टिंडर पर मिली भाभी घर में चुदी

फिर मैंने उसका कुरता उतार दिया तो मुझे लगा जैसे उसकी चूचियां बरसों से बाहर आने को तरस रही थीं. वो ब्रा फाड़ने को तैयार लग रहीं थी. फिर मैंने उसकी सलवार हटाई तो देखा कि उसने पिंक कलर की ब्रा के साथ पिंक पैंटी भी पहन रखी है. मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था…

नमस्ते भाभियों और सुन्दर लड़कियों. आप सबकी तनी हुई चूचियों और गीली चूत को मेरा सलाम. मेरा नाम अम्बर है और मैं रोज जिम जाता हूँ, जिससे शरीर काफी चुस्त है. मेरा रंग गोरा और लंबाई 5 फुट 10 इंच है. मुझे हमेशा से ही अपने से बड़ी उम्र की लड़की पसंद आती थी. खास कर भाभियां जो शादीशुदा होती हैं, उनकी तो बात ही निराली है.

दोस्तों, पहले मैं अपनी गर्लफ्रेंड के साथ 2 साल लिव इन में रहा था. इसलिए मुझे सेक्स का काफी अच्छा अनुभव हो गया था, बाकी जो बचा था वो मेरी भाभी और स्कूल में एक टीचर ने सिखा दिया था. स्कूल में मेरा बहुत सी लड़कियों के साथ अफेयर था पर सेक्स सिर्फ एक टीचर के साथ ही हो पाया था.

अब मैं अपनी कहानी पर आता हूँ. वैसे तो मैं लखनऊ का रहने वाला हूँ पर पिछले 3-4 सालों से दिल्ली में रह रहा हूँ. कुछ दिनों पहले काम के सिलसिले में कानपुर आना पड़ा. यहाँ आना मेरे लिए बहुत फायदे मंद रहा.

एक दिन टिंडर पर मुझे एक लड़की का मैच आया. बात करने पर पता चला कि उसका नाम अर्चना है. पहले तो उसने नखरे दिखाये पर फिर नंबर दे दिया. उसके बाद हमारी व्हाट्सऐप पर बात होनी शुरू हो गई. बात करते – करते पता चला कि वो शादीशुदा है. अब मेरे जैसे आदमी को और क्या चाहिए. एक शादीशुदा सुन्दर लड़की खुद सामने से बात कर रही है.

इसपर मेरा सोचना लाजमी था कि जरूर ये अपनी जिंदगी से खुश नहीं है, तभी एक पराये मर्द से बात कर रही है. खैर, मैं बात करता गया. फिर कुछ दिनों बाद उसने बताया कि उसका एक बच्चा है और उसकी शादी 17 साल की उम्र में ही हो गई थी तो बच्चा भी जल्दी ही हो गया.

अब मेरी उससे रोज़ रात को बात होने लगी. फिर धीरे – धीरे हम फोन सेक्स करने लगे. वो तो यहाँ तक बोलने लगी कि कभी उसको अपने पति के साथ सेक्स करने में इतना मज़ा नहीं आया, जितना कि मेरे साथ फोन सेक्स करने में आ रहा है.

लगभग 15-20 दिन बाद मैं उससे मिलने दिल्ली के कड़कड़डूमा इलाके में गया. हम क्रॉस रिवर मॉल में मिले. पहले तो मैं उसे देख कर हैरान ही रह गया. मैं सोचता रहा कि क्या ये वही अर्चना है, जिससे मैं इतनी रंगीन बातें करता था! वज बाला की खूबसूरत थी. 34-28-32 साइज की एक दम गोरी, खुले बाल और लाल रंग के सलवार सूट में एक हूर जैसी लग रही थी.

उसे देख कर ये कोई नहीं कह सकता था कि ये 28 साल की और एक बच्चे की माँ होगी. वो मेरे पास आई, एक आँख मारी और गले लगी. फिर हम मूवी देखने चले गए. मूवी तो बस एक बहाना था. हमें अपनी वासना जो मिटानी थी. हमने किनारे की सीट ले ली.

अंदर जाकर पहले मैंने उसे माथे पर और कान पर किश किया. फिर गाल पर और फिर होंठों पर भी किस किया. वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी. अब हम लोग इतने मदहोश हो गए थे कि हमारे मुंह से ‘उम्म आह’ की आवाजें आने लगी थी.

मेरा एक हाथ उसकी चूची पर तो दूसरा उसकी गर्दन पर था. ऐसा ही करीब 30 मिनट तक चलता रहा. फिर जब मैंने अपना हाथ सलवार के ऊपर से उसकी चूत पर रखा तो देखा वो एक दम भट्टी की तरह जल रही थी.

यह देख मैंने उससे पूछा कि अब आगे क्या करना है तो वो बोली, “आज तक किसी ने मुझे ऐसा मदहोश नहीं किया है, पहली बार मुझे इतना मज़ा आ रहा है.” फिर थोड़ा रुक कर वह बोली, “चलो घर चलते हैं.”

उसका घर पास में ही था. घर आते ही वो किचन में चली गई और शरबत बनाने लगी. अब मैं पीछे से गया और उसकी गर्दन पर किस करने लगा. अब मैं अपना लण्ड उसकी गांड में कपड़े के ऊपर से घुसेड़ देना चाह रहा था, लेकिन हो नहीं पाना सम्भव नहीं था तो मैं एक हाथ से उसकी चूची और एक से उसकी चूत को मसलने लगा.

इससे वो तो एक दम पागल ही हो रही थी. फिर मैंने उसका बनाया शरबत उसके मुंह से पिया. इस दौरान मैंने कुछ शरबत उसकी चूची पर गिरा दिया ताकि अंदर का सब कुछ और मीठा हो जाये. इसके बाद मैं उसको कमरे में ले गया और बिस्तर पर लिटा कर उसके ऊपर चढ़ गया.

ऐसे लग रहा था जैसे मैं उसका पूरा शरीर खा ही जाऊंगा. करीब 15-20 मिनट तक लिप किस करने के बाद मैं उसके कानों पर हल्के से काटने लगा तो वो एक दम से पागल ही हो गई. फिर उसकी गर्दन और गले पर होते हुए मैं उसकी चूचियों पर पहुंचा और उन्हें चूसने और मसलने लगा.

क्या चूचियां थी यार! वो 34 की एक दम सुडौल बिल्कुल वैसी ही जैसी मूवी में हिरोइनों की दिखती हैं. शरबत की वजह से वो और भी मीठी लग रही थी. अर्चना तो बस आँखें बंद किए आवाज़ें निकाल रही थी.

फिर मैंने उसका कुरता उतार दिया तो मुझे लगा जैसे उसकी चूचियां बरसों से बाहर आने को तरस रही थीं. वो ब्रा फाड़ने को तैयार लग रहीं थी. फिर मैंने उसकी सलवार हटाई तो देखा कि उसने पिंक कलर की ब्रा के साथ पिंक पैंटी भी पहन रखी है. मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था.

अब मैं सोचने लगा कि इतनी सुंदर बीवी को कोई कैसे नहीं चोद सकता! कैसे वो किसी दूसरे के लिए तरस सकती है! मैं तो इसे 365 दिन चोद सकता हूँ.

फिर जैसे ही मैंने उसकी ब्रा हटाई वो बोलने लगी, “खा जाओ इनको, प्लीज खा जाओ इनको, काटो इन्हें और काटो, वो भोसड़ी का मेरा हरामी पति एक तो महीने में 1-2 बार ही चोदता है और वो भी बस आयेगा डालेगा 15-20 सेकंड में झड़ कर मादर चोद सो जायेगा और मुझे ऊँगली से काम चलाना पड़ता है.”

अब मैंने उसको शांत करने के लिए उसके होंठ पर किस करना चालू कर दिया और चूचे दबाता रहा. फिर जैसे ही मैंने पैंटी पर हाथ रखा तो पता चला कि वह एक दम गर्म और गीली है. वो झड़ चुकी थी.

मैंने उसकी चूची चूसना चालू रखा और दूसरे हाथ की 2 ऊँगली उसकी चूत में डाल दी. जिससे वो तो चहक उठी. फिर मैं उसके पूरे शरीर को जीभ से चाटने लगा. अब जैसे ही मैंने उसकी चूत को चाटना शुरू किया तो महसूस हुआ की उसने शायद जल्दी ही बाल बनाये हो.

फिर मैं उसकी चूत चाटने लगा. मेरे लिए तो वह जैसे कोई अमृत हो. मैं बीच – बीच मे उसके दाने को काटता रहा. वो बार – बार चोदने को बोल रही थी. पर मैं इतनी जल्दी कहाँ मानने वाला था. मैं बोला, “जान, आज तुझे जीवन का पूरा मज़ा दिलाऊंगा” और फिर मैंने उसे अपना लंड चूसने को कहा तो उसने तुरंत कुल्फी जैसे चाटना शुरू कर दिया.

फिर थोड़ी देर बाद मैंने उसे लेटाया और किस करते हुए कंडोम पहन लिया. दोस्तों, मुझे कंडोम के साथ चोदने में ज्यादा मज़ा आता है. इससे न कोई चिंता रहती है और न कोई डर. फिर जैसे ही मैंने उसकी चूत पर लंड को सेट करके एक धक्का मारा, वो चीख पड़ी. ऐसा लगा जैसे कोई पहली बार चुद रहा हो. पूछने और उसने बताया कि उसके पति का तो हाथ की ऊँगली जितना है और 7 इंच का लण्ड वो पहली बार देख रही है.

फिर जैसे ही मैंने दूसरा झटका मारा तो इस बार मेरा पूरा लंड उसकी चूत मे समा गया और उसकी चीख निकलने वाली थी तो उसे मैंने उसका मुंह दबा दिया. फिर अर्चना बोलने लगी, “और तेज़ करो और तेज़, आज मैं मर भी जाऊं तो कोई गम नहीं. इतना रोमांटिक सेक्स मैंने आज तक महसूस भी नहीं किया है.”

फिर करीब 10 मिनट बाद मैंने उसे अपने ऊपर बैठने को कहा. क्योंकि उसका मन मेरे लन्ड पर बैठ कर कूद – कूद कर सेक्स करने का था. वो ऐसे कूद रही थी जैसे कोई खुदाई चल रही हो. उसे चोदने के साथ ही मैं उसके चूचे भी दबा रहा था और दूसरे हाथ से कभी उसके चेहरे और लिप्स पर तो और कभी पीठ और बालों पर सहला रहा था. जिससे वो और पागल हो रही थी.

ऐसा करते – करते अगले 10-15 मिनट बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए और वो वैसे ही नंगी मेरे ऊपर सो गई. करीब एक घंटे बाद जब हमारी नींद खुली तो फिर हम दोनों नहाने गए. शावर के नीचे एक – दूसरे को महसूस करते हुए मैं उसके चूचे दबाते हुए किस की झड़ी लगा दी.

वो बहुत खुश दिख रही थी. वहीं पानी हमने एक बार खड़े – खड़े दीवार के सहारे फिर सेक्स का आनंद उठाया. जब मैं निकल रहा था तो उसके चेहरे पर एक अलग सी चमक थी और आँखों में कुछ आंसू भी थे. फिर मैंने उसे किस किया और पूछा तो वो गले लग गई और बोली की आज पहली बार मुझे इतना आनंद आया ऐसा लग रहा है कि तुम्हें जाने ही न दूँ.

तो मैंने कहा जब जाऊंगा तभी तो वापस आऊंगा और फिर मैंने उसके लिप्स और माथे पर किस किया और वापस चला आया. हम अब अक्सर मिलते हैं और खूब चुदाई करते हैं.

आपको मेरी कहानी कैसी लगी? मुझे मेल करके जरूर बताइये ताकि मैं अपनी गर्लफ्रेंड और भाभी की कहानी लिखने में उसे सुधार सकूँ. मेरी मेल आईडी – [email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *