तेल लगाकर मामी की गांड चोदी

मेरी मामी काफी दिनों से मुझसे चुदती थीं. एक बार जब मैं जॉब करने चला गया तो उन्होंने मुझे वापस बुला लिया. फिर मैं उनके घर गया और तेल लगाकर जबरदस्त चुदाई हुई…

हैलो दोस्तों, प्राइवेसी के चलते यहां पर मैं अपना नाम नहीं बता रहा हूं. मेरी आयु 25 साल है और मेरी कहानी की नायिका मेरी मामी हैं, जिन्हें मैं अब तक कई बार चोद चुका हूं. उनकी उम्र 32 साल है.

दोस्तों, मेरा और मेरी मामी का रिलेशन काफी दिनों से चल रहा था. फिर एक बार मैं जब जॉब के कारण 2 महीने के लिए बाहर चला गया तो वो मुझे रोज फोन करतीं और चुदाई के लिए कहतीं. इस कारण मैं जॉब छोड़ कर घर चला आया.

इसके बाद फिर उन्होंने मुझसे मिलने को कहा तो हमने एक दिन रात का प्लान बनाया और फिर रात को 12 बजे उनसे मिलने पहुंच गया. दोस्तों, मेरे मामा भी जॉब के चलते बाहर ही रहते थे. घर में बूढ़े नाना – नानी और मामी की 4 साल की एल बेटी ही थे. रात को जब मैं पहुंचा तो सब आराम से सो रहे थे. भाभी ने चुपके से दरवाजा खोल दिया और मैं अंदर चला गया.

जैसे ही मैं अंदर पहुंचा तो उसने जाते ही गले लगा लिया और फिर एक मिनट तक वो मुझसे चिपकी रही. इसके बाद फिर वह मेरे लंड पर हाथ रख कर बोली कि मैं अपने इस मूसल को नहीं भूल पाईं. इतना कह के फिर वो भूखी शेरनी की तरह लंड पर टूट पड़ी. दोस्तों, मेरा लंड 7 इंच का है और उस समय पूरा खड़ा हो गया था.

अब वह मेरे लंड को पूरा का पूरा अपने मुंह में डाल कर चूसने लगी. वह पूरा लंड अंदर तक ले लेती और फिर जीभ फिराते हुए उसे बाहर निकालती. फिर मैं जोर – जोर से लंड अंदर बाहर करने लगा और ऐसा करने से गप – गप की आवाज आने लगी.

फिर मैं मामी जी को उठा कर बेडरूम ले गया और बेड पे लिटा दिया. इसके बाद हम 69 की पोजीशन में आ गए. अब वो मेरा लंड और मैं मामी की चूत को चाट रहा था. वह मेरे लंड को पूरा मुंह में डाल कर चूस रही थीं. मुझे बहुत मजा आ रहा था. फिर थोड़ी देर बाद मैंने उनके मुंह में ही अपना सारा माल निकाल दिया और वो मेरा सारा माल पी गईं.

इसके बाद फिर उन्होंने चूस – चूस के मेरे लंड को फिर से खड़ा कर दिया था. जब लंड दोबारा खड़ा हो गया तो वो अपनी टांगें उठा कर बोलीं – भोसडी के अब इस चूत को अपना दम तो दिखा.

यह सुनते ही मैंने अपना लंड पूरा उनके मुंह में डाल दिया और कहा – रंडी, पहले गीला तो कर इसको, फिर तेरी चूत का भोसड़ा बनाता हूं. फिर वह मुंह में थूक भर कर मेरे लंड को गीला करने लगीं.

थोड़ी देर बाद फिर उन्होंने लंड बाहर निकाल दिया. इसके बाद मैंने अपना लंड उनकी चूत पर सेट किया और फिर जोर का झटका लगा दिया. इस झटके के साथ मेरा 7 इंच का लंड पूरा का पूरा उनकी चूत में घुस गया. यकायक हुए इस हमले से मामी जी की थोड़ी सी चीख निकल गई.

तब मैंने कहा – बहन की लौड़ी पहले तो बड़ा अंदर डालो, अंदर डालो बोल रही थी, अब क्या हो गया है? इस पर वो बोली – चोद हरामी चोद, देखती हूं कितना दम है तेरे लंड में! तब मैंने कहा ले रंडी ले. फिर इतना कह के मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और शॉट पर शॉट मारने लगा.

थोड़ी देर बाद उन्होंने अपनी टांगों को उठाकर बोलीं – भोसड़ी के अब चूत में तेजी से अपना लंड ठोकते रहो. मैं धक्के पर धक्के मार रहा था और इस कारण चूत से फच्च – फच्च की आवाज आ रही थी.

फिर कुछ देर बाद मामी थोड़ी सी ठंडी पड़ गईं और लेटी रहीं, मैं धक्के लगाता रहा. लगता है उसका हो गया था. फिर कुछ देर बाद वह घोड़ी बन गईं. अब मैंने तेल की शीशी उठाई और काफी सारा तेल अपने लंड पर लगा लिया. इसके बाद मैंने जैसे ही लंड को उनकी चूत में डाला लंड घुसने की ‘फचाक’ की आवाज आई.

फिर मैं घोड़े जैसे उनके ऊपर सवार हो गया और लंड चूत में पेलने लगा. उनकी चूत से लगातार ‘फच्च – फच्च’ की अवाज आ रही थी. फिर आधे घंटे की सवारी के बाद मैं उनकी चूत में ही झड़ गया. पूरा माल उनकी चूत में भर फए लेकिन घोड़ी बनी होने की वजह से वीर्य रिस – रिस के बाहर निकल रहा था.

तब मामी बोलीं – भोसड़ी के अब तो नीचे उतर जा. तब मैंने लंड को बाहर निकाल लिया. ऐसा करने से उनकी चूत रेंगने लग गई. बड़ी मस्त आवाज सुनाई दे रही थी. फिर मैंने मामी जी से कहा कि अब गांड चुदाई हो जाए! दोस्तों, मैंने अपनी मामी की गांड को बहुत बार चोद चुका हूं और मेरा लंड भी आराम से उनकी गांड में चला जाता है.

फिर मैंने लंड पर दोबारा तेल लगाया और लंड को एक ही बार में पूरा का पूरा उनकी गांड में पेल दिया. दोस्तों, मेरी मामी को गांड मरवाना बहुत अच्छा लगता था और वो बड़े मज़े से अपनी गांड चुदवाती थीं. वो अपनी टांगें मेरे कंधों पर रख कर लंड अंदर लेती थीं. ऐसा करने से गांड का छेद बड़ा हो जाता था और लंड बड़े ही आराम से अंदर चला जाता था.

अब मैं धक्के मार – मार के उनकी गांड चुदाई कर रहा था. बीच – बीच में मामी पाद भी मार रही थीं. थोड़ी देर बाद मामी बोलीं – भोसडी के अब इस गांड का पाद भी निकाल दिया. लेकिन मैंने उनकी बातों का कोई जवाब नहीं दिया. मैं उनकी दोनों टांगें उठा कर गांड में लंड पेल रहा था और वो मस्ती से गांड मरवा रही थीं.

बहुत देर तक गांड मारने के बाद फिर मैं उनकी गांड में ही झड़ गया. तभी मामी जी की गांड से बहुत जोर की पाद निकली तो भाभी बोलीं – क्या पेला है, मजा आ गया वाह मेरे राजा वाह! तभी तो मैं तेरे लंड की दीवानी हूं.

दोस्तों, ये मेरी सच्ची चुदाई कहानी थी और मुझे आज मामी की चुदाई करते 6 साल हो गए. अब भी वह जब मुझे बुलाती हैं मैं पहुंच जाता हूं और फिर जम कर चुदाई होती है. कहानी कैसी लगी, कमेंट करके जरूर बताना.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *