जवान गर्लफ्रेंड की चूत को ठोका

फिर मैंने अपने भी कपड़े निकाल दिए और उसकी बालों वाली चूत मे उंगली करने लगा. दोस्तों, मुझे लग रहा था कि जैसे मैं किसी भठ्ठी में उंगली कर रहा हूँ. उधर वो भी मेरे लौड़े से खेल रही थी. अब मैं धीरे – धीरे उसके सारे बदन को चूमते हुए उसकी चूत में अपनी जीभ डाल दी…

हेलो फ्रेंड्स! अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरे खडे लन्ड का नमस्कार! दोस्तों, मेरा नाम राज है और मैं अन्तर्वासना का बहुत बडा फैन हूँ. मैंने यहां प्रकाशीट्सलगभग सारी कहानियां पढी हुई हैं. इन्हीं कहानियों को पढ़कर मेरे अंदर भी विश्वास जाएगा और फिर मैंने सोचा कि मैं भी मेरी सच्ची कहानी आप सबके साथ शेयर करुं.

दोस्तों, मेरा कद 5 फुट और 9 इंच है. मेरा गोरा रंग है और मेरे लंड की लम्बाई आप लोगों के लंड के ही जितनी है. मुझे हमेशा से ही कुंवारी लडकियों की चूत चोदना बहुत पसंद है और मैंने बहुत सारी लड़कियों की चूत चोदी भी है. इनमें कई कुंवारी लड़कियां भी हैं. मैं जब भी कोई कुंवारी लडकी देखता हूँ तो मेरा लन्ड कड़क हो जाता है.

बात उन दिनों की है, जब मैं कॉलेज में पढता था. मैं पढने में ठीकठाक था. कॉलेज के दिनों में मैं कॉलेज में कम और बाहर ज्यादा बैठता था. एक दिन मैं और मेरा दोस्त उसके घर पर बैठ कर कम्प्यूटर में ऑनलाइन चैटिंग कर रहे थे. तभी हमने देखा कि एक लड़की, जिसकी उम्र करीब 18 साल होगी, वो ऑनलाईन हुई और हमसे बातें करने लगी.

हालांकि उस बार हमारी बात बहुत कम हुई. फिर मैंने उसे मेरे आईडी से रिकवेस्ट भेजी और उसने मेरी रिकवेस्ट स्वीकार कर ली. अब मैं रोज सारा दिन ऑनलाइन रह कर उसके ऑनलाइन होने का इंतजार करने लगा. करीब 4 दिन इंतजार करने के बाद मेरे भाग्य से वो ऑनलाइन हुई और मुझसे बातें करने लगी. अब तो बातों का सिलसिला चलने लगा.

करीब 8 दिन के बाद मैंने उसे प्रपोज किया तो उसने मना कर दिया और कहने लगी कि मैं वैसी लड़की नही हूँ, लेकीन दो दिन बाद उसने मुझे सॉरी कहा और मेरा प्रपोजल स्वीकार कर लिया. बस मेरी तो निकल पड़ी. हमारे बीच रोज घंटों बातें होने लगी.

फिर एक दिन मैंने उसे मिलने के लिए बुलाया. तो उसने कहा कि अगर हमें कोई देख लेगा तो बड़ी मुसीबत हो जायेगी. इसलिए मैंने उसे कहा कि अगर तुम बुरा ना मानो तो मैं एक रूम बुक कर देता हूँ. इस पर उसने कोई आपत्ति नहीं बताई तो मैंने तय किए हुए दिन पर एक रूम बुक करा लिया.

उसके बाद मैं तय दिन पर होटल पर चला गया और उसका वेट करने लगा. वो तय किए हुएवटाइम से 10 मिनट देर से आयी. दोस्तों, आप तो जानते ही हैं कि लड़कियां हमेशा देर से ही आती हैं.

उस दिन जब मैंने उसे देखा तो बस देखता ही रह गया. उसका बदन एक दम परी जैसा था. उसके बूब्स तो हाय! उन्हें देख कर मैं तो घायल ही हो गया था. फिर उसने नजदीक आकर मुझे हेलो कहा और हम होटल के रूम में चले गये. वहां जाते ही मैंने उसके हाथ पकड़ लिए और अपनी तरफ खींच लिया. फिर मैं उसके मुलायम बालों पर हाथ फेरने लगा.

फिर उसे बेड पर बैठा कर मैंने नास्ता और कोल्ड ड्रिंक्स का ऑर्डर किया. नास्ता करने के बाद मैंने उसे कहा कि मुझे तुम्हें किस करनी है तो उसने भी मुझे किस करने के लिए हां बोल दिया. बस दोस्तों, फिर क्या था! मैंने उसे अपनी बांहों में जकड़ लिया और किस करने लगा.

किस करते – करते कब मेरा हाथ उसके बूब्स पर पहुंच गया पता ही नहीं चला. मैं धीरे – धीरे उसके बूब्स दबा रहा था और कस के उसके होंठो पर किस करता रहा. फिर कुछ देर बाद मैंने उसका टॉप निकाल दिया और थोड़ा रुक कर मैंने उसका पायजामा भी निकाल दिया.

अब वो सिर्फ काले रंग की ब्रा और पेन्टी में थी. उसका फीगर 30-34-30 था. वह बहुत ही लाजबाब लग रही थी! वह ऐसी दिख रही थी दोस्तों कि कोई भी उसे देख कर अपना लौड़ा हिलाते देर नहीं करता. जैसे कि आप हिला रहे हैं.

फिर मैंने अपने भी कपड़े निकाल दिए और उसकी बालों वाली चूत मे उंगली करने लगा. दोस्तों, मुझे लग रहा था कि जैसे मैं किसी भठ्ठी में उंगली कर रहा हूँ. उधर वो भी मेरे लौड़े से खेल रही थी. अब मैं धीरे – धीरे उसके सारे बदन को चूमते हुए उसकी चूत में अपनी जीभ डाल दी.

अब वो चिहुंकने लगी और मेरा साथ देने लगी और मेरा सर अपनी चूत में दबाने लगी. थोडी देर बाद मैंने उसे मेरा लौड़ा चूसने को बोला. शुरू में थोडी ना नुकुर करने के बाद वो मेरा लौड़ा चाटने लगी.

फिर मुझसे बोलने लगी कि राज अब मुझे मत तड़पाओ, मेरी चूत में अपना लौड़ा डाल दो. फिर मैंने भी देर ना करते हुए उसकी चूत में अपना लन्ड का सुपाडा रखा और जोर से झटका लगाया. जिससे वो चिल्लाने लगी उसकी और उसकी आंखों में आंसू आ गये. उसकी सील मेरे इस धक्के के साथ टूट चुकी थी.

फिर धीरे – धीरे मैं उसे चोदने लगा. थोड़ी देर बाद वो नार्मल हो गई और फिर खुद ही अपनी गांड उठा – उठा कर चुदवाने लगी और अपने मुंह से ‘आह आह, ऊह उह’ की आवाजें करने लगी थी. उसकी सिसकारी से पूरा कमरा गूंज रहा था

लगभग 15 मिनट चोदने के बाद मेरा निकलने वाला था तो मैंने उसे कहा कि मेरा होने वाला है तो उसने भी कहा कि उसका भी होने वाला है. फिर मैंने उसके बाद 10-12 धक्के मारे और उसकी चूत में ही झड़ गया और निढाल होकर उसके ऊपर गिर गया.

सॉरी दोस्तों, मैं उसका नाम ही बताना भूल गया. उसका नाम रानी (बदला हुआ) था. फिर रानी ने मेरा लन्ड अपनी जीभ से चाट कर साफ किया.

थोड़ी देर बात करते – करते मेरा मूसल फिर से हरकत में आ गया तो वो भी अपने हाथों से मेरे लौड़े को सहलाने लगी. थोड़ी देर तक उसके सहलाने से मेरा लन्ड फिर से लोहे की रॉड बन गया और फिर मैंने उसे कहा कि मैं तुम्हारी गांड मारना चाहता हूँ.

इस पर रानी ने कहा, “नहीं, गांड फिर कभी मार लेना.” तो मैंने कहा, “अच्छा चलो, तुम जो कहो वही ठीक है.” तो उसने कहा, “राज, मैं पीछे से चुदना चाहती हूँ.” यह सुनकर मैंने कहा, “मेरी जान, जो तुम कहो.”

फिर मैंने उसे बेड पर कुत्ते की पोजीशन में किया और पीछे से लन्ड को उसकी चूत में डालना शुरू कर दिया. अब मैंने पीछे से उसकी कोमल चूत में मेरा मोटा मूसल घुसेड़ दिया. वो फिर से चिल्लाने लगी, लेकिन मैंने उसकी एक न सुनी और उसकी चूत में जोर – जोर लन्ड अंदर – बाहर करने लगा.

इतने में जो हुआ, उससे तो मेरे होश ही उड़ गये. वो मुझे गालियां देने लगी. वो बोली, “आहहहहहह राजा, मेरी चूत का भोसडा बना दो, मैं तुम्हारी हूँ. तुम जैसे चाहो वैसे मुझे चोदो. आह मां के लौड़े डाल दे पूरा मेरी चूत में.” अब मैं भी पूरे जोश में आ गया और उसकी चूत को चोदे जा रहा था.

करीब 10-15 धक्के के बाद मेरा होने वाला था तो मैंने उसकी चूत से लन्ड निकाल कर उसे सीधा कर दिया और उसके मुंह में डालकर उसके मुंह को चोदने लगा. थोडी देर उसका मुंह चोदने के बाद मैं उसके मुंह में ही झड़ गया.

फिर हमने कपड़े पहेने और वहां से निकल गये. उसके बाद हम जब भी मिलते हैं चुदाई जरूर करते हैं. ये सिलसिला 3 साल चला और फिर हम अलग हो गये.

दोस्तों, यह थी मेरी सच्ची कहानी. कहानी आपको कैसी लगी? मुझे मेल करके जरूर बताएं. मुझे आपके मेल का इंतजार रहेगा. मेरी मेल आईडी – [email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *