पैसे देकर चुदवाया

अगले दिन उसका फोन आते ही मैं उसके घर के लिए निकल गया. उसके बताए गए पते पर पहुंच कर जब मैंने बेल बजाई तो एक खूबसूरत सी औरत ने दरवाजा खोला. मैं तो उसे देखता ही रह गया. वह नीली आंखों वाली बहुत ही खूबसूरत औरत थी. वह इतनी गोरी थी दोस्तों कि आप को मैं क्या बताऊँ. बस ये समझ लीजिए कि उस समय मुझे ऐसा लग कि अगर मैं उसके शरीर को हाथ लगा दूं तो कहीं वहां पर दाग न लग जाय…

नमस्कार मित्रों, मेरा नाम सूरज है और मैं गुजरात के सूरत शहर का रहने वाला हूँ. मेरी उम्र 22 साल है और मेरे लंड की लम्बाई करीब 8 इंच है. मेरे माता – पिता और मेरा एक भाई राजस्थान में रहते हैं और मैं सूरज मेरे दोस्त के साथ सूरत में रहता हूँ.

दोस्तों मैं आपको बताना चाहता हूँ कि मैं एक प्ले बॉय (कॉल बॉय) हूँ. एक दिन मेरे मेल आईडी पर एक मेल आया. वो मेल मेरी एक पुरानी कस्टमर का था. दोस्तों, उसे मैं अब तक बहुत बार चोद चुका हूँ. बात उस समय की है जब उसने मुझे पहली बार मेल किया और लिखा कि सूरज मैं तुम से मसाज करवाना चाहती हूँ और तुम मुझ से बात कर लो. बात करने के लिए उसने अपना फोन नंबर मेल पर ही दिया हुआ था.

उसी दिन शाम को मैंने उसे फोन किया और उसे बताया कि मैडम आप ने गलत जगह मेल किया है. ये मसाज पार्लर नहीं है (मुझे ऐसा इसलिए बोलना पड़ा क्योंकि कॉल बॉय हर किसी से इस सम्बंध में बात नहीं करते हैं, क्योंकि इसमें काफी खतरा रहता है न).

लेकिन जब उसने मुझे फोन पर कहा कि मुझे आप का पता अंकिता ने दिया तो अकिता का नाम सुन कर मैं समझ गया कि अब इससे कोई खतरा नहीं है, क्योंकि अंकिता मेरी पुरानी कस्टमर है और मैं उसे काफी समय से जनता हूँ और उसे कई बार अपनी सेवा मुहैया कराई है.

फिर मैंने उससे पूछा कि कब और कहां आना है. इस पर मैडम ने कहा – मुझे पूरी रात के लिए तुम्हारी सर्विस चाहिए.

तो मैं बोला – ठीक है मुझे कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन आना कब है? ये तो बताइए.

तो वो बोली – कल मेरे पति दो दिन के लिए शहर से बाहर जा रहे हैं. इसलिए तुम्हें कल शाम को ही आना है.

मैंने कहा – ठीक है, मैं आ जाऊंगा.

तो वो बोली – कितना पैसा लोगे?

तो मैं बोला – आना कहां है ये बताइए तभी मैं अपनी फीस आपको बता पाऊंगा.

इस पर वो बोली – सूरत आना है.

सूरत का नाम सुनते ही मैं बोला – मैं भी अभी सूरत में ही हूँ और आप मेरी पुरानी ग्राहक की दोस्त हैं, इसलिए मैं आपसे ज्यादा नहीं लूंगा केवल 2000 रुपए ही लूंगा.

तो वो बोली – फिर ठीक है. मैं तुम्हें कल फोन करती हूँ तब आ जाना. फिर उसने मुझे अपना पता बताया.

अगले दिन उसका फोन आते ही मैं उसके घर के लिए निकल गया. उसके बताए गए पते पर पहुंच कर जब मैंने बेल बजाई तो एक खूबसूरत सी औरत ने दरवाजा खोला. मैं तो उसे देखता ही रह गया. वह नीली आंखों वाली बहुत ही खूबसूरत औरत थी. वह इतनी गोरी थी दोस्तों कि आप को मैं क्या बताऊँ. बस ये समझ लीजिए कि उस समय मुझे ऐसा लग कि अगर मैं उसके शरीर को हाथ लगा दूं तो कहीं वहां पर दाग न लग जाय.

मैं करीब 1 मिनट तक उसमें खोया हुआ वहीं पर खड़ा रहा. फिर उसने कहा – यहां पर खड़े ही रहोगे कि अन्दर भी आओगे. उसके इतना कहने पर मैं चौंका और फिर मैं उसके घर के अन्दर चला गया. मेरे अंदर घुसते ही उसने दरवाजा लॉक कर लिया और मेरे सामने मटकते हुए चल कर आई. जिससे उसकी गांड़ इधर – उधर हो रही थी. यह देख कर मुझे बहुत ही जोश आ रहा था.

उसने काली साड़ी पहन रखी थी. काली साड़ी में वो एक दम से कयामत लग रही थी. फिर वो मटकते हुए मेरे पास आई और मुझसे पूछा – क्या लोगे? चाय या कॉफ़ी.

मैंने कहा – अभी केवल पानी.

तो वो पानी लेकर आई. पानी पीते हुए मैं उसे ही देख रहा था और वो भी मुझे बहुत ध्यान से देख रही थी. फिर वो मुझसे बोली – पहले खाना खा लेते हैं.

तो मैंने कहा – हां क्यों नहीं.

फिर हम साथ में ही खाना खाने बैठ गए, तो वह अपने हाथों से मुझे खाना खिलाने लगी. तो मैंने कहा – मैं खुद से खा लूंगा, तुम परेशान न हो.

इस पर उसने कहा – आज तुम मेरे पति हो और मैं अपने पति को अपने ही हाथों से खाना खिलाऊंगी और फिर वह मेरी गोदी में आकर बैठ गई. उसके बाल मेरे मुंह को छू रहे थे. उसका फिगर 32-30-34 का था. तो मैंने उससे कहा – जब आप इतनी सुन्दर हो तो आप पैसे देकर मुझसे क्यों चुदवाना चाहती हो? आपको तो कोई और भी मिल जाता, जो मुफ्त में ही आप को चोद कर आपकी वासना शांत कर देता.

तो उसने कहा – जरूर मिल जाता लेकिन तुम कॉल बॉय हो और तुम पैसा लेकर चले जाते हो. अगर कोई बाहर वाले से करूंगी तो वो मुझे परेशान कर सकता है जबकि तुमको तो सिर्फ पैसे से मतलब होता है. पैसे मिलने के बाद फिर तुम मुझे परेशान भी नहीं करोगे और मेरी दोस्त अंकिता ने मुझे तुम्हारे बारे में ये भी बताया है कि तुम चुदाई काफी अच्छी कर लेते हो. ऐसे ही बातें करते हुए हमारा खाना पूरा हो गया.

खाने के बाद फिर उसने कहा – पहले तुम मेरी मसाज कर दो. तो मैंने उसे तेल लाने को कहा. उसने तेल वहीं पास में ही रख रखा था. मतलब उसने पूरी तैयारी कर रखी थी. फिर मैंने उसे उसके कपड़े निकालने को कहा. तो उसने कहा – अब मैं क्या निकालूं, तुम खुद ही निकाल दो.

तो मैंने उसको अपने और करीब खींचा और उसके गुलाबी होंठ से अपने होंठों को जोड़ दिया. क्या रसीले होंठ थे उसके! उसके होंठ चूसने में तो मजा आ गया था. उसने अपना पूरा शरीर मेरे शरीर पर गिरा दिया. फिर मैंने उसकी साड़ी खींचना चालू किया. जब मैंने साड़ी निकाल दी तो अब वो काले पेटीकोट और ब्लाउज में मेरे सामने थी. फिर मैंने वो भी निकाल दिया. अब वो काली ब्रा और पैंटी में एक दम कयामत लग रही थी.

उसका यह रूप देख कर मेरे मुंह से तो लार टपकने लगी थी. फिर मैंने अपने ऊपर से उसको उठा कर उसके रसीले होंठों को मेरे होंठों से जोड दिया. मेरा लन्ड अब पूरा खडा हो चुका था और उसकी चूत पर टच हो रहा था. उसे महसूस करके उसने कहा – टावर तो खडा हो गया है.

फिर मैंने उसकी ब्रा को मेरे दांत से खोल दी और उसकी पैंटी के ऊपर जीभ फिराने लगा. उसके मुंह से मदमस्त सिसकारियां निकलने लगी थी. फिर मैंने अपने दांत से खींच कर उसकी पैंटी भी उतार दी और उसकी चूत को चाटने लगा. वो मेरा सिर पकड़ कर अपनी चूत में दबा रही थी. और आहें भर रही थी. मुझे उसकी चूत चाटने में बहुत मज़ा आया.

फिर उसने मेरे सारे कपड़े निकाल दिये और हम 69 की अवस्था में आ गये. हम करीब 25 मिनट तक चूत और लंड से खेलते रहे. इस बीच दोनों एक बार एक – दूसरे के मुँह में ही झड़ गए थे. अब उसने कहा – सूरज, अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है, प्लीज अब मुझे मत तड़पाओ. बस अब चोद दो मुझे और फाड़ दो मेरी चूत को. बहुत समय से मैं अनचुदी हूँ.

लेकिन मैं मेरे लंड को उसकी चूत पर रगड़ के उसे तड़पता रहा. जब उससे रहा नहीं गया तो उसने नीचे से एक झटका मारा और मेरा लंड उसकी चूत को चीरता हुआ उसकी जड़ तक चला गया. इससे वो चीख पड़ी और रोने लगी. मैं रुक गया तो वो बोली – रुको मत, ये तो खुशी के आंसू हैं. बस चोदते रहो.

वो लगातार सिसक रही थी और बोल रही थी, “उई मर गईई, लेकिन तुम चोदो. आज फाड़ डालो मेरी चूत को. उस दिन मैंने उसे कई अलग तरीकों से चोदा. वो भी मेरी इस चुदाई से इतनी खुश हुई कि उसने मुझे 2000 की जगह 5000 रूपये दे दिये. दोस्तों, अब तो मैं उसे बहुत बार चोद चुका हूँ. उसने मुझे और औरतों को भी चुदवाया और काफी अच्छा पैसा भी दिलवाया.

अब मैं उससे पैसा नहीं लेता हूँ उसके बदले वह मुझे और कस्टमर लाती है. आप को मेरी यह कहानी कैसी लगी. मुझे मेल करके जरूर बताएं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *