कुंवारी लड़की पैसे देकर चुदी

मेरी यह कहानी मेरे ही शहर की लड़की की है. उसने मेरा नम्बर फेसबुक से निकाल कर मुझे व्हाट्सऐप किया और सर्विस के लिए पूछा. मैं तैयार हो गया. मुझे नहीं पता था कि वो कुंवारी है. ये तो तब सामने आया जब मैंने उसके छोटे – छोटे बूब्स का रस पिया और चुदाई के दौरान उसकी चूत से खून निकला…

हैलो दोस्तों, मेरा नाम लकी राज है. मैं पेशे से एक कॉल बॉय हूं. मैं पैसे लेकर असंतुष्ट महिलाओं की प्यास बुझाता हूं. यह मेरी सच्ची घटना है. उम्मीद है आप सब को पसंद आएगी.

कहानी शुरू करने से पहले मैं आप सब को अपना इंट्रोडक्शन दे देना चाहता हूं. मेरी उम्र 23 साल है और मेरी हाइट 5 फुट 5 इंच के आसपास है. लम्बाई कम होने के बावजूद मैं दिखने में काफी हूं. यही वजह है लड़कियां मुझसे आसानी से पट जाती हैं.

बात 2 साल पहले यानी 2017 की है. दोस्तों, मैंने अपना मोबाइल नंबर अपने फ़ेसबुक पर ऐड किया हुआ है और उसी नम्बर से मैं व्हाट्सऐप चलता हूं. एक दिन एक अनजान नम्बर से मुझे व्हाट्सऐप मैसेज आया. मैंने उस पर गौर नहीं किया क्योंकि मुझे बहुत से अनजान मोबाइल नम्बर से मैसेज आते रहते थे.

काफी टाइम तक जब मैंने उसे कोई जवाब न दिया तो उसने मुझे दोबारा मैसेज किया. दोबारा मैसेज आने पर मैंने उस पर ध्यान दिया. मैसेज में लिखा था – आप कॉल बॉय हो न, तो लड़कियों को अच्छी सर्विस देते होगें? मैसेज देखने के बाद मैंने जवाब दिया कि हां जी बिल्कुल. मेरे हिसाब से मैं सबसे अच्छी सर्विस देता हूं और यही मेरी क्लाइंट का भी कहना है.

मेरा जवाब देख कर उसने रेट पूछा. फिर मैंने उसे रेट भी बता दिया. इसके बाद मैंने उसके बारे में पूछा तो उसने बताया कि उसका नाम अनामिका है और वह मेरे शहर की ही रहने वाली हैं.

इसके बाद हमारी बात फाइनल हो गई. फिर उसने मुझे एक पता दिया और बताया कि यह उसकी फ्रेंड का घर है और मुझे यहीं आना है. मुझे भला क्या ऐतराज हो सकता था. फिर मैं निर्धारित समय पर उसके दिए हुए एड्रेस पर पहुंच गया और वहां पहुंच कर मैंने उसे कॉल किया और बताया कि मैं आ गया हूं.

फिर फोन कटते ही उसने दरवाजा खोला और मुझे देख कर मुस्कुराते हुए बोली – अंदर आ जाओ. मैं अंदर गया तो देखा कि वहां पर अनामिका के साथ एक और लेडी थी. मैं समझ गया कि ये उसकी फ्रेंड ही हैं. वैसे दोस्तों, दोनों महिलाएं दिखने में कमाल की खूबसूरत लग रही थीं.

उनके उस समय के हाव – भाव देख कर मुझे यह समझते देर न लगी कि दोनों लेस्बियन हैं. लेकिन मुझे इससे क्या? होंगी जो होना होगा. मुझे तो अपने काम से मतलब था.

फ़िर अनामिका ने अपनी सहेली के सामने ही मुझसे कहा कि आज मेरी प्यास बुझा दो, मैं बहुत दिनों से प्यासी हूं और सेक्स के बिना तड़प रही हूं. दोस्तों, अनामिका से मेरी सिर्फ उसके लिए ही बात हुई थी. इसमें उसकी सहेली का कोई रोल नहीं था. ऐसे में अगर मैं उसके सामने कुछ करता तो वह भी उत्तेजित होती और मुझे भी दो महिलाओं के हिसाब से खुद को एडजस्ट करना होता.

इसलिए उसे वहां से हटाने के लिए मैंने उसकी फ्रेंड से एक ग्लास पानी लाने को कहा. वो भी मेरे इरादे भांप गई और वो पानी लाने के लिये चली गयी. करीब 2 मिनट बाद वह पानी लेकर आई और फिर बाहर चली गई.

उसके जाते ही मैंने बिना देर किए अनामिका को पकड़ लिया और जबरदस्त तरीके से किस करने लगा. तभी अनामिका ने कहा कि उसकी सहेली अब 30 मिनट में आएगी और मुझे अपना काम इतनी देर में ही करना है.

वैसे इस बात तो मुझे भी अंदाजा था. फिर उसके कहने के बाद मैंने किस करते हुए उसे अपनी गोद में उठाया और बेड रूम तक ले गया. वहां जाने पर मैंने उसे बेड पर पटका और जोर – जोर से उसे किस करता रहा. करीब 5 मिनट मैंने उसे लगातार किस किया. अब वो किस करने के लिए मना करने लगी.

फ़िर मैंने उसके कपड़े उतारने शुरू कर दिए. दोस्तों, उसने जीन्स – टॉप पहन रखा था. सबसे पहले मैंने उसके टॉप को उतारा फिर जीन्स की बटन खोल उसे भी उतार दिया. अब वो केवल ब्रा और पैन्टी में थी. उसका फिगर काफी स्लिम था और अंडर गारमेंट्स में वो काफी सेक्सी दिखती थी.

अब मैं एक बार फिर उसे बेड पर लिटा दिया और किस करते – करते उसकी ब्रा को उतार दिया. उसके बूब्स छोटे – छोटे थे. वैसे तो मुझे छोटे बूब्स पसंद नहीं लेकिन जब आप पैसे के लिए कोई काम करते हों तो उसमें आपको अपनी पसंद नहीं देखनी चाहिए. उसके मम्मे देख कर ऐसा लग रहा था कि वो ज्यादा चुदी नहीं है. ऐसे में मुझे लगा कि हो सकता ये सील पैक माल हो और आज इसका उद्घाटन मेरे से होना हो.

फिर मैंने उसके छोटे – छोटे बूब्स को अपने होंठों में लेकर चूसना शुरू कर दिया. इससे अनामिका एक दम मस्त होकर ऐंठने लगी और मेरे सर पर हाथ रख कर उसे दबाने और सिसकारियां लेने लगी. वह ‘आह ऐह ओह’ कर रही थी और मैं उसके बूब्स को जोर – जोर से चूस रहा था.

फिर मैं किस करते हुए थोड़ा नीचे गया और उसके नाभि को अपनी जीभ से सहलाने लगा. इससे वो जल बिन मछली जैसी तड़पने लगी. अब वो पूरी तरह सेक्स के मूड में आ चुकी थी और जोर – जोर से सिसकारियां ले रही थी.

उसकी मादक आवाजें मुझे और भी उत्तेजित कर रही थीं. फ़िर मैंने उसकी पैन्टी उतार दी. अब उसकी नंगी और क्लीन सेव चूत मेरे सामने थी. उसे देख कर मुझे लगा कि लौंडिया एक दम सील पैक माल थी. उसकी चूत एक दम गुलाबी थी और बस बीच का कलर थोड़ा डार्क था. लेकिन जो भी था मेरा होश उड़ा देने वाला था.

फ़िर मैंने देर न करते हुए उसकी गुलाबी चूत को चाटना शुरू किया. इससे वो आहें भरने लगी. उसकी आहें सुन कर मेरा 7 इंच का लौड़ा टनटना गया. लेकिन मुझे अपना खयाल ही न था. मैं तो नॉन – स्टॉप उसे किस किए जा रहा था ताकि मैं उस उस कली को संतुष्ट कर दूं, जिससे कि वो मेरी परमानेंट ग्राहक बन जाए. और वैसे भी कॉल बॉय का काम भी तो यही होता है.

फ़िर मैंने अपनी जीभ से उसके चूत के ऊपर वाले दाने को खूब चूसा और किस किया. मेरे ऐसा करने के कारण अनामिका तो जैसे पागल सी हो गयी थी. वो जोर से मेरा सर अपनी चूत में दबाते हुए चिल्ला कर बोली – भड़वे, फक मी, तू चूस – चूस के ही मेरा निकाल देगा कि चोदेगा भी.

उसकी यह बात सुन कर मैंने अपने लंड का टोपा उसकी चूत पर रखा और एक धक्के के साथ अंदर डाल दिया. अब वो चिल्ला उठी. उसके मुंह से तड़पती हुई आवाज आई ‘आह्ह्ह मम्मी’. उसकी दर्द भरी आवाज सुन कर मैं रुक गया. फिर वो मेरा हाथ पकड़ कर बोली – दर्द हो रहा है.

फ़िर मैंने उसे किस करते हुए धीरे – धीरे चोदना शुरू किया. ऐसा इसलिए ताकि उसका ध्यान दर्द पर न रहे. अब मैं उसे जोर का एक और झटका देने वाला था. इसलिए पहले मैंने उसके होंठों को जोर से किस किया और फिर जब उसका ध्यान किस पर था तो इसका फायदा उठा कर मैंने तेजी से लौड़ा अंदर पेल दिया और एक बार अंदर – बाहर करने के बाद रुक गया.

अनामिका की सील टूट चुकी थी और खून के कतरे बेड पर बिछी चादर पर दिखने लगे थे. उसको तेज, बहुत तेज दर्द हुआ और वह रुकने के लिए कहने लगी लेकिन मैं नहीं रुका और उसकी दर्द भरी चुदाई करता गया.

हमारी चुदाई का यह दौर यूं ही चलता रहा. अब मैं डिस्चार्ज होने वाला था. इसलिए मैंने उसकी चूत से अपना लंड बाहर निकाल लिया और उसको किस करके एक बार फिर झटके से लन्ड अंदर डाल दिया और स्पीड में चुदाई करने लगा. अब अनामिका को भी मज़ा आ रहा था. उसका दर्द कम हो चुका था.

मैं लगातार तेजी धक्के मारे जा रहा था. इस तरह चुदाई करते – करते हम दोनों एक साथ डिस्चार्ज हो गए. डिस्चार्ज होने के बाद मैं 2-3 मिनट तक अनामिका के ऊपर ही उससे लिपटा पड़ा रहा. फ़िर हमने अपने कपड़े पहने और उसने मुझे पैसे दिए. इसके बाद मैं वहां से निकल गया.

आप सब को मेरी यह कहानी कैसी लगी? मुझे मेल करके या कमेंट करके जरूर बताएं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *