सेक्स का असली मजा

दोस्तों! जरा सोचो की आप ब्लू फिल्म देखकर मूठ मारने की तैयारी में हों और अचानक तभी एक चूत चोदने के लिए मिल जाय? ये सपनो सरीखा सच मेरे साथ अभी हाल में ही घटित हुआ.  अनुभवी चूत और तन्नाये लंड के संगम की कहानी…..

हेलो दोस्तों! मेरा नाम अमर है. मैं मध्य प्रदेश का रहने वाला हूँ. मेरी उम्र 26 वर्ष है. मेरी हाईट 5.6 फीट है.मेरा लंड ज्यादा बड़ा तो नहीं फिर भी 5 इंच का है. अब मैं आपको ज्यादा बोर न करते हुए मेरे साथ जो सेक्स की वास्तविक घटना हुयी थी उस पर आता हूँ.

ये बात पीछले सप्ताह की है. मेरे घर के सारे लोग कहीं बाहर घूमने गए थे. लेकिन मेरी एक दुकान भी है जिसकी वजह से मैं उनके साथ नहीं जा पाया. अगले दिन मैं लेट से उठा और दुकान जाने का मन नहीं किया तो घर पे ही रुक गया.

घर पे टाइम पास करने के लिए मैंने लैपटॉप पे ही ब्लू फिल्म देखने का मन बनाया और लैपटॉप स्टार्ट कर ब्लू फिल्म देखने लगा. देखने का चस्का ऐसा लगा कि एक लगातार मैंने 3-4 फ़िल्में देख ली.  अब आप को तो पता ही है कि 3-4 ब्लू फ़िल्में देखने के बाद हम मर्दों का क्या हाल होता है?

मेरा लंड एकदम कड़क होकर तन गया था और उसे भूख भी लगने लगी थी. तभी किसी ने घर के मेन गेट पे दस्तक दी. मैं इसी तरह खड़े लंड के साथ दरवाजा खोलने चला गया. मैं उस वक़्त लोअर और उसके अन्दर फ्रेंची पहने हुआ था. लोअर और फ्रेंची का तो मेरे लंड ने तम्बू बनाया हुआ था. मैंने जैसे ही दरवाजा खोला तो कुछ देर तो देखता ही रह गया. सामने एक बेहद खूबसूरत ३५ वर्षीय भाभी जी खड़ीं हुयी थीं. हालाँकि वो अक्सर हमारे घर आती थीं लेकिन मुझसे उनकी मुलाकात कम ही होती थी.

मैंने ध्यान दिया की वो भी मेरे तम्बू बने लोअर की ओर ही देख रही थीं. उन्हें शायद प्यास लगी थी तो उन्होंने कहा- एक ग्लास पानी मिलेगा?

मैंने उन्हें अन्दर आकर बैठने को कहा और खुद किचेन में पानी लेने चला गया. किचेन में जाते ही मुझे ध्यान आया कि मैंने तो लैपटॉप बंद ही नहीं किया है. मेरा दिल बैठने लगा. मैं ग्लास में पानी भर चुका था लेकिन अब मेरी बाहर उनके पास जाने की हिम्मत नहीं हो रही थी. फिर भी मैं किचेन के दरवाजे से धीरे से देखा. भाभी लैपटॉप पे चल रही ब्लू फिल्म ही देख रही थीं और अपने बदन को मसल रही थीं. कभी-कभी वो साड़ी के ऊपर से ही अपनी चूत पे हाथ फेर रही थीं.

अचानक किचेन का दरवाजा खड़क गया और उनकी नजर मुझपे पड़ गयी. तब तक उनकी चूत सहलाने वाली हरकत से मेरा झुकता हुआ लंड फिर से टाइट हो गया. मेरे हाथ में पानी का ग्लास था जिसकी वजह से अब मैं इस उत्थित लंड को छुपा भी नहीं सकता था.

फिर मैंने किसी तरह हिम्मत करके पानी का ग्लास उन्हें दिया और उनसे आने का प्रयोजान पूछा.

उन्होंने कहा- मेरे घर में कल पूजा है इसलिए अपने यहाँ आने के लिए बोलने आई थी. घर में कोई है नहीं क्या?

मैंने कहा- आज सब कहीं बाहर घूमने गए हैं, रात तक आयेंगे.

उनके चेहरे पे आई ख़ुशी को मैं पढ़ सकता था लेकिन घबराया हुआ था. उन्होंने फिर मेरी तरफ मुस्कुराकर देखा और कहा- बेटा अमर! मुझे तुमसे कुछ चाहिए. दोगे क्या?

मैंने कहा- हाँ! लेकिन क्या?

उन्होंने कहा- ये तुम कंप्यूटर पे क्या कर रहे थे?

मैंने कहा- जब आपने सब देख ही लिए तो फिर क्यों पूछ रही हैं? अभी के लिए आप मुझे माफ़ कर दीजिये. आगे से ऐसा नहीं करूंगा. पर आप्प किसी को बताना मत.

वो कुछ देर तक सोचने लगीं फिर बोली- ठीक है. नहीं बताउंगी. लेकिन पहले मुझे अपने रूम में ले चलो.

उनके कहे अनुसार मैं उन्हें अपने रूम में ले गया. उन्होंने मेरी तरफ देखा और फिर कहा- सिर्फ कंप्यूटर पे ही ये सब देखते रहना चाहते हो या सेक्स का असली मजा भी लेना चाहते हो?

उनकी बात सुनकर मैं हैरान हो गया. मैं कुछ कहना चाहता था लेकिन मेरी आवाज ही नहीं निकली. उन्होंने मुझे आगे बढ़कर गले लगा लिया और उनकी बड़ी- बड़ी चूचियां मेरे सीने पे मलने लगीं. अब तक मेरा लंड अपने पूरे आकार में आ गया था और लोअर का तम्बू बनाकर उनकी साड़ी के ऊपर से ही उनकी चूत से छू रहा था.

फिर उन्होंने कहा- मैं किसी से कुछ नहीं कहूँगी बस मेरे साथ भी वही कर लो जो उस ब्लू फिल्म में हो रहा था.

फिर मैंने देर न करते हुए अपना लोअर उतारकर सिर्फ अंडरवियर में हो गया और भाभी की साड़ी भी उतार कर फेंक दी. फिर मुझे शरारत सूझी. वहीँ पास में एक मीटर टेप था मैं उसे उठाया और उनके बदन की माप लेने लगा. सबसे पहले उनके बूब्स नापा जो 38” के थे. उनकी कमर की नाप 32” थी और उनके गोल-गोल उभरे हुए चूतडों की नाम 40” थी. उनकी हाईट भी मेरे बराबर ही थी.

फिर धीरे- धीरे मैंने उनका ब्लाउज और पेटीकोट भी उनके गोरे जिस्म से अलग कर दिया. अब वो सिर्फ काले रंग की ब्रा कौर पैंटी में थी. मैने उनको बिस्तर पे लिटा दिया. और झट से अपना अंडरवियर उतार दिया. जाने कब से खड़े लंड को उनके बदन पे रगड़ने लगा. फिर भाभी ने मेरा लंड अपने हाथ में ले लिया. उनकी इस हरकत से मैं काफी रोमांचित हो गया  क्योंकि क्जीवन में पहली बार किसी औरत ने मेरा लंड पकड़ा था.

मैंने उनके पूरे बदन को काफी देर तक चूमा. उनके मुँह से सिस्कारियां निकालनी लगीं उन्होंने कहा- अमर! सिर्फ किस ही करते रहोगे क्या? अब मुझसे और बर्दाश्त नहीं हो रहा है.

मैंने उनके शरीर पे बचे आखिरी कपड़े उनकी ब्रा और पैंटी को भी उतार दिया. उनके बड़े-बड़े दूध और रसीली चूत देखकर मैं मचलने लगा. उनकी चूत पर हालके बाल थे, जिससे वो और भी मस्त लग रही थी.

मिनी उनकी चूत पी एक जोरदार किस किया. वो एकदम से सिहर उठीं. वो मेरे चेहरे को अपनी चूत पे दबाने लगीं. अब हां 69 की अवस्था में आ गए. मैंने उनकी चूत चूस रहा था और वो मेरा लंड चूस रही थीं. उनकी लंड चुसाई से मेरा लंड इतना खुश हुआ की उनके मुँह में ही झड़ गया और भाभी ने मेरा सारा पानी पी लिया.

चूत चुसाई और लंड चुसाई की बाद हम सेक्स के अन्तिम पड़ाव पे पहुंच गए. अब न मुझसे रहा जा रहा था और न उनसे. मैंने उन्हें बेड पे लिटाया और उनकी टांगो को फैला दिया. जिससे उनकी चूत का मुँह खुल गया. अब तक मेरा लंड उनकी गीली चूत का छेद देखकर फिर से तन गया था. मैंने लंड को 2-3 धक्कों में ही उनकी चूत में पेल दिया. उनकी चूत अभी भी टाइट थी तो उनकी चीख निकल गयी.

कुछ देर शांत रहने के बाद मैंने फिर से धक्के लगाने शुरू किये. पूरे कमरे में उनकी “ऊऊह्ह….अह्ह्ह…” की सिस्कारियां गूँज रही थीं. साथ में लंड और चूत की फच-फच एक अलग ही माहौल बना रही थीं.

उन्होंने कहा- चोदो अमर! और च्चोदो….कस के निचोड़ दो मेरी चूत को…

चूत चोदने के साथ मैं भाभी की चूचियों को भी मसले जा रहा था. 20 मिनट की चुदाई में ही वो 2 बार अपना पानी झाड़ चुकी थीं और अब मैं भी झड़ने वाला था.

मैंने कहा- कहाँ निकालूँ??

उन्होंने कहा- चूत के अन्दर ही डाल दो मेरे ऱा…ज्जा!

उनकी बात सुनते ही मेरा बदन अकड़ने लगा और मैं उनकी चूत में ही अपना पानी छोड़ कर उनके ऊपर ही गिरा गया. हम दोनों को नींद आ गयी. मेरा लंड अभी उनकी चूत में ही था. कुछ ही देर में मेरे लंड में फिर से हार्कत होने लगी और मैंने फिर से उन्हें चोदने लग गया. वो भी जग गयीं और अपनी गांड उछाल कर मेरा साथ देने लगीं. 10 मिनट बाद मैंने फिर से उनकी चूत में अपना पानी छोड़ दिया.

उस दिन उन्होंने मेरा फोन नंबर लिया और कहा- जब मेरी चूत में फिर से हलचल मचे तो तुम्हें कॉल करूंगी.

आज उन्होंने मुझे सेक्स का वही असली मजा देने के लिए कॉल किया है. मैंने भी आज तय किया है कि आज उनकी गांड मारूंगा. फिर गांड चुदाई की कहानी आप से शेयर करूंगा. तब तक आप मुझे मेल करके बता सकते हैं कि मेरी कहानी आपको कैसी लगी?

[email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *