न चाहते हुए भी छोटे भाई से चुद गई

मेरा भाई देखने में काफी आकर्षक है. मैं भी बहुत खूबसूरत हूं. मेरे कई बॉयफ्रेंड हैं लेकिन मैंने उन्हें खुद को हाथ भी नहीं लगाने दिया. लेकिन एक रात ऐसा कुछ हुआ कि न चाहते हुए भी मैं अपने छोटे भाई से चुद गई…

हेलो फ्रेंड्स, मैं निकिता दिल्ली की रहने वाली हूं. आज मैं आपको एक ऐसी कहानी बताने जा रही हूं, जिसमें रिश्तों की मर्यादा तार – तार हो गई थी. पर क्या करें? जब आग पास होती है तो मोम पिघल ही जाता है. मैं भी मोम की तरह पिघल गयी. जब मेरे छोटे भाई का लन्ड मेरे चूतड़ में सट रहा था तो मैं चाह कर भी कुछ नहीं कर पाई. मैं चुदना नहीं चाहती थी पर मैं मजबूर थी, मुझे मेरी हवस ने चुदने के लिए राजी कर लिया, खैर जो हो गया सो गया.

अब मैं अपनी कहानी पर आती हूं. मेरी उम्र 21 साल है और मेरी ये कहानी पिछली सर्दियों की है. हमारे घर में मेरे पापा – मम्मी और मेरा एक छोटा भाई है. मेरे भाई का नाम जतिन है और वो देखने में काफी खूबसूरत है. अभी वो कॉलेज में पढ़ता है और 19 साल का नौजवान लड़का है.

मैं भी देखने में किसी से कम नहीं हूं. मेरी उभरी हुई चूचियों को देख कर कोई भी डोल जाता है और जब वो मेरे चूतड़ को निहारता है तो बिना मुठ मारे उसका लन्ड शांत नहीं हो सकता.

मैं हमेशा डिज़ाइनर ब्रा और पैंटी पहनती हूं. मेरी ब्रा का साइज 34 है. मेरे कई बॉय फ्रेंड है पर आज तक किसी भी बॉयफ्रेंड से चुदी नहीं हूं. मेरी सील तो मेरी भाई ने ही तोड़ी है.

एक दिन रात को हम दोनों भाई बहन टीवी पर एक मूवी देख रहे थे. खाना खाने के बाद पापा – मम्मी दोनों सोने चले गए थे. हम दोनों मेरे ही बेड पर बैठ के टीवी देख रहे थे, भाई का बेड बगल बाला था. टीवी देखते – देखते दोनों कब सो गए पता ही नहीं चला.

रात को पता नहीं मुझे क्या हुआ मैं अपने भाई का लन्ड निकाल के सहलाने लगी थी. उस टाइम मैं नींद में थी और शायद किसी सपने की वजह से ऐसा करने लगी थी. लेकिन लन्ड सहलाते – सहलाते जब नींद खुली तो अपनी स्थिति देख कर मैं पसीने – पसीने हो गई और सोचा कि हे भगवान ये क्या हो गया है? मैं तो अपने भाई के लंड को ही सहला रही थी, अगर वो जगा होगा तो मेरे बारे में क्या सोचेगा?

मैं हैरान थी. मैंने तुरन्त अपना हाथ हटाया और उसका लन्ड अंदर कर दिया. फिर जब कुछ देर तक उसकी तरफ से कोई हरकत नहीं हुई तो मैं चुपचाप घूम कर लेट गई. करवट लेने के बाद मैंने महसूस किया कि मेरा भाई सो नहीं रहा था. उसकी सांसें तेज थीं और थूक गटकने की आवाज़ साफ़ – साफ़ आ रही थी, जिससे पता चल रहा था कि वो नहीं सो रहा है. यह जान कर मैं शर्म से और भी पानी – पानी हो गयी.

अब मेरी आंखों से नींद गायब हो चुकी थी. करीब पंद्रह मिनट के बाद जब भाई को लगा कि मैं सो गई हूं तो वह मेरी तरफ घूम गया और मेरी गांड के बीच में अपना लंड लगा दिया. जब उसने शुरू में लन्ड मेरी गांड से सताया था तब ज्यादा पता नहीं चल रहा था पर थोड़ी ही देर में उसका लन्ड मोटा और लंबा होकर मुझे महसूस होने लगा.

उसका लंड मेरी गांड के बीचों बीच था, पर वो ना हिल रहा था ना मैं हिल रही थी. फिर भाई ने कपड़े के ऊपर से लन्ड को एक – दो बार ऊपर नीचे किया. इससे मैं बैचेन हो गयी. आज तक मेरे यौनांगों से किसी मर्द के लन्ड का स्पर्श नहीं हुआ था.

धीरे – धीरे मैं उत्तेजित होने लगी और फिर अचानक मैंने दबाव बनाकर अपनी गांड को भाई की तरफ किया और सोने का नाटक करने रही. यह देख भाई ने अपनी एक टांग मेरे ऊपर चढ़ा दी और अपने लंड को निकाल कर मेरे दोनों जांघों के बीच में घुसा दिया.

फिर उसने हाथ आगे किया और मेरी टी – शर्ट में डाल कर ब्रा के ऊपर से ही बूब्स दबाने लगा. मैं अभी चुपचाप पड़ी थी. थोड़ी देर बाद फिर उसने पीछे से मेरी ब्रा का हुक खोल दिया और मेरे बड़े – बड़े मम्मों को अपने हाथ में लेकर दबाने लगा. उसकी सांसें तेज चल रही थीं.

इतना सब हो जाने के बाद भी मैं सोने का नाटक करती रही. उसके ऐसा करने से मेरी बुर पानी – पानी हो रही थी. मैं इतनी उत्तेजित हो चुकी थी कि मुझे लग रहा था मैं ही उसके ऊपर चढ़ जाऊं और उसके मोटे लन्ड को पकड़ ल अपनी बुर में घुसा लूं.

फिर उसने पहले मेरा लोवर और फिर पैंटी को और नीचे खिसका दिया. इसके बाद वह कभी मेरी गांड के छेद को तो कभी बुर के छेद को सहलाने लगा. मेरी बुर लगातार पानी छोड़ रही थी, जिससे उसको भी समझ आ गया था कि मैं सोयी नहीं जग गयी हूं. पर क्या करे वो भी? उससे भी कंट्रोल नहीं जो रहा था, आखिर आग और मोम का सवाल जो ठहरा है.

फिर उसने पीछे से मेरी बुर के ऊपर लन्ड को रखा और एक बार डालने की कोशिश की लेकिन उसका लन्ड अंदर नहीं गया. मेरी बुर काफी टाइट थी. आज तक मैं किसी से चुदी भी नहीं थी इसलिए मुझे दर्द हो रहा था. दूसी तरफ चुदने का भी मन था इसलिए मैं भी उसके लंड के लिए जगह बना रही थी.

उसने एक बार फिर से ट्राई किया. करीब 4 इंच तक उसका लन्ड मेरी चूत में घुस गया. लन्ड पहली बार अंदर जाने से मुझे काफी दर्द होने लगा. मेरी चूत जलने सी लगी थी. तभी मैंने महसूस किया कि मेरी बुर की सील टूट चुकी है क्योंकि चूत से गर्म खून से निकलता महसूस जो रहा था.

दर्द और जलन के साथ – साथ मेरी चूत में सुरसुरी सी होने लगी थी और मैं वासना में पूरी तरह डूब चुकी थी. अब मैंने सोने का बहाना करना छोड़ दिया और खुल के मज़े लेने लगी. तभी भाई ने फिर से एक धक्का लगाया और पूरा लंड मेरी बुर को फाड़ता हुआ अंदर चला गया.

पूरा लन्ड अंदर जाने के बाद फिर वो धक्के पर धक्का लगाने लगा. दूसरी तरफ मैं भी अपनी गांड को उससे सटाये जा रही थी ताकि लन्ड और अंदर तक घुस सके. वो मुझे मज़े से चोद रहा था और मैं मस्त होकर चुदवा रही थी.

फिर वो उठा और मुझे खींच कर पीठ के बल लिटा दिया और फिर मेरे ऊपर चढ़ गया. फिर उसने मेरी दोनों टांगों को फैलाया और तेजी के साथ धक्के मारने लगा. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. मैं निहाल हुई जा रही थी. फिर मैंने भी उसको अपनी बाहों में भर लिया और किस करने लगी.

अब उसकी स्पीड और बढ़ गई थी. वो अपनी बहन को चोदे जा रहा था. मेरी चूत में धक्के पर धक्का मार रहा था. वो जब भी धक्का लगाता तो लन्ड और अंदर तक लेने की कोशिश में मैं करीब 6 इंच ऊपर उठ जाती फिर नीचे आ जाती.

वह भी मज़े लेकर मुझे चोद रहा था. उसने मेरे चूचों में हाथ में ले रखा था. कभी वह उन्हें मसल देता तो कभी मुंह में लेकर चूसने लगता. करीब 20 मिनट बाद वो झड़ गया. तन तक मैं तो तीन बार झड़ चुकी थी. फिर दोनों ने अपने कपड़े पहने और मेरे ही बेड पर एक – दूसरे को पकड़ के सो गए.

तो दोस्तों, इस तरह मैंने अपनी पहली चुदाई का मज़ा अपने भाई से लिया. अब तो मैं रोज ही उससे चुदती हूं. इस महीने तो मेरा मासिक धर्म भी नहीं हुआ. डर लगता है कि कहीं मैं प्रेग्नेंट न हो गयी होऊं. पता नहीं आगे क्या होगा. लेकिन इतना जरूर है इस डर के बावजूद हमारी चुदाई जारी है उस पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा. आप सब को मेरी कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करके जरूर बताएं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

One Reply to “न चाहते हुए भी छोटे भाई से चुद गई”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *