ननिहाल में नानी को चोदा

मैं अपने ननिहाल में रहता हूं. मुझे मेरी नानी बहुत अच्छी लगती थीं. मैं उन्हें चोदना चाहता था. लेकिन मौका नहीं मिल रहा था. इसलिए मुझे मुठ मार कर संतोष करना पड़ता था. एक दिन मैं उनके अंडर गारमेंट्स लेकर उन्हें इमैजिन करके मुठ मार रहा था तभी नानी ने मुझे देख लिया. फिर आगे क्या हुआ ये जानने के लिए आपको पूरी कहानी पढ़नी होगी…

हेलो दोस्तों, मेरा नाम एकम है और मैं पंजाब का रहने वाला हूं. मेरी उम्र 20 साल है औए ये जो कहानी मैं आप लोगों को बताने जा रहा हूं वो मेरी और मेरी नानी की है.

कहानी में आगे बढ़ने से पहले मैं आपको अपनी नानी के बारे में बता देना चाहता हूं. मेरी नानी बहुत खूबसूरत हैं. उनका फिगर 38 36 38 का है. उनकी उम्र 48 साल है. लेकिन उन्होंने अपनी बॉडी इतनी फिट बना रखी है कि 30-32 से ज्यादा की नहीं लगतीं. मैं जब भी उन्हें देखता हूं मेरा लन्ड खड़ा हो जाता है. तब मैं उनको इमैजिन करके मुठ मार लेता हूं.

दोस्तों, मैं ज्यादातर समय अपने ननिहाल में रहता था. एक दिन मैं नानी की ब्रा लेकर उन्हें इमैजिन करके मुठ मार रहा था कि तभी वो आ गईं और उन्होंने मुझे मुठ मारते देख लिया. लेकिन उन्होंने कहा कुछ नहीं चुपचाप पीछे मुड़ के रूम से बाहर चली गईं.

मैं डर गया था कि कहीं नानी ये बात किसी से बता न दें. यही सोच के फिर मैंने अपना लन्ड अंदर किया और नानी से माफी मांगने के लिए उनके रूम में गया. मुझे देख के वो बोलीं – तुम रूम में क्या कर रहे थे? मुझे कोई जवाब नहीं सूझ रहा था तो मैंने उनसे कहा कि प्लीज नानी मुझे माफ कर दो, अब से ये सब मैं फिर कभी नहीं करूंगा. इतना कह के मैंने रोनू सा मुंह बना लिया. यह देख नानी बोलीं – ठीक है माफ किया लेकिन अब से मत करना. मैंने हां में सर हिलाया और चला गया.

फिर रात हुई और हमने डिनर किया. इसके बाद मैं सोने चला गया. दोस्तों, मैंने आपको बताया नहीं कि मेरी नानी भी उसी रूम में मेरे बगल में ही सोती हैं. उस दिन भी वहीं सो रही थीं. अचानक रात के 2 बजे मेरी नींद खुल गई और मेरी नज़र नानी के बड़े – बड़े दूध पर पड़ी तो मेरा लन्ड खड़ा हो गया. फिर मैंने हिम्मत करके नानी के पेट पर हाथ रख दिया और फिर धीरे – धीरे हाथ उनके दूध पर ले गया और फिराने लगा. इसके साथ ही एक हाथ से मुठ भी मारने लगा. थोड़ी देर बाद मेरे लन्ड ने अपना माल छोड़ दिया और फिर मैं सो गया.

अब मेरा ये रोज का नियम बन गया था. मैं रोज नानी के दूध दबाता और मुठ मार कर सो जाता था. ऐसा करते – करते 2 महीने बीत गए.

ऐसे ही एक रात जब मैंने नानी के दूध पर हाथ रखा तो मेरा मन हुआ कि उनकी चूत पर भी हाथ रख के देखा जाए. फिर मैंने हिम्मत करके उनकी चूत पर रख दिया और धीरे – धीरे उनकी चूत सहलाने लगा. जब उन्होंने कोई विरोध न किया तो मैंने हाथ उनकी सलवार के अंदर डाल दिया. उनकी चूत पर काफी बाल थे. फिर मैं धीरे – धीरे उनकी चूत सहलाने लगा.

तभी अचानक नानी ने अपना हाथ पीछे किया और मेरे लन्ड पर रख दिया. मैं डर गया और सोने की एक्टिंग करने लगा. तभी नानी उठीं और पैंट के ऊपर से ही मेरे लन्ड को सहलाने लगीं.

थोड़ी देर बाद उन्होंने मेरे पैंट की ज़िप खोली और लन्ड बाहर निकाल कर उसे ऊपर – नीचे करके मुठ मारने लगीं. यह देख मैं दंग ह गया. फिर मैं उठा और अनजान बनने की एक्टिंग करते हुए नानी से कहा कि ये आप क्या कर रही हो? इस पर नानी हंस पड़ीं और बोलीं – मुझे पता कि तुम रोज मेरे दूध दबाते हो.

यह सुन कर मैं हैरान रह गया और बोला कि नानी अगर आपको पता है कि मैं आपके दूध दबाता हूं तो अपने आज तक मुझे रोका क्यों नहीं? इस पर नानी बोलीं – इसलिए क्योंकि मुझे भी बहुत मज़ा आता था.

यह सुन कर मेरी हिम्मत बढ़ गई और मैंने कहा कि नानी मैं आपको चोदना चाहता हूं. तब नानी बोलीं कि अब मैं तेरी ही हूं, जो दिल करे कर ले. यह सुनते ही मैं बिना टाइम वेस्ट किए नानी के ऊपर टूट पड़ा और उनके होंठों पर किस करने लगा. नानी भी मेरा साथ दे रही थीं.

फिर थोड़ी देर बाद मैंने नानी के और अपने कपड़े उतार दिए. अब हम दोनों एक दम नंगे थे. फिर मैं नानी के दूध को मुंह में लेकर चूसने लगा. उधर नानी ने एक हाथ से मेरा लन्ड पकड़ लिया और हिलाने लगीं.

थोड़ी देर लन्ड हिलाने के बाद नानी ने मेरे लन्ड को अपने मुंह में ले लिया और मज़े से चूसने लगीं. बहुत मज़ा आ रहा था दोस्तों. करीब 10 मिनट तक लन्ड चुसवाने के बाद फिर मैं नानी के मुंह में ही झड़ गया और नानी ने मेरे लन्ड से निकला सारा पानी चाट कर लन्ड साफ कर दिया.

अब मैंने नानी को बेड पर लिटा दिया और उनकी चूत चाटने लगा. मेरे ऐसा करने से नानी सिसकियां लेने लगीं. कुछ देर बाद मैं बेड पर सीधा लेट गया और नानी मेरे मुंह पर अपनी चूत रख कर बैठ गईं. मैं फिर से उनकी चूत चाटने लगा. करीब 5 मिनट बाद नानी मेरे मुंह में ही झड़ गईं और मैं उनका सारा पानी पी गया.

इसके बाद नानी मेरे लन्ड को हाथ में। लेकर फिर हिलाने लगीं. जिससे थोड़ी ही देर में वह खड़ा हो गया. फिर मैंने नानी को सीधा किया और वह अपनी टांगें खोल के बेड पर लेट गईं. अब मैंने अपना लन्ड नानी की चूत पर सेट किया और एक ही धक्के में पूरा लन्ड अंदर पेल दिया. नानी चिल्लाने लगीं थी और मैं जोर – जोर से धक्के मारने लगा.

थोड़ी देर बाद फिर नानी भी मेरा साथ देने लगीं. मैं मज़े से धक्के लगा रहा था और नानी भी अपनी गांड उठा – उठा कर चुद रही थीं. बहुत मज़ा आ रहा था. करीब 20 मिनट की चुदाई के बाद मैं नानी की चूत में ही झड़ गया.

इसके बाद थोड़ी देर मैं उनके ऊपर ही लेटा रहा और फिर उन्हें घोड़ी बनने को कहा. वो घोड़ी बन गईं और फिर मैं सांड की तरह उनकी गांड चाटने लगा. बहुत मज़ा आ रहा था. मेरे ऐसा करने से नानी चिहुंकने लगीं.

थोड़ी देर बाद मेरा लन्ड फिर से खड़ा हो गया. फिर मैंने नानी की गांड पर लन्ड सेट किया और धक्का मार कर अंदर कर दिया. गांड में लन्ड जाते ही नानी की चीख निकल गई. उन्हें बहुत दर्द हो रहा था. अब वह लन्ड बाहर निकालने के लिए कहने लगीं लेकिन मैंने नहीं निकाला, बस चोदता रहा.

थोड़ी देर बाद जब नानी की गांड ढीली हुई तो उन्हें भी मज़ा आने लगा और वह धीरे – धीरे अपनी गांड हिलाने लगीं. मैंने करीब 15 मिनट तक उनकी गांड मारी और फिर उसी में झड़ गया.

दोस्तों, उस रात मैंने कुल 6 बार नानी की चूत और गांड मारी. सुबह नानी पहले उठीं. फिर उन्होंने मुझे भी जगाया और हम साथ में नहाने लगे. नहाने के बाद हमने ब्रेकफास्ट किया और मौका मिलने पर एक बार फिर चुदाई की और फिर सो गए.

दोस्तों, अब जब भी हमें मौका मिलता है हम चुदाई जरूर करते हैं. आप लोगों को मेरी यह कहानी कैसी लगी? कमेंट करके जरूर बताएं.

“ननिहाल में नानी को चोदा” पर एक उत्तर

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *