मां को किसी से नहीं चुदवाने दूंगा, मैं खुश रखूंगा

पापा की मौत के बाद मेरी माँ दूसरों से चुदवाती थी. वह रात – रात भर बाहर रहती. जैसे – जैसे मैं बड़ा हुआ मुझे सब समझ आने लगा. इज मुझे बहुत बुरा लगता था. इस कहानी में जानें कि आखिर कैसे मैंने अपनी मां को चोदा और उनकी प्यास बुझाई…

हाय दोस्तों, मैं आज पहली बार एक ऐसी कहानी लिख रहा हूँ जो सिर्फ कहानी नहीं है बल्कि मेरे साथ घटी एक सच्ची घटना है. शायद ये आपको झूठी भी लगे लेकिन ये पूरी तरह सच्ची है. आज मैं बहुत खुश हूँ क्योंकि आज मुझे आप सबको अपनी कहानी बताने का मौका मिला है.

मेरा नाम राज है और मैं कोलकाता का रहने वाला हूँ. मेरी उम्र 21 साल है और मेरे लन्ड का साइज 7.5 इंच है. मेरे घर में बस मैं और मेरी मां ही रहते हैं. मेरी मां का नाम वंदना है और उनकी उमरा 40 साल है. उनका फिगर 36 30 38 का है. जब भी वह चलती हैं तो लगता है वाह क्या माल जा रही है. दोस्तों, वो काफी गोरी और सेक्सी हैं.

दोस्तों, मैं एक मिडिल क्लास फैमिली से हूँ. हमारा एक घर है और उसमें दो ही रूम हैं. मैं और मेरी मां एक ही साथ सोते हैं. जब मैं 12 साल का था, उसी समय मेरे पापा गुज़र गए थे.

पापा के गुज़र जाने के बाद हम लोगों ने घर में कपड़े की दुकान खोल ली. उसी से हमारे घर का खर्च चलता है. मेरे पापा के जाने के बाद मां का किसी से अफेयर चलने लगा था. जब मैं थोड़ा बड़ा हुआ तो मुझे शक होने लगा लेकिन मैंने इग्नोर करने लगा.

फिर कभी – कभी मां रात – रात भर घर ही नहीं आती थी. जब ऐसी स्थिति होती तो वह मुझे फ़ोन करके बोलतीं कि बेटा आज मैं अपने किसी दोस्त के घर में रुक रही हूँ इसलिए तुम खाना खाकर सो जाना.

कुछ दिन ऐसे ही चलता रहा. फिर एक दिन मैंने सोचा कि मां का पीछा करके देखता हूँ कि आखिर वो जाती कहां है? अब मैंने तय कर लिया था कि जिस भी दिन मां रात में कहीं रुकेगी मैं भी उसको देखूंगा कि क्या करती है?

अगले महीने मैं मां को मार्केट छोड़ने गया. तब मां बोली कि तुम घर जाओ मैं आ जाऊंगी. मैं थोड़ी दूर गया और जब मां आगे निकल गई तो मैं बाइक साइड में लगाकर उनका पीछा करने लगा.

इसी बीच मैंने देखा कि मां किसी आदमी से मिलीं और उसके साथ उसके घर चली गईं. मैं भी उनके पीछे – पीछे उस आदमी के घर तक पहुंच गया. जब वो अंदर चले गए तो मैं उनके गैराज के पास जाकर छुप गया. वहां एक होल था, जिससे अंदर रूम में क्या हो रहा है, बिल्कुल साफ दिखता था.

तब मैंने देखा कि मां उस आदमी की गोद में बैठ कर बात कर रही है. तभी उसने मां को किस किया और फिर वो दोनों एक – दूसरे से लिपट गए और जोरों से किस करने लगे. यह देख कर मेरा लन्ड खड़ा हो गया.

फिर उसने मां के सारे कपड़े उतार दिए और उन्हें पूरा नंगा कर दिया. उस समय मां कुछ बोल रही थी. लेकिन आवाज बाहर नहीं आ रही थी. फिर उसने मां को बेड पर लिटा दिया और उनकी टांगें ऊपर कर के चूत में उंगली करने लगा. उसके ऐसा करने से मां सिसकारियां लेने लगी और उनके मुंह से ‘आह आह ऊह ऊह’ की आवाज निकलने लगी.

फिर उसने मां से अपना लन्ड मुंह में लेने को कहा. मां मना करने लगी लेकिन वह नहीं माना और ज़बरदस्ती अपना लन्ड मां के मुंह में घुसेड़ दिया. थोड़ी देर बाद मां भी मज़े से लन्ड चूसने लगी.

फिर उसने मां को कुतिया बना दिया और उसकी गाण्ड से लन्ड को सटा दिया. इस पर मां ने कहा कि गाण्ड में मत डालना, बहुत दर्द होता है और मेरे बेटे को वैसे भी मुझ पर शक होता है. दर्द होगा तो उसे और शक हो जाएगा.

उसने मां की एक न सुनी और लन्ड कंडोम चढ़ाकर मां की गाण्ड में पेल दिया. दर्द की वजह से मां चिल्ला उठी. लेकिन उसने रहम नहीं दिखाई और मां की गाण्ड के साथ – साथ उनकी चूत का भोसड़ा बना दिया. ये सब देखने के बाद मैंने वहीं मुठ मारी और घर वापस आ गया.

उस दिन से मैंने सोच लिया कि मैं अपनी मां को किसी से नहीं चुदवाने दूंगा, मैं खुद ही खुश रखूंगा. फिर मैं जब भी मां को देखता मेरा लन्ड खड़ा हो जाता. लेकिन चोदने का कोई बहाना नहीं मिल पा रहा था. एक रात मैं और मेरी मां लेटे हुए थे. उस दिन मां की तबीयत कुछ खराब थी इसलिए वो सो गईं थी.

मुझे नींद नहीं आ रही थी इसलिए मैं इधर – उधर पलट रहा था. तभी मां उठीं और बोली – बेटा मीठी कमर में बहुत दर्द हो रहा है, जरा तेल लगाकर मालिश कर दो. मैंने हामी भर दी.

दोस्तों, मेरी मां ब्रा नहीं पहनती है. उस दिन उन्होंने नाइटी पहनी हुई थी. मेरे हां कहने के बाद फिर मां पेट के बल लेट गई और नाइटी को ऊपर कर लिया. नीचे उन्होंने ब्राउन कलर की पैंटी पहन रखी थी. अब मुझे उनकी गाण्ड साफ नज़र आ रही थी.

फिर मैंने तेल लिया और मां की पीठ और कमर पर लगाने लगा. नाइटी की वजह से मालिश ढंग से नहीं हो पा रही थी तो मैंने मां को नाइटी उतारने को कहा और उन्होंने उतार दी. अब मैं अच्छे से मालिश करने लगा.

मालिश करते – करते मैं मां के बूब्स को भी टच कर रहा था. ऐसा करने में मुझे बहुत मज़ा आ रहा था और मेरा लन्ड भी तन गया था. फिर जब मैं उनकी गाण्ड के आसपास मालिश कर रहा था तो मैंने जान बूझकर अपनी एक उंगली उनकी चूत से सटा दी. इस पर मां कुछ नहीं बोलीं. इससे मेरा हौसला बढ़ा और मैंने अपनी उंगली थोड़ा और अंदर कर दी.

यह देख मां बोली छोड़ दो आराम हो गया, अब सो जाओ. तब मैंने कहा कि मां मेरी नींद टूट चुकी है इसलिए अच्छे से मालिश ही कर देता हूँ. फिर उनकी पीठ की मालिश करते – करते मैंने मां के बूब्स को पकड़ लिया और उनके ऊपर लेट गया.

यह देख कर मां बोली – क्या कर रहा है, शरम नहीं आती तुझे? मैंने मां की बात को अनसुना कर दिया और उनके बूब्स को जोर – जोर से दबाने लगा. इस पर मां ने पकड़ कर मेरा हाथ हटाया और मुझे जोर से एक चाटा मारते हुए बोली – कहां से सीखा ये सब? मैं तुम्हारी मां हूँ और तुम मेरे साथ ये सब कर रहे हो?

तब मैंने अपना मोबाइल निकाला और बोला कि ये सब फ़ोटो किसके हैं और ये इस वीडियो में तुम क्या कर रही हो? बहुत अच्छा काम है न ये जो कर रही हो! फिर थोड़ी देर रुकने के बाद मैंने कहा कि तुम क्या करती हो किससे मिलती हो मुझे सब पता है. यह सुनते ही मां घबरा गईं और रोते हुए बोलीं – तुम्हारे पापा छोड़ कर चले गए तो मैं किसके सहारे जीती. कोई तो चाहिए था न!

यह सुन कर मैंने मां को पकड़ कर चूमने लगा और बोला- मां तुम्हारा बेटा अभी है, तुमको कहीं भी बाहर जाने की जरूरत नहीं है. यह सुन कर मां बोली – तू बेटा है मेरा. मैं बोला – बेटा हूँ इसीलिए तो फिक्र करता हूँ. आज से तुम कहीं नहीं जाओगी, मैं तुम्हें प्यार करूँगा.

इतना कहने के बाद फिर मैंने मां को गले लगाया और किस किया. मां समझ नहीं पा रही थी कि उनके साथ क्या हो रहा है. फिर उस रात हम लोग सो गए.

सुबह उठने के बाद शरम की वजह से मां मुझसे आंख नहीं मिला पा रही थी. मां ने मुझे चाय दिया और कहा मैं नहाने जा रही हूँ. इस पर मैंने कहा कि मैं भी चलता हूँ नहाने तो मां शरमा गईं और जल्दी से अंदर जाकर बाथरूम लॉक कर लिया.

यह देख मैंने कहा कि मां दरवाजा खोलो अब क्यों शरमा रही हो? तब मां ने दरवाजा खोल दिया और फिर मैं बाथरूम में जाकर नंगा हो गया. मां भी नंगी थी. फिर हमने साथ में ही नहाया और बाहर आ गए.

उसके बाद मैं अंदर वियर में और मां ने केवल नाइटी पहन ली थी. दोपहर में मां किचन में खाना बना रही थी तब मैं अंदर गया और पीछे से पकड़ कर नाइटी उठा दी और उनकी गाण्ड पर हाथ फेरने लगा. इस पर मां बोली – बेटा अभी नहीं रात में. यह सुन कर मैंने मां को किस किया और वापस आकर रात का इंतज़ार करने लगा.

आखिर वो रात हो ही गई. हम लोग रात के 10 बजे खाना खा चुके थे और टीवी देख रहे थे. तभी मैंने में ब्लू फ़िल्म लगा दी और मां के पास जाकर उनके बूब्स दबाने लगा. मां के बूब्स एक दम टाइट थे.

थोड़ी देर बाद मां भी जोश में आ गईं. फिर वे मेरी पूरी बॉडी में किस करने लगीं. इसी बीच मैंने मां को पूरा नंगा कर दिया. तब मां बोली – हम लोग गलत नहीं कर रहे हैं? इस पर मैंने कहा कि हम लोग एक – दूसरे को प्यार दे रहे हैं, इसमें गलत क्या है.

इतना कहने के बाद फिर मैंने मां के लिप्स को अपने होंठों में कैद किया और करीब 5 मिनट तक किस करता रहा. मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैं किसी 18 साल के माल के साथ ये सब कर रहा हूँ. उसके बाद फिर मैं मां की चूत में उंगली करने लगा.

उंगली करने से मां और उत्तेजित हो गईं और वो ‘आह आह नहीं नहीं दर्द हो रहा है’ कहने लगीं. तब मैंने कहा कि मुंह में लोगी? तो उन्होंने उसके लिए मना कर दिया. इस पर मैंने कहा वीडियो दिखाऊँ क्या! फिर क्या था उन्होंने मेरा लन्ड पकड़ा और चुसाई करने लगीं. वो काफी देर तक लन्ड चूसती रही फिर बोलीं – अब मत तड़पाओ, अब डाल भी दो.

यह सुनते ही मैंने लन्ड उनकी चूत पर सेट किया और धक्का दे दिया. इस धक्के के साथ मेरा लन्ड उनकी चूत में घुस गया. लन्ड अंदर जाने से मां को दर्द हुआ और चीख उठीं और बोलीं – मर गई, धीरे – धीरे करो दर्द हो रहा है.

अब मैं धीरे – धीरे लन्ड अंदर बाहर करने लगा. थोड़ी देर बाद वह भी अपनी चूत ऊपर उठा कर लन्ड अंदर लेने लगीं. करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद मैं उनकी चूतइन झड़ गया. इस दौरान वो पता नहीं कितनी बार झड़ी.

उस रात हमने 3 बार चुदाई की. उस दिन के बाद जब भी हमारा मन करता तब चुदाई करते. अब मुझे गर्लफ्रेंड की कमी नहीं महसूस होती थी. मेरी मां मेरी बीवी से कम नहीं हैं. अगर आप लोगों को मेरी यह कहानी अच्छी लगी हो तो कमेंट करके जरूर बताएं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *