सगी भाभी को घर में चोदा

मेरे भाई की शादी को तीन साल हो गए हैं. लेकिन जॉब के सिलसिले में दूसरे शहर में रहते हैं और भाभी हमारे साथ हमारे घर में. ऐसे में उनकी वासना शांत नहीं हो पाती थी. एक दिन मैंने उन्हें नहाते हुए देखा, उस टाइम वो अपनी चूत में उंगली भी कर रही थीं. यह देख मेरा लन्ड खड़ा हो गया और फिर एक दिन मैंने उन्हें चोद दिया लेकिन कैसे ये आपको कहानी में पता चलेगा…

हेलो दोस्‍तों, मेरा नाम अंश है और मैं उत्‍तर प्रदेश के लखनऊ का रहने वाला हूँ. मैं दिखने में एवरेज दिखता हूँ. मेरे लन्‍ड 6 इंच लम्‍बा तथा 4 इंच मोटा है. यह कहानी मेरे और मेरी भाभी की है, जो आज से दो साल पहले घटित हुई थी.

दोस्तों, मेरी भाभी दिखने एक दम मस्‍त माल हैं. उनकी उम्र 26 साल है और उनका फिगर 34 28 36 है. उनकी शादी 3 साल पहले मेरे भैया से हुई थी. मेरे भैया दिल्ली में जॉब करते हैं और साल में एक – दो बार ही आते हैं, वो भी एक दो दिन के लिए.

बात तब की है जब मैं ग्रेजुएशन में पढ़ता था. एक रविवार मैं घर पर बैठ कर मूवी देख रहा था. इत्तेफाक से उस दिन घर पर केवल मैं और भाभी ही थे. तभी उन्‍होंने मुझसे कहा- देवर जी, मैं नहाने जा रही हूँ! दोस्तों, पहले से ही भाभी पर मेरी गलत नज़र थी! जब उन्होंने ये कहा तो मैंने सोचा कि क्‍यों ना आज भाभी को नहाते हुए देखा जाए और अगर मौका मिला तो चोद दूंगा.

भाभी नहाने चली गईं और फिर मैं जाकर बाथरूम के दरवाजे में छेद से उनको देखने लगा. भाभी बाथरूम में एक दम नंगी होकर नहा रही थी. थोड़ी देर बाद वह अपनी चूत में उंगली डालने लगीं. उनको देख कर मेरा हाथ मेरे लोवर अपने आप ही चला गया क्‍योंकि वो इस अवस्‍था में और भी हॉट लग रही थी. यह देख मैं अपने लन्ड को आगे – पीछे करने लगा और कुछ देर बाद झड़ गया. फिर चुपचाप आकर बेड पर बैठ गया.

उस दिन के बाद से अब मैं लगभग रोज ही भाभी को नहाते देखता और मुठता था. ऐसे ही तकरीबन तीन-चार महीने तक चलता रहा. एक दिन मैं नहाते हुए देख रहा था, तभी भाभी ने दरवाजे की तरफ घूमीं और कुछ देर तक बड़े ध्यान से देखती रहीं. शायद उन्‍होंने मुझे देख लिया था.

फिर मैं वहां से तुरन्‍त भाग कर अपने कमरे में चला आया. भाभी थोड़ी देर नहा कर बाहर निकलीं. दोस्तों, मैं डर गया था, मुझे लगा कि आज मुझे भाभी की ज़बर्दस्त डांट पडने वाली है, लेकिन उन्‍होंने कुछ नहीं कहा. लेकिन उस दिन से ये हुआ कि अब मैंने भाभी को नहाते देखना बंद कर दिया था.

कुछ समय ऐसे ही बीतता गया. मेरे एक्‍जाम आ गये और मैं पढ़ाई करने में व्‍यस्‍त हो गया. एक दिन मैं पढ़ाई कर रहा था कि तभी मेरे पास भैया का कॉल आया. उन्होंने मुझसे कहा कि अंश, तुम्‍हारी भाभी घर में अकेले बैठे – बैठे बोर हो जाती है तो कभी – कभी उन्हें कहीं बाहर घुमा लाया करो. मैंने कहा ठीक है भैया. फिर उन्होंने कहा कि तेरी भाभी का बाहर जाने का आज बहुत मान कर रहा है, तो तू जरा अपनी भाभी को साथ लेकर चला जा. मैंने हां कर दिया.

फिर कुछ देर बाद भाभी मेरे पास आईं और मुझसे बोलीं – तुम्‍हारे भैया ने कॉल किया था? मैंने कहा – हां! तो उन्‍होंने कहा – फिर कब चलना है? तब मैंने कहा – चलूँगा लेकिन एक शर्त पर! तो भाभी ने कहा – कौन सी शर्त पर? दोस्तों, उस दिन ये देखने के बाद कि मैं उन्हें नहाते हुए देखता हूं भाभी ने कुछ नहीं कहा तो मेरी हिम्मत बढ़ गई थी और उस समय घर पर भी कोई नहीं तो मैंने सीधे ही उनसे कह दिया कि भाभी, मुझे चूत चोदने का मन कर रहा है!

मेरे इतना कहते ही भाभी पहले तो मुझ पर भड़क गईं. लेकिन फिर जब मैंने कहा कि आप भी वासना की आग में जलती रहती हो, मैं खुद आपको अपनी चूत में उंगली डालते देखा है तो फिर वो शांत हो गईं और मेरे पास आकर मेरे लबों पर चूम लिया.

दोस्तों, पहले तो डर गया कि अभी तो भाभी मुझे डांट रही थी और अब ये सब कैसे लेकिन फिर मैंने सोचा जो होगा देखा जाएगा. अब मैं भी बेहिचक उनका साथ देने लगा.

फिर मैंने धीरे से उनकी साड़ी को हटाया और एक – एक करके भाभी के सारे कपड़े उतार दिये. अब वो मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पैन्‍टी में थीं. इस दौरान मैं उनको लगातार चूमे जा रहा था. दोस्तों, अब वासना पूरी तरह से मुझ पर हावी हो चुकी थी और मैं उन्हें अपने आगोश में ले लेना चाहता था.

तभी भाभी ने कहा – यह गलत बात है. यह सुन कर मैं अचानक चौंक सा गया और उनके चेहरे की तरफ देखने लगा. तब उन्होंने आगे कहा कि तुमने मेरे सारे कपड़े उतार कर मुझे तो नंगी कर दिया और अपना एक भी कपड़ा नहीं उतारा? यह सुन कर मुझे राहत मिली और फिर मैंने मुस्कुराते हुए उनसे कहा – भाभी, आप खुद ही उतार दो न.

फिर क्या था! भाभी ने एक – एक करके मेरे भी सारे कपड़े उतार दिये. अब मैं सिर्फ अन्‍डर वियर में था. इसके बाद हम दोनों फिर से एक – दूसरे को किस करने लगे. करीब 5 मिनट लगातार किस करने के बाद हम दोनों अलग हो गए.

फिर मैंने भाभी की ब्रा और पैन्‍टी भी उतार फेंकी और उन्‍होंने मेरा अन्‍डर वियर उतार दिया. अब हम देवर – भाभी बिल्‍कुल नंगे थे. दोस्तों, भाभी की चूत पर एक भी बाल नहीं था. ऐसा लग रहा था जैसे उन्होंने 1-2 दिन पहले ही अपने बाल साफ किये हैं. खैर, फिर हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गये. अब भाभी मेरे लन्‍ड को और मैं भाभी की चूत को चाट रहा था. कुछ देर लन्ड और चूत चुसाई करने के बाद हम दोनों एक – एक करके झड़ गये.

इसके बाद फिर हम एक – दूसरे से अलग हुए. दोस्तों, झड़ने के बाद मेरा लन्ड ढीला हो गया था तो भाभी मेरे लन्‍ड से खेलने लगीं. लन्ड से खेलते – खेलते भाभी ने कहा – आज से पहले मैंने इतना बडा लंड नहीं देखा! इतने में मेरा लन्‍ड फिर से खड़ा हो गया. फिर मैंने भाभी को सीधा लिटाया और खुद उनके ऊपर आ गया.

इसके बाद मैंने अपने लन्‍ड को उनकी चूत पर सेट करके एक धक्‍का लगाया. जिससे मेरा आधा लन्‍ड भाभी की चूत में चला गया. भाभी की चीख निकल गई ‘उम्म्ह… अहह… हय… आह…’. दोस्तों, वो तकरीबन 4-5 महीनों से नहीं चुदी थी, जिसके कारण उनकी चूत काफी टाइट थी.

अब मैं थोड़ी देर के लिए रुक गया. थोड़ी देर बाद मैंने एक झटका और मारा, जिससे मेरा पूरा लन्‍ड भाभी की चूत में चला गया. उन्हें दर्द होने लगा था. कारण एक तो वो बहुत दिनों से चुदी नहीं थीं और दूसरा मेरा लन्ड भी काफी बड़ा था, इतना बड़ा लन्ड उन्होंने आज तक अपने अंदर नहीं लिया था तो दर्द होना स्वाभाविक था.

फिर थोड़ी देर रूकने के बाद जब उनका दर्द कुछ कम हुआ तो मैंने झटके लगाने शुरू कर दिये. अब भाभी को भी मज़ा आने लगा था और वह अपने चूतड़ उछाल – उछाल कर मेरा साथ देने लगी थीं. मुझे अपनी भाभी को चोदने में कितनी खुशी मिल रही थी ये मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकता.

करीब 10 मिनट चुदाई के बाद मैं झड़ने वाला था तो मैंने भाभी से कहा कि मेरा होने वाला है, कहां झडूं? तो भाभी ने कहा – अन्‍दर ही छोड़ दो, मेरा भी होने वाला है! मैं पिल्स ले लूंगी. यह सुन कर फिर मैंने अपने झटकों को और तेज कर दिया और फिर थोड़ी ही देर में उनकी चूत में झड़ गया.

दोस्तों, उस दिन मैंने भाभी को एक बार और चोदा. अब उनकी आंखों में संतुष्टि दिख रही थी. इसके बाद मैं भाभी को घुमाने ले गया. हम पति – पत्नी की तरह घूम रहे थे. वहां मार्केट से उन्होंने ब्रा और पैन्टी ली. फिर 2 घण्टे बाद हम वापस आ गए.

वापस आने के बाद मैंने उन्हें फिर से चोदने की इच्‍छा जताई तो भाभी ने कहा – कुछ देर रुक इस बार कुछ अलग करेंगे! लेकिन वो कैसे हुआ ये मैं आपको अपनी अगली कहानी में बताऊंगा. दोस्‍तों, आपको मेरी और मेरी भाभी की चूत चुदाई की कहानी कैसी लगी, मुझे जरूर बताइएगा ताकि मैं अपनी दूसरी कहानी भी आपके सामने पेश कर सकूं. आप कहानी के नीचे कमेंट करके या मुझे मेल करके अपने सुझाव भेज सकते हैं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

“सगी भाभी को घर में चोदा” पर एक उत्तर

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *