नए कॉलेज का नया माल

अब वह मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. फिर हम 69 की पोजीशन में आ गए. अब वो मेरे लंड को चूस रही थी और मैं उसकी चूत को चाट रहा था. फिर हम 20 मिनट तक इसी पोजीशन में रहे. उसके बाद मैंने उसे सीधा लेटाया और फिर उसकी चूत चाटने लगा. करीब 10 मिनट की चूत चटाई के बाद उसने अपना पानी छोड़ दिया. मैं उसका सारा पानी पी गया…

हेल्लो दोस्तों! मेरा नाम अभय सिंह है और मैं राजस्थान का रहने वाला हूँ. दोस्तों, मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ और मैंने अन्तर्वासना पढ़ना शुरू करने के बाद प्रकाशित लगभग हर कहानी को पढ़ा है. अन्तर्वासना पर कहानियां पढ़ कर मैंने कई बार हस्त मैथुन किया है.

अब मैं आप लोगों का ज्यादा वक़्त बर्बाद न करते हुए सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ. यह कहानी मेरी और मेरी गर्लफ्रेंड पूजा की है. लेकिन कहानी शुरू करने से पहले मैं आपको अपने बारे में बता देना चाहता हूँ. मैं 20 साल का एक जवान और शरीर से मजबूत लड़का हूँ. मेरी हाइट 5 फिट और 11 है तथा मेरे लण्ड का साइज़ करीब 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है और अभी मैं बी.ए. फाइनल ईयर में पढ़ रहा हूँ.

अब मैं आप सबको अपनी गर्लफ्रेंड के बारे में बता देता हूँ. मेरी गर्लफ्रेंड का नाम पूजा (बदला हुआ नाम) है. वो बहुत ही खूबसूरत और सेक्सी लड़की है. उसका फिगर 32-28-34 का है. उसका फिगर जान कर तो आपको पता चल ही गया होगा कि वो कितनी सेक्सी है.

अब मैं सीधा कहानी पर आता हूँ. तो दोस्तों, मेरी और पूजा की दोस्ती कॉलेज में हुई थी. हम दोनों एक ही क्लास में पढ़ते थे. वो बहुत खूबसूरत थी तो मैंने जब कॉलेज के पहले दिन जब उसको देखा तो बस देखता ही रह गया. उसने उस दिन नीचे टाइट जीन्स व ऊपर ब्लैक कलर का टॉप पहन रखा था. उसको देख कर मैंने उसी दिन से ठान लिया था कि इस लड़की को किसी भी तरह से पटा कर इसकी गांड जरूर मारूंगा.

वो हमेशा कॉलेज आती थी और मैं रोज उसे देखता रहता था. कुछ दिन ऐसे ही गुजर गए. कॉलेज में मैं उसको देखता और घर जाकर उसके नाम की मुठ मार लेता और फिर ख्वाबो में ही उसे चोद भी देता था.

एक दिन जब वो कॉलेज आई तो वो काफी बन – ठन कर आई थी. लाल कलर की टॉप और ब्लैक कलर की स्कर्ट में वो कहर ढ़ा रही थी. उस दिन उसको देख कर मैंने ठान लिया था कि आज इसे प्रपोज़ कर ही दूंगा. अब मैं मौका की तलाश में था. लंच के समय वो क्लास में अकेली बैठी थी. उसे अकेले बैठे देख मैंने हिम्मत कर के उससे कहा कि पूजा, मुझे तुमसे कुछ कहना है.

मेरी बात को सुन कर उसने कहा, “हां, कहो क्या कहना है?” तो मैंने कहा, “पूजा, मैं तुम्हे पसंद करता हूँ. क्या तुम मुझसे फ्रेंडशिप करोगी?” इस पर वो कुछ नहीं बोली और चुपचाप उठ कर वहां से चली गयी. मुझे लगा शायद वो बुरा मान गयी. यह सोच कर अब मैं भी थोड़ा सा डर सा गया था.

अगले दिन जब वो कॉलेज आई तो मैंने उसे सॉरी बोला और कहा कि कल की बात के लिए मुझे माफ़ कर दे. तो उसने कहा कि नहीं ऐसी कोई बात नहीं है. वैसे तो मैं भी तुम्हें पसंद करती हूँ.

उसके मुंह से यह सुन कर मैं मन ही मन खुश हो गया और चहक कर मैंने उससे पूछा, “तुम सच कह रही हो?” तो जवाब में उसने हाँ में अपना सिर हिला दिया. बस फिर क्या था, मैंने उसे जोर से पकड़ लिया और उसके होंठों पर एक लिप किस कर दिया. फिर मैंने उसे अपना मोबाइल नंबर दे दिया और अब उसने भी अपना नंबर मुझे दे दिया.

फिर हम कई दिनों तक फ़ोन पर बाते करते रहे. एक दिन मैंने उसे डिनर के लिए एक होटल ने बुलाया. तो वो आने के लिए राजी हो गयी. फिर मैंने उसे होटल का पता बताया और शाम के 8 बजे होटल में पहुंचने को कहा तो वो समय से वहां पहुंचने के लिए तैयार हो गयी.

फिर वो अगले दिन होटल पहुंच गई. उसने ब्लू जीन्स और लाल कलर का टॉप पहन रखा था. जिसमें वो बहुत सेक्सी दिख रही थी. फिर मैं उसे हॉटल के कमरे में ले गया. वहां जाकर मैंने उसे बेड पर बैठाया और वेटर को बुलाया और फिर मैंने उसे एक बियर लाने को कहा. थोड़ी देर बाद ही उसने एक बियर लाकर मुझे दे दी.

फिर मैंने एसी ऑन किया और उससे बियर पीने के लिए पूछा किया. पहले तो उसने मना कर दिया लेकिन फिर बाद में वह मान गयी. फिर हमने पूरी बियर की बोतल ख़ाली कर दी. चूँकि वह पहली बार बियर पी रही थी इसलिए उसे बहुत नशा हो गया था.

अब मैंने उसे संभाला और बेड पर लेटा दिया. फिर उसने मुझे भी बेड पर खींच लिया और अब वो मुझे किस करने लगी. फिर मैंने भी मौक़े का फायदा उठाया और उसे किस करने लगा. फिर धीरे – धीरे करके मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए. वो अब केवल ब्रा और पैंटी में मेरे सामने लेटी थी. उसकी ब्रा और पैंटी दोनों लाल कलर की थी, जोकि मुझे बहुत आकर्षित कर रही थी.

फिर मैंने अपनी शर्ट को उतार दिया और उसे किश करने लगा. जिससे वो मदहोश होने लगी. फिर थोड़ी देर बाद मैंने उसकी ब्रा और पैंटी भी खींच कर उतार दी. अब वो मेरे सामने पूरी जन्मजात नंगी थी. फिर उसने भी मेरी पैंट पर हाथ रखा और पैंट का हुक खोल दिया और फिर उसने खींच कर मेरी अंडर वियर फाड़ दी. जिससे मेरा लन्ड बाहर निकल आया.

अब वह मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. फिर हम 69 की पोजीशन में आ गए. अब वो मेरे लंड को चूस रही थी और मैं उसकी चूत को चाट रहा था. फिर हम 20 मिनट तक इसी पोजीशन में रहे. उसके बाद मैंने उसे सीधा लेटाया और फिर उसकी चूत चाटने लगा. करीब 10 मिनट की चूत चटाई के बाद उसने अपना पानी छोड़ दिया. मैं उसका सारा पानी पी गया.

फिर मैंने उसे पीठ के बल लेटा दिया और अपने लंड पर कंडोम लगाया और लंड को उसकी नाजुक सी चूत पर रख दिया और लन्ड को हल्के – हल्के हिलाने लगा. थोड़ी देर ऐसा करने के बाद फिर मैंने धीरे से एक धक्का दिया तो लण्ड का सुपारा उसकी चूत में घुस गया. जिससे उसे काफी दर्द हुआ और दर्द की वजह से उसकी चीख़ निकल गयी.

अब मैंने तुरन्त ही अपने होंठों से उसके होंठों को जकड़ लिया, जिससे उसकी आवाज बाहर नहीं निकल सकी. फिर कुछ देर रुकने के बाद मैंने एक जोरदार झटका मारा और मेरा पूरा का पूरा लण्ड उसकी चूत में घुस गया. इस बार दर्द की वजह से उसकी आँखों में आँसू आ गए थे.

फिर मैंने कुछ देर इंतज़ार किया. कुछ देर बाद जब वो नार्मल हुई और फिर वो भी मेरा साथ देने लगी. अब उसे भी मज़ा आने लगा था तो फिर मैंने अपने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी. फिर मैंने अपनी पोजीशन बदली और उसे सीधा लेटा दिया और उसके दोनों पैरों को अपने कंधों पर रखा और उसकी चूत में अपने लण्ड को अंदर – बाहर करने लगा.

लगभग 25 मिनट बाद मेरा स्खलन हो गया. मैंने अपना सारा वीर्य उसकी नाजुक सी चूत में ही भर दिया था. फिर मैंने अपना लण्ड बाहर निकाला और उसने चाट कर मेरे लंड को साफ कर दिया. उस रात मैंने उसकी 3 बार चुदाई की थी. बाद में मैंने देखा कि उसकी चूत सूज गई है. लेकिन उसने बिना कुछ कहे दर्द सह लिया.

तो दोस्तों, आप सब को मेरी ये कहानी कैसी लगी? आप मुझे मेल कर के बता सकते हैं. मेरी मेल आईडी –
[email protected]

“नए कॉलेज का नया माल” पर एक उत्तर

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *