ.

यह सुन कर मैंने भी अपना मन पक्का कर लिया कि आज जाते हैं और चांस मार ही लेते हैं जो भी होगा देखा जाएगा.

फिर मैं तय टाइम पर होटल के उसके बताये हुए कमरे के सामने पहुंच गया. वहां पहुंच कर मैंने बेल बजाई तो अंदर से आवाज आई – दरवाजा खुला है अंदर आ जाओ.

फिर मैं अंदर चला गया. वहां मैंने देखा कि एक थोड़ी मोटी सी लेकिन ठीक – ठाक हाइट वाली औरत मेरी तरफ पीठ करके खड़ी थी. तब मैंने उसे कहा – मैम! इस पर उसने कहा कि उसका नामा शीतल है और मैं उसे उसी नाम से बुलाऊं. मैंने कहा ठीक है शीतल.

फिर उसने मुझे मेरे सारे कपड़े उतारने को कहा. दोस्तों, मुझे तो इस काम के पैसे मिलने वाले थे इसलिए जैसा शीतल ने कहा मैंने वैसा ही किया और अपने सारे कपड़े उतार कर पूरा नंगा हो गया. मेरे नंगा होने के बाद वह बोली कि टेबल पर व्हिस्की रखी है जाओ और 2 पटियाला पैग बनाओ. फिर मैं टेबल के पास गया और पैग तैयार करके उसे बताया कि पैग तैयार है.

यह सुन कर वो मुड़ी. तब मैंने पहली बार उसे देखा. वो मुझे एक सामान्य सी हाउस वाइफ महिला लगी. फिर मैंने उसके फिगर का अंदाज़ा लगाना शुरू कर दिया. उसके मम्मे और कमर 40 के रहे होंगें जबकि उसकी चूतड़ 42 की लग रही थी.

फिर मेरे पास आई. अब एक पैग उसने और एक मैंने पिया. पैग लगाते ही उसने मुझसे कहा कि मेरा गाउन उतारो. अब मैं उसके और नज़दीक गया और उसके गाउन को उतार दिया. गाउन उतारते ही वो पूरी नंगी हो गई. शायद उसने अपने बाकी के कपड़े पहले ही उतार दिए थे.

फिर उसने मेरा लन्ड पकड़ा और बोली – तुमने अच्छा किया जो झांटें साफ नहीं की. इतना कह कर वो मेरी झांटों में अपनी उंगली फिराने लगी. मेरा लन्ड अब तक खड़ा हो चुका था.

फिर उसने मुझे घुटने के बल पर बैठने को कहा तो मैं उसके सामने बैठ गया. अब उसने अपनी दोनों टांगें खोल दी. अब उसकी बालों वाली चूत ठीक मेरे चेहरे के सामने खुल कर आ गई. इसके बाद उसने मुझसे पूछा कि कभी चूत चाटी है? इस पर मैंने न में जवाब दिया.

तब उसने कहा ठीक है मैं सिखा दूंगी. मैंने मना कर दिया. तब वो बोली कि चाटनी तो पड़ेगी ही भले 5000 रुपए ज्यादा ले लेना. दोस्तों, उसने ये बात गुस्से में बोली थी. इसलिए मैंने भी हां कर दी और अपने दोनों हाथों से उसकी चूत को सहलाने लगा.

इस दौरान मैं उसकी झांटों में भी उंगली फिराने लगा. फिर धीरे से मुंह खोल कर मैंने अपनी जीभ को उसकी चूत पर ले गया. फिर मैंने धीरे – धीरे उसकी चूत की फांकें खोल कर जीभ से चाटने लगा. इससे वो सिसकारियां लेने लगी. वो लगातार ‘आह आह ऊह ऊह ईईईई ईईईई’ की आवाजें निकाल रही थी.

करीब 10 मिनट बाद वो मेरे मुंह में ही झड़ गई. फिर उसने मुझे वहां से हट कर ऊपर बैठने को कहा. अब मैं तुरंत ही हट कर कुर्सी पर बैठ गया. फिर वो मेरे खड़े लन्ड को पकड़ लिया और उस पर लगे प्रीकम को देख कर खुश हो गई. अब उसने मेरे लन्ड को मुंह में ले लिया और 8-10 बार अंदर – बाहर करके उस पर लगे प्रीकम को चाट गई.

इसके बाद वो मुझसे बोली – चल आ जा और मुझे अच्छी तरह से चोद. फिर हम बेड पर गए. बेड पर जाते ही वो घोड़ी बन गई. फिर मैं उसके पीछे गया और लन्ड पर कंडोम चढ़ा कर उसे उसकी चूत पर टिका दिया.

दोस्तों, उसकी चूत काफी खुली हुई थी. पता नहीं वह कितने और किस – किस साइज के लन्ड से चुद चुकी थी. फिर मैंने थोड़ा सा धक्का दिया और मेरा लन्ड बड़ी आसानी से उसकी चूत में चला गया. अब मैंने धक्के मारने शुरू कर दिए. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था और वो भी आह आह करके मेरा उत्साह बढ़ा रही थी.

इसके बाद मैंने पोजिशन बदली और उसकी एक टांग को हवा में करके चोदा. फिर मैंने कुछ और पोजिशन को ट्राई किया. करीब 20 मिनट की चुदाई के बाद फिर मैं झड़ गया. इस बीच वो भी दो बार झड़ चुकी थी. फिर मैं उसके ऊपर ही लेट गया. उस रात मैंने 3 बार उसकी चुदाई की.

वो मुझसे बहुत खुश हुई और सुबह जाते समय उसने मुझे 25 हजार रुपये दिए. मैं बड़ा खुश हुआ और वहां से घर चला गया. बाद में उसने मुझे और भी क्लाइंट्स दिलाए. जिनसे मुझे अच्छी कमाई हुई. एक बार उसके द्वारा दिलाई गई एक क्लाइंट मेरी करीब रिश्तेदार निकली. लेकिन वो कहानी फिर कभी.

आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी? मुझे मेल करके जरूर बताएं. मेंरी मेल आईडी – [email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *