ताई के संग रासलीला

ब्लाउज उतारते हीँ उनके उन्नत चूचे मुझे ललचाने लगे। मुझे तो उनके चूचे बचपन से हीँ बहुत भाते थे, चूचोँ को सामने देखकर, मैँ तो खुशी के मारे पागल हो गया और चूस-चूसकर एकदम लाल कर दिया…….

पढ़ना जारी रखें “ताई के संग रासलीला”

रूपा का रूप और सेक्स का पुजारी- भाग3

मेरी बात सुनकर रूपा और रुपेश हंसने लगे. रुपेश हँसते हुए ही अपनी पैन्ट भी उतारने लगा. उसने मुझे थोड़ा झुकने को कहा. मैं कुछ समझ पाता इससे पहले ही रुपेश ने मेरी गांड पे ढेर सारा थूक लगा दिया और अपना लंड मेरी गांड में डालने लगा……

पढ़ना जारी रखें “रूपा का रूप और सेक्स का पुजारी- भाग3”

मेरी चुदक्कड़ चाची

मैंने चाची को अपनी तरफ खींचा फिर मैंने उनको किस किया और उनका शरीर सहलाने लगा। अब हम दोनों ही उत्तेजित होने लगे। चाची की आखें उत्तेजना के मारे बन्द होने लगीं और वो सेक्सी आवाजे निकालने लगी……..

पढ़ना जारी रखें “मेरी चुदक्कड़ चाची”

पड़ोसन माँ और बेटी की चुदाई

नीना की आँखे अभी भी बंद थी, लेकिन वो बार-बार बडबडा रही थी.  मैंने एक ही झटके में अपना लोअर उतार दिया और अपने लंड को बाहर निकाल लिया. मैंने उनके ब्लाउज के बटन खोले और बिना रुके उनकी चूचियों को उनकी ब्रा से बाहर निकाल लिया……

पढ़ना जारी रखें “पड़ोसन माँ और बेटी की चुदाई”

अनचुदी बहन की चूत चोदी

राजू उसकी दोनों चूचियों को मसलने लगा और गालों पर चूमने लगा। सविता को भी मज़ा आने लगा था. वो भी मज़े लेने लगी और सिर राजू की तरफ घुमा लिया. जिससे राजू ने उसके होंठ पर होंठ रख दिए……..

पढ़ना जारी रखें “अनचुदी बहन की चूत चोदी”

गर्लफ्रेंड के सहेलियों की प्यास बुझाई- भाग१

अपनी गर्लफ्रेंड की चूत चोद कर तो मै वैसे ही काफी संतुष्ट था. लेकिन जब मटन चिकन के साथ बिरियानी फ्री हो तो कौन मना करता है. पायल भी एक जाएकेदार बिरियानी ही थी. लेकिन ये तो सिर्फ शुरुवात थी एक हसीं सफर की…….

पढ़ना जारी रखें “गर्लफ्रेंड के सहेलियों की प्यास बुझाई- भाग१”

कंडोम के बिना चुदाई

इस कहानी का शीर्षक इससे बेहतर भी हो सकता है परन्तु मेरे लिए यही सबसे खास है, क्योंकि वो मेरे जीवन का अब तक पहला और एकमात्र मौका था जब मैंने किसी चूत को बिना कॉन्डोम चढ़ाए चोदा था. सच तो ये है की पूरी तैयारी के बावजूद मैं उसकी बात टाल नहीं पाया था……

पढ़ना जारी रखें “कंडोम के बिना चुदाई”

लोहार का हथौड़ा और गर्मागर्म लौड़ा

लेकिन इन कपड़ों में मैं बाहर नहीं जा सकती थी। लेकिन मेरे पास इसका भी एक तरीका था। मैंने इस सबके ऊपर से ढीला-ढाला ट्रैक सूट पहन लिया। हाई हील को निकाल कर मैंने अपनी स्कूटी की डिग्गी में रख लिया। अब मुझे किसी ऐसे अजनबी इंसान को खोजना था जो मेरी इस जवानी से खेल सके और अपना गरमा-गरम चिपचिपा पानी मेरे अन्दर डाल दे…..

पढ़ना जारी रखें “लोहार का हथौड़ा और गर्मागर्म लौड़ा”

रूपा का रूप और सेक्स का पुजारी- भाग2

मैंने तुरंत से रूपा को बेड पे लिटाया और उसकी स्कर्ट खींच दी. रूपा ने भी खुद से ही अपना टॉप उतार दिया. अब वो सिर्फ ब्लैक ब्रा और पैंटी में थी. मैंने दोनों हाथों से उसकी चूचियों को  ब्रा के उपर से मसलना शुरू किया. फिर उसकी पैंटी के उपर से उसकी चूत को अपने होठों से पकड़ने लगा.

पढ़ना जारी रखें “रूपा का रूप और सेक्स का पुजारी- भाग2”

रूपा का रूप और सेक्स का पुजारी- भाग१

तब तक वो खुद ही मेरा हाथ अपनी चूत के पास उसके दाने के पर रगङ ने लगी थी। तो मैने भी अपनी एक उगली उसकी चूत के छेद के अन्दर कर दी तो वो सिसक पङी। उसने एक हाथ से मेरे पायजामे के अंदर कड़क हो चुके लंड को पकड़ लिया. अब मै उसकी चूत में ऊँगली करते हुए उसकी चूत को चोदे जा रहा था और वो मेरे लंड को पकड़ कर मुठ मार रही थी……

पढ़ना जारी रखें “रूपा का रूप और सेक्स का पुजारी- भाग१”