पड़ोसन को लिफ्ट देकर मां बनाया

मेरे पड़ोस में एक औरत रहती थी. वह बहुत ही खूबसूरत थी. मैं उसे चोदना चाहता था लेकिन बात करने का कोई मौका ही नहीं मिल पा रहा था. एक बार वह मुझे रास्ते में मिल गई. मैंने उसे लिफ्ट दे दी और इस तरह हमारी बात शुरू हो गई, जो इतनी आगे तक बढ़ गईं कि आज वह मेरे एक बच्चे की मां है…

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम धर्मेंद्र प्रताप सिंह है और मैं 25 साल का हूं. मैं दिखने में काफी हैंडसम हूं और मेरी हाइट 5 फुट 4 इंच है. मेरा रंग गोरा है और मेरे लंड का साइज 5.2 इंच है.

बात तब की है जब मैं डिप्लोमा कर रहा था. उसी दौरान मेरी मुलाकात 30 साल की एक औरत से हुई. उसकी उम्र तो 30 साल थी लेकिन वह इतनी खूबसूरत और जवान लग रही थी कि देखने में 28 की भी नहीं लगती थी. उसकी हाइट 5 फुट थी और रंग एक दम दूध के जैसा गोरा था. उसके कूल्हे पीछे निकले हुए थे और गांड बड़ी ही मस्त थी. वह मेरे ही मोहल्ले में रहती थी.

एक दिन हुआ ये कि मैं अपनी बाइक से कहीं से आ रहा था. तभी रास्ते में वह भी मुझे आती दिखी. चूंकि हम लोग एक ही मोहल्ले में रहते थे तो मैंने उसे लिफ्ट देने के लिए बाइक रोकी और पूछा तो वह मेरी तरफ देख कर मुस्कुराने  लगी. फिर थोड़ी देर बाद मेरी बाइक पर बैठ गई.

फिर मैंने अपनी गाड़ी आगे बढ़ा दी और लक्ष्य तक पहुंचने में जुट गया. वह मुझसे काफी सट कर बैठी थी तो मैंने इसका फायदा उठाने की सोची. रास्ते में मैंने कई बार ब्रेक मारा और उसके बूब्स के स्पर्श का मजा लिया. दोस्तों, उसके बूब्स काफी बड़े – बड़े थे इसलिए जब वो मेरी पीठ से दबते तो मज़ा ही आ जाता. वह भी मेरे ऐसा करने पर कुछ बोल नहीं रही थी. शायद उसे भी अच्छा लग रहा था.

उसको घर पहुंचाने के बाद मैंने उससे उसका नंबर मांगा तो उसने बड़े आराम से मुझे अपना मोबाइल नंबर दे दिया. फिर मैं अपने घर आ गया. रास्ते में मैं उसके बारे में ही सोचता रहा.

घर आने पर भी मेरे दिमाग में बस वो ही बसी थी. काफी देर तक इधर – उधर करने के बाद फिर मैंने उसके व्हाट्सएप पर ‘हाय’ लिख कर मैसेज कर दिया. उसने भी तुरंत हाय लिख कर जवाब दिया. फिर हमारी बात होने लगी. उस दिन हमने काफी देर तक बातें की.

उसके बाद से हम दोनों में रात में चैट होने लगी. धीरे – धीरे मैं हमारी चैटिंग का रुख चुदाई की तरफ ले जाने लगा और फिर हम दोनों सेक्सी चैट करने लगे. चूंकि आग दोनों टफ लगी थी, वज भी मुझसे चुदना चाहती थी तो कोई दिक्कत नहीं हो रही थी. धीरे – धीरे वह मुझसे एक दम खुल गई थी.

फिर धीरे – धीरे हम वीडियो सेक्स चैट भी करने लगे. ऐसे कैमरे के सामने ये सब करने में बड़ा मज़ा आता था. अब कभी मैं अपना हिलाता और वह अपनी चूत में उंगली करती तो कभी अपने मम्मों को मसलती और फिर हम ऐसे ही करके सो जाते थे.

ये हमारा रोज का काम हो गया था. ऐसे बातों ही बातों में महीने भर बीत गए. अब हमसे रहा नहीं जा रहा था. दोस्तों, मैं एक बात आप लोगों को बताना भूल गया था वो ये कि मैं अपने रूम पर अकेले रहता था.

एक दिन मैंने उसे अपने रूम पर आने को कहा. आग तो उधर भी लगी हुई थी इसलिए वो भी झट से आने को तैयार हो गई. करीब 2 घण्टे बाद वह तैयार होकर मेरे कमरे पर आई. उस दिन उसने गुलाबी रंग की साड़ी पहन रखी थी, जिसमें वह गजब की माल लग रही थी.

उसके कमरे में घुसते ही मैंने कुंडी लगाई और उसके होठों पर टूट पड़ा और उसे पकड़ कर जम के किस किया. मैं करीब 5 मिनट तक उसको किस करता रहा. फिर मैंने उसको बिस्तर पर लिटा दिया और फिर उसकी साड़ी साइड करके ब्लाउज खोल दिया. नीचे उसने गुलाबी रंग की जालीदार ब्रा पहन रखी थी, जिसे देखते ही मैं उसके मम्मों पर टूट पड़ा. अब मैं अपने दोनों हाथ से उसके मम्मों को दबाने लगा. इस दौरान मैंने किस करना बंद ही किया था. मेरे ऐसा करने से थोड़ी देर में ही वह गर्म होने लगी और मुझे अपनी तरफ खींचने लगी.

काफी देर तक ऐसा करने के बाद फिर जब मैं उसके कपड़े उतारने लगा था तो उसने मुझे अपने से दूर कर दिया. फिर थोड़ी देर बाद वह खुद ही मेरे पास आई और मेरे पैंट की ज़िप खोल कर उसने मेरे लंड को बाहर निकाला और हाथ में लेकर हिलाने लगी. थोड़ी देर लंड हिलाने के बाद उसने अचानक ही उसे मुंह में ले लिया और चूसना शुरू कर दिया. क्या मस्त तरीके से लंड चूस रही थी वह. बहुत मज़ा आ रहा था. ऐसा लग रहा था जैसे मैं हवा में उड़ने लगा हूं.

लगभग 10 मिनट तक वह मेरा लंड चूसती रही. उसके बाद फिर मैंने उसकी ब्रा और पेटीकोट को खोल दिया. अंदर उसने गुलाबी कलर की ही पैंटी पहन रखी थी. अगले ही पल मैंने उसकी पैंटी को भी खींच कर नीचे कर दिया. अब वह मेरे सामने बिल्कुल नंगी खड़ी थी. उसकी चूत एक दम क्लीन शेव थी और ऐसा लग रहा था जैसे अभी अभी ही उसने अपनी झांटें साफ की हैं.

माफ करना दोस्तों, एक बात तो मैं आप लोगों को बताना ही भूल गया. वो शादीशुदा थी लेकिन इसके बावजूद उसकी चूत काफी टाइट लग रही थी और उससे लगातार काम रस रिस रहा था. उसकी टाइट और रसीली चूत देख कर मुझसे रहा न गया और मैं अपने फॉर्म में आने लगा.

वह भी अब तक पूरी तरह गर्म हो चुकी थी. अब उसके लिए भी कंट्रोल करना मुश्किल था तो वह मुझे अपनी चूत में मेरा लंड डालने के लिए बोलने लगी लेकिन मैं भी इतनी जल्दी कहां डालने वाला था. मैं उसे और तड़पाना चाहता था. इसलिए फिर मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत में घुसा दिया और पहले तो धीरे – धीरे फिर जोर – जोर से अंदर – बाहर करने लगा.

मेरे ऐसा करने से उसे मज़ा आ रहा था. थोड़ी देर बाद जब वह पूरी तरह से गर्म हो गई तब मैं उसके ऊपर आ गया और मैंने अपना लंड उसके चूत पर लगाया. इसके बाद फिर मैंने एक धक्का दिया वह ठीक होती है लेकिन उसकी चूत टाइट होने की वजह से मेरा पूरा लंड अंदर नहीं जा पाया. इसलिए मैंने दोबारा धक्का दिया, इस बार मेरा लौंडा पूरा उसकी चूत की जड़ तक घुस गया.

उसे थोड़ा दर्द हुआ लेकिन उसे ये पता था कि आगे जन्नत का सुख मिलने वाला है इसलिए उसने कुछ नहीं कहा. फिर मैं धीरे – धीरे धक्के लगाने लगा. कुछ देर बाद उसे भी मज़ा आने लगा और वह जोर – जोर से सेक्सी आवाजें निकालने लगी थी. पूरा कमरा उसकी आवाज से गूंज रहा था.

लगभग 30 मिनट की जोरदार चुदाई के वह दो बार झड़ चुकी चुकी थी. अब मेरा भी आने वाला था. मैंने उसे इस बारे में बताया तो उसने अपने दोनों पैरों से मेरी कमर को जकड़ लिया, जिससे मैं उसके अंदर ही झड़ गया.

इस तरह से उस दिन हम लोगों ने तीन बार चुदाई की. उसके बाद से हमें जब भी मौका मिलता हम एक – दूसरे के साथ खूब मजे करते हैं. अब तो उसको एक बच्चा भी है, जो मेरी ही औलाद है. दोस्तों, यह मेरा पहला सेक्स अनुभव था, आप लोगों को यह कैसा लगा कमेंट करके मुझे जरूर बताएं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *