पति की रांड भाग – 3

फिर वो अपनी एक उंगली को मेरी गांड में डाल दिए और आइस क्रीम को और अंदर तक घुसा दिया. अब वो आइस क्रीम से मेरी गांड को धो रहे थे और अपनी उंगलियों को चाट रहे थे. फिर उन्होंने जीभ से मेरी गांड चाटना शुरू कर दिया. इतने में ही मेरी चूत ने फिर से पानी छोड़ दिया, जो चम्मच के साइड से निकलने लगा…

इस कहानी का पिछला भाग – पति की रांड भाग – 2

अब उन्होंने मुझे उल्टा लिटा दिया और मेरी पैंटी उतार कर मेरी गांड चाटने लगे और गांड के छेद पर होंठ लगा कर उसे चूसने लगे. वे पूरा कुत्ते की तरह चाट रहे थे. फिर उन्होंने मुझे उल्टा घुमाकर मेरी चूत चाटना शुरू कर दिया. जिससे मेरी गुलाबी चूत सिहर उठी.

वो चूत के अंदर अपनी जीभ डालकर चूत चाट रहे थे. अब मेरी चूत गीली होकर पानी छोड़ रही थी. तभी मैंने कहा, “जानू, प्लीज चोद न, अब नहीं रहा जा रहा है”.

वो बोले , “थोड़ा करो मेरी जान”! इतना बोल कर फिर वो फ्रीज़ से आइसक्रीम क्यूब निकाल कर ले आये और साथ में किचन से चमच्च भी ले आये. फिर वो बोले, “मेरी जान आज हम डर्टी सेक्स करेंगे और मैं तुम्हें अपनी कुतिया बनाऊंगा जो मेरी हर बात मानेगी”.

इतना बोलकर फिर उन्होंने मेरे ब्लाउज के ऊपर से मेरे दोनों मम्मों को जोर – जोर से दबाना शुरू कर दिया और इतना दबाया और रगड़ा कि मेरे बूब्स तन कर खड़े हो गए.

फिर उन्होंने चम्मच से आइसक्रीम निकाल कर मेरी चूत में डालना शुरू कर दिया और पूरी एक कटोरी आइसक्रीम डाल दी. ठंड की वजह से मेरी चूत सिहर रही थी और वो मजे में चम्मच से चूत की आइसक्रीम निकाल कर खा रहे थे और कभी – कभी उंगली अन्दर डाल कर उसे भी चूस रहे थे.

मैं मैं बेड पर लेटी हुई थी. फिर उन्होंने मुझसे टांगें फैलाने को कहा. टांगें फैलाते ही उन्होंने मेरी चूत को चाटना शुरू कर दिया. थोड़ी ही देर में मेरी बुर से पानी निकलने लगा, जिसे वो पूरी तन्मयता से चाट गए.

फिर वो बोले, “पता है, तुम्हारी बुर का रस बड़ा ही जबरदस्त है”. फिर वो चम्मच को धीरे – धीरे मेरी चूत में डालने लगे और थोड़ा सा छोड़ कर पूरे चम्मच को मेरी बुर में डाल दिया और वो बोले, “कैसा लग रहा है मेरी रण्डी?”

मैं बोली, “बहुत अच्छा लग रहा है.”

अब वो बोले, “चलो अब पलटो और गांड दिखाओ.”

मैंने कहा, “चम्मच अन्दर है तो कैसे पलटूँ?”

तो पति बोले, “क्या बोली कहाँ है चम्मच?”

मैं बोली, “मेरी बुर के अंदर.”

यह सुन पति देव बोले, “तो ऐसा बोलो न कि चूत में चमच्च है. अभी रुको इसमें खीरा, गाजर सब जाएगा.”

मैं बोली, “ठीक है मालिक.”

अब मैं चूत में ही चम्मच लिए पलट गई. अब स्थिति ये थी कि वो मेरी गांड में दूसरे चम्मच से आइसक्रीम डाल रहे थे और उल्टा घूमने की वजह से मेरी चूत के अंदर का चमच्च गुदगुदी कर रहा था. अब मेरी चूत की ऐसी हालत हो गई थी कि मैं किसी से भी चुदवा सकती थी. बूढ़े, बच्चे, भिखारी, रिक्शे वाले , ठेलेवाले किसी से भी. यहां तक कि कुत्ते से भी. कुत्ते से मुझे याद आया तो मैंने पति से पूछा कि तुम मुझे कुत्ता बनाने वाले थे?

तो पति बोले, “पहले तुम्हारे गाँड़ की आइसक्रीम खा लूंगा उसके बाद”.

मैं बोली, “मेरी चूत में चमच्च है.”

तो पति बोले, “अभी चम्मच चूत में ही रहेगा, चलो अब अपने दोनों हाथों से अपने चूतड़ फैलाओ.”

यह सुनते ही मैंने अपने दोनों चूतड़ों को पकड़ कर जोर से इतना फैलाया की मेरी गाँड़ का छोटा सा छेद स्पष्ट रूप से मेरे पति को दिखने लगा.
अब पति बोले, “ऐसे ही फैलाये रखना.”

फिर उन्होंने अपने 16 मेगापिक्सल वाले मोबाइल कैमरा से मेरे गाँड़ की कई फ़ोटो खींच लिया और बोले, “अब मैं इन्टरनेट में तुम्हारी गाँड़ की बोली लगाकर पूछूँगा कि इसके लिए कितना पैसा दोगे.”

मैं बोला, “तो आप मेरी गाँड़ नहीं मारेंगे बल्कि दूसरे को मौका देंगे.” तो वो बोले, “अरे नहीं तुम्हारी गाँड तो सिर्फ मेरी है, मैं बस लोगों की राय लूंगा.” मेरी गाँड अभी भी फैली हुई थी, जिसमें वो गीली आइस क्रीम डाल रहे थे.

फिर वो अपनी एक उंगली को मेरी गांड में डाल दिए और आइस क्रीम को और अंदर तक घुसा दिया. अब वो आइस क्रीम से मेरी गांड को धो रहे थे और अपनी उंगलियों को चाट रहे थे. फिर उन्होंने जीभ से मेरी गांड चाटना शुरू कर दिया. इतने में ही मेरी चूत ने फिर से पानी छोड़ दिया, जो चम्मच के साइड से निकलने लगा.

अब उन्होंने अपना मुंह मेरी चूत के पास ले जाकर जीभ से बुर का सारा रस चाट डाला. मेरी चूत में खूब खुजली हो रही थी. अब मैंने कहा, “चोदो अपनी रंडी को चोदो, और चोदो”. इतने में वो मेरी चूत से चम्मच निकाल कर उसे चाटने लगे और चाट कर साफ़ कर दिया. फिर उस चम्मच के पिछले भाग से मेरी गाँड को धीरे – धीरे सहलाते हुए, उसमें थोड़ा सा डालते हैं और गांड की आइसक्रीम गांड जीभ से चाटते हैं.

थोड़ी देर बाद पति बोले, “ठीक है, अब हम तुमको अपना कुतिया बनाएंगे.”

फिर वो मेरा लेगिंग्स को फाड़कर शार्ट पैंट बना देते हैं और बोलते हैं इसे पहनो. अब मेरे बूब्स पर ब्लाउज और नीचे शॉर्ट पैंट और आइसक्रीम से गीली चूत और गांड थी. फिर वो मेरे एक दुपट्टे को कुत्ते के पट्टे की तरह मेरी गर्दन में डालकर बोलते हैं. अब कुत्ता बनो और चलो. मैं जमीन पर चलने लगी.

फिर उन्होंने अपने हाथ की सारी उंगलियों में आइसक्रीम लगाई मुझे चाटने को बोला. अब मैं कुत्ते की तरह उनके हाथ को चाट के साफ करती हूँ. इसी बीच वो लंबे वाले स्केल से मेरी चूतड़ पर मारते हैं. मैं बोली, “आह, मारा क्यों?”

पति बोले, “अभी उंगलियों के बीच आइस क्रीम लगी है, चाट उसे कुतिया. अब मैं सुडप – सुडप करके सारी आइस क्रीम चाट जाती हूँ. पति बोले, “अब मुंह खोलो और जीभ बाहर निकालो”. मैं जैसे ही जीभ बाहर निकलती हूँ. वैसे ही वो मेरे जीभ में थूक देते हैं और उसे चाटने को बोलते हैं. मैं निगल जाती हूँ.

अब मैंने उनके बालों से भारी अंदर आर्म्स में आइसक्रीम लगाकर चाट जाती हूँ. तभी वो मेरा बाल पकड़ कर मेरे चेहरे को अपने कांख में रगड़ देते है. जिसमें मुझे मजा आ जाता है.

इस कहानी का अगला भाग – पति की रांड भाग – 4

मेरी इस कहानी को पढ़ने के लिए आप लोगों का बहुत – बहुत धन्यवाद. मैं आपकी प्रतिक्रिया की बेहद बेसब्री से इंतज़ार करूंगी. आगे की कहानी मैं अगले भाग में आप लोगों की प्रतिक्रिया जानने के बाद बयान करूंगी. तब तक आप लोग मुझे मेरी मेल आईडी पर मेल करके अपने बहुमूल्य सुझाव और सलाह देते रहें. मेरी ईमेल आईडी है –
[email protected]

One Reply to “पति की रांड भाग – 3”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *