पैर दबाकर आंटी ने चुदवाया

हमारे और आंटी के घर के संबंध काफी अच्छे थे. एक बार अंकल की नाईट ड्यूटी लग गई. तब मैं उनके घर पर रुका और रात में आंटी की जम कर चुदाई करी.

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम विवेक है और मेरी उम्र 23 साल है. मेरा लन्ड 8.5 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है. यहां पर यह मेरी पहली कहानी है. उम्मीद करता हूँ आप सब को पसन्द आएगी. ये मेरी और रेखा आंटी की एक रियल स्टोरी है. रेखा आंटी एक शादीशुदा औरत हैं और उनका रंग गोरा है. उनका फिगर 39-30-42 का है.

अब मैं अपनी कहानी शुरू करता हूँ. रेखा आंटी और हमारे घर में आपसी संबंध हैं. एक बार रेखा आंटी के पति की नाईट ड्यूटी लगी थी. दोस्तों, उनका घर थोड़ा सुनसान इलाके में है. इसलिए उस दिन अंकल ने रात को मुझे अपने घर पर रुकने के लिए कहा. जिस पर मेरे मम्मी – पापा ने हां कर दी.

फिर शाम को 7 बजे मैं आंटी के घर गया. उस समय अंकल भी घर पर थे. वहां पहुंचने के बाद हम आपस में बात करने लगे. करीब 8 बजे खाना – वाना खाकर अंकल ऑफिस चले गए. ऑफिस जाते समय उन्होंने आंटी से गेट बन्द करने के लिए कहा.

आंटी गेट बन्द करके आईं तब मैंने उन्हें ध्यान से देखा वो सच में काफी सुंदर लग रही थीं. दोस्तों, उनकी उम्र 36 साल है. उस दिन उन्होंने ग्रे कलर की साड़ी पहन रखी थी. वो मुझसे अक्सर दोस्त की तरह काफी खुल कर बात करती थीं.

गेट बन्द करके वह आईं और जहां मैं बैठा था वहीं पास में ही बैठ गईं. अब हम बात करने लगे. थोड़ी देर बाद मैंने आंटी से कहा कि मुझे नींद आ रही है. इस पर उन्हें थोड़ा आश्चर्य हुआ और वह बोलीं – इतनी जल्दी? तब मैंने उन9 बताया कि मेरे पैर में दर्द हो रहा है, इसलिए सोना चाहता हूँ.

यह सुन कर आंटी ने कहा – चल मैं तेरा पैर दबा देती हूँ क्योंकि तू भी तो आज मेरा बॉडीगार्ड बनके आया है. मैंने उन्हें ऐसा करने के लिए काफी मना किया लेकिन वो नहीं मानीं और मुझे बेड पर लिटा.

फिर मैंने अपनी जीन्स उतार दी और हाफ पैंट में आ गया. आंटी अभी भी साड़ी में थीं. अब आंटी मेरे पैरों पर मालिश करने लगीं. उनके हाथ का स्पर्श पाकर मेरा लन्ड धीरे – धीरे खड़ा होने लगा था. जिसे मैं छिपाने की कोशिश कर रहा था लेकिन आंटी समझ गई थीं.

मैं उठने की कोशिश की तो तेल नीचे गिर गया. इसके लिए मैंने उन्हें सॉरी कहा तो उन्होंने कहा कि कोई बात नहीं. फिर आंटी तेल साफ करने के लिए बेड से उतरने लगीं. तभी उनका पैर तेल पर पड़ा और वो फिसल कर गिर गईं.

फिर मैंने उन्हें उठाया. उनके घुटने पर चोट लग गई थी. जिससे उन्हें दर्द हो रहा था. यह देख मैंने उनसे कहा कि आप लेट जाओ मैं तेल साफ कर देता हूँ. अब आंटी लेट गईं. तेल साफ करने के बाद मैंने उनसे कहा कि आंटी लाओ मैं चोट पर मूव लगा देता हूँ. इसके लिए वह मान गईं.

मूव लगाते समय मैंने आंटी की साड़ी को घुटनों के ऊपर कर दिया. मूव लगाते समय मेरा ध्यान आंटी की जांघों पर गया. उनकी जांघें बहुत गोरी थीं. उन्हें देख कर मैं ऊपर गया और उनके जांघ पर हाथ फेरने लगा.

इसके लिए आंटी ने कुछ नहीं कहा. अब मैंने उनकी साड़ी को थोड़ा और ऊपर किया. जिससे उनकी पैंटी साफ दिखने लगी. उनकी पैंटी को देख कर मैं पागल सा हो गया. मेरी हालत देख कर आंटी समझ गईं और बोलीं – विवेक, क्या कर रहे हो?

यह सुन कर मैं डर सा गया. तभी उन्होंने कहा कि होता है ऐसा, वैसे भी तेरा लन्ड तेरे हाफ पैंट से बाहर आ रहा है. फिर थोड़ा रुक कर उन्होंने सीधे ही पूछ लिया कि सेक्स किया है कभी? जिसका जवाब मैंने न में दिया. तब आंटी ने कहा – करेगा आज?

यह सुनना था कि मैं सीधा उनके होंठों पर टूट पड़ा. कसम से दोस्तों, मुझे तो जन्नत सी मिल गई थी. उनके होंठों को चूसने के दौरान मैंने काट लिया, जिससे खून निकलने लगा. खून देख कर वो मुझे डांटने लगीं और बोलीं – आराम से कर न. आज तो मैं तेरी हूँ, जो भी करना है कर ले.

अब मैं आंटी की साड़ी को उतार दिया. जिससे वो ब्लाउज और पेटिकोट में आ गईं. फिर मैंने उनका पेटिकोट भी खोल दिया. आंटी अब सिर्फ ब्लाउज और पैंटी में रह गईं. इसके बाद मैंने खींच कर उनका ब्लाउज फाड़ दिया. अब ब्रा और पैंटी में वो गजब की खूबसूरत लग रही थीं.

फिर मैंने पैंटी के ऊपर से ज़ोर का एक चांटा उनकी चूत पर लाग्या. जिससे वो चीख पड़ीं. अब मैंने उनकी ब्रा और पैंटी को भी उतार दिया. इसके बाद जब मेरी नज़र उनकी चूत पर गई तो वह बहुत टाइट लगी. तो मैंने पूछा लिया. इस पर वो बोलीं कि अंकल जल्दी ही थक जाते हैं इस वजह से सेक्स कम करते हैं. ऐसे में मैं केवल उंगली से काम चलती हूँ.

इतना कह कर आंटी ने मुझे भी नंगा कर दिया और मेरे लन्ड बाहर निकलने पर उसे देखती रह गईं. तब मैंने आंटी से कहा कि मैं आपका रेप करना चाहता हूँ. इस पर वो बोलीं कि अब तो मैं तेरी ही हूँ, तुझे जो भी करना है कर.

फिर मैंने अपने खड़े लन्ड को पूरा उनके मुंह में घुसेड़ दिया और उनकी नाक बन्द कर दी. ऐसा करने से वह डर गईं और मुझे धक्का दे दिया. फिर मुझसे छूटने के बाद वह बोलीं – मुझे मारेगा क्या? तब मैंने कहा कि मैं रेप कर रहा हूँ तुम्हारा. फिर इतना कह कर मैंने झटके से उनके मुंह में लन्ड पेल दिया और अंदर – बाहर करने लगा.

अभी मैंने कुछ ही धक्के दिए थे कि थोड़ी देर बाद उनके मुंह में ही झड़ गया. उन्होंने मेरे पानी को थूक दिया. यह देख मैंने उनके गाल पर एक चांटा लगा दिया और फिर पागलों की तरह उनके बूब्स को चूसने और निप्पल्स को काटने लगा.

वो धीरे – धीरे करने को कह रही थीं लेकिन मैं नहीं मान रहा था. थोड़ी देर बाद मेरा लन्ड फिर से खड़ा हो गया. अब मैंने उनसे कहा कि डाल दूं? तो वह मुस्कुरा भर दीं.

अब मैंने अपना लन्ड सेट किया और एक ही बार में पूरा उनकी चूत में पेल दिया. इससे उन्हें काफी दर्द हुआ और वो बड़ी तेज आवाज में चिल्लाईं साथ ही लन्ड बाहर निकालने को कहने लगीं. लेकिन मैंने लन्ड बाहर नहीं निकाला और धक्के पर धक्के मारे जा रहा था.

अब उन्हें भी मज़ा आ रहा था. दोस्तों, मैंने उन्हें करीब 45 मिनट तक चोदा और फिर उनकी चूत में ही झड़ गया. तब तक वो भी दो बार झड़ चुकी थीं.

थोड़ी देर बाद मेरा लन्ड फिर से खड़ा हो गया और मैंने आंटी से कहा कि अब मुझे आपकी गांड मारनी है तो वो बोलीं कि मारनी है तो मार ले लेकिन आराम से करना क्योंकि मेरी गांड अभी तक वर्जिन है और तेरा लन्ड काफी मोटा और बड़ा है.

तब मैंने कहा कि ठीक है आराम से ही करूँगा. फिर मैंने उन्हें घोड़ी बनाया और अपना एक हाथ उनके मुंह पर रख दिया ताकि वो चिल्ला न पाएं. इसके बाद मैंने एक जोर का झटका लगाया और मेरा टोपा उनकी गांड में घुस गया.

मैंने चिकनाई के लिए कुछ यूज़ नहीं किया था इसलिए हमें थोड़ी प्रॉब्लम हो रही थी. अब मैंने एक और झटका मारा तो मेरा पूरा लन्ड उनकी गांड में घुस गया. दर्द के मारे वह रोने लगीं.

दोस्तों, अब उनकी गांड़ से खून भी आने लगा था. यह देख मैं थोड़ी देर के लिए रुक गया और फिर चोदना शुरू किया. मैंने करीब 25 मिनट तक उनकी गांड़ मारी और फिर उनकी गांड़ में झड़ गया.

चुदाई के बाद उन्होंने बताया कि आज पहली बार उन्हें इतना मज़ा आया है. दोस्तों, ये थी मेरी कहानी. आप लोगों को कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करके जरूर बताएं. मेरी मेल आईडी [email protected]

“पैर दबाकर आंटी ने चुदवाया” पर 2 का विचार

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *