लाइब्रेरी की रिसेप्शनिस्ट मेरे लन्ड के नीचे आई

मेरी इस कहानी में पढ़े कि कैसे मैंने एक लाइब्रेरी की रिसेप्शनिस्ट को पटाया और फिर होटल ले जाकर पहले उसकी चुदाई की और फिर उसकी गांड भी फाड़ी…

अन्तर्वासना की सभी सेक्सी लड़कियों को मेरे खड़े लन्ड का सलाम! ये मेरी पहली स्टोरी है उम्मीद है आप सब को जरूर पसंद आएगी. कहानी पढ़ने के बाद आप अपने विचार मुझे जरूर भेजें.

अब मैं ज्यादा टाइम न बर्बाद करते हुए सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ. ये स्टोरी मेरी और एक लाइब्रेरी के रिसेप्शनिस्ट की है. उसका फिगर 34-29-35 का है. वह बहुत मस्त माल थी. मुझे आज भी उसकी याद आती है.

बात उन दिनों की है जब मैं मुखर्जी नगर में कोचिंग कर रहा था. क्लास होने के बाद मैं रोज़ अपने दोस्तों के साथ घूमता था. उन दिनों एक लड़की रोज आती और जहां हम लोग होते वहां पर चक्कर लगाती. वह एक लाइब्रेरी से निकलती थी. यह देख कर मुझे लगा कि शायद वह वहां पढ़ाई करती हो और मुझे भी लाइब्ररी जॉइन करना था. इस कारण मैंने सोचा कि वहीं जॉइन कर लेता हूँ. वहां उसके साथ फ़्लर्ट भी कर लूंगा.

फिर जब मैं वहां जॉइन करने पहुंचा तो उसे देख कर शॉक्ड रह गया. वह वहां रिसेप्शनिस्ट थी. फिर मैंने उसके पास जाकर बात की. वो मुझे देख कर बार – बार मुस्कुरा रही थी. यह देख मैं भी मुस्कुरा देता. कुछ दिन लाइब्ररी जाने के बाद मैंने ऑब्जर्व किया कि वह मुझे घूरती रहती है.

एक दिन वह बाहर थी तो मैंने उसे जूस के लिए पूछा. पहले तो उसने मना कर दिया लेकिन फिर मान गई. वहां पर हमारे बीच थोड़ी बातें हुई. इस दौरान मैंने छुट्टी वगैरह की जानकारी के लिए उसका नम्बर मांग लिया. तब उसने तुरन्त ही नम्बर दे दिया. इससे मेरा विश्वास थोड़ा और बढ़ गया.

फिर हमारे बीच असली बातें शुरू हो गईं. उस रात को पहली बार मैंने उसे मैसेज किया तो उसने पूछा कि कौन हो? जब मैंने उसे अपना नाम बताया तो उसने कहा हां बोलो. तब मैंने कहा कि बस यूं ही मैसेज कर दिया था. इस पर वह बोली कि ऐसे ही तो लोग कुछ भी नहीं करते. तब मैंने डिरेक्टली उसे बोल दिया कि थोड़ा फ़्लर्ट करने का इरादा था. यह सुन कर वह बड़े जोर से हंसने लगी.

फिर मैंने उससे पूछा कि बॉयफ्रेंड है? इस पर उसने बताया कि अभी तक तो नहीं है. यह सुन कर मुझे लगा कि काम बन सकता है. फिर मैंने कहा कि मेरे बारे में क्या ख्याल है, इस पर उसने कहा कि उसे लग ही रहा था कि यही मैसेज आएगा.

तब मैंने कहा कि अब तुम इतना प्यार से हँसोगी तो बंदा हिल ही जायेग. फिर उसने कहा कि इस पर सोचूंगी. अगले दिन उससे पूछा कि कुछ सोचा? तो उसने कहा कि नहीं. फिर उस रात मैंने इस बारे में बात नहीं की और उससे मूवी के लिए पूछा तो वह तैयार हो गई.

अगले दिन संडे था. वह ऑरेंज कलर की कुर्ती और ब्लैक कलर की लेगिंग्स पहन कर आई थी. जिसमें वो एक दम माल लग रही थी. उसको देख कर तो मैं पागल ही हो गया था.

दोस्तों, मैंने हेट स्टोरी का टिकट ले रखा था. फिर हम मूवी देखने के अंदर चले गए. अंदर जाकर मैंने उससे अपने बारे में फिर पूछा तो उसने कहा कि डेट पर आई हूँ, अब भी कुछ कहना बाकी है क्या? फिर क्या था, मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसके लिप्स पर किस करने लगा. करीब 2 मिनट बाद उसने भी रेस्पॉन्स देना शुरू कर दिया.

उसकी किस करने के तरीके से लग रहा था कि वह बहुत दिनों से प्यासी है. वह इतना हॉर्नी हो गई थी कि मेरे होंठों को काट लिया. फिर मैं उसके बूब्स दबाने लगा और धीरे – धीरे अपना हाथ उसकी चूत पर ले गया. उसने मेरा हाथ हटा दिया लेकिन मैंने फिर से हाथ रख कर ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाने लगा.

इसके बाद मैंने उसकी लेगिंग्स में हाथ डाल दिया. अब वो आउट ऑफ कंट्रोल होने लगी. फिर उसने भी मेरे लन्ड को पकड़ लिया. अब मैंने दूसरे हाथ से उसके बालों को खींचने लगा और साथ ही उसके गले पर एक बाईट दे दी.

अब उससे बिल्कुल भी कंट्रोल नहीं हो रहा था तो उसने वहां से चलने के लिए कहा. मैंने उसको बाहर चल कर वेट करने को कहा. उसके बाहर आने के बाद मैंने फ्रेंड के होटल पर फोन किया और रूम के लिए कहा. फिर उसके पास आकर बोला कि चलो रूम पर चलते हैं. वो भी नखरेबाज़ थी, थोड़ी एक्टिंग के बाद मान गई.

हम वहां से रूम पर पहुंचे. रूम पहुंचते ही मैंने उसे हग कर लिया और उसके लिप्स को पकड़ कर स्मूच करने लगा. वो भी बहुत प्यासी थी. उसने भी पूरा रेस्पॉन्स दिया. किस करते – करते मैंने उसे बेड पर लिटाया और उसकी कुर्ती को ऊपर उठा कर उसके पेट पर अपनी जीभ फिराने लगा.

इससे वो पागल हो रही थी. यह करते हुए मैंने अपनी टी-शर्ट उतार दी और उसे बिठाकर उसकी कुर्ती को उसके बदन से अलग कर दिया. अंदर उसने रेड कलर की ब्रा पहन रखा था. फिर मैंने उसके ब्रा को हटाया और निप्पल्स चूसने लगा.

साथ ही मैं एक हाथ से उसकी चूत को सहला भी रहा था. अब वो पागल सी हो गई थी. फिर मैं धीरे से नीचे की तरफ गया और उसकी लेगिंग्स भी उतार दी और उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को रब करने लगा. अब वो अपने हाथ से मेरे हाथ को दबा रही थी और कह रही थी, प्लीज अब और बर्दाश्त नहीं होता, आई लव यू… अब जल्दी करो ना.

लेकिन मैं उसे और तड़पाना चाहता था. तभी मैंने उसके बूब्स पर काट लिया. तब उसने मुझे अपनी ओर खींचा और मेरी कमर पर अपने नाखून गड़ा दिए. अब मैं उठा और उसकी पैंटी उतार दी. इसके साथ ही मैंने अपनी पैंट और अंडर वियर भी खोल दी. मेरा 6.5 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा लन्ड देख कर वो बोली कि मैं इसे नहीं ले पाऊंगी.

दोस्तों, उधर उसकी चूत पानी छोड़ रही थी. फिर मैंने अपना लन्ड उसके हाथ में दिया और उसे चूसने को बोला. लेकिन वो ऐसा करने से मना करने लगी. फिर मैंने ज़ोर देकर कहा तो वह मान गई और मेरे लन्ड के अगले हिस्से को मुंह में ले लिया.

लन्ड चुसाने में मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. थोड़ी ही देर में वो अच्छे से चूसने लगी. अब तो ऐसा लगने लगा जैसे वो प्रोफेशनल हो. उसके चूसते – चूसते ही मैं उसके मुंह में झड़ गया.

फिर मैंने उसको नीचे लिटाया और उसकी पूरी बॉडी पर किस करने लगा. साथ ही मैं उसकी गांड को भी सहलाने लगा और उसके हाथ में अपना लन्ड दे दिया. उसके नाज़ुक हाथों की वजह से कुछ ही देर में मेरा लन्ड फिर से खड़ा होने लगा. फिर मैंने उसके मुंह में लन्ड को डाल दिया, जिससे वह जल्दी ही पूरा तन कर खड़ा हो गया.

अब वो मेरे लन्ड को अपनी चूत में डलवाने के लिए मचल रही थी और मैं उसकी चूत पर लन्ड को रगड़ रहा था. फिर मैंने धीरे से अपना लन्ड उसकी चूत में डाल दिया. अभी मेरे लन्ड का अगला हिस्सा ही अंदर गया था और वो चिल्लाने लगी. वो ‘आह आह रुको, रुको’ कह रही थी. फिर मैं रुक गया और उसे किस करने लगा.

कुछ देर बाद फिर मैंने थोड़ा सा और लन्ड अंदर किया. लेकिन इस बार मैं उसके लिप को अपने होंठों से लॉक किए हुए था. दर्द की वजह से उसकी आंखों में आंसू आ गए. फिर मैंने अपना लन्ड थोड़ा बाहर निकाला और एक झटके में पूरा अंदर डाल दिया. उसने एक बार फिर से मेरी पीठ पर अपने नाखून गड़ा दिए.

अब मैं रुका और उसके बूब्स को दबाते हुए आराम – आराम से अंदर – बाहर करने लगा. शुरुआत में उसे बहुत दर्द हुआ लेकिन फिर उसे भी मज़ा आने लगा और वो एन्जॉय करने लगी. अब वह लगातार सिसकियाँ ले रही थी.

मैं उसकी चूत मार ही रहा था कि तभी मेरी नज़र उसकी गांड पर पड़ी. इतने में ही वो कसमसाने लगी और कुछ देर में झड़ गयी. लेकिन मेरा अभी भी नहीं हुआ था. वो तीसरी बार झड़ी थी.

फिर जब मैंने उसकी गांड पर उंगली रब किया तो वह मुझे घूरने लगी. तब मैं बोला कि जान गांड भी मारनी है. इतनी गोरी है कि रहा ही नहीं जाता. लेकिन वह मना करने लगी और बोली कि मैंने ऐसा कभी नहीं किया है और इतना मोटा लन्ड गांड में जाएगा तो मेरी फट ही जाएगी.

उसके मना करने के बावजूद मैं नहीं माना और बाथरूम में गया और तेल ले आया. उसके बाद उसे बोला कि मेरे लन्ड पर तेल लगाओ. वह लगाने लगी और मैं भी उसकी गांड पर खूब तेल लगा दिया. इसके बाद मैंने उसको घोड़ी बनने को बोला और लैंड डालने लगा.

अभी 1 इंच ही लन्ड अंदर गया था कि वह भगाने लगी लेकिन मैंने पकड़ लिया. तब वह चिल्लाने लगी और बोली कि छोड़ मुझे… मेरी गांड फट गई. तब मैंने देखा कि उसकी गांड से हल्का सा ब्लड निकला था. इसके बाद मैंने उसको बोला कि रुक जा फिर मज़ा आएगा. अब मैं रुका रहा और उसके बालों को पकड़ कर खींचा और पीछे से उसके बूब्स दबाने लगा.

मैं जानता था कि ये आराम से करने नहीं देगी. फिर मैंने अचानक से एक झटका दे दिया. जिससे मेरा आधा से ज्यादा लन्ड अंदर चला गया. अब वो फिर से चिल्लाने और छोड़ने के लिए कहने लगी. उसकी हालत खराब हो गई थी. वो बेहोश सी होने लगी थी लेकिन मैं उतना ही लन्ड डाले चोदने लगा.

धीरे – धीरे हर धक्के के साथ थोड़ा लन्ड अंदर चला जाता. वो आह आह करके चिल्लाती. कुछ देर बाद उसे भी मज़ा आने लगा और वो कहने लगी कि इस सुख से तो मैं आज तक अनजान ही थी, चोदो मुझे और ज़ोर से चोदो.

उसकी इन बातों से मैं और जोश में आ गया और ज़ोर – ज़ोर से चोद रहा था. अब मेरा पानी निकलने वाला था. फिर मैंने अपना लन्ड बाहर निकाला और सारा माल उसके बूब्स ओर निकाल दिया. यह वो संतुष्ट थी. कुछ ही देर में हम निकल गए. रात को उसने बताया कि उसकी गांड दुख रही है. फिर मेरे बताने पर उसने गर्म पानी से सिकाई की तो उसे आराम मिला.

आप लोगों को मेरी यह कहानी कैसी लगी? मुझे मेल करके जरूर बताएं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *