लण्ड पर तिल

करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद उसकी चूत से पानी आना बंद हो गया और उसकी चूत में जलन शुरू हो गई. फिर वो रोने लगी और बोली मुझे जलन हो रही है मेरी चूत एकदम सूख गई है. मैंने थोडा सा थूक उसकी चूत में डाला और फिर उसकी चूचियों को चूस कर उसकी चूत को फिर से गरम कर दिया… पढ़ना जारी रखें “लण्ड पर तिल”

अपनी भाभी की चूत मारी

अब मेरी हिम्मत थोड़ी सी बढ़ गयी. मैंने फिर हल्के- हल्के हांथों से भाभी के मम्मे को दबाना शुरू कर दिया. वो चौंकी और फिर बोली क्या कर रहे हो? मुझे गुदगुदी हो रही है… पढ़ना जारी रखें “अपनी भाभी की चूत मारी”

होली पर भाभी की प्यास बुझाई

उनके दूध जैसे गोरे बदन को देख कर मैं उस पर टूट पड़ा. मैंने उनकी चूची को मुंह में भर कर चूसना शुरू कर दिया और निपल्स को काटने लगा. तो भाभी बोली- रुको, आराम से नहीं करना आता है क्या… पढ़ना जारी रखें “होली पर भाभी की प्यास बुझाई”

देवर से चुद गई- भाग 2

मुझे गांड हिलाता देख वो फिर जोर से धक्के मारने लगा और पूरा का पूरा लण्ड बाहर निकाल कर एक ही बार में अंदर घुसेड़ देता. जिससे मेरी चूत ने जल्दी ही पानी छोड़ना शुरू कर दिया…
पढ़ना जारी रखें “देवर से चुद गई- भाग 2”

देवर से चुद गई- भाग 1

वो मेरे सामने ही बैठा था और उसकी नज़र मुझ पर ही थी. कुछ देर बाद मैंने अपना हाथ पेटीकोट में डाला और अपनी चूत को खुजाने लगी. जिस वजह से मेरा पेटीकोट थोड़ा और ऊपर खिसक गया… पढ़ना जारी रखें “देवर से चुद गई- भाग 1”

स्टूडेंट को चोदा

फ़िर मैंने लण्ड पर थूक लगा कर एक जोर दार झटका मारा, जिससे वो दर्द से बेहाल हो गई. उसकी चूत से खून आने लगा था और चूत खून से लाल हो गई.
पढ़ना जारी रखें “स्टूडेंट को चोदा”

चूत चाटने का शौकीन

एक बार मैं बिस्तर पर पड़े- पड़े अपने लंड को सहला रहा था, मुझे ये ध्यान ही नहीं था कि कमरे की खिड़की खुली हुई है. सहलाते- सहलाते जब लंड कड़क हो गया तो मुझे लगा कि मेरे रूम की खिड़की खुली हुए है और खिडकी से कोई मुझे देख रहा है… पढ़ना जारी रखें “चूत चाटने का शौकीन”

खड़े लण्ड को कुछ नहीं सूझता

बाहर की ठण्ड और उसकी गाँड़ की गरमी की वजह से मुझे बहुत ही मज़ा आ रहा था. अब उसकी गाँड़ में लंड बहुत आसानी से अंदर बाहर हो रहा था. उसे भी मज़ा आने लगा था… पढ़ना जारी रखें “खड़े लण्ड को कुछ नहीं सूझता”

पसन्द अपनी-अपनी-भाग१

दोनों नग्न देहों की कामुक सित्कारें पूरे कमरे में गूँज रही थी. ये आवाजें तब तक गूंजती रहीं जब तक दोनों के अन्दर उठता वासना का तूफ़ान शांत नहीं पड़ गया…….

पढ़ना जारी रखें “पसन्द अपनी-अपनी-भाग१”