योगा सिखाते – सिखाते चूत चोद दी

मेरे बगल में एक लड़की रहती थी. एक दिन मैंने उसे योगा करते देखा. वो गलत कर रही थी. फिर मैंने उसे सिखाने का प्रस्ताव दिया और वो राजी हो गई. योगा सिखाते – सिखाते मैंने किस तरह उसकी चूत मारी पढ़ें इस कहानी में…

हेल्लो दोस्तों, मैं पिछले 4 साल से अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ और इसकी जर कहानी को बड़े ही इत्मीनान के साथ पढ़ता हूँ. इन कहानियों को पढ़ कर मेरी उत्तेजना बढ़ जाती है और कई बार चूत का जुगाड़ न होने पर मुझे हाथ से काम चलाना पड़ता है. आज मैं भी आप लोगों के साथ मेरे साथ हुई एक सच्ची घटना बताना चाहता हूँ. उम्मीद है पसंद आएगी.

कहानी में आगे बढ़ने से पहले मैं आपको मेरा परिचय दे दूँ. दोस्तों, मेरा नाम राजीव है और मैं हरियाणा के भिवानी का रहने वाला हूँ. मेरी उम्र 23 साल है और मेरा कद 5 फिट 6 इंच है. मेरा रंग साँवला है और मैं स्वस्थ शरीर का मालिक हूँ. मैं दिखने में भी काफी स्मार्ट हूँ.

अपने बारे ज़्यादा बता कर मैं आप लोगों का समय ख़राब नहीं करूँगा. अब सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ. जिसके साथ मेरी ज़िंदगी का ये सुखद अनुभव हुआ उस लड़की का नाम रीना (बदला हुआ) है. उसकी उम्र क़रीब 24 साल है. रंग गोरा और क़द 5 फिट 3 इंच का है. दोस्तों, उसका 34 30 36 का है और वह बहुत ही कमसिन लगती है.

बात आज से क़रीब एक साल पहले की है. जब मैं मेरे परिवार के साथ नए घर में शिफ़्ट हुआ था. वहाँ पहले दिन हमने घर पर एक छोटी सी दावत रखी थी, जिससे कि आस – पड़ोस के लोगों से हमारा परिचय हो सके. हमारे बुलाने पर सब लोग उस दावत में आए थे.

उसी दावत के दौरान मेरा परिचय रीना से हुआ. वो हमारे घर के साथ में बने फ्लैट में अपने परिवार के साथ रहती है. उस दिन मैंने उस पर कुछ ख़ास ध्यान नहीं दिया था. एक – एक करके सबसे परिचय हो गया था. फिर सबने खाना खाया और अपने – अपने घर चले गये.

अगली सुबह मैं ताज़ा हवा का मज़ा लेने अपनी छत पर गया तो देखा रीना अपनी छत पर योगा कर रही थी. इस दौरान उसने एक दम टाइट टी – शर्ट और कैपरी पहन रखी थी. इन कपड़ों में वो क्या मस्त लग रही थी!

मैं उसे देखने लगा. फिर जब उसने मेरी तरफ देखा तो मेरी उससे हेल्लो हुई. इसके बाद वो फिर अपना योगा करने लगी. मैं उसे देखता रहा. मैंने देखा कि वो योगा ग़लत कर रही है तो मैंने उससे बोला कि आप ग़लत कर रही हैं. मेरी बात सुन कर उसने बताया कि योगा के बारे में उसे ज़्यादा जानकारी नहीं, थोड़ा – बहुत टीवी वगैरह पर देखा है तो वही कर लेती है.

तब मैंने उससे कहा कि मुझे योगा आती है क्योंकि मैंने योगा क्लासेज की हुई हैं. फिर मैंने उससे कहा कि अगर आप बोलो तो मैं योगा आपको सिखा देता हूँ. इस पर उसने सिखाने के लिए हाँ बोल दिया. यह सुन कर मैं झट से उसकी छत पर चला गया और उसे योगा सिखने लगा.

योगा सिखाने के दौरान कई एक्सरसाइज उससे हो नहीं पाती थी तो मैं उसे पकड़ कर करवाता. इसी बहने मैं धीरे – धीरे मैं उसके पूरे जिस्म को छू रहा था. जिसका वह कोई एतराज़ नहीं कर रही थी.

योगा सिखाने के दौरान मैं कभी उसके पेट पर हाथ फेर देता था तो कभी उसके उरोजों पर और कभी नितंबों पर. क़रीब एक घंटा तक एक्सरसाइज करने के बाद वो बोली कि उसे अब कॉलेज जाना है तो बाक़ी कल करवा देना. मैंने हां कहा. फिर वो जाने लगी और जाते – जाते एक प्यारी सी स्माइल भी देती गयी. मैं समझ ये भी वही चाहती है जो मैं चाहता हूँ.

अगली सुबह मैं उसी समय छत पर पहुँच गया. वहाँ पहुंच कर मैंने देखा कि वो पहले से ही मेरा इन्तज़ार कर रही है. फिर मुझे देखते ही उसने एक प्यारी सी स्माइल दी. इसके बाद फिर मैं उसकी छत पर पहुंच गया.

उसने आज भी कल की ही तरह मस्त कपड़े पहने हुए थे. उस दिन मैं योगा करने के बहाने उसके एक दम पीछे गया और चिपक कर खड़ा हो गया. फिर मैंने उसे झुकने को कहा. इस पर उसने एक बार मेरी तरफ देखा लेकिन मैंने अपनी नज़रें दूसरी तरफ कर रखी थीं. शायद वो मेरे इरादों को ताड़ गई थी लेकिन वो भी वही चाहती थी. फिर वह बिना कुछ कहे झुक गयी.

दोस्तों, उस दिन मैंने भी शॉर्ट्स पहन रखे थे और उसे देख – देख कर अब तक मेरा लंड भी खड़ा हो गया था. फिर जब वह झुकी तो उसकी गांड मेरे लंड से सट गई. अब मैं ऊपर से ही मेरा लंड उसकी मस्त गांड पर रगड़ने लगा और उसे योगा के स्टेप्स बताने लगा. उधर वो भी योगा करते हुए हिल – हिल कर लंड का मज़ा ले रही थी.

काफ़ी देर इस तरह का सीन चलता रहा. उसने किसी तरह का कोई विरोध नहीं किया था. अब मैं समझ गया था कि ये भी चुदना चाहती है. फिर मैंने पीछे से थोड़ा झुक कर उसके मस्त चूचों को अपने हाथों में ले लिया और उन्हें दबाने लगा. मेरे ऐसा करने पर वो जोर – जोर की सिसकारियां लेने लगी. उसके मुंह से लगातार ‘आह आआह आह आह’ की आवाजआ रही थी. लेकिन इसके बावजूद मैंने अपना काम जारी रखा.

अब मैंने उसे घुमा कर उसका चेहरा अपनी तरफ किया. इसके बाद मैंने अपने होंठ उसके मुलायम होंठो पर रख दिए और उसे चूमने लगा. इस स्टेप में उसने भी मेरे पूरा साथ दिया.

चूंकि हम खुले में थे तो किसी के देख लेने का डर था. इस कारण हम वहीं छत पर बने एक छोटे से कमरे में चले गये और अंदर जाकर दरवाजा बन्द कर लिया. अंदर जाते ही मैंने उसके सारे कपड़े उतार फेंके और उसके चूचों को मुँह में भर लिया और उनका भरपूर आनंद लेने लगा.

चूचों को चूसने के दौरान बीच – बीच में मैं उसके निप्पल्स को काट भी लेता था. इससे उसकी आह निकल जाती. फिर मैंने उसकी पैंटी भी उतार दी. दोस्तों, उसकी चूत एक दम क्लीन सेव थी और उस पर एक भी बाल नहीं था. ऐसा लग रहा था जैसे उसने मुझसे चुदवाने के लिए आज सुबह ही इसे साफ़ किया हो.

फिर मैंने उसकी चूत में अपनी एक उँगली डाल दी और अंदर – बाहर करने लगा. इससे वह फिर से सिसकारी भरने लगी. दोस्तों, ऐसा लग रहा था जैसे उससे भी सब्र नहीं हो रहा हो.

इसी बीच उसने भी मेरा शॉर्ट्स और अंडर वियर एक साथ उतार दिया. अब मेरा 7 इंच का लंड उसके सामने आ गया, जिसे उसने मुँह में ले लिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

क़रीब 5 मिनट तक चूसने के बाद वो उधर जमीन पर ही लेट गयी और बोली – राजीव, अब जल्दी से अपनी रीना रानी को चोद दो, मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा है. फिर मैंने भी देरी ना करते हुए मेरे लंड का सुपाड़ा उसकी कोमल चूत पर लगाया और एक ही झटके में अंदर डाल दिया. इससे उसकी चीख निकल गई. यह देख मैं रुक गया.

फिर मैंने मेरे होंठ उसके होंठों पर रख दिए और एक बार फिर धक्का देकर पूरा लंड अंदर कर दिया. इस बारभी वह चीखी पर इस बार उसकी आवाज़ मेरे मुँह में ही रह गयी. फिर मैंने धीरे – धीरे अंदर – बाहर करना शुरू किया.

अब पूरा कमरा ‘आह आह आह आऽऽऽहह आऽऽह आऽऽह आह आह’ की मादक आवाज़ों से गूंज रहा था. इसी बीच रीना 2 बार झड़ चुकी थी. करीब दस मिनट की जबरदस्त चुदाई के बाद अब मैं भी झड़ने वाला था तो मैंने अपना लंड निकाल कर उसके मुँह में दे दिया और वो सारा रस पी गयी.

उसके बाद फिर हम बाहर निकले और अपने – अपने काम में व्यस्त हो गए. इस तरह हम दोनो रोज़ सुबह चुदाई करने लगे और अपने यौवनावस्था का भरपूर मज़ा लेने लगे. आप सब को मेरी यह कहानी कैसी लगी? मुझे मेल करके जरूर बताएं. मेरी मेल आईडी – [email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *