पति की रांड भाग – 1

मेरी जांघों के बीच तो आपको पता ही होगा कि क्या होता है! जांघों के बीच पावरोटी की तरह फूली हुई मेरी बुर है. इतनी फूली हुई कि पैंटी के ऊपर से ही साफ दिखती है. मेरी चूत को मेरे पति वर्टिकल लिप्स बोलते हैं. मेरी चूत के छेद को ढकने के लिए जो दो लिप्स हैं वो हमेशा फूल कर उसे ढके रहते हैं. ठीक वैसे ही जैसे कली को फूलों की पंखुड़ी ढक के रहती है. इन दो फांकों के बीच मेरी गुलाबी चूत है जो हमेशा चुदने को तैयार रहती है…

हेलो फ्रेंड्स, मैं मेरा नाम प्रीती है और मैं राँची की रहने वाली हूँ. अन्तर्वासना पर ये मेरी पहली और बिल्कुल सच्ची कहानी है और यह अक्षरशः सही है. उम्मीद है आप पाठकों को सबको जरूर पसंद आएगी.

मेरी इस कहानी को पढ़ कर सभी चूत वाली अपनी चूत और चूचियों को मसलने और मसल – मसल कर अपना खूबसूरत योनि रस निकालने को मजबूर हो जाएंगी. और सभी लंडधारियों का लम्बा और मोटा लन्ड खड़ा हो जाएगा, जिसको वो किसी की चूत में घुसने के लिके मचलने लगेंगे और चूत न मिल पाने की स्थिति में अपना हाथ जगन्नाथ करके मुठ मार लेंगे और वीर्य रस बहा देंगे.

तो अब आप लोगों का ज्यादा समय न लेते हुए मैं सीधा अपनी कहानी पर आती हूँ. मेरी शादी सात साल पहले ही हो गयी थी और अभी मेरी मेरी उम्र इकतीस साल है. मेरे पति बहुत प्यारे हैं और वो मुझे बहुत प्यार करते हैं. हमारी सेक्स लाइफ भी बहुत अच्छी है. मेरे बूब्स गठीले, कमर अठाईस की औऱ चूतड़ अड़तीस के हैं. मेरे पति मुझे खूब चोदते हैं और हर तरीके से चोदते हैं.

अब मैं अपने बारे में थोड़ा बता देती हूँ, जिससे आपको ये कहानी पढ़ने में मजा आएगा. मेरे पति मुझे चिंकी कह कर बुलाते हैं, वैसे तो वो कई नामों से मुझे बुलाते हैं लेकिन चिंकी उनका भी और मेरा भी फेवरिट है. मेरी हाइट 5 फीट और 3 इंच के करीब है और रंग गोरा है. मेरा चेहरा और शरीर बिल्कुल साउथ की हीरोइन अनुष्का शेट्टी की तरह है.

मेरा चेहरा गोल है और आंखे बड़ी – बड़ी हैं और मेरे गाल फूले हुए एक दम लाल – लाल हैं. खैर, अब मैं आपको ज्यादा इधर – उधर न घुमाते हुए सीधा जिस चीज़ की डिटेल्स का आपको बेसब्री से इंतजार है मैं वो बताती हूँ.

मेरे बूब्स यानी चूची 36 के साइज के हैं. जो कोई भी मुझे देखता है तो उसकी नजर मेरी चूची पर ही होती है. लोग करें ही क्या, ये हैं ही इतने शानदार! एक दम जोरदार पके पपीते के जैसे. एक हाथ से आप मेरी एक चूची को पूरा नहीं पकड़ पाएंगे. उसे मसलने के लिए आपको अपने दोनों हाथ लगाने होंगे.

मेरे पति भी मेरी चूची खूब मसलते हैं, रगड़ते हैं और मसल – मसल कर पूरा गुलाबी कर देते हैं. चूची के आगे ब्राउन पिंक कलर का निप्पल को वो मुंह में लेकर खूब चूसते हैं और दांतो से भी काटते हैं. इतना काटते और चूसते हैं कि वो तन कर अकड़ जाता है और अंगूर जितना बड़ा हो जाता है.

मेरी जांघें केले की टहनी की तरह सुडौल, मोटी और मांसल हैं. मुझे अपनी जांघें चटवाने में बड़ा मजा आता है. जांघ चटवाने से मेरी जांघों के रोएँ खड़े हो जाते हैं.

मेरी जांघों के बीच तो आपको पता ही होगा कि क्या होता है! जांघों के बीच पावरोटी की तरह फूली हुई मेरी बुर है. इतनी फूली हुई कि पैंटी के ऊपर से ही साफ दिखती है. मेरी चूत को मेरे पति वर्टिकल लिप्स बोलते हैं. मेरी चूत के छेद को ढकने के लिए जो दो लिप्स हैं वो हमेशा फूल कर ढके रहते हैं. ठीक वैसे ही जैसे कली को फूलों की पंखुड़ी ढक के रहती है. इन दो फांकों के बीच मेरी गुलाबी चूत है जो हमेशा चुदने को तैयार रहती है.

अब मैं आगे बढ़ती हूँ! मेरी पीठ सपाट है और नीचे चूतड़ उभरे हुए हैं. जी हां, मेरी गांड बड़ी है और बाहर निकली हुई है. एक बात और बताऊं! मेरे पति को मेरी गांड बहुत पसंद है और वो मेरी गांड खूब दबाते, मसलते और गांड के छेद के ऊपर ऊँगली से सहलाते हैं. इसके बाद फिर अपनी नाक से मेरी गांड को सूँघते भी है और जीभ से गांड के छेद सहित गांड का कोना – कोना चाटते हैं.

एक और खास बात, इतना सब कुछ होने के बाद भी अभी तक मेरी गांड वर्जिन है यानी कि चुदी नहीं है. अभी मेरे पति बाहर हैं. वो जल्द ही आने वाले हैं, लेकिन इस बार व्हाट्सऐप सेक्स चैट के दौरान उन्होंने वादा किया है कि आने पर वो मेरी गाँड़ जरूर मारेंगें और मैं भी मान गई हूँ. मतलब इस बार उनके आने पर हम मेरी गांड की सुहागरात मनाएंगे.

दोस्तों, अब तक तो मैंने आपको अपनी चूची, चूत औऱ गांड के बारे में सब बता दिया है लेकिन इसके अलावा भी अपने बारे में मैं कुछ और बातें आप लोगों को बताना चाहूँगी. मुझे अपने पति का लंड चूसना बहुत पसंद है. उनका बालों से भरा लंड हो या सफाचट दोनों ही मुझे बहुत भाते हैं.

मैं मौका मिलने पर उनके लंड को खूब चूसती और चाटती हूँ. पसीने और मूत से भरा हुए उनके लंड को मैं अपने होंठों से चाट कर साफ कर देती हूँ. मुझे उनका मूत बहुत पसन्द है औऱ उन्हें भी मेरा मूत काफी पसंद आता है. वो मेरे मूत से अपना मुंह धोते हैं और पीते भी हैं.

मेरे पति की तरह ही मुझे भी अपने पति की गांड भी बहुत पसंद है. हम दोनों अक्सर को एक – दूसरे की गांड़ को चाटते हैं.

इस बार जब वो आएंगे तो मैं उनके गांड के बीच में अपना मुंह रख कर बहुत देर सोऊँगी. मुझे पता है कि वो भी मेरी गांड के लिए बहुत तड़प रहे होंगे और मुझे देखने भर से उनकी प्यास और थकान मिट जाएगी.

मेरी इस कहानी को पढ़ने के लिए आप लोगों का बहुत – बहुत धन्यवाद. मैं आपकी प्रतिक्रिया की बेहद बेसब्री से इंतज़ार करूंगी. यहां पर यह मेरी मेरी पहली स्टोरी जिसके आगे की कहानी मैं अगले भाग में आप लोगों की प्रतिक्रिया जानने के बाद बयान करूंगी. तब तक आप लोग मुझे मेरी मेल आईडी पर मेल करके अपने बहुमूल्य सुझाव और सलाह देते रहें. मेरी ईमेल आईडी है –
[email protected]

इस कहानी का अगला भाग – पति की रांड भाग – 2

“पति की रांड भाग – 1” पर एक उत्तर

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *